Translate

Indian Idol के चहेते सिंगर मोहम्मद दानिश का जीवन परिचय

Indian Idol के चहेते सिंगर मोहम्मद दानिश का जीवन परिचय

Indian Idol Singer Mohammad Danish Biography In Hindi | मोहम्मद दानिश इंडियन आइडल की जीवनी

Indian idol singer mohammad danish biography in hindi, mohammad danish best performance
Mohammad Danish Biography In Hindi

आज पूरे भारत में indian idol 2021 के मंच से एक शख्स का नाम इस तरह लोगों के जुबान पर छाया हुआ है जैसे मानों उसके आगे सारे सितारे फीके पड़ गए हैं। जिनके गानों को बड़े-बड़े हस्तियों ने दिल खोलकर सराहते हैं। जिसने इंडियन आइडल के स्टेज पर एक से बढ़कर एक परफॉर्मेंस देकर सबको चकित कर दिया।


आप सोच रहे होंगे ऐसा करने वाला कौन है तो आपको बता दें कि हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के मुज्जफरनगर जिले के रहने वाले और सबके चहेते सिंगर मोहम्मद दानिश के बारे में। आज हर जगह पर जहाँ भी नए संगीत सितारों की बात होती है वहाँ दानिश का नाम न आये ऐसा हो नहीं सकता।


आज हम आपको मोहम्मद दानिश के जीवनी के बारे में ऐसे-ऐसे कुछ रहस्य बताने वाले हैं जिसे शायद आप नहीं जानते होंगे। तो चलिए आज हम आपको पूरी विस्तार से Imdian Idol Singer Mohammad Danish Biography In Hindi के बारे में बताते हैं।


मोहम्मद दानिश सिंगर का जीवन परिचय(Biography)


मोहम्मद दानिश का जन्म 15 अक्टूबर 1996 को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। मोहम्मद दानिश के पिता का नाम डॉ शाहनवाज अली और माता का नाम मुशरत जहां है।


पूरा नाम- मोहम्मद दानिश
निकनेम- दानिश
बर्थडे- 15 अक्टूबर
प्रोफेशन- गायक
उम्र- 24 वर्ष(2020 के अनुसार)
हाइट- 5 फीट 8 इंच
वजन- 75 kg
शौक- सिंगिंग और डांसिंग
धर्म- मुस्लिम
वैवाहिक जीवन- अविवाहित
राष्ट्रीयता- भारतीय


मोहम्मद दानिश की शिक्षा


आइये दोस्तों अब मोहम्मद दानिश के शिक्षा के बारे में बात करते हैं। अपनी शुरुआती पढ़ाई मुजफ्फरनगर के ही डी.ए.वी. स्कूल से पूरी की है और इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ से स्नातक की पढ़ाई पूरी की है।


मोहम्मद दानिश Early Life Story In Hindi


मोहम्मद दानिश बहुत ही प्रतिभावान गायक है पर क्या आप जानते हैं ऐसी प्रतिभा इतनी आसानी से नहीं मिलती है बल्कि बचपन से ही दिल लगाकर दिन रात मेहनत करनी पड़ती है तभी इतनी शोहरत हासिल हो पाती है।


मोहम्मद दानिश के साथ भी ठीक ऐसा ही हुआ है। मात्र चार साल की उम्र से ही दादाजी उस्ताद अब्दुल करीम खान के साथ संगीत की बारीकियां सीखने में लग गए और एक अच्छा सिंगर बनने का सपना देखने लगे।


ये भी पढ़ें:- सिंगिंग के बादशाह अरिजीत सिंह की जीवनी।


जैसा कि आपको बता दें कि मोहम्मद दानिश का फैमिली बैकग्राउंड पहले से ही संगीत की दुनिया से जुड़ा हुआ है। इसलिए इनको बहुत ही कम समय में संगीत सीखने का जोश जाग उठा। और पिछले 10 सालों से लगातार अपने संगीत को और भी बेहतर बनाने की कोशिश करते रहे हैं और कई सारे रियलिटी शो में हिस्सा ले चुके हैं।


बहुत ही कम समय में उन्होंने अपने सुरीली आवाज से सबको प्रभावित कर दिया और इसका फल उनको आज पूरे देश का प्यार के रूप में मिल रहा है। इतने कम समय में ही उनके लाखों लोग दीवाने बन चुके हैं। नेहा कक्कड़, हिमेश रेशमिया सहित सभी जज उनके गानों का लोहा मान चुके हैं।


मोहम्मद दानिश का सिंगिंग करियर | Mohammad Danish Success Story In Hindi


मोहम्मद दानिश ने अपने करियर की शुरुआत 2015 में 'द वॉइस ऑफ पंजाब' से किया था और अपने जबरदस्त गायिकी के दम पर इस शो के फाइनल तक भी पहुँचे थे।


मोहम्मद दानिश indian idol में हिस्सा लेने से पहले 2017 में ही इंडियन रियलिटी शो 'द वॉइस इंडिया सीजन 2' में भाग ले चुके हैं। इस शो में अपने दमदार प्रदर्शन से सबके चहेते सिंगर बन गए थे और इस सीजन के Yamaha Most Stylish Singer का अवार्ड भी जीत चुके हैं।


अपने स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद उस्ताद इरशाद के देख रेख में मोहम्मद दानिश का पहला गाना 'We Indians' टी सीरीज पर रिलीज हुआ था। आपको बता दें कि ये गाना देशभक्ति धुन पर गाया हुआ गाना था।


मोहम्मद दानिश खुद का एक म्यूजिकल एल्बम बना चुके हैं जिसका नाम 'मेरी जान' है। उनके इस एल्बम को पवन चावला और मीका सिंह जैसे दिग्गज ने प्रोड्यूस किया था।


लेकिन मोहम्मद दानिश के सिंगिंग करियर में असली उछाल तब आया जब उनका सेलेक्शन indian idol के 12वें सीजन में हो गया। इसके बाद तो इन्होंने अपने सुरीली आवाज और शानदार परफॉर्मेंस से लोगों को इस कदर लुभाया कि सब इनके दीवाने हो गए।


आज दानिश indian idol के टॉप कंटेस्टेंट में अपनी जगह बना चुके हैं और एक से बढ़कर परफॉर्मेंस देकर इस शो के विजेता की दावेदारी बहुत ही मजबूती से पेश किया है।


अभी हाल ही रामनवमी के शुभ अवसर पर तो उनके गानों ने लोगों के दिलों पर इस कदर छाया हुआ है कि इनके आगे और सारे कंटेस्टेंट फिंके पड़ते नजर आ रहे हैं। आप उनका ये परफॉर्मेंस क्लिक करके देख सकते हैं।


1. Mohammad Danish Best Performance

2. Mohammad Danish Best Performance In Indian Idol


Mohammad Danish Salary & Net Worth


आइये दोस्तों अब indian idol सिंगर मोहम्मद दानिश की सैलरी के बारे में जानते हैं। दानिश के शो करने के लिए लगभग चार से पांच लाख रुपये चार्ज करते हैं। मोहम्मद दानिश का नेट वर्थ तीस लाख रुपये के ऊपर है। उम्मीद है कि इनका इनकम आने वाले समय में काफी तेजी से बढ़ेगा।


तो दोस्तों आपको मोहम्मद दानिश सिंगर की जीवनी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और साथ ही आपको mohammad danish biography in hindi के बारे में और भी कुछ जानना है तो हमसे जरूर पूछ सकते हैं। अगर आपको ये article अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।


सूर के बेताज बादशाह सोनू निगम की जीवनी।

वनडे क्रिकेट के नए बादशाह बाबर आजम की कहानी।


वनडे क्रिकेट के नए बादशाह बाबर आजम का जीवन परिचय

वनडे क्रिकेट के नए बादशाह बाबर आजम का जीवन परिचय

किंग कोहली की बादशाहत खत्म करने वाले बाबर आजम की जीवनी | Babar Azam Biography In Hindi

Babar azam biography in hindi, babar azam success story in hindi
Babar Azam Biography In Hindi

एकदिवसीय क्रिकेट में दुनिया को एक ऐसा बादशाह मिला है जिसने 1258 दिन तक वनडे क्रिकेट में अपनी बादशाहत कायम रखने वाले किंग कोहली को उनके नम्बर 1 पोजीशन से हटा दिया है। जी हाँ उस नए बादशाह ने बहुत ही कम समय में सारी दुनिया के क्रिकेट प्रेमियों को अपना दीवाना बना लिया है।


एक ऐसा क्रिकेटर जिसको तीन-चार साल पहले तक कोई नहीं जानता था, जिसके नाम की कोई चर्चा नहीं होती थी। बीते कुछ दिनों में उसने ऐसा प्रदर्शन किया कि आज दुनिया का नम्बर 1 बल्लेबाज बन गया?


ऐसा बड़ा कारनामा करने वाले हैं पाकिस्तान के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज और वर्तमान में दुनिया के नम्बर 1 वनडे बल्लेबाज बाबर आजम ने। आज हर तरफ सिर्फ बाबर आज़म के नाम की चर्चा हो रही है, लोग बाबर आजम के बारे में जानना चाहते हैं और उम्मीद है आपको भी बाबर आजम के बारे में जानने की बहुत उत्सुकता होगी।


लेकिन क्या आप जानते हैं इस बड़े मुकाम तक पहुँचने के पीछे का राज क्या है, इस मुकाम को पाने के लिए बाबर आज़म को किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, उनको कैसे-कैसे हालातों का सामना करना पड़ा है?


