बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत का जीवन परिचय | Kangana Ranaut Biography

बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत का जीवन परिचय | Kangana Ranaut Biography

Kangana Ranaut Biography in Hindi |बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत की जीवनी

Kangana ranaut biography in hindi, kangana ranaut history
Kangana Ranaut Biography

आज हम बात करेंगे बॉलीवुड के एक ऐसे अभिनेत्री के बारे में जिनकी पहचान उनकी एक्टिंग के साथ बॉलीवुड माफियाओं को बेनकाब करके सामने लाने वाली एक बहादुर अभिनेत्री के रूप में होती है। 

जी हाँ ऐसे बहादुर अभिनेत्री का नाम कंगना रनौत है। आज उसी कंगना रनौत की जीवनी के बारे में  के बारे में विस्तार से जानेंगे।

ये सिर ना डर से झुकता है और ना अभिमान से उठता है। बस आंखों में आंखों डाले स्वाभिमान से अड़ा रहता है। ये कथन बॉलीवुड की चर्चित अभिनेत्री कंगना रनौत के जीवनी पर बिल्कुल फीट बैठता है की जब बेटी उठ खड़ी होती है तो विजय बहुत बड़ी होती है।


कंगना रनौत के खिलाफ जिस तरह से महाराष्ट्र सरकार और संजय राउत लगातार बात कर रहे हैं और धमकी दे रहे हैं उससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ये कोई आम अभिनेत्री नहीं जिसे कोई फ़िल्म के बाद आप भूल जायें।


ये जमीन से जुड़ी वो जड़ है जो हर एक तूफान से लड़ सकती है। तभी तो कंगना ने एक फ़िल्म में कहा था कि हम थोड़े बेवफा क्या हुए आप तो बदचलन हो गए। फिलहाल कंगना के साथ विवादों का नाता तो हमेशा जुड़ा ही रहता है।


फिल्म जगत के काले सच को कंगना ने बाहर क्या निकाला पूरा फिल्म जगत ही कंगना के पीछे पड़ गया और कंगना की बहादुरी को सलाम कीजिए या फिर जो कहिए वो बार बार यही कहती आयी है कि हमारी संस्कृति में पहले शांति है और फिर क्रांत्ति है।


आज हम आपको सपना देखना और सपनों का पूरा हो जाना बहुत अलग बाते हैं। इसकी मिसाल आज आपको बताते हैं। आपको बताएंगे कि कैसे हिमाचल के एक छोटे से कस्बे से पहाड़ों को बांटकर मुंबई की चकाचौंध भरी जिंदगी में कंगना ने नाम और शोहरत कमायी।


साथियों कंगना रनौत सुशांत सिंह राजपूत के मौत को सीबीआई जांच कराने की मांग कराने वालों पहली अभिनेत्री थी। वो एक ऐसी अभिनेत्री है जो अपने दम पर कोई भी मूवी हिट कराने का मादा रखती है।


कंगना रनौत अपने इन्ही कामों की वजह से लाखों दिलों पर राज करती है। आज कंगना को पूरे देश में अपने सच बात को बिना किसी डर के सामने लाने को वजह से जो मान सम्मान मिला है वो शायद ही किसी अभिनेत्री को मिला है।


ये भी पढ़ें:- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जीवनी


कंगना रनौत ने बॉलीवुड माफियाओं के दरिंदगी के बारे में खुल कर कहती है। उन्होंने एक बार कहा था जितना उनको परेशान किया गया है उनकी जगह इस इंडस्ट्री में कोई और होता तो शायद कब का आत्महत्या कर लिया होता।


हम आपको कंगना रनौत की जीवनी के कुछ मुख्य घटनाओं के बारे में बताते हैं। जैसे-


कंगना रनौत के जीवन परिचय
कंगना रनौत का फैमिली बैकग्राउंड

कंगना रनौत की सिक्योरिटी


कंगना रनौत का जन्म और जीवन परिचय | Kangana Ranaut Biography in hindi

Kangana ranaut life story in hindi, kangana ranaut
कंगना रनौत का जीवन परिचय


चलिए कंगना रनौत के संघर्ष से लेकर सफलता तक पूरी कहानी सुनाते हैं और बताएंगे कि कैसे वो अपने सपनों को पाने के लिए 16 साल की उम्र में घर छोड़कर मुंबई पहुंची।


