Translate

100 Simple English Sentences For Daily Use | अंग्रेजी बोलना सीखें

100 Simple English Sentences For Daily Use | अंग्रेजी बोलना सीखें

100 Common English Sentences Used In Daily Life With Hindi | दैनिक दिनचर्या अंग्रेजी वाक्य

100 daily use English sentences with hindi meaning, 100 spoken english sentences in hindi
100 Daily use English Sentences

दोस्तों! इस पोस्ट में आज हम 100 daily use english sentences at home in hindi के बारे में बात करने वाले हैं, जिसको आप घर परिवार में रोज बोलते हैं। हम आपके लिए ऐसे-ऐसे sentences बताने वाले हैं जिसे जानकर आपका बहुत सारा confusion आसानी से दूर हो जाएगा।


आज हम जानने वाले हैं ऐसे घर-परिवार के साथ बोले जाने वाले 100 इंग्लिश वाक्य जिसको हमें जानना बहुत जरूरी है। अगर हम इन 100 english sentences को एक बार याद कर लें फिर घर पर इंग्लिश किसी से कुछ भी बोलने में दिक्कत नहीं होगी।


इसमें हम ऐसे sentences और phrases के बारे में जानेंगे जो हम अपने घरवालों के साथ रोज बातचीत में इस्तेमाल करते हैं तथा आप इन english sentences को जानकर आप खुद ही अपना अंदाजा लगा सकते हैं कि आपकी इंग्लिश कितनी अच्छी है? तो चलिए बिना किसी देरी के 100 most common daily use english sentences with hindi meaning के बारे में जानते हैं।


101 Hindi To English Translation Sentences | रोज बोले जाने वाले इंग्लिश वाक्य


1. जोश में होश की जरूरत होती है- Enthusiasm needs concentration.
2. यह तुम्हारा भ्रम है- It's your illusion.
3. मेरी किस्मत खराब है- I have a bad luck.
4. रात को बहुत अच्छी नींद आयी- I had a sound sleep last night.
5. उत्तर दीजिये- Please answer.
6. मुझे तुमसे ऐसी उम्मीद नहीं थी- I never expected this form you.
7. जरा खिड़की खोल दीजिये- Please open the window.
8. अंदर कोई नहीं है- There is nobody inside.
9. क्या आप चेक स्वीकार करते हैं- Do you accept cheque?
10. दूध फट गया है- The milk has turned sour.
11. आजकल मेरा हाथ तंग है- I'm hard up these days.
12. यह मैला है- It is dirty.
13. इसका क्या मतलब है- What does it mean.
14. बेकार मत बैठो- Don't sit idle.
15. इस विषय पर कोई बात नहीं हुई- This point was not touched.
16. मैं इस मामले में सोचूंगा- I will think over this matter.
17. मैं तुम्हें नहीं जाने दूंगा- I will not let you go.
18. वो ऐसे देखता है जैसे सब जानता है- He pretends to know everything.
19. इतना बहुत है- This is enough/It is sufficient.
20. उसे छुट्टी नहीं मिली- He couldn't get leave.
21. क्या देर हो गयी है- Is it late?
22. आप एक घण्टा लेट हो गए हैं- You are late by an hour.
23. फर्श पर मत थूको- Don't spit on the floor.
24. मैंने ते जानबूझकर नहीं किया- I didn't do this purposely.
25. गैस खत्म हो गयी है- The gas has finished.


ये भी पढ़ें:- पूरी इंग्लिश बोलने के लिए इन 500 इंग्लिश वाक्यों का जानना बहुत जरूरी है।


26-50 Simple English Sentences For Daily Use With Hindi | अंग्रेजी बोलना कैसे सीखें