अगर आपको इन सभी बातों का जवाब जानना है तो आप बाबर आजम का पूरा जीवन परिचय जरूर पढ़ें क्योंकि हम आपको बाबर आजम से जुड़ी उनकी निजी जिंदगी, उनके कैरियर के बारे में कुछ ऐसे रोचक जानकारी बताने वाले हैं जिसको जानना हर क्रिकेट प्रेमी के लिए बहुत जरूरी है।


हर वैसे आदमी को जानना जरूरी है जो ये जानना चाहता है कि बाबर आजम कैसे विराट कोहली जैसे महान बल्लेबाज को पछाड़ दिया? यकीन मानिए हम आपको बाबर आजम से जुड़ी कुछ ऐसी जानकारी देंगे जिसको जानकर आप आश्चर्यचकित हो जाएंगे। जिसके बारे में शायद ही आपको कहीं और जानकारी मिल पायेगा।


तो चलिए बिना किसी देरी के बहुत ही कम समय में क्रिकेट की दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले बाबर आजम की जीवनी के बारे में पूरे विस्तार से जानते हैं।


बाबर आजम का जीवन परिचय | Biography Of Babar Azam In Hindi


दोस्तों बाबर आजम का जन्म 15 अक्टूबर 1994 को पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था।

बाबर आजम का पूरा नाम- मोहम्मद बाबर आजम
निकनेम- बाबा और बेबी
हाइट- 5 फीट 9 इंच
वजन- 62kg
प्रोफेशन- पाकिस्तानी क्रिकेटर
भूमिका- दाएं हाथ के बल्लेबाज और पार्ट टाइम स्पिन गेंदबाज


बाबर आजम का परिवार | Babar Azam Family


बाबर आजम के पिता का नाम- आजम सिद्दकी
भाई का नाम- सफीर आजम, फैजल आजम
बहन का नाम- फारिया आजम


बाबर आजम का बचपन | Babar Azam Early Life Story In Hindi


दोस्तों बाबर आजम के पिता के सरकारी शिक्षक थे लेकिन परिवार बड़ा होने के वजह से उनके पिता बाबर को मनपसंद की चीजें नहीं खरीद पाते थे। जिसके चलते उनको क्रिकेट के जरूरी सामान भी नहीं मिल पाता था।


लेकिन कहते हैं कि सबके सफलता के पीछे किसी न किसी का हाथ जरूर होता है। एक दिन बाबर आजम की माँ ने उनसे पूछा कि आपको अपना कैरियर किस क्षेत्र में बनाना है और आपको क्या करना पसंद है।


बाबर को तो पहले से क्रिकेट खेलने का काफी शौक था। उन्होंने बिना देरी किये अपने माँ से क्रिकेट में करियर बनाने की बात कही लेकिन मेरे पास क्रिकेट खेलने के लिए कुछ भी नहीं है। बेटे के सपने को पूरा करने के लिए बाबर की माँ ने अपने जेवर बेचकर एक बल्ला खरीदा और लाहौर के एक क्रिकेट अकादमी में दाखिला करवा दिया। इसके बाद तो मानों बाबर के जीवन में सपनों को पाने का पंख लग गया।


बाबर आजम का अंतराष्ट्रीय क्रिकेट करियर | Babar Azam Success Story In Hindi


बाबर आजम को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का बहुत शौक था। आजम के खेलने की शैली ने पाकिस्तानी सेलेक्टर्स को काफी प्रभावित किया और उनको बहुत ही कम समय में विश्व चेम्पियनशिप के लिए पाकिस्तान अंडर-15 टीम में शामिल कर दिया गया। इस टूर्नामेंट में बाबर आजम ने बहुत ही शानदार प्रदर्शन करके सबका दिल जीत लिया।


इसके बाद जल्दी ही बाबर आजम का सेलेक्शन  2012 में अंडर-19 टीम में हो गया जहाँ इनको कप्तान की भूमिका दी गई। यहाँ भी अपनी छाप छोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी और शानदार प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान के तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बनें। अपने इस प्रदर्शन से उन्होंने सारे क्रिकेट प्रेमियों का ध्यान अपनी तरफ खींचा।


ये भी पढ़ें:-● यॉर्कर किंग के नाम से मशहूर टी नटराजन की जीवनी।

आईपीएल के युवा सनसनी तेज गेंदबाज चेतन सकारिया की जीवनी।


जिसके बाद उनका सेलेक्शन पाकिस्तान के अंतराष्ट्रीय क्रिकेट टीम में हो गया। बाबर आजम ने पहला वनडे मैच 31 मई 2015 को जिम्बाब्वे के खिलाफ खेला और अपने पहले ही मैच में 54 रनों की शानदार पारी खेली और अपने पहले ही मैच में 60 गेंद पर 54 रन बनाकर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया।


लेकिन बाबर आजम के करियर में सुनहरा पल तब आया जब 2016 में वेस्टइंडीज के घरेलू दौरे पर तीन मैचों के तीन पारियों में लगातार तीन शतक लगाकर अपने प्रतिभा का लोहा मनवाया। इस प्रदर्शन से उन्होंने पाकिस्तान के ही दो महान बल्लेबाज सईद अनवर और जहीर अब्बास के रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली।


इसके बाद बाबर आजम ने पहला टी-ट्वेंटी मैच 7 सिंतबर 2016 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला था, जिसमें उन्होंने नाबाद 15 रन बनाकर अपने टीम को मैच जितवाया। जिसके बाद इनका सेलेक्शन टेस्ट क्रिकेट में भी हो गया।


बाबर आजम ने अपना पहला टेस्ट मैच 13 अक्टूबर 2016 को वेस्टइंडीज टीम के खेला था जिसमें उन्होंने 90 रनों की शानदार पारी खेली थी और पाकिस्तान टीम में अपना जगह हमेशा के लिए बनाने में कामयाब रहे। इसके बाद बाबर आजम ने करियर में कभी भी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और एक के बाद एक रिकॉर्ड बनाते चले गए।


फिर 2021 में दक्षिण अफ्रीका के साथ हुए तीन क्रिकेट मैचों की एकदिवसीय सीरीज में बाबर आजम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए एक शतक और एक अर्धशतक सहित 228 रन बनाए। लगातार एक के बाद एक शानदार प्रदर्शन के बदौलत बाबर आजम ने 1258 दिनों से चले आए रहे किंग कोहली के बादशाहत को खत्म करते हुऐ दुनिया के नम्बर 1 वनडे बल्लेबाज बनें।


आपको बता दें कि बाबर आजम वनडे क्रिकेट में नम्बर एक बल्लेबाज बनने से पहले टी-ट्वेंटी में दुनिया के नम्बर एक बल्लेबाज रह चुके हैं।


बाबर आजम क्रिकेट रिकॉर्ड | Interesting Facts About Babar Azam 10 World Record In Hindi


1. क्या आप जानते हैं कि बाबर आजम ने 45 पारियों में सबसे तेज 2000 एकदिवसीय रन बनाने वाले पाकिस्तानी बल्लेबाज हैं?


2. बाबर आजम वनडे क्रिकेट में सबसे कम 68 पारियों में 3000 रन बनाने वाले एशियाई बल्लेबाज है।


3. बाबर आजम के नाम सबसे तेज शतक लगाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड है, जिन्होंने ये कारनामा सिर्फ 33 पारियों में खेलकर किया था।


4. बाबर आजम के पास सिर्फ 26 पारियों में सबसे तेज 1000 टी-ट्वेंटी रन बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड है।


5. एक पाकिस्तानी बल्लेबाज के रूप में बाबर आजम के नाम किसी एक विश्व कप में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड है। जिसको उन्होंने 2019 वर्ल्ड कप के दौरान बनाया था।


6. बाबर आजम दुनिया के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने 80 से कम पारियों में 13 शतक लगाया हो। उन्होंने ये रिकॉर्ड 2021 में हुए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एकदिवसीय सीरीज में खेलते हुए 76 पारियों में बनाया था। इससे पहले ये रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीका के ही बल्लेबाज हाशिम अमला के नाम था जिन्होंने 83 पारियों में 13 शतक पूरे किए थे।


7. बाबर आजम दुनिया के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने एक वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा 360 रन बनाये है। उन्होंने ये रिकॉर्ड 2016 में वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाया था।


8. क्या आप जानते हैं कि बाबर आजम वनडे क्रिकेट में दुनिया का नम्बर एक बल्लेबाज बनने वाले सिर्फ चौथे पाकिस्तानी बल्लेबाज हैं।


9. बाबर आजम किसी एक टी-ट्वेंटी मैच में सबसे ज्यादा व्यक्तिगत स्कोर बनाने वाले पाकिस्तानी बल्लेबाज हैं। उन्होंने ये रिकॉर्ड 14 मार्च 2021 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 59 गेंदों में 122 रनों की धुंआधार बल्लेबाजी करते हुए बनाई थी। इससे पहले ये रिकॉर्ड अहमद सहजाद के नाम था,जिन्होंने 2014 में बांग्लादेश के खिलाफ नाबाद 111 रनों की पारी खेलकर बनाई थी।


10. बाबर आजम पाकिस्तान के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने क्रिकेट के तीनों फॉरमेट- टेस्ट, वनडे और टी-ट्वेंटी में दुनिया के टॉप 5 बल्लेबाजों में अपनी जगह बनाई है।


बाबर आजम से जुड़ी कुछ विवाद


कहते हैं सफलता की ऊंचाई पर चढ़ते हुए कई बार विवादों का भी सामना करना पड़ता है। बाबर आजम भी इससे अछूते नहीं रहे। 2020 में एक पाकिस्तानी महिला ने बाबर पर यौन शोषण का गम्भीर आरोप लगाकर सबको अचंभित कर दिया था।


महिला द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद बाबर आजम पर एफआईआर दर्ज हुआ और उनके मामले की सुनवाई अभी पाकिस्तान के एक कोर्ट में चल रही है। इन आरोपों पर बाबर पहले  ही जवाब दे चुके हैं। उनका कहना है कि ये मेरा निजी मामला है और हम इसे कोर्ट में सुलझा लेंगे। इससे मेरे करियर पर कोई असर नहीं पड़ेगा।