आपको एक डायलॉग तो मालूम ही होगा कि 'वो लड़ रहे हैं ताकि हम पर राज कर सकें और हम लड़ रहे हैं ताकि खुद पर नाज कर सकें।' खुद पर नाज करने की कंगना की इसी जिद ने उन्हें औरों से बहुत अलग बनाया है।


बचपन से ही ज़िद्दी कंगना रनौत का जन्म राजपूत परिवार में 23 मार्च 1987 को हिमाचल प्रदेश के भमला नामक शहर में हुआ था, जिसको अब सुरजनगर के नाम से जाना जाता है।


कंगना रनौत की फैमिली बैकग्राउंड | Kangana Ranaut Family


अगर कंगना रनौत की फैमिली बैकग्राउंड की बात करें तो कंगना रनौत की माता का नाम आशा रनौत जो पेशे से एक शिक्षिका थी। वो कंगना को डॉक्टर बनाना चाहती थी। लेकिन कंगना रनौत के पिता अमरदीप रनौत कंगना को खुले आसमान में उड़ने देना चाहते थे। 


कंगना रनौत के दादा का नाम सरजू रनौत था। जो विधानसभा के सदस्य थे। प्रशासनिक सेवा में रहे दादा से कंगना को आज इतनी हिम्मत मिली है जिसकी वजह से वो किसी से नहीं डरती है।


वो बताती है कि बचपन में ही मेरे पिताजी भाई के खेलने के लिए गन और मेरे खेलने के लिए बाजार से एक डॉल(गुड़िया) लाया करते थे। कंगना डॉल नहीं लेती थी और अपने पिताजी से पूछती थी कि हमको भी गन चाहिए।


मेरे साथ भेदभाव क्यों हो रहा है। कंगना के घर में भी लड़कियों को एक आम भारतीय घर की लड़कियों की तरह रखा जाता था। मतलब कि उनका पढ़ने लिखने की याद दिलाना और लड़की होने की याद दिलाना जिससे कि वो शादी के बाद अपने पति के साथ अच्छे से रह सकें। कंगना को ये बर्ताव बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता था और ये सब देखकर कंगना को बहुत गुस्सा आता था।


वो बोलती है कि घर में सबको रूम मिले हुए है पर मुझे नहीं मिला हुआ था। इस पर अपने घरवालों से पूछती थी कि मुझे रूम क्यों नहीं दिया गया। इस पर घरवाले कहते थे कि तुमको रूम की क्या जरूरत है। तुमको तो एक दिन पराये घर जाना है।


कंगना रनौत की शिक्षा | Success Story Of Kangana Ranaut in Hindi


बड़ी बहन रंगोली और छोटे भाई अक्षत के साथ कंगना रनौत की शिक्षा चंडीगढ़ के डीएवी स्कूल से हुई। कंगना ने शुरू में अपने माँ बाप के कहने पर डॉक्टर बनने का इरादा किया लेकिन बारहवीं में केमिस्ट्री में वो फेल हो गयी। यहाँ से कंगना रनौत ने आगे का जो कदम उठाया वो किसी भी लड़की के लिए आसान नहीं था।


सिर्फ 16 साल की उम्र में अपने हौसलों के बदौलत कंगना घर छोड़कर दिल्ली पहुंच गई। जहाँ किस्मत ने उनके लिए कुछ और ही तय कर रखा था। थोड़े दिन संघर्ष के बाद कंगना को एक मॉडलिंग एजेंसी में काम मिल गया।


दिल्ली में कंगना ने कई सारे मॉडलिंग के लिए ऑडिशन दिए। जहाँ कंगना रनौत के लुक से प्रभावित होकर एलीट मॉडलिंग एजेंसी ने मॉडलिंग और फिल्मो में कैरियर चुनने को कहा। कंगना ने भी यही करने के लिए ठान लिया।