26. क्या ये हंसने का समय है- Is it time to laugh?
27. क्या वहाँ कोई है- Is anyone there?
28. क्या तुम अभी तक जाग रही हो- Are you still awake?
29. मेरा पेन कहीं नहीं मिल रहा है- I can't find my pen anywhere.
30. मैंने ऐसा कभी नहीं कहा- I never said that.
31. मुझे चाय की आदत है- I used to tea.
32. मुझे 7 बजे से पहले घर पहुचना जरूरी है- I must reach home before 7Pm.
33. तुमने मेरे मुह की बात छीन ली- You spoke out if my words.
34. आओ चाय पीते हैं- Come let's take tea.
35. क्या आप धूम्रपान करना चाहेंगे- Would you like to smoke?
36. क्या रात का खाना तैयार है- Is dinner ready?
37. कल स्कूल बंद रहेगा- The school will remain closed tomorrow.
38. वह अच्छे स्वभाव की महिला है- She is a women of good nature.
39. मेहनत कभी बेकार नहीं जाती- Hard work never goes in vain.
40. क्या मैं आपका साथ दूँ- May I accompany you?
41. क्या मुझे इसे यहाँ लाना चाहिए- Should I bring it?
42. ट्रेन यहाँ कब तक रुकेगी- How long will the train stop here.
43. समान उठाओ- Pickup the luggage.
44. यह बस कहाँ जाती है- Where does this bus go?
45. बाजार कितनी दूर है- How far is the marked?
46. मुझे टैक्सी कहाँ मिल सकती है- Where can I get a taxi?
47. क्या ये समान ठीक है- Is these stuff alright?
48. इस चीज की कीमत क्या है- What is price of this thing?
49. देखो दरवाजे पर कौन है- Look who is at the door?
50. मैंने अपना नाश्ता कर लिया है- I have taken my breakfast.


ये भी पढ़ें:- बच्चों के साथ रोज बोले जाने वाले 100 इंग्लिश वाक्य हिंदी में।


51-100 Spoken English Sentences Everyday In Hindi


51. तुम सच में मूर्ख हो- You are really fool.
52. क्या मैं आपसे एक मिनट बात कर सकता हूँ- Can I talk to you for a minute?
53. कृप्या सड़क पार करते समय सावधान रहें- Please be careful while crossing the road.
54. आपके पिता फोन पर है- Your father is on the phone.
55. वह अंग्रेजी में अच्छा है- He is good at english.
56. वह आपका क्या लगता है- What is he to you?
57. वह बहुत पेटू है- He is a glutton.
58. बालों में तेल लगाया करो- Apply oil to your hair.
59. मैं आपका आभारी हूँ- I am thankful to you.
60. मैं आपका नौकर नहीं हूँ- I am not your servant.
61. यह एक अफवाह है- This is a rumor.
62. यह फोन बहुत तेजी से बिक रहा है- This phone is selling like hot cakes.
63. वह गूंगा और बहरा है- He is deaf and dumb.
64. वह घर पर नहीं था- He was not at home.
65. यह सब मेरी समझ से बाहर है- It is all Greek to me.
66. मेरे पास पैसा नहीं है- I have no money.
67. क्या आप उनको जानते हैं- Do you know him?
67. वह गरीबों से नफरत करता है- He hates the poor.
68. क्या तुम्हें तैरना आता है- Do you know how to swim?
69. घर बनाया जा रहा है- The house is being build.
70. रोड बनाई जा रही है- The road is being constructed.
71. मैंने अपना कर्तव्य निभा दिया- I have done my duty.
72. क्या आपने खबर सुनीं- Have you heard the news.
73. टीचर ने उसे दण्डित किया- The teacher punished him.
74. वह रोज मंदिर जाता है- He goes to the temple everyday.
75. वह बहुत मेहनती है- He is so diligent.


