आखिर क्यों नरेंद्र मोदी भारत के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री बनें | Success Life Story of Narendra Modi

Success story of narendra modi in hindi,narendra modi life story in hindi
Success story of Narendra Modi

Success Life Story of Narendra Modi:
डरते तो वे लोग है जो केवल अपनी छवि के लिए मरते हैं। मैं तो केवल हिंदुस्तान की छवि के लिए मरता हूँ और इसीलिए जिंदगी में किसी से भी नहीं डरता हूँ।


ऐसा निष्पक्ष और निःस्वार्थ बात कहने वाले हैं दुनिया के सबसे शक्तिशाली लोगों में से भारत के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का। जिन्हें हमारे देश के गन्दी राजनीति की वजह से आप प्यार करें या फिर नफरत लेकिन उनके किये गए सराहनीय कार्यों को कभी अनदेखा नहीं किया जा सकता।


दोस्तों वैसे तो नरेन्द्र मोदी का जीवन बहुत ही साधारण तरीकों से शुरू हुआ मगर अपनी देशभक्ति, मेहनत और अपने देश के लिए कुछ कर दिखाने की जज्बे के दम पर उन्होंने अपनी हर वो मंजिल को हासिल किया जिसको हासिल कर पाना सबके बस की बात नहीं है।


नरेन्द्र मोदी का जन्म एक बेहद ही गरीब परिवार में हुआ। वे अपने बचपन के दिनों में जब बच्चे खेलने कुदने में अपना समय व्यतीत करते हैं तब वे अपने घर की आर्थिक स्थिति खराब होने के चलते अपने पिता के साथ दुकान के कामों में हाथ बंटाते और रेल के डिब्बों में चाय बेचा करते थे।


लेकिन दोस्तों नरेंद्र मोदी की जीवनी हमें सिखाती है कि अगर आपके अंदर अपने देश के लिए कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो फिर कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं रह जाता। कौन कहता है कि गरीब लोगों को सपने नहीं देखने चाहिए बस एक बार अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित होकर तो देखो।


तो चलिए दोस्तों हम नरेंद्र मोदी की चाय बेचने से लेकर देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री बनने तक के अदभुत सफर को पुरी विस्तार से जानते हैं।


नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय

नरेंद्र मोदी की शिक्षा

नरेंद्र मोदी का वैवाहिक जीवन

नरेंद्र मोदी का राजनीतिक जीवन

नरेंद्र मोदी के सफलता के छः मंत्र

नरेंद्र मोदी की 11 उपलब्धियां

प्रधानमंत्री योजना लिस्ट


नरेंद्र मोदी का पुरा जीवन परिचय | Narendra Modi Inspirational Biography in Hindi

नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वड़नगर नामक गाँव में हुआ था। नरेंद्र मोदी के पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी था और माता का नाम हीराबेन मोदी है।


नरेंद्र मोदी के जन्म के समय उनका परिवार बहुत ही गरीब था और वे लोग एक छोटे से कच्चे मकान में रहते थे। नरेंद्र मोदी अपने माता-पिता के कुल छः संतानों में तीसरे पुत्र है।


नरेंद्र मोदी के पिता का रेलवे स्टेशन पर एक छोटी सी चाय की दुकान चलाते थे, जिसमें नरेंद्र मोदी भी अपने पिता के कामों में हाथ बंटाते थे और रेल के डिब्बों में जाकर चाय बेचते थे।

Narendra Modi Education | नरेंद्र मोदी की शिक्षा

लेकिन दोस्तों वे चाय की दुकान सम्भालने के साथ-साथ मोदी अपनी पढ़ाई-लिखाई का भी पुरा ध्यान रखते थे। मोदी के शिक्षक बताते हैं कि नरेंद्र पढ़ाई-लिखाई में औसत थे, लेकिन वे नाटकों और भाषणों में जम कर हिस्सा लेते थे। उनको खेलकूद में भी बहुत दिलचस्पी रहती थी।