सुंदर चेहरा, लम्बा कद और एक अच्छे फिगर ने धीरे धीरे ही सही बाजार में कंगना की पहचान होने लगी। लेकिन कंगना इस काम से बिल्कुल भी खुश नहीं थी। तभी एक दिन मॉडलिंग को छोड़कर निर्देशक अरविंद कौर के अस्मिता थिएटर ग्रुप्स को जॉइन कर लिया और कोई रोल में किरदार निभाया।


ये भी पढ़ें:- सदी के सबसे क्रांतिकारी आदमी एलन मस्क की कहानी


एक इंटरव्यू में अरविंद कौर ने कहा था एक रोल में लड़का सही समय पर नहीं पहुँच पाया था, जिसकी वजह से कंगना ने अपने किरदार के साथ साथ उस लड़के के किरदार को भी बखूबी निभाया। इसके बाद कंगना की काफी तारीफ होने लगी। उन्होंने कंगना के हौसले बढ़ाया और इसके बाद कंगना के कदम मुंबई की तरफ बढ़ चला।


कंगना रनौत की फिल्मी कैरियर | Kangana ranaut Bollywood career in hindi


अब कंगना रनौत की फिल्मी करियर के बारे में बात करते हैं। मुंबई आकर कंगना ने आशा चंद्रा स्कूल में एक्टिंग का कोर्स किया। कहते हैं कि कंगना ने फ़िल्म के लिए काफी संघर्ष किया साथ ही ये भी कहते हैं कि कंगना ने अपने संघर्ष के दिनों में अचार और ब्रेड खाकर अपना गुजारा किया।


साथियों कंगना रनौत जब अपनी पहली फिल्म गैंगस्टर मूवी के लिए ऑडिशन देने के लिए गयी तो उनका ऑडिशन बहुत अच्छा रहा पर उस मूवी में एक बच्चे की माँ का रोल करना था। मूवी के प्रोड्यूसर महेश भट्ट ने बोला कि तुम अभी इस रोल के लिए छोटी हो।


फिर इस रोल को करने के लिए चित्रांगदा सिंह को साइन किया गया। पर व्यक्तिगत कारणों की वजह से चित्रांगदा इस मूवी को नहीं कर पाई। इसके बाद कंगना को इस रोल को निभाने के लिए कहा गया।


फिर क्या था महेष भट्ट और अनुराग बसु का अनुभव ने कंगना के अभिनय को ऐसा निखारा की मात्र 17 साल की इस लड़की की दुनिया दीवानी हो गयी।


अगर आपने गैंगस्टर मूवी देखा हो तो आपने देखा होगा कि कंगना का रोल कितना मुश्किल था। 17 साल के उम्र में इस रोल को निभाना तो और भी मुश्किल था।


लेकिन कंगना ने इस रोल को ऐसे निभाया जैसे कि वो सच 30 साल की कोई लड़की हो। इस मूवी में काम करने को लेकर कंगना की काफी तारीफ हुई साथ ही ये मूवी बॉक्स ऑफिस पर काफी हिट साबित हुई।


कंगना रनौत की पहली फिल्म में दमदार अभिनय के लिए बेस्ट फ़िल्म डेब्यू एक्ट्रेस का अवार्ड भी मिला। इसके बाद कंगना ने पीछे मुड़ कर कभी नहीं देखा।


इसके बाद कंगना ने अनुराग बसु की फिल्म 'वो लम्हे' में काम किया। कहा जाता है कि ये फ़िल्म मशहूर अभिनेत्री परवीन बॉबी के जीवन पर आधारित थी। इस फ़िल्म में करते हुए कंगना किरदार में इतना घुस गई थी कि उन्हें भी परवीन की तरह खालीपन महसूस होने लगा।


ये मूवी जिसने भी देखी सबने कंगना के काम की तारीफ की। इसके उन्हें 'राज:द मिस्ट्री कंटीन्यूअस' में काम करने मे मौका मिला। वो जब ये फ़िल्म कर रही थी तब 'इंडियन एक्सप्रेस' में एक आर्टिकल छपा जिसमें ये बताया गया कि कंगना सिर्फ उसी तरह की फिल्में कर रही है, जिसमें कैरेक्टर को दिमाग सम्बंधित बीमारी हो।