ये भी पढ़ें:- बिना किसी को बताए घर पर अंग्रेजी बोलना कैसे सीखें? यहाँ जानें


100 घर परिवार में रोज बोले जाने वाले इंग्लिश सेंटेंस


76. क्या कोई चाय लेना पसंद करेगा- Would anyone like to have tea?
77. आप नाश्ते में क्या खाना चाहेंगे- What would you like to have in breakfast?
78. मैं चाय के लिए गैस पर पानी चढ़ा देती हूं- I will put on the pan for tea.
79. बाहर से पेपर लेकर आओ- Can you get the newspaper?
80. क्या तुमने कूड़ा बाहर रख दिया- Have you taken out the trash?
81. सोने से पहले सारे बर्तन धो देना- Just do the dishes before sleeping.
82. मुझे हाथ बढ़ाने दो- Let me give you a hand.
83. ये थैला मत फेंकना- Don't throw away the carry bags.
84. जाने से पहले पंखा चालू कर देना- Switch on the fan before you leave.
85. लाइट बंद कर देना- Switch of the lights please.
86. अपने कपड़े अलमारी में टांग देना- Hang up your clothes in your wardrobe neatly.
87. खिड़कियों को ठीक से बंद कर देना- Shut the windows properly.
88. मैं बिस्तर बनाने के बाद बाहर आऊँगा- I will come out after making the bed.
89. क्या तुमने दरवाजा बंद किया- Did you lock the door?
90. जल्दी से तैयार हो जाओ हमें समय पर निकलना है- Get dressed quickly, we have to leave on time.
91. सावधान! प्लेटें बहुत गर्म है- Careful, The plates are very hot.
92. घर का समान खत्म हो गया है, हमें भरना होगा- Let's go for some groceries, we need to stock up.
93. क्या किसी ने मेरा चार्जर देखा है- Has anyone seen my charger?
94. मेरी चाभियां खो गयी है- Where are my keys/Has anyone seen my keys?
95. रात को हम बचा हुआ खाना खाएंगे- We will have leftovers for dinner tonight.
96. अपनी माँ से ठीक से बात करना- Be nice to you mother.
97. पर्दे नीचे खींचो- Draw the curtains.
98. मैं काम के लिए जा रहा हूँ शाम को मिलते हैं- Bye! I'm off to work I'll see you in the evening.
99. तुम्हें शक करने की आदत है- You have a habit to doubt.
100. मैं अपने रास्ते पर हूँ- I am on my way.
101. वह किराना दुकान चलाता है- He runs a grocery shop.


उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये 100 common daily use english sentences with hindi meaning काफी पसंद आया होगा। साथ ही अगर आपको spoken english से सम्बंधित और भी कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके जरूर पूछ सकते हैं।


ये भी पढ़ें:- 4 Amazing Tips: How To Improve Spoken English In Hindi?

10 ऐसी गलतियां जिसको हम रोज समय बर्बाद करने के लिए करते हैं।

10 ऐसी गलतियां जिसको हम रोज समय बर्बाद करने के लिए करते हैं।

Top 10 Bad Time Wasting Habits In Hindi | समय बर्बाद करने से कैसे बचें

Top 10 time wasting habits in life hindi, how to stop time wasting in life hindi
Top 10 time wasting habits in hindi

आज हम जानेंगे समय का महत्व के बारे में। हम उसी समय के बारे में जानेंगे जिसे हम सबसे ज्यादा बर्बाद करते हैं। आप आज 10 ऐसी चीजों के बारे में जानेंगे जो आपके टाइम को बर्बाद करती है। आज आप समझ पाएंगे कि आप अपने समय को कहाँ और कैसे बर्बाद कर रहे हैं?


एक बात का ध्यान हमेशा रखिये कि आज आप असफल सिर्फ इसलिए है क्योंकि आप ये नहीं जानते थे कि अपने समय को सही तरीके से इस्तेमाल कैसे करें? तो चलिए बिना किसी देरी के top 10 time wasting habits in hindi के बारे में जानते हैं।


How To Stop Wasting Of Time In Hindi | समय की बर्बादी को कैसे रोकें


1. किसी चीज का इंतजार- हम बहुत बार इस चीज के वजह से बैठे रहते हैं कि हमें कोई प्रेरणा मिलेगा तब हम काम को करेंगे। जबकि सच ये है कि हमें प्रेरणा तब तक नहीं मिलती है जब तक हम किसी चीज का शुरुआत नहीं करते हैं।


जब किसी काम को करते हैं तब हमको समझ में आता है कि आगे और क्या करना चाहिए? जितने हम किसी काम को करते हुए आगे बढ़ते जाएंगे हमें उतना ही और ज्यादा अनुभव होगा। जितने ज्यादा लोगों से मिलेंगे उतने ज्यादा आपको करियर में inspiration मिलेगा, उतने ज्यादा तरीके मालूम होंगे।