अपने कहे अनुसार वाकई उनके करियर पर कोई असर नहीं पड़ा है और एक के बाद एक इतिहास रचते जा रहे हैं। देखना है कि आने वाले समय में बाबर आजम और कितने क्रिकेट के रिकॉर्ड को तोड़ते हैं और अपना नाम इतिहास के पन्नों पर दर्ज कराते हैं।


बहुत सारे क्रिकेट प्रेमी Babar Azam v/s Virat Kohli की बात करते हैं। आप कमेंट करके बताएं कि इन दोनों में कौन सबसे बेहतरीन क्रिकेटर है या फिर इसके बारे में जानने के लिए हमें कुछ और समय का इंतजार करना चाहिए।


बाबर आजम की कुल इनकम | Babar Azam Net Worth


दोस्तों आइये अब बाबर आजम के कुल इनकम के बारे में जानते हैं। बाबर आजम को एक टेस्ट मैच खेलने के लिए लगभग 2 लाख रुपये मिलते हैं तो वहीं एक वनडे मैच खेलने के लिए उनको 80 हजार रुपये मिलते हैं और एक टी-ट्वेंटी मैच खेलने के लिए 50 रुपये मिलते हैं।


वहीं इनको PSL(पाकिस्तानी क्रिकेट लीग) में एक सीजन के लिए 1 करोड़ रुपये मिलते हैं। इसके अलावा उनको पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड उनको सालाना सबसे ज्यादा 5,20,000 रुपये फीस के रूप में देती है।


अगर बाबर आजम के नेट वर्थ के बारे में बात करें तो इनके पास लगभग 31 करोड़ रुपये की सम्पति है। अगर बाबर आजम के वाइफ के बारे में बात करें तो इन्होंने अभी तक शादी नहीं की है।


दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको बाबर आजम की जीवनी काफी पसंद आई होगी और आपको इनके बारे में बहुत कुछ जानने को भी मिला होगा। अगर आपको Babar Azam Biography in Hindi पसन्द आयी हो तो इसे शेयर जरूर करें। आपका धन्यवाद।।


ये भी पढ़ें:- 

तूफानी बल्लेबाज केएल राहुल का जीवन परिचय।

धाकड़ बल्लेबाज हार्दिक पांड्या का जीवन परिचय।


चेतन सकारिया का जीवन परिचय | Chetan Sakariya Biography In Hindi

चेतन सकारिया का जीवन परिचय | Chetan Sakariya Biography In Hindi

उभरते तेज गेंदबाज चेतन सकारिया की जीवनी | Chetan Sakariya Success Story In Hindi

Chetan sakariya biography in hindi, chetan sakariya success story in hindi
Chetan Sakariya Biography In Hindi

आईपीएल 2021 का सीजन शुरू हो चुका है। उम्मीद है कि हर बार की तरह इस बार भी भारतीय टीम को कुछ नए सितारे मिल सकते हैं। आज हम आपको भारत के एक ऐसे उदीयमान खिलाड़ी के बारे में बताने वाले हैं जो आने वाले समय में निश्चित तौर पर टीम इंडिया का एक अहम हिस्सा होगा।


आईपीएल 2021 के नीलामी के दौरान दुनिया के कई बड़े खिलाड़ियों को रिकॉर्ड पैसों में खरीदा गया तो वहीं इस नीलामी में भारत के कुछ ऐसे उभरते हुए टैलेंट का नाम आया जो आने वाले समय में निश्चित ही भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करते दिखेंगे। उन सभी खिलाड़ियों में से एक नाम चेतन सकारिया का भी है जिसने टैक्सी चालक के बेटे से करोड़पति बनने तक का सपना देखा।


आईपीएल 2021 की नीलामी में राजस्थान रॉयल्स ने चेतन सकारिया को 1 करोड़ 20 लाख में अपने टीम में खरीदा। ये नीलामी चेतन सकारिया के लिए सपने सच होने जैसा था क्योंकि ये आईपीएल उनके कैरियर के लिए मिल का पत्थर साबित हो सकता है और उनको आगे बढ़ने का मौका भी दे सकता है। यहीं से शुरू होता है चेतन सकारिया के सफलता की कहानी की।


कहते हैं कि जिसमें असफलताओं को डंटकर सामना करने की हिम्मत है, उसमें मिलने वाली चुनौतियों को स्वीकार करने की ताकत हो, जिसमें अपने कमियों को दूर करने का जज्बा हो, जब तक सफलता हाथ न लगे तब तक नींद न आता हो। ये सभी बात आईपीएल 2021 में राजस्थान रॉयल्स के नए तेज गेंदबाज चेतन सकारिया की जीवनी पर बिल्कुल फिट बैठता है।


Chetan Sakariya Biography In Hindi | चेतन सकारिया की जीवनी


दोस्तों चेतन सकारिया का जन्म 28 फरवरी 1998 को गुजरात के भावनगर में हुआ था।


पूरा नाम- चेतन सकारिया
निकनेम- चेतन
उम्र- 23 वर्ष(2021 के अनुसार)
पेशा- क्रिकेटर
भूमिका- तेज गेंदबाज
हाइट- 5 फीट 8 इंच
वजन- ग्रा
आंख का रंग- काला
बाल- काले रंग का
त्वचा- हल्का भूरे रंग का
राष्ट्रीयता- भारतीय
धर्म- हिन्दू
वैवाहिक जीवन- अविवाहित
कोच- राजेन्द्र गोहिल


चेतन सकारिया का फैमिली | Chetan Sakariya Parents


पिता का नाम- कांजी भाई
माता का नाम- वर्षाबेन
भाई- राहुल सकारिया(मृत)
बहन- जिग्नासा


Chetan Sakariya Struggle Life Story In Hindi


आइये दोस्तों चेतन सकारिया के बचपन के बारे में जानते हैं। चेतन के गरीबी का ऐसा हाल की क्रिकेट खेलने के लिए पांव में जुते तक नहीं थे लेकिन ऐसी हालत में क्रिकेट का जुनून ऐसा की इतनी सारी मुश्किलें भी कम लगती थी।


ये भी पढ़ें:- यॉर्कर किंग टी नटराजन की जीवनी।


पांव में पहला जूता तब आया जब एक बल्लेबाज ने चेतन से आउट करने का शर्त लगा दिया। फिर क्या था चेतन ने उसको आउट कर दिया और वो बल्लेबाज ने अपना जूता गिफ्ट में उसे दे दिया।


परिवार के इतने माली हालत होते हुए भी चेतन अपना अभ्यास करना एक दिन भी नहीं छोड़ा। आईपीएल 2021 के नीलामी से दो साल पहले पिता ने टेम्पो चलाना छोड़ किसी दूसरे काम की तलाश में लग गए ताकि वो परिवार के जरूरतों को पूरा कर सकें।


चेतन सकारिया को क्रिकेट का ऐसा खुमार रहता था कि घर पर टीवी न होने के बावजूद अपने दोस्त के घर पर जाकर टीवी देखा करते थे और क्रिकेट के बारीकियों को ध्यान लगाकर समझते थे।


परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छा नहीं होने के चलते चेतन को पिछले कुछ समय से काफी मुश्किल परिस्थितियों से गुजरना पड़ा। जनवरी 2021 में चेतन सकारिया के छोटे भाई ने आत्महत्या कर लिया, जिसके बाद परिजनों में शोक का माहौल छा गया।


भाई के आत्महत्या के दौरान चेतन सकारिया शैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में टीम खेल रहे थे लेकिन उनके परिवार वालों ने इस बात की जरा भी भनक चेतन को नहीं लगने दी। टूर्नामेंट खत्म होने के बाद चेतन सकारिया जब वापस घर लौटे तो अपने भाई के मौत का खबर सुन सन्न रह गए। उनको इस बात का मलाल हमेशा रहता है कि काश! अगर भाई जिंदा होता तो आज सबसे ज्यादा खुश होता।


चेतन सकारिया का क्रिकेट करियर | Chetan Sakariya Success Life Story In Hindi

Chetan sakariya international cricket career in hindi, chetan sakariya success story in hindi
Chetan Sakariya Cricket Career

आईपीएल ने कई सारे गरीब क्रिकेटरों को सहारा दिया तो कई क्रिकेटर के लिए किस्मत चमकाने के जरिया बन गया। दुनिया के सबसे बड़ी टी-ट्वेंटी लीग में खेलना सारे क्रिकेटरों का सपना होता है और जब ये सपना पूरा होता है तो किसी सपने के सच होने जैसा लगता है।


18 फरवरी 2021 को जब आईपीएल के 14वें सीजन की नीलामी शुरू हुई तो देश-विदेश के कई सारे खिलाड़ियों को करोड़ों रुपये में खरीदा गया तो कुछ क्रिकेटरों को कम पैसों में खरीदा गया। लेकिन युवा क्रिकेटरों के लिए बस आईपीएल में सेलेक्शन हो जाना किसी चमत्कार से कम नहीं होता है।


कुछ ऐसा चमत्कार गुजरात के चेतन सकारिया के साथ भी हुआ जब राजस्थान रॉयल्स ने 1 करोड़ 20 लाख रुपये में अपने टीम में शामिल कर लिया। आज भले ही आईपीएल में अपने प्रदर्शन से धूम मचा रहा है।


चेतन सकारिया ने अपना लिस्ट ए में डेब्यू 2017-18 में सौराष्ट्र के लिए खेलते हुए विजय हजारे ट्रॉफी में किया था। चेतन सकारिया प्रथम श्रेणी में डेब्यू सौराष्ट्र के लिए खेलते हुए 2018-19 में रणजी ट्रॉफी में किया था। जहां उन्होंने अपने ही मैच में जबरदस्त छाप छोड़ते हुए पहली पारी में शानदार 5 विकेट चटकाए थे।


चेतन सकारिया ने टी-ट्वेंटी क्रिकेट करियर की शुरुआत 21 फरवरी 2019 को सैयद मुश्ताक अली ट्राफी में सौराष्ट्र के लिए खेलते हुए किया था।