वो लम्हे, लाइफ इन ए मेट्रो, फैशन, वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई जैसी फिल्मों में कंगना ने अपने अभिनय की एक अलग ही छाप छोड़ी।


कंगना रनौत के बारे में कहा जाता है कि वो कोई भी फिल्म फटाफट साइन नहीं करती है। फिल्म के स्टोरी में जब तक कंगना के लिए कुछ अलग करने का नहीं होता है तब तक वो फिल्म के लिए साइन नहीं करती है। 


साथ ही आज कंगना उस फिल्म में कभी काम नहीं करती जिसमें एक्टर से कम पैसा मिले। वो किसी भी बड़े एक्टर के साथ काम करने की कोई दिलचस्पी नहीं है। उन्हें सिर्फ अच्छी रोल निभाना पसन्द है।


इस बीच कंगना की कई फिल्में फ्लॉप भी हुई लेकिन कंगना के अभिनय में लगातार निखार आता रहा। फिर साल 2008 में मधुर भंडाकर की फिल्म 'फैशन' आयी जो बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई।


कंगना में इस फ़िल्म में एक मॉडल का किरदार बखूबी निभाया। इस फ़िल्म के लिए कंगना को बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला साथ ही फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला।


इसके बाद कंगना की कुछ फिल्में फिर से फ्लॉप हुई। फिर 2010 में कंगना रनौत की फिल्म 'वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई' आयी। इस फिल्म में कंगना के साथ अजय देवगन, इमरान हाशमी और प्राची देसाई थी।


इस फ़िल्म के किरदार को कंगना ने मशहूर अभिनेत्री मधुबाला और गैंगस्टर हाजी मस्तान की पत्नी के किरदार को मिलाकर किया और फिर जब ये फिल्म पर्दे पर आई तो सबलोग कंगना रनौत के फैन  हो गए।


ये फ़िल्म उस साल के सबसे सफल फिल्मों में से एक हो गयी। साल 2011 में कंगना की फ़िल्म तनु वेड्स मनु को रिलीज किया गया। इस फिल्म ने लोगों का दिल जितना शुरू कर दिया था और ये फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई। इस फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 70 करोड़ का बिज़नेस किया। इस फ़िल्म के बाद कंगना कि गिनती एक सुपरस्टार अभिनेत्रियों में होने लगी।


कंगना ने अपने इस फ़िल्म में पाई सफलता के बाद इसी साल चार और फिल्मों में अपने अभिनय को दर्शाया था।फिल्म गेम,रास्कल्स, मिले ना मिले हम, डबल धमाल में कंगना ने अभिनय किया था। जिनमें से डबल धमाल को छोड़कर बाकी तीनों फिल्मों ने कंगना रनौत के फैंस और बाकी लोगो को बहुत निराश किया।


उनकी इन तीनों फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप का टैग दिया गया था। साल 2013 में एक बार फिर से कंगना रनौत शूटआउट एट वडाला में नजर आयी। इस फ़िल्म में कंगना ने अच्छा अभिनय किया था और फिल्म बॉक्स ऑफिस ओर अच्छी कमाई भी की थी। इस फिल्म के बाद कंगना ने इसी साल कृष 3 में अभिनय किया था। ये एक सुपरहीरो फिल्म थी। जिसमें रितिक रोशन ने फिल्म के तीनों भागों में अभिनय किया था।


कहा जाता है कि कंगना ने राकेश रोशन की फ़िल्म कृष 3 में काम करने से मना कर दिया था। क्योंकि फिल्म 'काइट्स' में उनके वादा करने के बाद भी काफी छोटा रोल दिया गया था। कंगना ने इस मूवी को मना कर दिया था। लेकिन ऋतिक रोशन के काफी रिक्वेस्ट करने के बाद उन्होंने वो फिल्म कर ली। जो कि ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ब्लॉकबस्टर साबित हुई।


लेकिन सफलता के इस बुलंदियों पर वो और सफल हुई जब कंगना रनौत की जीवन की सबसे बेहतरीन फिल्म 'क्वीन' की। 'क्वीन' मूवी जिसने भी देखी सब कंगना रनौत के अभिनय के कायल हो गए। वहीँ से कंगना बॉलीवुड की क्वीन भी बोली जाने लगी।