खुद को अपने सपनों के मंजिल तक पहुचाने के लिए खुद को हमेशा inspire रखना होगा। आप किसी चीज का इंतजार नहीं कर सकते हैं। बिना रुके आपको एक्शन लेना होगा। तभी आपकी मंजिल भी आपका कदम चूमेगा।


2. एक ही गलती को बार-बार दुहराना- आपने अक्सर एक कहावत सुनी होगी कि इंसान गलतियों का पुतला है, आदमी गलतियों से ही तो सीखता है। पर आपको बता दें कि अगर आप अपने गलतियों से सीखकर आगे बढ़ रहे हैं तब तो ठीक है लेकिन अगर गलती करने के बाद भी बार-बार उसी गलती को दुहरा रहे हैं तब तो फिर आप बहुत ज्यादा समय बर्बाद कर रहे हैं।


गलतियां इंसान से ही होती है। अगर हम गलतियां करेंगे नहीं तो सीखेंगे कैसे? पर एक बार अपने आप से जरूर पूछो कि आपने जो पिछली गलतियां की है उससे क्या सीखा? अगर आप गलती कर रहे हैं तो उसको स्वीकार करें और उसको सही करने की कोशिश करें।


How To Stop Time Wasting In Life Hindi


3. सब अच्छा होने का इंतजार करना- आदमी अपना सबसे ज्यादा समय इसी बात को लेकर बर्बाद कर देता है कि वो सब अच्छा होने का इंतजार करता है। अगर आप भी ऐसा समय आने का इंतजार कर रहे हैं तो सिर्फ अपना समय बर्बाद कर रहे हैं।


आप जरा सोच कर देखिये अगर आप बचपन में गिरने के डर से ये सोचते कि जिस दिन मैं अच्छे से दौरान सीख जाऊंगा उसी दिन से खड़ा होऊंगा तो क्या आप कभी खड़े हो पाते? अगर आप ये सोचते कि मैं गाड़ी लेकर तभी निकलूंगा जब रास्ते पर कोई रेड सिग्नल ना मिले तो क्या आप कभी कहीं घूमने जा पाते, अगर आप ये सोचते कि जिस दिन मैं करोड़पति बन जाऊंगा उसी दिन पैसे कमाऊंगा तो शायद आज आप एक रुपये भी नहीं कमा पा रहे होते। अगर आप ऐसा अभी भी कर रहे हैं तो सिर्फ ये समय की बर्बादी है।


ये भी पढ़ें:- करियर चुनते समय इस बात का ध्यान जरूर रखें वरना असफलता हाथ लगेगी।


आप जहाँ भी है, जैसे भी है आज और अभी से अपने काम को शुरू कर दीजिए क्योंकि एक बात हमेशा ध्यान रखिये कि आप जिस समय का इंतजार कर रहे हैं वैसा समय कभी होता ही नहीं है तो आएगा कहाँ से।


इसलिए परफेक्ट टाइम का इंतजार करना छोड़िए और आपको जो आता है वहीं से शुरू कर दीजिए और रास्ते में जो भी रुकावट आये उसको अपने से दूर करते हुए आगे बढ़ते जाओ। आप जितना ज्यादा अपने काम को करेंगे आपके अंदर उतना ही परफेक्शन आता जाएगा।


Don't Waste Your Time In Hindi | सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग


4. अगर ऐसा किया तो दूसरे लोग क्या सोचेंगे- आपने तो एक बात जरूर सुनी होगी- सबसे बड़ा रोग मेरे बारे में क्या कहेंगे लोग। उम्मीद है आपने ये बात बहुत बार सुना होगा लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा सोचते हुए आपने कितना टाइम बर्बाद कर दिया है। कई बार हम अपने काम को बस इसलिए रोक देते हैं कि मेरे पड़ोसी क्या सोचेंगे, क्या कहेंगे?