चेतन सकारिया ने आईपीएल डेब्यू 12 अप्रैल 2021 को पंजाब किंग्स के खिलाफ करते हुए किया। जहाँ उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन करके सभी का ध्यान खींचने में कामयाब रहे। इस मुकाबले में चेतन सकारिया ने 4 ओवरों में कुल 31 रन देकर 3 महत्वपूर्ण विकेट हासिल किए। जिसमें उन्होंने केएल राहुल, मयंक अग्रवाल जैसे धुरंधर बल्लेबाजों को आउट किया।


अभी हाल ही में बॉलीवुड की नई अभिनेत्री अनन्या पांडेय के साथ लव अफेयर में चेतन सकारिया का नाम जोड़ा जा रहा है। ये बात कितना सच है आने वाले समय में पता चल ही जायेगा। लेकिन इनके प्रदर्शन को देखते हुए कहा जा सकता है कि इनका नाम किसी अभिनेत्री के साथ जुड़ता है तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होनी चाहिए।


चेतन सकारिया का नेट वर्थ


आइये दोस्तों गरीबी को पीछे छोड़ चुके चेतन सकारिया के नेट वर्थ के बारे में जानते हैं। 2021 के अनुसार चेतन का नेट वर्थ 1 करोड़ रुपये है जो हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय में अपने प्रतिभा के दम पर इसको और आगे बढ़ाएंगे।


अपनी मेहनत से चेतन ने ये साबित कर दिया कि अगर लक्ष्य को पाने का जुनून हो तो दुनिया की कोई भी मुश्किल रोक नहीं सकती। लगातार मेहनत के दम पर वे अपने साथी खिलाड़ियों से आगे निकलते गए और आज एक जाना पहचाना स्टार बन गए हैं। बचपन से ही सपनों को हासिल करने का जज्बा ऐसा ही उसको हासिल करके ही दम लिया।


दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको chetan sakariya biography in hindi काफी प्रेरणा देगा और आप भी अपने मुश्किलों को पीछे छोड़ सपनों को पाने के पीछे लग जाएंगे। अगर आपको चेतन सकारिया की जीवनी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें।


ये भी पढ़ें:-

● तूफानी हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या की जीवनी।

सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी।


Sports GK Questions In Hindi | खेल संबंधी सामान्य ज्ञान 2021

Sports GK Questions In Hindi | खेल संबंधी सामान्य ज्ञान 2021

Sports GK Questions & Answer In Hindi For Students 2021 | हिंदी सामान्य ज्ञान

Sports gk questions answer in hindi for students 2021, gk questions in hindi 2021
Sports GK Questions In Hindi

दोस्तों आज हम स्पोर्ट्स से सम्बंधित ऐसे हर एक सवालों के जवाब के बारे में जानेंगे जिसको जानना बहुत जरूरी है। ये ऐसे सवाल है जो प्रतियोगी परीक्षाओं में अनेकों बार पूछे जाते हैं। आप सभी को तो ये पता ही है कि आजकल सामान्य ज्ञान के बारे में जानना कितना जरूरी हो गया है। 


इसलिए आज हम आपके लिए Best Sports GK Questions In Hindi लेकर आये हैं जिससे आप खेल से जुड़ी हर तरह सवालों का जवाब जान पाएंगे। तो चलिए बिना किसी देरी के Sports GK Quiz In Hindi के बारे में जानते हैं।


प्रमुख देशों के राष्ट्रीय खेल | Most Important Sports GK Questions In Hindi


1. ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: क्रिकेट

2. भारत का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: हॉकी

3. जापान का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: जूडो

4. कनाडा का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: आइस हॉकी

5. चीन का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: टेबल टेनिस

6. इंडोनेशिया का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: बैडमिंटन

7. इंग्लैंड का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: क्रिकेट

8. पाकिस्तान का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: हॉकी

9. स्पेन का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: बुल फाइटिंग

10. स्कॉटलैंड का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: रग्बी फुटबॉल

11. ब्राजील के राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: फुटबॉल

12. फ्रांस का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: फुटबॉल

13. भूटान का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: तीरंदाजी

14. अमेरिका का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: बेसबॉल

15. रूस का राष्ट्रीय खेल क्या है?
Ans: शतरंज/फुटबॉल


प्रत्येक खेलों में खिलाड़ियों की संख्या


1. बास्केटबॉल में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 5

2. हॉकी के प्रत्येक टीम में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 11

3. रग्बी फुटबॉल में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 15

4. कबड्डी में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 7

5. पोलो के प्रत्येक टीम में खिलाड़ियों की संख्या कितना होता है?
Ans: 4

6. टेनिस या बैडमिंटन में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 1 या 2

7. बेसबॉल में एक टीम में कितने खिलाड़ी होते हैं?
Ans: 9

8. क्रिकेट के एक टीम में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 11

9. फुटबॉल टीम में एक टीम में कितने खिलाड़ी होते हैं?
Ans: 11

10. वाटरपोलो में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 7

11. बॉलीबाल के एक टीम में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 6

12. खो-खो में खिलाड़ियों की संख्या कितनी होती है?
Ans: 9


Cricket GK Questions In Hindi


1. क्रिकेट के पिच की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 22 गज या 20.11 मी.

2. क्रिकेट के गेंद का वजन कितना होता है?
Ans: 155 ग्राम से 168 ग्राम

3. क्रिकेट के बल्ले की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 96.6 सेमी.

4. क्रिकेट के बल्ले की चौड़ाई कितनी होती है?
Ans: 22.9 सेमी.

5. क्रिकेट के बल्ले का वजन कितना होता है?
Ans: लगभग 2 पाउंड [1pound= 453.592g]

6. क्रिकेट के स्टंप की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 72 सेमी.

7. क्रिकेट का जन्मदाता देश कौन सा है?
Ans: इंग्लैंड

8. पहला टेस्ट क्रिकेट मैच कब खेला गया था?
Ans: 1867 ई.

9. पहला एकदिवसीय मैच कब खेला गया था?
Ans: 1971 ई.

10. पहला टेस्ट क्रिकेट का आयोजन कहाँ हुआ था?
Ans: मेलबर्न


Football GK Questions In Hindi


1. फुटबॉल के मैदान का माप कितना होता है?
Ans: अंतराष्ट्रीय मैचों के लिए फुटबॉल के मैदान की लंबाई 100 से 110 मीटर और चौड़ाई 64-75 मीटर होता है। गैर अंतराष्ट्रीय मैचों के लिए लम्बाई 91-120 मीटर और चौड़ाई 45-91 मीटर होता है।

2. फुटबॉल के गेंद का वजन कितना होता है?
Ans: 396 ग्राम से 453 ग्राम

3. फुटबॉल के गेंद का कितना परिधि होता है?
Ans: 68 सेमी. से 71 सेमी.

4. फुटबॉल के गोल पोस्ट की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 7.32 मीटर

5. फुटबॉल का गोल पोस्ट कितना चौड़ा होता है?
Ans: 2.14 मीटर


Hockey GK Questions Answer In Hindi


1. हॉकी के मैदान की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 91.44 मीटर

2. हॉकी के मैदान की चौड़ाई कितनी होती है?
Ans: 50-55 मीटर

3. हॉकी के गेंद का वजन कितना होता है?
Ans: 155 से 163 ग्राम

4. हॉकी के गेंद का परिधि कितना होता है?
Ans: 223 से 224 सेमी.

5. हॉकी के गोल पोस्ट की ऊँचाई कितनी होती है?
Ans: 2.14 मीटर या 7 फीट

6. हॉकी के गोल पोस्ट की चौड़ाई कितनी होती है?
Ans: 3.66 मीटर या 12 फुट


Badminton GK Questions In Hindi


1. बैडमिंटन के कोर्ट की लंबाई कितनी होती है?
Ans: 44 फीट

2. बैडमिंटन के कोर्ट की चौड़ाई कितनी होती है?
Ans: 22 फीट [सिंगल्स के लिए-17 फीट]

3. बैडमिंटन के नेट की ऊंचाई कितनी होती है?
Ans: 5 फीट

4. बैडमिंटन के कॉक का वजन कितना होता है?
Ans: 4.74g से 5.51g

5. बैडमिंटन के रैकेट का वजन कितना होता है?
Ans: 85g से 140g


Basketball GK Questions In Hindi


1. बास्केटबॉल के कोर्ट की लंबाई कितना होता है?
Ans: 26 मीटर या 85 फीट

2. बास्केटबॉल के कोर्ट की चौड़ाई कितनी होती है?
Ans: 14 मीटर या 46 फीट

3. बास्केटबॉल के बास्केट के जमीन से ऊंचाई कितनी होती है?
Ans: 3.05 मीटर

4. बास्केटबॉल के गेंद का वजन कितना होता है?
Ans: 600 ग्राम से 650 ग्राम


माइकल जॉर्डन जैसा एक अच्छा बास्केटबॉल खिलाड़ी कैसे बनें इसकी जानकारी के लिए क्लिक करके पोस्ट जरूर पढ़ें।


उम्मीद है कि आपको sports gk questions in hindi 2021 पसन्द आयी होगी। आपको हमारा ये खेल से सम्बंधित जानकारी कैसी लगी कमेंट करके लिखना न भूलिएगा।


सुप्रीम कोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना की जीवनी।

MIT क्या है और इसमें एडमिशन कैसे लें?