ये भी पढ़ें:- जिंदगी बदलने वाली 4 कहानियां | Powerful Hindi Motivational Story

नरेंद्र मोदी की शुरुआती शिक्षा वड़नगर से पुरी की। इसके बाद 1978 में नरेंद्र मोदी दिल्ली यूनिवर्सिटी से राजनीतिक विज्ञान से बी.ए. की डिग्री हासिल की और 1983 में गुजरात यूनिवर्सिटी से राजनीतिक विज्ञान में ही एम.ए. की डिग्री हासिल की।

Narendra Modi Wife | नरेंद्र मोदी का वैवाहिक जीवन

दोस्तों तेरह साल की उम्र नरेंद्र मोदी की सगाई जसोदाबेन चमनलाल के साथ कर दी गयी और फिर सत्रह साल की उम्र में उनकी शादी हो गयी।


दोस्तों नरेंद्र मोदी की शादी जरूर हुई लेकिन वे दोनों कभी एक दूसरे के साथ नहीं रहे और शादी के कुछ ही सालों के बाद आपसी सहमति के बाद वे घर त्याग दिए। इस तरह नरेंद्र मोदी के वैवाहिक जीवन का अंत हो गया।


उनका कहना है कि शादी करना कोई जरूरी नहीं है बल्कि एक शादीशुदा आदमी के मुकाबले एक अविवाहित आदमी देश में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ ज्यादा बेफिक्र होकर लड़ सकता है क्योंकि उसे अपनी पत्नी, परिवार और बच्चों की कोई भी चिंता नहीं रहती है और वो टेंशन से मुक्त होकर अपनी लड़ाई लड़ सकता है।

Narendra Modi Struggle Story In Hindi | नरेंद्र मोदी का सफल राजनीतिक जीवन

नरेंद्र मोदी के अंदर बचपन से ही देश के प्रति सेवाभाव कूट कूट कर भरी हुई थी। 1962 में जब भारत और चीन के खिलाफ युद्ध हुआ था उस समय नरेंद्र मोदी रेलवे स्टेशन पर जवानों के लिए चाय और खाना लेकर जाते थे।


1965 में भारत और पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध में भी मोदी ने जवानों की खूब सेवा की थी। 1971 में नरेंद्र मोदी आरएसएस के प्रचारक बन गए और अपना पुरा समय आरएसएस को देने लगे।


वे सुबह पांच बजे तक उठ जाते और देर रात तक काम करते। प्रचारक होने की वजह से मोदी जी ने गुजरात के अलग-अलग जगहों पर जाकर लोगों की समस्याओं को बहुत करीब से समझा और साथ ही भारतीय जनता पार्टी का आधार मजबूत करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

ये भी पढ़ें:- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुरी जीवन कहानी।

दोस्तों लगभग 1975 के आसपास राजनीतिक के क्षेत्रों में विवाद की वजह से उस समय के प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश के कई राज्यों में आपातकाल लागू कर दिया था और आरएसएस जैसी सारी संस्थाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।


फिर भी नरेंद्र मोदी अंदर ही अंदर देश की सेवा करते रहे और सरकार की गलत नीतियों का जमकर विरोध किया। उसी समय नरेंद्र मोदी ने एक किताब भी लिखी थी। जिसका नाम 'संघर्ष मा गुजरात' था।


इस किताब में नरेंद्र मोदी ने गुजरात के राजनीति के बारे में चर्चा किया था। उन्होंने आरएसएस प्रचारक रहते हुए 1980 में "गुजरात यूनिवर्सिटी" से राजनीति विज्ञान में पीजी की डिग्री प्राप्त की।


आरएसएस में उनके बेहतरीन और सराहनीय कामों को देखते हुए उन्हें भाजपा में नियुक्त किया गया। जहाँ उन्होंने 1990 में लालकृष्ण आडवाणी की सोमनाथ से अयोध्या तक रथयात्रा का भव्य आयोजन किया।


