Translate

यॉर्कर किंग के नाम से मशहूर तेज गेंदबाज टी. नटराजन का जीवन परिचय

यॉर्कर किंग के नाम से मशहूर तेज गेंदबाज टी. नटराजन का जीवन परिचय

T. Natarajan Biography In Hindi | स्टार तेज गेंदबाज टी. नटराजन की जीवनी

T. Natarajan biography in hindi, Success story of T. Natarajan in hindi
T. Natarajan Biography In Hindi

तमिलनाडु के एक सुदूर गांव से निकलकर टीम इंडिया की तरफ से खेलने की कहानी एक सिनेमा का नाम है। जिसका नायक पहले संघर्ष को अपनी जीवन का हिस्सा बनाता है और, संसाधन के अभाव में खुद को निखारने का काम करता है, संघर्ष की जमीन पर खड़े होकर सफलता के दरवाजे को खटखटाता है और फिर उसकी पूरी कहानी बदल जाती है।


क्रिकेट को लेकर हमारे देश मे कोई न कोई चर्चा होती रहती है और जब से साल 2020 का आईपीएल खत्म हुआ है तभी से भारतीय क्रिकेट के उभरते एक नए सितारे का जलवा पूरी दुनिया देख रही है।


जिसके लिए कभी टेनिस बॉल भी महंगी पड़ती थी। आज वहीँ क्रिकेटर आज भारतीय क्रिकेट में अपनी गेंदों से तहलका मचा रहा है। जी हाँ साथियों हम बात कर रहे हैं भारतीय क्रिकेट टीम के यॉर्कर किंग के नाम से मशहूर थंगरासु नटराजन(T. Natarajan) की जीवनी के बारे में।



कहते हैं कि किसी व्यक्ति को सफलता बहुत आसानी से नहीं मिलता। टी नटराजन को भी टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी। लेकिन इसे सिर्फ मेहनत भर कह देने से काम नहीं चलेगा। आज जिस मुकाम पर वो खड़े हैं उनके पीछे की पूरी कहानी चलिये विस्तार से जानते हैं।


टी नटराजन का जन्म और बचपन | T. Natarajan Early Life Story In Hindi


दोस्तों बहुमुखी प्रतिभा के धनी टी नटराजन(T. Natarajan) का जन्म 27 मई 1991 को तमिलनाडु राज्य के सालेम में एक छोटे से गांव चिन्नप्पमपट्टी में हुआ था। टी नटराजन का पूरा नाम थंगरासु नटराजन है। उनके पिता बहुत कम पैसे के नौकरी करते थे और उनकी माँ परिवार को चलाने के लिए सड़क के किनारे चिकन की दुकान लगाती थीं। टी नटराजन का उम्र 2020 के अनुसार 29 साल है।


संघर्ष के दिनों में कभी-कभी नटराजन के परिवार को भी बगैर रोटी खाये सोना पड़ा है। जिस परिवार के लिए कुछ समय पहले तक एक वक्त की रोटी का जुगाड़ करना भी एक चुनौती लगती थी। उसी परिवार से निकलकर भारतीय क्रिकेट टीम में अपनी धाक जमाना किसी चमत्कार से कम नहीं है। टी नटराजन के बचपन में उनके पास कभी जूते नहीं थे तो कभी गेंद नहीं होते थे। लेकिन इस परिस्थिति में भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी।


ये भी पढ़ें:- भारत के तूफानी बल्लेबाज हार्दिक पांड्या की जीवनी।


पहले टेनिस बॉल से खेलते थे लेकिन दिक्कतें यहीं नहीं रुकी आगे उनके गेंदबाजी एक्शन पर सवाल उठने लगे। खेल को कुछ दिनों के लिए रोकना पड़ गया। लेकिन उसने अपनी हिम्मत नहीं हारी। मैदान पर लौटने में थोड़ा वक्त तो लगा लेकिन जब लौटे तो सबको हैरान कर दिया।


दोस्तों टी नटराजन ने एक ही ओवर में छः यॉर्कर डालकर सभी को हैरानी में डाल दिया था। इस बीच उनकी जिंदगी में कठिनाइयां रोज बढ़ती चली जा रही थी। एक तरफ क्रिकेट का खेल था तो दूसरी तरफ विषम परिस्थितियों से लड़ाई थी।