भूवैज्ञानिक कैसे बनें जानें पूरी जानकारी।


Next CJI N.V. Ramana Biography & Story In Hindi

Next CJI N.V. Ramana Biography & Story In Hindi

Justice N.V. Ramana Biography In Hindi | अगले CJI एन वी रमना का जीवन परिचय

Next chief justice of india nv ramana biography in hindi, supreme court next chi nv ramana ki jivani
N.V. Ramana Biography In Hindi

कहते हैं कि अगर मंजिल को पाने का जज्बा हो तो दुनिया की हर मुश्किल छोटी लगने लगती है। इस कथन को सही साबित कर दिखाया है आंध्रप्रदेश के एक होनहार आदमी और माननीय सुप्रीम कोर्ट के सबसे वरिष्ठ जजों में से एक एन वी रमना ने।


सुप्रीम कोर्ट के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश CJI एस ए बोबड़े का कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 खत्म हो रहा है। ऐसे में अब उन्होंने अगले मुख्य न्यायाधीश के रूप में एन वी रमना का नाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेजा गया था, जिसको उन्होंने मंजूरी दे दी है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट दूसरे सबसे वरिष्ठ जज एन वी रमना का अगला मुख्य न्यायाधीश बनना तय हो गया है।


एन वी रमना देश के 48वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में 24 अप्रैल 2021 से अपना पदभार संभालेंगे। एक किसान का बेटे से देश के सबसे बड़े न्यायाधीश बनने के सफर की पूरी कहानी इस एन वी रमना की जीवनी के माध्यम से पूरी विस्तार से जानते हैं।


मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एन वी रमना की जीवनी | Biography Of Justice N.V. Ramana In Hindi


दोस्तों 27 अगस्त 1957 जस्टिस एन वी रमना का जन्म आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के एक छोटे से गांव पोन्नावरम में एक किसान परिवार में हुआ था। बचपन से ही वकालत करने की रुचि ऐसी लगी जो अब देश के सबसे बड़े न्यायाधीश बनने तक पहुंच गई। 


एक किसान परिवार से होते हुए भी देश के सबसे सम्मानित पद तक पहुचना सबके लिए आसान नहीं होगा। जस्टिस एन वी रमना का पूरा नाम नुतलपाटी वेंकटरमण है। जस्टिस एन वी रमना के पत्नी का नाम शिवमाला है और उनकी दो बेटियां हैं। 

Daughters: N.V. Tanuja, N.V. Bhuvana


सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति कैसे होती है?


आपके जानकारी के लिए बता दें कि सुप्रीम कोर्ट तय नियमों के अनुसार मुख्य न्यायाधीश के रिटायरमेंट के बाद दूसरे सबसे सीनियर जज को सुप्रीम कोर्ट के सबसे मुख्य न्‍यायाधीश के पद पर नियुक्‍त किया जाता है। नए मुख्य न्यायाधीश के पद के लिए देश के कानून मंत्री वर्तमान समय के मुख्य न्यायाधीश से उनके अगले उत्तराधिकारी का नाम मांगा जाता है।


जिसके बाद भारत के मुख्य न्यायाधीश अपने बाद सबसे सीनियर जज के नाम की सिफारिश कानून मंत्री को चिट्ठी लिखकर करते हैं। इसके बाद सीजेआई से जज के नाम की सिफारिशी चिट्ठी मिलने के बाद कानून मंत्री इसे वर्तमान प्रधानमंत्री के सामने रखते हैं। फिर इसके बाद मुख्य न्यायाधीश के नाम की सिफारिश राष्ट्रपति के पास भेजी जाती है।


जहां देश के राष्ट्रपति सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम पर अंतिम मुहर लगाता है। वर्तमान में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एसए बोबडे 23 अप्रैल 2021 को अपने कार्यकाल से सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उन्‍होंने वर्तमान जस्टिस एन वी रमना को 24 अप्रैल 2021 से देश के 48वें CJI के तौर पर नियुक्ति की सिफारिश की है। 


जिस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है। एन वी रमना आंध्र प्रदेश से पहले शख्स हैं जो सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश का पदभार संभालेंगे। इनका कार्यकाल का समय 26 अगस्त 2022 तक होगा।


जस्टिस एन वी रमना का कैरियर | Justice N.V. Ramana Full Career Details In Hindi


आइये अब भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना के कैरियर के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


जस्टिस एन वी रमना अपना कैरियर वकालत में बनाने से पहले दो साल तक एक क्षेत्रीय समाचार पत्र में एक पत्रकार के रूप में काम किया। लेकिन इनको लगा कि मैं इस काम के लिए नहीं बना हूँ तो सन 1980 में एक लॉ कॉलेज में अपना एडमिशन ले लिया।


अपनी पढ़ाई पूरी होने के बाद 10 फरवरी 1983 को एन वी रमना अपना रेजिस्ट्रेशन आंध्रप्रदेश हाई कोर्ट में एक लॉयर के रूप में कराया। जहाँ उनके काम के प्रति जुनून और ज्ञान को लेकर उनका नियुक्ति 27 जून 2000 को आंध्रप्रदेश के हाई कोर्ट के स्थायी जज के रूप में कर दी गयी। जहाँ उन्होंने एक से बढ़कर सराहनीय और साहसिक फैसले लिए। इसके अलावा उन्होंने आंध्र प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता के रूप में भी काम किया है।


फिर उनके काम को देखते हुए उनका ट्रांसफर नई दिल्ली कर दिया गया। जहाँ उनकी नियुक्ति 2 सिंतबर 2013 को दिल्ली हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में कर दी गयी। यहाँ भी मुख्य न्यायाधीश के रूप में रहते हुए उन्होंने एक से बढ़कर फैसले लिए।


जिसको देखते हुए 17 फरवरी 2014 को उनकी नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट में जज के रूप में कर दी गयी। तब से लेकर अभी तक उन्होंने देश से जुड़ी अनेकों संवेदनशील मामलों की सुनवाई कर चुके हैं या फिर उसमें शामिल रह चुके हैं। आगे देश के मुख्य न्यायाधीश के रूप में रहते हुए इनको और भी कई तरह के चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।


जस्टिस एन वी रमना के महत्वपूर्ण फैसले


● जस्टिस एन वी रमना ने जम्मू कश्मीर में नवम्बर 2019 में धारा 370 हटने के बाद से बंद बड़े 3G/4G नेटवर्क के लिए केंद्र सरकार को ये कहते हुए चालू करने को कहा कि आप ज्यादा दिनों तक किसी के मूल अधिकार से वंचित नहीं रख सकते हैं।


आपको हर हाल में जम्मू कश्मीर के लोगों को नेट की सुविधाएं उपलब्ध करानी होगी। आप टेलिकॉम नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। जिसके बाद 2020 में तुरंत केंद्र सरकार को वहाँ सारी सुविधाएं शुरू करनी पड़ी।


● देश के सबसे बड़े न्यायाधीश के कार्यालय को भी RTI के दायरे में लाने का साहसिक फैसला एन वी रमना ने ही सुनाया था। उन्होंने ये फैसला ये कहते हुए सुनाया था कि देश के हर नागरिक को CJI कार्यालय के बारे में जानकारी रखने का अधिकार है। इससे आम जनता में CJI की साफ छवि बनी रहेगी।


जस्टिस एन वी रमना और वाईएस जगन मोहन रेड्डी से जुड़ी विवाद


एन वी रमना ने जीवन में जितने सफलता हासिल की है उतना ही उनका विवादों से भी नाता रहा है। इन पर  अक्टूबर 2020 में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने अक्टूबर 2020 को भारत के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबड़े को पत्र लिखकर इन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाया।


अपने पत्र में उन्होंने आरोप लगाया कि एन वी रमना और उनके करीबी रिश्तेदार आंध्रप्रदेश में अवैध रूप से जमीन के खरीद परोख्त में शामिल थे और उनके सरकार को गिराने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इतने बड़े गंभीर आरोप को जांच कर उनपर उचित कार्रवाई करने की मांग की थी।


जिसके बाद दिल्ली उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन ने आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी द्वारा लिखे गए इस पत्र की काफी निंदा की और अखिल भारतीय वकील संघ ने रेड्डी पर जुर्माना लगाने का फैसला किया और कहा कि यदि इनके द्वारा लगाए गए आरोपी बेबुनियाद होंगे तो उनको दण्डित भी किया जाएगा। आपको बता दें कि अभी तक ये मामला सुलझा नहीं है और इसकी पूरी सुनवाई होनी बाकी है। देखते हैं कि आगे जस्टिस रमना अपना कार्यकाल किस तरह से पूरा करते हैं ये आने वाला समय बताएगा।


हम उम्मीद करते हैं कि भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना की जीवनी आपको काफी अच्छी लगी होगी। साथ ही अगर आपको अगले CJI N.V. Ramana के बारे में कोई और जानकारी जानना चाहते हैं तो कमेंट करके जरूर पूछ सकते हैं।


बीजेपी की फायरब्रांड निघत अब्बास की जीवनी।

देश के सबसे पॉपुलर शिक्षक खान सर की जीवनी।

राजनीति के चाणक्य अमित शाह की जीवनी।


सम्पूर्ण श्रीमद भगवद गीता उपदेश | Shrimad Bhagwat Geeta In Hindi

सम्पूर्ण श्रीमद भगवद गीता उपदेश | Shrimad Bhagwat Geeta In Hindi

श्रीमद भागवत गीता का सम्पूर्ण अध्याय | Shrimad Bhagwat Geeta Saar In Hindi

Shrimad bhagwat geeta gyan in hindi, shrimad bhagawan geeta in hindi
Shrimad Bhagwat Geeta Saar In Hindi

आज पूरी दुनिया में किसी ग्रन्थ की सबसे ज्यादा चर्चा होती है और किसी ग्रँथ को पूजा जाता है तो श्रीमद्भागवत गीता है। दुनिया के बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी इसमें बताये गए ज्ञान को लेकर आश्चर्यचकित रह जाते हैं। आज पृथ्वी के हर कोने से लोग श्रीमद्भागवत गीता का ज्ञान को पाने की लालसा रखते हैं और इसमें बताये गए मार्ग पर चलने की कोशिश करते हैं।


इसके अंदर बताये गए ज्ञान कितना अनूठा और पवित्र है इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि कई विदेशी यूनिवर्सिटीज गीता पढ़ाने को लेकर काफी जोर दे रहे हैं। यहाँ तक कि कई कम्पनियों के मालिक भी गीता के अंदर छुपे ज्ञान को पाकर अपना जीवन बदल लिया।