ये भी पढ़ें:- भारत के मिसाइल मैन अब्दुल कलाम की जीवनी


साल 2014 में कंगना ने एक बार फिर से साबित किया था कि अभिनय की दुनिया में एक अकेली औरत किसी फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर ब्लॉकबस्टर बना सकती है। उन्होंने फिल्म क्वीन में अभिनय किया था, जिसमें कंगना रनौत राजकुमार राव के साथ अभिनय किया था।


ये फिल्म शायद शोले के बाद ऐसी दूसरी फिल्म थी जिसे लोगों ने पहले तो कुछ खास नहीं समझा था, लेकिन धीरे धीरे इस फ़िल्म को इतनी लोकप्रियता मिली थी कि वो फिल्म आजतक भी लोगों के जेहन में बसी हुई है।


फ़िल्म क्वीन भी कुछ ऐसा ही कमाल कर बैठी थी। इस फिल्म की कमाई ने कंगना रनौत को लेडी क्वीन की नाम से प्रसिद्ध कर दिया था। जो अकेले ही एक फ़िल्म ब्लॉकबस्टर बना सकती है।


कंगना ने क्वीन मूवी अपने अभिनय के दम पर सुपरहिट कराई थी। इसके लिए कंगना को बेस्ट अभिनेत्री का नेशनल अवार्ड और फिल्म फेयर अवार्ड भी मिला।


इस फ़िल्म के बाद कंगना रनौत तनु वेड्स मनु रिटर्न्स में अभिनय किया था। इस फिल्म में कंगना का डबल रोल था। जो कि काफी चैलेंजिंग था। क्योंकि इस रोल में उनको हरयाणा का एक एथलीट का रोल निभाना था। इस रोल के लिए कंगना ने हरयाणवी भाषा भी सीखी साथ ही ट्रिपल जम्प की ट्रैनिंग भी ली।


इस फिल्म को लेकर लोगों का कंगना रनौत को बहुत प्यार मिला। कंगना ने इस फिल्म में दोनों ही रोल काफी बखूबी निभाया। इस फ़िल्म को देखने के बाद ऐसा लगेगा ही नहीं कि कंगना ने ही दोनों रोल निभाया है। 


कंगना रनौत को इस फ़िल्म के लिए बेस्ट अभिनेत्री का नेशनल फिल्म अवार्ड भी मिला। आगे के सालों में कंगना की फिल्में लगातार फ्लॉप हो रही थी। लेकिन विवादों को वजह से कंगना हमेशा सुर्खियों में बनी रही।


फिर साल आया 2019 जब मणिकर्णिका फिल्म में कंगना रनौत झांसी की रानी का किरदार निभाया। कंगना की फिल्म मणिकर्णिका:द क्वीन ऑफ झांसी के लिए भी उन्हें शुरुआत में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा।


इस फिल्म के डायरेक्टर फिल्म के बीच में ही काम छोड़कर चले गए। कंगना ने इस फिल्म में डायरेक्टर का भी काम किया। सोनू सूद भी इस फिल्म में काम करने वाले थे लेकिन डेट्स नहीं मिलने के कारण वो इस फिल्म को नहीं कर पाए। कंगना रनौत ने मणिकर्णिका फ़िल्म में सारे स्टंट सिन खुद ही किये।


इस फिल्म को लोगों ने बहुत पसन्द किया था और फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई भी की थी। इसके बाद कंगना की कुछ और फिल्में आयी लेकिन औसत से ज्यादा कुछ नहीं कर पाई।


कंगना रनौत खुलकर कहती है कि ज्यादातर अवार्ड शो फ्रॉड होते हैं। वो शुरुआत में अवार्ड समारोह में हिस्सा लेने जाती थी लेकिन अब उन्होंने छोड़ दिया है। वो कहती है कि अब उनको अगर ऑस्कर भी मिलेगा तो वो भी लेने नहीं जाएंगी। सिर्फ नेशनल अवार्ड समारोह में ही जाएंगी।