एक ही परिस्थिति में दोनों चीजें चलती रही। इस बीच टी नटराजन पर उनके गुरु ए. जयप्रकाश की नजर उन पर पड़ी और यहीं से उनकी जिंदगी धीरे-धीरे बदलती चली गई। उनके गुरु ने नटराजन को चेन्नई भेज दिया। आगे उनकी जिंदगी में जितनी भी दिक्कतें आयीं उन दिक्कतों को उनके गुरु ए. जयप्रकाश दूर करते चले गए।


टी नटराजन का घरेलू क्रिकेट करियर | T. Natarajan Success Story In Hindi


नटराजन को घरेलू क्रिकेट में पहली बार तमिलनाडु की तरफ से साल 2011 में खेलने का मौका मिला। खेल में नटराजन ने जबरदस्त प्रदर्शन किया जिससे नटराजन के आगे की राहें आसान होती चली गयी। कई मौके हाथ आयी। नटराजन ने अपने ट्रेनिंग में हाथ दिखाने शुरू कर दिए। इस तरह कई घरेलू टूर्नामेंट में अपने शानदार प्रदर्शन किये।


आपको पता होगा कि घरेलू मैच किसी भी क्रिकेट टीम की सफलता के मार्ग की पहली सीढ़ी होती है और इस सीढ़ी पर अगर कोई खिलाड़ी सही से कदम रख दें तो सफलता की गारंटी पहले से ज्यादा हो जाती है।


टी नटराजन के साथ भी यही हुआ। नटराजन ने घरेलू मैच की शुरुआत 5 जनवरी 2015 को तमिलनाडु टीम की तरफ से रणजी ट्रॉफी से की। इसके अलावा उन्होंने अपना पहला घरेलू टी ट्वेंटी मैच तमिलनाडु अंतरराज्यीय टूर्नामेंट भी साल 2017 के 29 जनवरी को खेला।


टी नटराजन का आईपीएल करियर | T. Natarajan IPL 2020 Journey

T. Natarajan IPL career in hindi,T. Natarajan life story in hindi
T. Natarajan IPL career


घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन कर चुके टी नटराजन के आईपीएल करियर की बात करते हैं। किंग्स इलेवन पंजाब ने आईपीएल 2017 में टी नटराजन को मौका दिया। उस वक्त उनको तीन करोड़ रुपये में पंजाब ने खरीदा था। लेकिन मैदान पर नटराजन का जलवा बहुत ज्यादा नहीं दिखा और वे छः मैचों में सिर्फ दो विकेट ही ले पाये। इस दौरान उनको चोटिल भी होना पड़ा और कई सारे मैचों में उनको बैठना भी पड़ा।


ये भी पढ़ें:- टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज केएल राहुल की जीवनी।


इस खराब प्रदर्शन का खामियाजा उनको भुगतना पड़ा। जब 2018 के आईपीएल में उनकी कीमत तीन करोड़ से गिरकर सिर्फ और सिर्फ 40 लाख रह गयी। इस बार उनको सनराइजर्स हैदराबाद ने अपनी टीम में खरीद लिया। अच्छे प्रदर्शन के बदौलत वो टीम के अहम सदस्य बन गए थे।


जीवन में पैसे आये तो टी नटराजन ने उन पैसों से सबसे पहले अपने माता-पिता के लिए एक बढ़िया सा घर बनवाया, अपने बहनों के लिए पढ़ाई की व्यवस्था की और साथ कि तमिलनाडु के एक गांव में एक क्रिकेट अकादमी की शुरुआत की। दूसरी तरफ आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि उनके माता-पिता अभी भी अपने पुराने काम को ही जारी रखे हुए हैं।


लाख कोशिशों के बाद भी टी नटराजन अपने माता-पिता को मना नहीं कर पाए। दूसरी तरफ वो अपने क्रिकेट पर लगातार काम करते हैं और उसकी बारीकियों को जानते रहे।


फिर समय आया आईपीएल 2020 के सीजन जिसने टी नटराजन का करियर को एक अलग मोड़ दिया। उन्होंने डेथ ओवरों में अपने शानदार गेंदबाजी से अच्छे-अच्छे बल्लेबाजों को धूल चटाया और अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया।


उन्होंने अपने शानदार गेंदबाजी से बड़े-बड़े दिग्गजों को प्रभावित कर दिया। हैदराबाद के तरफ से खेलते हुए टी नटराजन ने विरोधी टीम को शानदार तरीके से छकाया। बड़े-बड़े बल्लेबाजों को धूल चटाई। ए बी डिविलियर्स जैसे बल्लेबाजों के डंडे उखारे। ये उनके लिए छोटी बात नहीं थी।