यहाँ तक कि दुनिया के कई सफल लोग अपने सफलता का असली कारण गीता को ही मानते हैं। इस गीता में ऐसी कौन सी ज्ञान छिपा है जो इस पूरी दुनिया को बदल कर रख सकता है। भागवत गीता की पूरी जानकारी हम आज सम्पूर्ण गीता सार के माध्यम से प्राप्त करेंगे।


दुनिया के सबसे चर्चित कम्पनियों में से एक गूगल के मालिक ने तो यहां तक कह दिया है कि मैं आज जहाँ भी हूँ इस गीता ज्ञान के बदौलत हूँ। क्या आप जानते हैं कि अपने अंदर छुपे सबसे अच्छे रूप को बाहर निकालने का सबसे बड़ा ग्रँथ है।


श्रीमद भगवद गीता की रचना और उसके अध्याय


श्रीमद् भगवद गीता के कुल 18 अध्याय है और इसका निर्माण मूल रूप से संस्कृत में परमात्मा के द्वारा हुआ था। पर समय बदलने के साथ संस्कृत भाषा का बोलचाल में इस्तेमाल होना बंद होता चला गया। परन्तु समय बदलने के साथ श्रीमद्भागवत गीता का अनुवाद हिंदी में भी हुआ। जिसके बारे में आज हम श्रीमद्भागवत गीता के सम्पूर्ण सार को बहुत ही आसान भाषा में जानने की कोशिश करेंगे।


आपको बताते चलें कि भागवत गीता के रचयिता वेदव्यास जी हैश्रीमद्भागवत गीता का उपदेश लगभग 5000 ईसा पूर्व भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को महाभारत के युद्ध में दिया था। जो किसी जाति विशेष के लिए नहीं बल्कि पूरी मानव जाति के कल्याण के लिए है।


सम्पूर्ण श्रीमद भगवद गीता सार इन हिंदी | Shrimad Bhagawad Geeta Quotes in Hindi

Sampurna geeta saar in hindi, shrimad bhagwat geeta in hindi
सम्पूर्ण गीता सार

● वेदों में मैं सामवेद हूँ।
● सभी देवों में मैं इंद्र हूँ।
● सभी समझ और भावनाओं में मैं मन हूँ।
● सभी जीवित प्राणियों में मैं चेतना हूँ।
● मेरे लिए न कोई घृणित है और न ही प्रिय, परन्तु जो व्यक्ति भक्ति के साथ मेरी पूजा करते हैं वो मेरे साथ है और मैं उनके साथ हूँ।
● जो चीज हमारे हाथ में नहीं है, उसके विषय में चिंता करने से कोई फायदा नहीं है।
● इस दुनिया में केवल मन ही किसी का शत्रु और मित्र होता है।
● हम जो देखते हैं वो हम है और जो हम है उसी वस्तु को निहारते हैं। इसलिए जीवन में अच्छी और सकारात्मक चीजों को देखें और उनके बारे में सोचें।
● लोग आपके अपमान के बारे में हमेशा बात करेंगे, लेकिन सम्मानित व्यक्ति के लिए अपमान तो मृत्यु से बदतर है।
● जो आदमी किसी भी देवता की पूजा विश्वास के साथ करता है, मैं उसका विश्वास उसी देवता में दृढ़ कर देता हूँ।
मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है, जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।
● एक उपहार तभी अच्छा और पवित्र लगता है जब वह दिल से किसी सही व्यक्ति को सही समय और सही जगह पर दिया जाए। साथ ही उपहार देने वाले व्यक्ति का दिल उपहार देने के बदले में कुछ पाने की उम्मीद न रखता हो।
जो मन को नियंत्रित नहीं कर सकते, उनके लिए मन शत्रु के समान काम करता है।
● किसी दूसरे व्यक्ति के जीवन के साथ पूर्ण रूप से जीने से अच्छा है कि हम अपने स्वयं के भाग्य के साथ अपना जीवन खुद जियें।
● मृत्यु के समय जो व्यक्ति मुझे स्मरण करते हुए अपना शरीर त्यागता है वो व्यक्ति मेरे धाम को प्राप्त करता है।
● आपका अधिकार सिर्फ कर्म करने पर है, उससे फल प्राप्त करने पर नहीं। इसलिए हमेशा केवल कर्म करने की चेष्टा कीजिये फल प्राप्ति की नहीं।
● हमारा मन अशांत जरूर है और उसको अपने वश में नियंत्रित करना मुश्किल है लेकिन लगातार अभ्यास से उस पर काबू किया जा सकता है।
● फल प्राप्ति की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाले लोग अपने जीवन में अधिक सफल होते हैं।
● इस दुनिया में ऐसा कोई आदमी नहीं है जिसने अच्छे कर्म किये हो और उनको बुरे फल की प्राप्ति हुई हो।
● क्रोध से भ्रम पैदा होता है और भ्रम से बुद्धि का नाश होता है। जब बुद्धि का नाश होता है तब तर्क का नाश होता है और जब तर्क का नाश होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।
● अगर आप अपने लक्ष्य को हासिल करने में असफल होते हैं तो अपनी रणनीति बदलिए न कि लक्ष्य।
● स्वार्थ से भरा हुआ कार्य इस दुनिया को कैद में कर कर रहा है। इसलिए अपने जीवन से स्वार्थ को दूर रखें।
● बिना किसी व्यक्तिगत लाभ के मैं इस पूरी धरती की मधुर सुगंध हूँ, मैं अग्नि की ऊष्मा हूँ, सभी जीवित प्राणियों का जीवन और सन्यासियों का आत्मसंयम हूँ, मैं यक्ष तथा राक्षसों में धन का स्वामी कुबेर हूँ, मैं आठ वासुओं में अग्नि हूँ और शिखर वाले पर्वतों में सुमेरु पर्वत हूँ।
● हे अर्जुन! मैं बहुत, भविष्य और वर्तमान सभी प्राणियों को जानता हूँ लेकिन वास्तविकता में मुझे कोई नहीं जानता।
● बुरे कर्म करने वाले सबसे नीच व्यक्ति और जिनकी बुद्धि माया ने हर ली है वो मेरी पूजा और मुझे पाने का प्रयास नहीं करते हैं।


ये भी पढ़ें:- खाटू श्याम जी की जबरदस्त अनसुनी कहानी।


श्रीमद भागवत गीता श्लोक इन हिंदी


● जो लोग अपने काम की सफलता के लिए कामना करते हैं वो निःसन्देह देवताओं की पूजा करें।
● जो लोग सभी इच्छाओं की त्याग कर देते हैं उसे परम् शांति की प्राप्ति होती है।
● जब किसी व्यक्ति को अपने काम में सुख की अनुभूति होती है, तब उनका काम अवश्य सफल होता है।
● मैं भले ही इस दुनिया का रचयिता हूँ लेकिन सबको इस बात का मालूम होना चाहिए कि मैं कुछ नहीं करता और मैं पूर्णतः अनन्त हूँ।
● जो व्यक्ति आध्यत्मिक जागरूकता के अंतिम चरण तक पहुँच चुके हैं उनका बस एक ही मार्ग होता है- निःस्वार्थ कर्म।
● बुद्धिमान व्यक्ति को इस समाज के कल्याण के लिए बिना शक्ति के काम करना चाहिए।
● इंद्रियों की तुलना में कल्पना सुखों का शुरुआत है और अंत भी जो दुःख को जन्म देता है।
● जो व्यक्ति मेरा हमेशा स्मरण और एकाग्र मन से मेरी पूजन करता है, मैं व्यक्तिगत रूप से उसके कल्याण का उत्तरदायित्व लेता हूँ।
● हे अर्जुन! हमने एक साथ कई जन्म लिए हैं लेकिन मुझे याद है तुम्हे नहीं।
● कर्म मुझे बांध नहीं सकता, क्योंकि मुझे कर्म के बाद फल प्राप्ति की इच्छा नहीं होती है।
● तुम उसके लिए शोक करते हो जो वास्तव में शोक करने के योग्य नहीं है और फिर भी ज्ञान की बातें करते हो। हे अर्जुन! बुद्धिमान व्यक्ति न जीवित और न ही मृत व्यक्ति के लिए शोक करते हैं।
● सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए खुशी न इस लोक में है और न ही किसी दूसरे लोक में।
● हे अर्जुन! भाग्यशाली योद्धा को ही ऐसा महायुद्ध करने का सौभाग्य प्राप्त होता है।
● बुद्धिमान व्यक्ति कभी किसी दुसरे पर निर्भर नहीं रहता है, बल्कि अपना हर रास्ता खुद बनाता है।
● मैं सभी प्राणियों को समान रूप से देखता हूँ। न तो मुझे कोई अधिक प्रिय है और न कोई कम। लेकिन जो मेरा प्रेम पूर्वक अराधना करते हैं वो मेरे भीतर रहते हैं।
● सच्चे व्यक्ति के लिए गंदगी का ढेर हो या पत्थर और सोना सभी समान है।
● किसी दूसरे के काम को अच्छे से पूरा करने से अच्छा है खुद का काम पूरा करना, भले ही उस काम को करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़े।
● जिसके मन और आत्मा में एकता हो, जो क्रोध और इच्छा से मुक्त हो, जो खुद की आत्मा को सही मायने में जानता हो भगवान और परमात्मा उसको हमेशा शांति प्रदान करते हैं।