हम ऐसा सोच-सोचकर वो नहीं कर पाते जो हम करना चाहते थे और एक दिन अपने ही लाइफ को बर्बाद कर देते हैं। एक बाद हमेशा याद रखना कि दूसरों की सलाह, दूसरों की बात के वजह से हम सिर्फ अपना टाइम बर्बाद ही नहीं करते हैं बल्कि हम अपना लाइफ बर्बाद कर रहे हैं।


5. खुद को भी समय दो- कभी-कभी ऐसा होता है कि हम काम के व्यस्तता के चलते खुद के लिए जीना भूल जाते हैं। ये सही है कि समय कम है, ज्यादा जीवन भी नहीं बचा है इसलिए हमेशा अपने लक्ष्य की तरफ ध्यान लगाएं रखें। अपने मंजिल को पाने के लिए दिन रात मेहनत कीजिये पर काम के बीच ब्रेक लेना भी उतना ही जरूरी है।


अपने काम के बीच अपने लिए भी जरूर समय निकालें। कभी-कभी मनपसंद के काम कीजिये, दूसरे चीजों के बारे obserbe करें, अपने काम से हटकर कुछ अलग करें। ऐसा करने से आपका मन रिफ्रेश होता है। आप अपने काम से बहुत प्यार कीजिये लेकिन एक ब्रेक लेना कभी मत भूलिए।


असफलता का सामना कैसे करें | How To Learn From Failure In Life Hindi


6. बहुत बार हम अपने लाइफ में किसी काम को ये सोचकर शुरू नहीं करते हैं कि क्या होगा अगर हम फेल हो गए, क्या होगा अगर हमें असफलता हाथ लगी। इस असफलता के डर के वजह से आप अपने जीवन में कई सारे मौके ऐसे ही गंवा देते हैं।


आपको एक उदाहरण देते हैं। मान लीजिए कि आप कोई गेम खेल रहे हैं। उसमें आपकी या तो हार होगी या फिर जीत। अगर आप हार के डर से खेलेंगे ही नहीं तो आप गेम शुरू होने से पहले ही हार गए हैं। आप उसमें भाग लेंगे तभी तो जितने की संभावना बनी रहेगी। यहीं बात हमारे लाइफ में भी होता है। इसलिए बिना डरे किसी को अभी से ही शुरू कर दीजिए।


7. बहुत लोग ये शिकायत करते हुए मिलेंगे कि मेरी किस्मत ही अच्छी नहीं है, काश! मेरे हालात ऐसे नहीं होते, मेरे परिवार वाले अच्छे नहीं है। मतलब उनके आसपास हर एक चीज अच्छी नहीं होती है। लेकिन ये हकीकत है कि आपके ऐसे बेकार के शिकायत के अलावा सभी अच्छे हैं।


ये भी पढ़ें:- Top 15 Self Improvement Tips In Hindi For Career Success.


आप किसी को दिन भर कोसते रहें आपको कुछ नहीं मिलने वाला है। उल्टा आप ऐसा करके अपना समय बर्बाद कर रहे हैं। ऐसा समय जो कभी लौटकर वापस नहीं आने वाला है। इसलिए बिना किसी शिकायत के आज से ही अपने काम में लग जाइये। सफलता जरूर हासिल होगी।


8. किसी काम को अधूरा छोड़ना- जब भी हम किसी काम को आधा-अधूरा छोड़ते हैं और किसी दूसरे काम को करने लगते हैं तो हमारा दिमाग छोड़े हुए काम के बारे में सोचता रहता है। इसलिए हम दूसरा काम भी ढंग से नहीं कर पाते और ना ही हम छोड़े हुए काम को अपने दिमाग से निकाल पाते हैं।


इसलिए भले ही दिन में एक काम करो लेकिन उस काम को खत्म किए बिना किसी दूसरे काम को शुरू न करें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप केवल अपना समय बर्बाद कर रहे हैं।


9. सबको खुश करने की जिम्मेदारी- क्या आपको पता है कि इस दुनिया में लगभग 7 अरब से भी ज्यादा लोग रहते हैं? जरा एक मिनट के लिए सोचिए आप कितने लोगों को खुश कर पाएंगे? आप अपना काम छोड़कर किसी दूसरे को खुश करने में अपना टाइम बर्बाद क्यों कर रहे हैं?