कंगना रनौत रितिक रोशन विवाद Kangana Ranaut Controversy

Kangana ranajit and hrithik roshan controversy,kangana ranaut
कंगना रनौत और ऋतिक रोशन विवाद

कंगना रनौत की ज़िंदगी मे विवाद भी कम नहीं रहे। ये एक ऐसी अभिनेत्री है जिन्होंने अपने विचारों को खुल कर लोगों के सामने रखा। मीडिया के सामने अपनी हर बात को बिना किसी डर के कहा जिससे ये हमेशा विवादों में घिरी रही।


कंगना रनौत की जिंदगी में कोई अभी तक बहुत बड़ा विवाद सामने नहीं आया है। जब भी कोई विवाद हुआ वो उनके बॉयफ्रेंड से सम्बंधित ही रहा।


रितिक रोशन और कंगना रनौत की लव स्टोरी से लेकर लड़ाई होने तक कि पुरी कहानी विस्तार से बताते हैं।


रितिक रोशन और कंगना रनौत की पहली मुलाकात काइट्स मूवी करने के दौरान हुई। लेकिन कृष 3 मूवी में साथ काम करने के दौरान उनकी लव स्टोरी शुरू हुई।


कंगना रनौत के कहने के अनुसार वो रितिक रोशन से काफी प्यार करने लगी थी। जब कंगना रनौत ने रितिक रोशन से इस रिश्ते के फ्यूचर के बारे में बात करना चाहा तो रितिक ने कहा कि हमदोनों कैसे एकदूसरे से शादी कर सकते हैं। तुम्हें तो पहले से ही पता होगा कि मैं शादीशुदा हूँ।


कुछ दिन बाद रितिक रोशन की पत्नी सुजैन खान तलाक देने लगी। रितिक ने कंगना से कहा कि अब तो साफ है। हमलोग अब शादी कर लेंगे। कंगना रनौत ने कहा ठीक है जैसे ही तुम्हारा तलाक हो जाये हमलोग शादी कर लेंगे।


वे दोनों शादी करने के लिए तैयार थे। लेकिन उसी बीच रितिक रोशन की फिल्म bang bang की शूटिंग शुरू हो गयी। बताया जाता है कि इस फिल्म की शूटिंग के दौरान रितिक रोशन और कटरीना कैफ एक दूसरे के काफी करीब आ गए थे।


कंगना रनौत ने जब इन सब बातों के बारे में सुना तो उनको बिल्कुल भी विश्वास नहीं हुआ। उसी दौरान वैलेंटाइन डे करीब आया। परन्तु रितिक ने कंगना को उस दिन एक बार भी कोई फोन या मैसेज नहीं किया। कंगना को जब इस बात पर शक हुआ तो वो खुद को रितिक से बात करने से नहीं रोक पाई।


कंगना रनौत ने रितिक से कहा-आज वैलेंटाइन डे है लेकिन तुमने मुझे एक बार भी फ़ोन नहीं किया। तो रितिक ने जवाब दिया वैलेंटाइन डे है तो तुम्हें मैं फ़ोन क्यों करूँगा। इस पर कंगना ने कहा ये तुम कैसी बातें कर रहे हो। हम दोनों तो एक दूसरे से शादी कर रहे हैं।


इस पर रितिक रोशन ने कंगना रनौत से कहा शादी की बात तो तुम भूल जाओ। पहले ये बताओ कि तुमने शादी के बारे में किस किस को बताया है। इस पर कंगना ने कहा अभी तक तो किसी को नहीं बताया है। फिर रितिक ने कहा अब बताना भी नहीं और शादी की बात भूल जाओ।


कंगना रनौत के लिए ये समय काफी मुश्किल था। वो कहती है कि मैं कई रातों तक सो नहीं पाती थी और कभी कभी बहुत रोती थी। कंगना कहती है कि उन्होंने रितिक से बहुत प्यार किया था।