सम्पूर्ण भगवद गीता उपदेश हिंदी में


● जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतना ही अटल सत्य है जितना कि मृत्यु होने वाले के लिए जन्म लेना। इसलिए जो चीज तुम्हारे हाथ में नहीं है उसका कभी शोक मत करो।
जो व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है वहीं सही मायने में देखना जानता है।
● जिस व्यक्ति को दुःख से मन अशांत नहीं होता है, जिसको सुख की कोई आकांक्षा नहीं होती तथा जिसने राग, भय और क्रोध पर विजय पा लिया है ऐसा व्यक्ति आत्मज्ञानी कहलाता है।
● श्रेष्ठ व्यक्ति जैसा व्यवहार करता है दूसरे लोग भी उसके साथ वैसा ही व्यवहार करते हैं। वे जो कहते हैं लोग उसी का अनुसरण करते हैं।
● हे अर्जुन! जब-जब दुनिया में धर्म की हानि होती है और अधर्म की वृद्धि होती है तब-तब मैं अच्छे लोगों की रक्षा, दुष्टों का नाश और धर्म की रक्षा करने के अवतार लेता हूँ।
मौसम में जिस प्रकार परिवर्तन आता है ठीक उसी प्रकार हमारे जीवन में भी उतार-चढ़ाव आता रहता है। इससे निराश नहीं होना चाहिए बल्कि इसका डंटकर सामना करना चाहिए।
● जो मानव इस शरीर का अंत होने से पहले ही काम और क्रोध से उत्पन्न होने वाले वेग को अपने वश में कर लेते हैं वहीं आदमी योगी और सुखी होता है।
● जो व्यक्ति आध्यात्मिकता के शिखर तक पहुँच चुके हैं उनका बस एक ही मकसद होता है- निःस्वार्थ कर्म।
● जो मनुष्य सभी कामनाओं और इच्छाओं को त्यागकर ममता रहित और अहंकार मुक्त होकर अपने कर्तव्यों का पालन करता है उसे ही शांति प्राप्त होता है।
● जो किसी भी परिस्थितियों में न तो हर्षित होता है और न शोक करता है तथा जो शुभ और अशुभ कर्म का त्यागी है वैसा व्यक्ति मुझे अतिप्रिय है।
● आप जिस भी काम को करें उसको हमेशा भगवान को अर्पण कर दें। ऐसा करने से मनुष्य को अति आनंद को महसूस करेगा।
● जो व्यक्ति कार्य में निष्क्रियता और निष्क्रियता में कार्य देखता है वही बुद्धिमान व्यक्ति कहलाता है।
● जिन्हें वेद के मधुर वाणी से अथाह प्रेम है उसके लिए वेदों का भोग ही सबकुछ है।
● चिंता से दुःख उत्पन्न होते हैं किसी और कारण से नहीं।
● जो आज तुम्हारा है वो कल किसी और का था परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपना समझकर मग्न हो रहे हो बस यहीं प्रसन्ता तुम्हारे दुखों का कारण है।
● हे अर्जुन! तुम निश्चय ही शक्तिमान हो लेकिन तुम मेरे भक्तों का नाश नहीं कर सकते।
● यदि कोई अत्यंत दुराचारी व्यक्ति भी मुझे अनन्य भक्ति भाव से मेरा स्मरण करता है तो उसे भी साधु ही मानना चाहिए क्योंकि वो जल्दी ही धर्मात्मा हो जाता है।
● हे अर्जुन! तुम सदा मेरा स्मरण करो और अपना कर्तव्य करो। तुम इन तरह मुझमें अर्पण किये गए मन और बुद्धि से युक्त होकर निःसन्देह ही तुम मुझको प्राप्त होगे।
● हे अर्जुन! जैसे अग्नि किसी भी लकड़ी को जला देती है ठीक वैसी ही ज्ञान रूपी अग्नि कर्म के सारे बंधनों को भष्म कर देती है।
● अपने आप जो कुछ भी प्राप्त हो उसमें हमेशा संतुष्ट रहने वाला तथा ईर्ष्या से रहित सफलता और असफलता में हमेशा एक समान रहने वाला कर्मयोगी कर्म करता हुआ भी कर्म के बंधनों से नहीं बंधता है।
● जिसके मन और इन्द्रिय उसके वश में है, जिसने हर प्रकार के स्वामित्व का परित्याग कर दिया है ऐसा मनुष्य शरीर से कर्म करते हुए भी पाप मुक्त होता है और जर्म बंधन से मुक्त हो जाता है।


ये भी पढ़ें:- भगवान गौतम बुद्ध के जीवन का सच्चा उपदेश।


श्रीमद भागवत गीता पुराण इन हिंदी


● हे अर्जुन! जो भक्त किसी भी मनोकामना से मेरी पूजा करता है मैं उनकी मनोकामना की अवश्य पूर्ति करता हूँ।
● हे अर्जुन! मेरे जन्म और कर्म दिव्य है। इसे जो मनुष्य भली भांति जान लेता है उसका मरने का बाद पुनः जन्म नहीं होता है बल्कि उसको परमधाम की प्राप्ति होती है।
● काम, क्रोध और लोभ ये जीव को नरक में ले जाने वाले तीन द्वार है। इसलिए इन तीनो का त्याग करना चाहिए।
● इंद्रियां इस शरीर से श्रेष्ठ होता है। इंद्रियों से परे मन और मन से परे बुद्धि है तथा आत्मा बुद्धि से भी अनन्त श्रेष्ठ है।
● इंद्रियां मन और बुद्धि काम के निवास स्थान कहे जाते हैं। ये काम इंद्रियां मन और बुद्धि को ढँककर मनुष्य को भटका देता है।
● जो मनुष्य बिना आलोचना से डरे श्रद्धा पूर्वक मेरे आदेश का पालन करते हैं वे सारे कर्मों के बंधन से मुक्त हो जाते हैं।
● मनुष्य कर्म को त्यागकर कर्म के बंधन से मुक्त नहीं होता है।
● केवल कर्म के त्याग मात्र से सिद्धि प्राप्त नहीं होती है।
कोई भी मनुष्य एक क्षण भी बिना कर्म किये नहीं रह सकता।
● जो मनुष्य सब कामनाओं को त्यागकर इच्छा रहित विचरण करता है उसको परम् शांति की प्राप्ति होती है।
● जैसे जल में तैरती नाव को तूफान उसे अपने लक्ष्य से दूर ले जाता है वैसे ही इन्द्रिय सुख मनुष्य को गलत रास्ते पर ले जाता है।
● शांति से सभी दुखों का अंत होता है और शांति मनुष्य की बुद्धि शीघ्र ही स्थिर होकर परमात्मा से युक्त हो जाती है।
● क्यों व्यर्थ में चिंता करते हो, किस से व्यर्थ डरते हो, कौन तुम्हें मार सकता है? आत्मा न तो पैदा होती है और न मरती है।
● हर काम का फल मिलता है।
● ऋषियों का चिंतन करने से ऋषियों का आशक्ति होती है, आशक्ति से इच्छा उत्पन्न होती है और इच्छा से क्रोध उत्पन्न होता है, क्रोध से सम्मोहन और अविवेक उत्पन्न होता है, सम्मोहन से मन भ्रष्ट होता है, मन नष्ट होने पर बुद्धि का नाश होता है और बुद्धि का नाश होने से मनुष्य का पतन होता है।
● केवल कर्म करना ही मनुष्य के वश में है कर्मफल नहीं। इसलिए कर्मफल की आशक्ति में ना फसों।
● तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम यहाँ क्या लाये थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नाश हो गया। एक बात का हमेशा ध्यान रखों कि जो भी लिया यहीं से लिया, जो खोया यहीं से खोया इसलिए व्यर्थ में शोक करना छोड़ दो।
● सुख-दुख, लाभ-हानि और जीत-हार की चिंता न करके मनुष्य को अपने शक्ति के अनुसार कर्तव्य करना चाहिए। ऐसे बहुत से कर्म करने पर मनुष्य को पाप नहीं लगता।
● जो हुआ अच्छा हुआ, जो हो रहा है अच्छा ही हो रहा है, जो होगा वह भी अच्छा ही होगा।
● तुम भूतकाल को याद करके पश्चाताप न करो, भविष्य की चिंता न करो बल्कि वर्तमान के बारे में सोचो।
● हे अर्जुन! सभी प्राणी जन्म से पगले अप्रगट थे और फिर मृत्यु के बाद अप्रगट हो जायेंगे।
● परिवर्तन इस संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो वही तो जीवन है। पल भर में तुम अमीर बन जाते हो और पल भर में ही गरीब।
● मेरा-तुम्हारा, अपना-पराया ये सब अपने मन से मिटा दो फिर तुम सबके अपने बन जाओगे।
● शस्त्र इस आत्मा को नहीं मार सकती है, अग्नि इसको जला नहीं सकती, जल इसे गिला नहीं कर सकता है और वायु इसे सूखा नहीं सकता।
● जैसे मनुष्य अपने पुराने वस्त्रों को उतारकर दूसरे नए वस्त्र धारण करते हैं वैसे ही जीव मृत्यु के बाद अपने पुराने शरीर को त्यागकर नया शरीर धारण कर लेता है।
● तुम अपने आप को भगवान को अर्पित कर दो यहीं सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वो भय, चिंता, सुख-दुःख से सर्वदा मुक्त रहता है।
● आत्मा न कभी जन्म लेती है और न कभी मरती है। शरीर का नाश होने पर भी इसका नाश नहीं होता है।
न तो ये शरीर तुम्हारा है और न तुम शरीर के हो बल्कि ये अग्नि, जल, वायु, आकाश और पृथ्वी से मिलकर बना है और इसी में पुनः मिल जाएगा।
● जैसे इसी जन्म में जीवात्मा बाल्यकाल, युवा, और वृद्धावस्था को प्राप्त करती है वैसे ही जीवात्मा मरने के बाद नया शरीर प्राप्त करती है। इसीलिए वीर पुरुष को मृत्यु से घबराना नहीं चाहिए।
● हे अर्जुन! तुम ज्ञानियों के तरह बात करते हो लेकिन जिनके लिए शोक नहीं करना चाहिए उनके लिए तुम शोक कर रहे हो। ज्ञानी पुरुष किसी के लिए शोक नहीं करते हैं।
● हे अर्जुन! विषम परिस्थितियों में कायरता को प्राप्त करना श्रेष्ठ मनुष्यों के आचरण के विपरीत है। न तो ये स्वर्ग प्राप्ति का साधन है और न ही इससे कीर्ति प्राप्त होता है।
● यदि व्यक्ति विश्वास के साथ एकाग्रचित्त होकर लगातार किसी चीज के बारे में लगातार कर्म और चिंतन करे तो वो कुछ भी बन सकता है।
● उससे कभी मत डरो जो वास्तविक नहीं है क्योंकि न तो वह कभी था और न कभी होगा। जो वास्तविक है वो हमेशा रहेगा और उसे कभी नष्ट नहीं किया जा सकता है।


हम उम्मीद करते हैं कि आपको सम्पूर्ण गीता सार का ज्ञान प्राप्त हो गया होगा। आपको गीता की कौन सी श्लोक सबसे ज्यादा प्रेरित करती है आप कमेंट करके जरूर बताइएगा।


भगवान शिव की दो अनसुनी धार्मिक कहानियां।

परोपकारी राजा शिबी की बहुत ही रोचक अनुसनी कहानी।


सुबह जल्दी उठने के 5 सबसे बेहतरीन टिप्स | 4 बजे सुबह जल्दी कैसे उठें?