जिससे भाजपा के सीनियर नेता काफी प्रभावित हुए। आगे भी उनके महत्वपूर्ण कार्य के बदौलत भाजपा में उनका महत्व बढ़ता चला गया।


आखिरकार नरेंद्र मोदी की मेहनत रंग लाई और उनकी पार्टी ने गुजरात में 1995 के विधानसभा चुनाव में दो तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाई।


लेकिन नरेंद्र मोदी से कुछ आपसी मतभेद होने के बाद शंकरसिंह वघेला ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उसके बाद केशुभाई पटेल को गुजरात का मुख्यमंत्री बना दिया गया और नरेंद्र मोदी को भाजपा में संगठन को और मजबूत करने के लिए केन्द्रीय मंत्री का पद दिया गया।


मोदीजी ने भी इस जिम्मेदारी को भी बखुबी निभाई। 2001 में केशुभाई पटेल की सेहत बिगड़ने लगी थी और भाजपा इस चुनाव में कई सिटें भी हार रही थी। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने अक्टूबर 2001 में केशुभाई पटेल के जगह नरेंद्र मोदी को गुजरात के मुख्यमंत्री का जिम्मा सौंपा गया।


नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री के रूप में अपना पहला कार्यकाल 7 अक्टूबर 2001 से शुरू की। इसके बाद मोदी ने राजकोट विधानसभा चुनाव लड़ा जिसमें उन्होंने कांग्रेस पार्टी के अश्विन मेहता को बड़े अंतर से मात दी।


मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए नरेंद्र मोदी ने बहुत ही अच्छे तरीके से अपने कार्यो को संभाला और गुजरात को फिर से मजबुत कर दिया। उन्होंने गांव-गांव तक बिजली पहुँचायी।


टूरिज्म को बढ़ावा दिया। देश में पहली बार किसी राज्य के सभी नदियों को एक साथ जोड़ा गया, जिससे पुरे राज्य में पानी की बड़ी समस्या खत्म हुई।


एशिया के सबसे बड़े सोलर पार्क का निर्माण भी गुजरात में हुआ। इन सब कामों के अलावा भी उन्होंने बहुत सारे काम किये और देखते ही देखते गुजरात को भारत का सबसे बेहतरीन राज्य बना दिया। साथ ही साथ वह गुजरात के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री बन गए।


लेकिन उसी बीच मार्च 2002 में गुजरात में हुए गोधरा कांड में उनका नाम जोड़ा गया। गोधरा कांड के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने मोदी को इसका जिम्मेदार ठहराया। साथ ही कांग्रेस सहित और भी विपक्षी दलों ने उनके इस्तीफे की मांग की।


दोस्तों गोधरा कांड में 27 फरवरी 2002 को गुजरात के गोधरा नाम के शहर में रेलवे स्टेशन पर साबरमती ट्रेन के S6 नामक कोच को आग लगाये जाने के बाद 59 लोगों की मौत हो गई थी।


जिसके बाद पुरे गुजरात में साम्प्रदायिक दंगे होना शुरू हो गए। फिर 28 फरवरी 2002 को गुजरात के कई इलाकों में दंगा बहुत ज्यादा बढ़ गया। जिसमें लगभग 1200 से भी अधिक लोग मारे गए।


इसके बाद इस घटना की जाँच के लिए उच्चतम न्यायालय ने विशेष जाँच दल बनाई और फिर दिसंबर 2010 में जाँच दल के रिपोर्ट के आधार पर इन दंगों में नरेंद्र मोदी के इस दंगों में शामिल होने का कोई सबूत नहीं मिला।


नरेंद्र मोदी ने गुजरात में विश्व हिंदू परिषद जैसे संगठनों के विरोध के बावजूद कई ऐसे हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त करवाया जो सरकारी कानून कायदे के खिलाफ बने थे। उन्होंने बिना किसी की परवाह किए देशहित में जो सही था उसी काम को करते रहे।