साथियों रितिक रोशन को अपनी पत्नी से तलाक के बाद उनकी और कंगना की जोड़ी फिर से करीब आयी लेकिन ज्यादा दिनों तक नहीं चल सका। कंगना कहती है रितिक रोशन तलाक के बाद भी वो अपनी पत्नी के साथ ही रहते थे। वो बोलती है कि रितिक रोशन ड्रग्स के नशे की लत के शिकार थे। वो जिन पार्टियों में जाते थे वहां ड्रग्स नदी की तरह बहाया जाता है।


कंगना रनौत बोलती है कि रितिक ने ये कभी नहीं माना कि वो मेरी पत्नी है। रितिक रोशन को डर था कि कंगना कहीं अपनी तरफ से लोगों को इसके बारे में न बता दें। इसलिये रितिक ने कंगना के बहुत से ईमेल पब्लिक कर दिए और वो बोले कि कंगना उनको मेल भेजा करती है।


इन बातों के बारे में कंगना बताती है कि इन मेल में से कुछ ही मेल उनके द्वारा लिखे गए हैं बाकी सब झूठ है वो मुझे बदनाम करना चाहते हैं। रितिक के प्यार के बाद उनसे लड़ाई के बाद वो मानसिक रूप से बीमार हो गयी थी।


ये भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी


कंगना ने एक इंटरव्यू में बोला था कि जितना ये लोग बाहर से अच्छे दिखते हैं उससे कहीं ज्यादा ये गन्दे होते हैं। ये लोग दिखते कुछ और है जबकि हकीकत कुछ और होती है। इनमें अच्छे इंसान बहुत कम मिलेंगे। ज्यादातर माफिया और दूसरों को नीचा दिखाने वाले लोग हैं।


लेकिन अब ताजा विवाद कंगना के बेबाक बयान पर लेकर में है। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कंगना ने सुशांत के जस्टिस के लिए जो आवाज उठाई है उसकी बानगी आज भी देखने को मिल रही है।


कंगना रनौत की फिल्म लिस्ट | Kangana ranajit all film list


अब हम कंगना रनौत की फिल्मों के बारे में बताते हैं।

कंगना रनौत की फिल्म:
2006- गैंगस्टर, वो लम्हे
2007- लाइफ इन मेट्रो, शकलक बूम बूम
2008- फैशन, धाम धूम
2009- एक निरंजन, वादा रहा, राज:द मिस्ट्री कंटीन्यूअस
2010- वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई, नो प्रॉब्लम,नॉकआउट, काइट्स
2011- रास्कल्स, डबल धमाल, तनु वेड्स मनु, मिले न मिले हम
2012- तेज
2013- शूटआउट एट वडाला,क्वीन, रज्जो
2014- उंगली, रिवाल्वर रानी
2015- कटी बटी, तनु वेड्स मनु रिटर्न्स, ई लव न्यू ईयर
2017- सिमरन,रंगुन
2019- जजमेंटल है क्या, मणिकर्णिका
2020- पंगा


कंगना रनौत नेट वर्थ | Kangana Ranaut Networth in hindi


आज कंगना रनौत की कुल सम्पति लगभग 100 करोड़ है और ये उन्होंने अपने दम पर कमाया है। ना तो उन्होंने पैसे कमाने के लिए किसी के सामने झुका है और न किसी से डरी है।

कंगना आज जितनी भी सफल है उसके पीछे उनका मेहनत ही तो है। जिसे वो आज इस मुकाम पर खड़ी है।


कंगना रनौत पद्मश्री अवार्ड | Kangana Ranaut Award


कंगना रनौत को अभिनय के क्षेत्र में सराहनीय कार्य के लिए भारत सरकार 26 जनवरी 2020 को देश के चौथे सबसे बड़े पुरस्कार पद्मश्री अवार्ड दे चुकी है। ये सब उनकी मेहनत का ही तो फल था जिसने उनको सफलता के इस मुकाम पर लाकर खड़ा किया है।


कंगना रनौत अर्नब गोस्वामी इंटरव्यू इन हिंदी


सोशल मीडिया हो या मीडिया पर अपने हर बात को कहने से कंगना कभी पीछे नहीं हटी। तभी गो कंगना ने आरोप लगाया कि बॉलीवुड माफियाओं की वजह से सुशांत की जान गई। कंगना रनौत नेपोटिज्म के बारे में भी बार बार आवाज उठाती रही है।