सुबह जल्दी उठने के 5 सबसे बेहतरीन टिप्स | 4 बजे सुबह जल्दी कैसे उठें?

How To Wake Up In The Morning In Hindi | सुबह जल्दी कैसे उठें?

How to wake up early in the morning in hindi, best 5 tips to get up early in the morning
How To Wake Up Early In The Morning

आज दुनिया में ऐसा कोई भी आदमी नहीं मिलेगा जो अपने जिंदगी में सक्सेस नहीं होना चाहता हो, जो अपना हर सपना पूरा नहीं करना चाहता हो, जो अपने हर लक्ष्य को पूरा करना नहीं चाहता हो। लेकिन अधिकतर लोगों की बस एक ही समस्या होती है कि वो सुबह जल्दी नहीं उठना चाहते हैं।


परन्तु क्या आप जानते हैं कि दुनिया में जितने भी लोग सफल होते हैं उन सभी का सबसे बड़ा गुण यहीं होता है कि वो सुबह के समय को अच्छे तरीके से उपयोग में लाते हैं, वो चाहे कितना भी देर से सोते हैं लेकिन सुबह उठना कभी नहीं भूलते हैं। जबकि असफल लोग यहीं सबसे बड़ी गलती करते हैं।


हमें पता है कि आप ये अच्छी तरह से जानते होंगे कि सुबह जल्दी उठने के क्या फायदे हैं फिर भी आप देर तक सोना पसन्द करते हैं। जबकि आप ये बात अच्छी तरह से जानते हैं कि सुबह देर से उठने के कितने नुकसान होते हैं। आपका पूरा दिन ऐसे ही खराब हो जाता है। आप घर काम लेट से करते हैं, कभी ऑफिस के लिए लेट हो जाते हैं तो कभी जरूरी यात्रा के लिए लेट हो जाते हैं।


ऐसे में अगर आप लाख कोशिशों के बावजूद सुबह जल्दी नहीं उठ पाते हैं और जानना चाहते हैं कि सुबह जल्दी कैसे उठें तो ये article आपके लिए है। अगर आप इसमें बताये गए टिप्स को ध्यान से फॉलो करेंगे तो निश्चित ही आपकी ये समस्या दूर हो जाएगी। तो चलिए सुबह जल्दी उठने के 5 सबसे आसान तरीका के बारे में जानते हैं।


5 Best Tips For How To Wake Up Early In Hindi | सुबह जल्दी उठने का 5 सबसे आसान तरीका


1. खुद से अलार्म सेट करें- जी हाँ आप बिल्कुल सही पढ़ रहे हैं। आप सोते समय बस एक बात निश्चय कर लें कि जब भी अलार्म बजेगा तुरंत उठ जाऊँगा। उठने के बाद अलार्म बंद करके दुबारा सोने का प्रयास बिल्कुल न करें। उठने का मतलब ये होगा कि आप शौचालय से आने के बाद अपने निर्धारित कामों में लग जाएं। ऐसा करके अपने सारे काम को आसान कर सकते हैं।


2. समय में धीरे-धीरे बदलाव करें- इसका मतलब है कि अगर आपको 7 बजे उठने की आदत है तो पहले ही दिन 5 बजे का अलार्म बिल्कुल नहीं लगाए। आप उठने के समय में धीरे-धीरे परिवर्तन करें। पहले दिन 15 मिनट जल्दी उठने का प्रयास करें। फिर जब आपका शरीर इसका आदी हो जाये तो फिर कुछ दिनों बाद 15 मिनट कम करके अलार्म लगायें।


ऐसा करके आप उठने के समय में आसानी से बदलाव कर सकते हैं और आपको किसी तरह का कोई दिक्कत नहीं होगा।


3. फोन या अलार्म क्लॉक को अपने से दूर रखें- अब आप ये बोलेंगे कि इसका क्या मतलब हुआ तो आपको बता दें कि आप अच्छी तरह से जानते होंगे कि अलार्म जब पास में बजता है तो हम सोए हुए ही उसको बंद करके दुबारा सो जाते हैं। क्या आपके साथ भी ऐसा ही होता है? कमेंट करके जरूर बताइये।


इसलिए अगर आप सच में सुबह जल्दी उठना चाहते हैं तो अलार्म को अपने से दूर रखें, ताकि आप सोए हुए उसको बंद न कर सके। अलार्म को दूर रखने का फायदा ये होगा कि जब भी अलार्म बजेगा आपको बंद करने के लिए उठकर जाना पड़ता है और इससे आपकी नींद भी आसानी से टूट जाता है। लेकिन आप यहाँ भी दुबारा सोने का प्रयास न करें क्योंकि आप जीतने के लिए बने हैं हारने के लिए नहीं।


4. जल्दी सोने का प्रयास करें- आपने अंग्रेजी की एक कहावत तो सुनी हो होगी कि Early to bed & early to rise. इसका मतलब है कि सुबह जल्दी उठना जितना जरूरी है जल्दी सोना भी उतना ही जरूरी है। इसलिए देर रात तक टीवी और मोबाइल चलाने से बचें।


देर रात तक अंधेरे में मोबाइल ज्यादा देर तक चलाने से आपके आंखों की रोशनी भी जा सकती है। साथ ही आपको कई तरह की बीमारियों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए अगर आप जल्दी उठना चाहते हैं तो जल्दी सोने की भी कोशिश करें।


अगर बिस्तर पर जाने के बाद नींद नहीं आती है तो आप अपने जरूरत के अनुसार कोई भी किताब पढें। ऐसा करने से आपको बहुत सारा ज्ञान भी प्राप्त होगा और आपको जॉब या बिजनेस में तरक्की भी मिलेगी। इसके साथ-साथ आपका मानसिक स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा, नींद भी अच्छी आएगी और आप सुबह जल्दी भी उठ पायेंगे।


सुबह के धूप के फायदे आपके शरीर के अनेकों कष्टों को दूर करते हैं, आपके बॉडी को मजबूत बनाते हैं। इसलिए सूर्योदय से पहले उठकर मोबाइल चलाने के बजाय धूप में कुछ देर बिताए। सूर्य के धूप कैसे हमारे शरीर को अनेकों रोगों से बचाता है इसकी जानकारी यहाँ से प्राप्त सकते हैं।

सुबह के धूप के आश्चर्यजनक फायदे।


5. दिन की शुरुआत कैफीन से न करें- क्या आप भी दिन की शुरुआत कॉफी या चाय से करते हैं? अगर ऐसा करते हैं तो ये बिल्कुल गलत आदत है, क्योंकि इसमें बहुत अधिक मात्रा में कैफीन पाया जाता है। जो आपके शरीर के लिए काफी नुकसानदेह साबित होता है। 


बहुत सारे लोगों का आजकल शौक बनता जा रहा है कि बिस्तर पर चाय या कॉफी लेकर ही दिन की शुरुआत करते हैं, जो कि आपके स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है।


आप सुबह इसीलिए उठते हैं ताकि स्वस्थ रहें। अगर चाय या कॉफी पीकर उठते हैं तो आपके स्वास्थ्य के लिए तो खतरा ही है। इसलिए सुबह चाय या कॉफी लेने के बजाय गुनगुने पानी से दिन की शुरुआत करें। इससे आपके अंदर की विषैले पदार्थ भी बाहर निकलते हैं और आप दिन भर ताजगी महसूस करते हैं।


निष्कर्ष: सुबह जल्दी कैसे उठें?


दोस्तों ये थे सुबह जल्दी उठने के 5 तरीके। ये तरीके तभी आपके लिए फायदेमंद होंगे जब आप इनको फॉलो करेंगे। इसलिए आप कुछ ही दिन इस नियम को फॉलो करें फिर आप देखिए आपके अंदर कितना बदलाव आता है।


अगर आपके अंदर आगे बढ़ने का जुनून है तो सबसे पहले सुबह जल्दी उठने का लक्ष्य हासिल करें। फिर आप देखिए आपके सारे काम समय पर हो जाते हैं कि नहीं। उम्मीद करते हैं आज से आप बहाने बनाने के बजाय सुबह जल्दी उठकर अपने दिन की शुरुआत करेंगे।


हम उम्मीद करते हैं कि सुबह जल्दी कैसे उठे जैसी समस्या को आप इन आसान टिप्स को फॉलो करके दूर कर सकते हैं। अगर आपको हमारा सुबह जल्दी उठने का तरीका पसन्द आया हो तो इसे शेयर जरूर करें और साथ ही इससे सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो कमेंट करके जरूर पूछिये।


एक महीने में तेजी से वजन बढ़ाने के अचूक उपाय

अश्वगंधा के 10 हैरान कर देने वाले फायदे।