उनके अच्छे फैसलों और कार्यों की वजह से गुजरात के लोगों ने नरेंद्र मोदी को लगातार चार बार अपना मुख्यमंत्री बनाया।


गुजरात में नरेंद्र मोदी की सफलता देखकर भाजपा के सीनियर नेताओं ने उनको 2014 में होने वाले लोकसभा चुनावों का प्रधानमंत्री का उम्मीदवार घोषित किया। जिसके बाद नरेंद्र मोदी ने भारत में बहुत सारी रैलियां की और साथ ही साथ उन्होंने सोशल मीडिया का भी भरपूर लाभ उठाया और लाखों लोगों तक अपनी बात रखी।


उनके अद्भुत विकासशील कार्य, प्रेरणादायक भाषण, देश के लिए उनका प्यार और उनकी सकारात्मक सोच की वजह से उन्हें लोगों के तरफ से बहुत प्यार मिला और लोकसभा चुनाव में 282 सीटों के पूर्ण बहुमत के साथ नरेंद्र मोदी देश के 15वें प्रधानमंत्री बने।

ये भी पढ़ें:- भारत के असली हीरो मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी कहानी।

अपने पहले कार्यकाल के दौरान उनके सराहनीय कार्य को देखते हुए जनता ने 2019 में उनको लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री के पद के लिए चुना। इस बार नरेंद्र मोदी पहले से भी ज्यादा सीटों के साथ प्रधानमंत्री बनें। इस बार उनको 303 सीटों पर भारी बहुमत से विजय मिली।


दोस्तों नरेंद्र मोदी बहुत ही मेहनती व्यक्ति है। वे बिना कोई अवकाश लिए रोजाना 16 से 18 घन्टे बिना थके हुए काम करते हैं। दोस्तों नरेंद्र मोदी का मानना है कि देश के लिए किया गया कड़ी मेहनत कभी थकान नहीं लाती है।


दोस्तों नरेंद्र मोदी शुद्ध शाकाहारी भोजन करते हैं और नवरात्रि में पुरे नव दिनों तक उपवास रखते हैं। वे अपनी सेहत का भरपूर ध्यान रखते हैं और प्रतिदिन सुबह योगा जरूर करते हैं। भले ही वे कहीं पर भी हो।


साथियों नरेंद्र मोदी अपनी माँ से बहुत प्यार करते हैं। उनका कहना है कि मेरे पास पूर्वजों की कोई सम्पति नहीं है और ना ही मुझे इसकी कोई इच्छा है। मुझे तो बस किसी चीज की जरूरत है तो वो है अपनी माँ का आशीर्वाद।

नरेंद्र मोदी के सफलता के लिए 6 मंत्र जो आपकी जिंदगी बदल देगी | Narendra Modi Best 6 Motivational Thoughts In Hindi

Narendra modi best motivational thoughts in hindi,narendra modi inspirational thoughts in hindi
Narendra Modi Motivational Thoughts

1. अगर किसी काम को करने में आप विफल हो जाये तो समझ लीजिए कि आप सफलता की ओर चल पड़े हैं।

2. नरेंद्र मोदी कहते हैं कि आप गरीब है कि अमीर है इसकी चिंता करना छोड़ दीजिए। आपके सफलता के लिए बस एक चीज की जरूरत होती है वो होता है आपका अपने ऊपर भरोसा।

3. आप किस बैकग्राउंड से है आपकी फैमिली बैकग्राउंड क्या है इसकी चिंता छोड़ दीजिए। अगर आपके अंदर देश के प्रति कुछ करने की आग है तो बिना किसी रुकावट के निकल पड़िये रास्ता अपने आप बन जायेगा।

4. अगर आप कोई किसी काम को लेने या फिर पाने के भाव से करेंगे तो आपका ये ख्वाब हमेशा के लिए ख्वाब बन कर रह जायेगा। लेकिन अगर देने के भाव से करेंगे तो दुनिया आपकी कदम चूमेगी।