ये भी पढ़ें:- एक मंदबुद्धि बालक से दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति बनने वाले अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी।


यहीं से लगने लगा था कि अब आगे के करियर के लिए उनके दरवाजे खुलने लगे हैं। सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से खेलते हुए टी नटराजन ने आईपीएल 2020 टूर्नामेंट में 60 से भी ज्यादा यॉर्कर गेंद डाली। टी नटराजन के रफ्तार, डेथ ओवरों में सटीक गेंदबाजी से उन्होंने सबको चौंका दिया और सबको अपना दीवाना बना लिया।


टी नटराजन का अंतराष्ट्रीय क्रिकेट करियर


टी नटराजन आईपीएल 2020 में विराट कोहली और डिविलियर्स जैसे दिग्गज को भी आउट किया था। उसी वक्त उनके प्रदर्शन को देख कर लग रहा था कि टी नटराजन की कहानी यहीं पर रुकने वाली नहीं है। पहले तमिलनाडु, फिर आईपीएल और उसके बाद ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया का हिस्सा बनने तक के टी नटराजन का सफर एक खूबसूरत सपने के पूरा होने जैसा है।


अपने पहले ही दौरे पर ऑस्ट्रेलिया जैसी धाकड़ टीम के खिलाफ डेब्यू करना और फिर अपने शानदार प्रदर्शन से सबका दिल जीत लेना टी नटराजन ने काम बखूबी निभाया। एक मैच में उनके शानदार प्रदर्शन के बाद हार्दिक पांड्या ने किसी और को मैन ऑफ द मैच मिलने पर उनको ही मैन ऑफ द मैच का असली हकदार बताया। आप हार्दिक पांड्या की जीवनी यहाँ पढ़ सकते हैं।


यहाँ तक कि उन्होंने अपने प्रदर्शन से लोगों को इतना प्रभावित किया कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-ट्वेंटी सीरीज में जीत में अहम भूमिका निभाने वाले हार्दिक पांड्या ने अपना मैन ऑफ सीरीज ट्रॉफी टी नटराजन को उनके शानदार प्रदर्शन के बदौलत दे दिया और कहा कि इस ट्रॉफी के असली हकदार टी नटराजन ही है।


ऑस्ट्रेलिया दौरे पर उनको तीन टी-ट्वेंटी और एक वनडे मैच सहित कुल चार मैचों में खेलने का मौका मिला। जिसमें टी नटराजन ने 8 विकेट लेकर सबको प्रभावित कर किया।


इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन में हुए सीरीज के अंतिम टेस्ट मैच में टी नटराजन ने अपना पहला टेस्ट मैच खेला। उसमें उन्होंने अपनी शानदार गेंदबाजी से अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रहे। अपने डेब्यू टेस्ट मैच में टी नटराजन ने पहली पारी में शानदार गेंदबाजी करते हुए 3 विकेट लेकर अपने हुनर का परिचय दिया।


कुल मिलाकर अपने शानदार प्रदर्शन के बदौलत टी नटराजन ने ये साबित करके दिखाया है कि बुलन्द हौसलों और मजबूत इरादों से इंसान अपने जीवन में किसी भी मुकाम को हासिल कर सकता है। 


यूएई में हुये आईपीएल ने तेज गेंदबाज टी नटराजन के करियर और भाग्य को ही बदल कर रख दिया। आगे अभी टी नटराजन में बहुत क्रिकेट बाकी है। हर दिन क्रिकेट के लिए जीने वाले नटराजन में अब जितने की ललक है।


जितने की ललक के साथ टी नटराजन अपने क्रिकेट करियर में रोज एक नया मुकाम हासिल कर रहे हैं। उम्मीद करते हैं कि टी नटराजन के क्रिकेट करियर में कई सारे रिकॉर्ड अपने नाम करेंगे और पूरी दुनिया में अपने नाम का परचम लहरायेंगे।


उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपको टी नटराजन की जीवनी काफी प्रेरणादायक कहानी जैसी लगी होगी। अगर आपको ये T. Natarajan Biography In Hindi अच्छी लगी हो तो इसे जरूर शेयर कीजिये।

Please do not enter any spam link in comment box