कंगना रनौत अर्नब गोस्वामी के साथ इंटरव्यू में बॉलीवुड के कई बड़े नामों को इस केस में चपेटा। जिसके बाद पुलिस ने जांच भी की। और अब कंगना के नया विवाद महाराष्ट्र को पीओके कहने के बाद बढ़ गया। जिसके बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने कंगना के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किया।


ये भी पढ़ें:- अर्णब गोस्वामी का पूरा जीवन परिचय।


फिर विवाद बढ़ते बढ़ते महाराष्ट्र की अस्मिता पर बता आ गयी। कंगना रनौत को देख लेने जैसी बातें भी कही जाने लगी। कंगना भी इन सबसे पीछे हटने वालों में से नहीं थी। जो डर जाये वो कंगना हो नहीं सकती।


कंगना रनौत सिक्योरिटी | Kangana Ranaut Security


उनकी जान को खतरा देख केंद्र सरकार ने कंगना रनौत को Y+ सेक्युरिटी प्रदान किया। इसके बाद कंगना ने बिना किसी डर के अपने गृह नगर हिमाचल प्रदेश से महाराष्ट्र आयी। फिलहाल कंगना रनौत के खिलाफ ठाकरे सरकार है लेकिन जनता के दिलों ओर राज करने वाली कंगना को डर किसी बात का नहीं है।


एक बार फिर से छोटे शहर से निकली शेरनी मुंबई के माफियाओं के खिलाफ लड़ने। पिछली बार जब कंगना ने घर छोड़ा था तब उन्होंने फिल्मों में ऊंचा मुकाम हासिल किया था और अब कंगना फिर निकली है सियासतदारों को जवाब देने।


अपने फैंस के सहारे कंगना पूरी महाराष्ट्र सरकार को नाकों चने चबाने पर मजबूर कर दिया है। पूरी महाराष्ट्र सरकार कंगना रनौत को रोकने में लगी हुई है लेकिन उन्हें पता नहीं है कि ज़िद्दी कंगना पीछे भागने वालों में से नहीं है।


BMC ने कंगना के दफ्तर को तोड़ कर बता दिया कि महाराष्ट्र सरकार कितनी गिरी हुई है और वो अपने शासन का कितना दुरुपयोग कर रहे हैं। लेकिन वो भूल गए हैं कि भारत में एक मुकाम पर पहुँचने वाली लड़की 15 साल का सपना इसलिए तोड़ा जा रहा है क्योंकि उसने सरकार और सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाने का दम था।


लेकिन कंगना को जानने वाले तो यहीं कहते हैं कि आप कंगना के सपनो को भले ही तोड़ दे लेकिन उनके हिम्मत को कभी कोई नहीं तोड़ पायेगा। आज पूरा देश जिस तरह से कंगना रनौत के साथ खड़ा है उनको इन माफियाओं से लड़ने में और साहस मिलेगी। हमें गर्व है कि कंगना देश की एक बेटी होकर इन माफियाओं को धूल चटा रही है।


कंगना रनौत की जीवनी से हमें काफी कुछ सीखने को मिलता है। सपने आपके जो कुछ भी हो लेकिन उनको पूरा करने के लिए दिल ज़िद्दी होना चाहिए। अगर आपको लगता है कि आपके लाइफ में काफी मुश्किलें हैं तो आपको कंगना रनौत की कहानी बार बार सुननी चाहिए।


कंगना ने मुश्किलों को कभी भी अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। शायद इसीलिए वो हर मुश्किल से बाहर निकलती आयी है और खुद को साबित किया है। 


आपलोगों को कंगना रनौत की जीवनी कैसी लगी कमेंट करके जरूर अपनी राय दें। साथ ही अगर आपको कंगना रनौत की जीवनी से सिख मिलती है तो इसे जरूर शेयर करें।


ये भी पढ़ें:-● खून खौला देने वाली भगत सिंह की जीवन कहानी

आईपीएल 2021 के युवा सनसनी चेतन सकारिया की संघर्ष भरी जीवनी।


Please do not enter any spam link in comment box