5. आप कोई स्टार्टअप करते समय ये मत सोचो कि हमेशा बड़ी कम्पनी ही बनाऊंगा अगर ये सोचोगे तो कभी सफल नहीं हो पाओगे। आप किसी काम को शुरू करते समय बस इतना सोचो की आज जितनी भी बड़ी कम्पनियां है वो सब कभी न कभी स्टार्टअप हुआ करती थी।

6. किसी चीज की इच्छा होना बुरी चीज नहीं है लेकिन इच्छा को बदलते रहना बुरी चीज है। इच्छाएं हमेशा स्थिर होनी चाहिए। इच्छायें स्थिर रहती है तो संकल्प बनती है और जब संकल्प में परिश्रम जुड़ती है तो सिद्धि बन जाती है।

ये भी पढ़ें:- खून खौला देने वाली भगत सिंह की सच्ची कहानी।

मोदी सरकार की 11 उपलब्धियां इन हिंदी | Narendra Modi 11 Achievements In Hindi

नरेंद्र मोदी के 6 साल कार्यकाल के दौरान किये गए सराहनीय कार्य जिसके लिए दुनिया भर में अपनी लोकप्रियता हासिल की।


1. जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को पूर्ण रूप से हटाना

2. नागरिकता संशोधन कानून

3. अयोध्या विवाद का अंत और राम मंदिर का निर्माण शुरू करवाना

4. तीन तलाक के द्वारा मुस्लिम महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करना

5. आतंकवाद पर जीरो टॉलरेंस नीति

6. स्वच्छ भारत मिशन

7. नोटबन्दी

8. सर्जिकल स्ट्राइक

9. एयर स्ट्राइक

10. अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारत को पहचान दिलाना

11. भ्रष्टाचार मुक्त सरकार

प्रधानमंत्री योजना लिस्ट | Narendra Modi Works For India

दोस्तों नरेंद्र मोदी ने देशहित में अनेकों योजनाओं को शुरू किया। उन्होंने ऐसे ऐसे योजना को शुरू किया जिसके बारे में आम आदमी सोच भी नहीं सकता है। तो चलिए आपको प्रधानमंत्री के द्वारा शुरू किए गए योजनाओं के बारे में बताते हैं।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना

जीएसटी

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

प्रधानमंत्री पहल योजना

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

मेक इन इंडिया

प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

प्रधानमंत्री अटल पेंशन योजना

प्रधानमंत्री आवास योजना

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

प्रधानमंत्री ग्राम सिंचाई योजना

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना

प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना

प्रधानमंत्री बाल स्वच्छता अभियान

डिजिटल इंडिया

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना

मिशन इंद्रधनुष

किसान विकास पत्र

स्किल इंडिया

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना

पंडित दीनदयाल उपाध्याय श्रमेव जयते योजना

स्वदेश दर्शन योजना

मिट्टी हेल्थ कार्ड स्कीम

उड़ान स्कीम

नेशनल बाल स्वच्छता मिशन

वन रैंक वन पेंशन योजना

स्मार्ट सिटी मिशन

स्टार्टअप इंडिया

डिजिलॉकर

राष्ट्रीय गोकुल मिशन

खेलो इंडिया

स्टैंड अप इंडिया

जन सुरक्षा

इन सब योजनाओं के अलावा और भी बहुत सारी योजनाओं को नरेंद्र मोदी ने शुरू कर लोगों को काफी सहायता प्रदान किया है।

दोस्तों उम्मीद करता हूँ कि आपको प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सफलता की कहानी आपको काफी पसंद आई होगी।

अगर आपको Success Story of Narendra Modi In Hindi अच्छी लगी हो तो इसे जरूर शेयर कीजियेगा।

ये भी पढ़ें:- बर्तन धोने से लेकर फोर्ड कम्पनी को झुकाने वाले रतन टाटा की जीवनी।