ये दुनिया का सच है कि आप सबको खुश नहीं कर सकते हैं। आपको इस दुनिया में खुश करने के सिर्फ एक आदमी की जरूरत है और वो आप खुद है। जिस दिन आप खुद को खुश रखना सिख गए उस दिन से आपका हर पल खुशियों सर भरा मिलेगा।


आपको ये खुद ही देखना होगा कि जिस काम को आप कर नहीं सकते, जिसको करने से सिर्फ आपका समय बर्बाद होगा। ऐसे जगहों पर ना कहना सीखिए क्योंकि ये दुनिया सिर्फ मतलब की है। सबको सिर्फ अपना काम निकालना है। आज से आप वहीं कीजिये जिसको आप कर सकते हैं।


एक बात हमेशा ध्यान रखिये कि आप सबको खुश नहीं कर सकते हैं लेकिन सबको खुश करने से चक्कर में आप अपना समय जरूर बर्बाद कर दोगे। ऐसे करके अपना समय बर्बाद मत करो


10. किसी से तुलना करना- ये बात हमारे समाज में, हर जगह, हर समय देखने को मिल जाता है। कोई अपने बेटे की तुलना किसी दूसरे के बेटे से करता है तो कोई अपने समान की तुलना किसी दूसरे से। बंद करो ये सब ऐसा करने से आप खुद को दुःखी कर रहे हैं और कुछ नहीं।


आज हम सिर्फ इस बात की तुलना करते रहते हैं कि वो कितना कमा रहा है और मैं कितना कम कमा रहा हूँ। वो कितना सुंदर है और मैं कितना कुरूप। कृपा करके ऐसा मत कीजिये क्योंकि ऐसा करके सिर्फ आप अपने को दुःखी कर रहे हैं और अपना समय बर्बाद कर रहे हैं।


ऐसा करते रहने से निराशा के अलावा कुछ भी नहीं मिलने वाला है। अगर किसी चीज से तुलना ही करना है तो अपने बीते हुए कल से तुलना कीजिये, अपने अंदर छिपे टैलेंट से तुलना करो कि मैं क्या कर सकता हूँ और अभी क्या कर रहा हूँ? बस कुछ दिन ऐसा करके देखिए आपका जिंदगी कितना बदल जायेगा।


ये भी पढ़ें:- 2021 में ये 5 जॉब आपको सबसे ज्यादा सैलरी देगी।


Top 10 Good Habits For Success In Hindi | Top 10 Habits Of A Successful Person In Hindi


1. किसी चीज का इंतजार मत कीजिये। Success के लिए जो मन में आये वो कर डालिये।


2. आप ये मत सोचिए कि मेरे बारे में लोग क्या कहेंगे? आपको जो करना है कर डालिये क्योंकि आप अपने भाग्य के निर्माता खुद ही है। वरना दूसरे लोग तो सिर्फ आपके बुरे वक्त का इंतजार करते हैं।


3. कभी-कभी खुद के ऊपर भी समय दीजिये क्योंकि यहीं समय आपके मन को विचलित होने से बचाता है और आपको तरोताजा रखता है।


4. असफलता से डरिये मत बल्कि उसका सामना कीजिये। उससे कुछ सीखिए और उस फेलियर को सफलता में बदल डालिये।


5. अपने आसपास के उपस्थित चीजों को कोसना बंद कीजिए क्योंकि आपकी ये आदत सिर्फ समय बर्बाद करती है और आपको अपने लक्ष्यों से दूर करती है।


6. कभी भी किसी काम को अधूरा मत छोड़िए क्योंकि ऐसा करके सिर्फ अपना समय बर्बाद कर रहे हैं। जिस काम को शुरू कर रहे हैं उसको खत्म करने के बाद ही दम लीजिये।


7. सबको खुश करने की जिम्मेदारी मत लीजिये क्योंकि आप अपनी जान देकर भी सबको खुश नहीं कर सकते हैं। इसलिए जरूरत पड़ने पर ना कहना भी सीखिए।


8. अपनी तुलना किसी दूसरे से मत कीजिये क्योंकि आप इस दुनिया में सिर्फ अकेले बनें है और सबकी अपनी-अपनी अलग खूबियां होती है। आप बस ये सोचिए कि आप जो भी है सबसे बेस्ट है।


9. बार-बार गलतियों को दुहराने की गलती मत कीजिये बल्कि अपनी गलतियों से सीखकर हमेशा कुछ अच्छा करने की कोशिश करें।


10. सब चीज अच्छा होने का इंतजार बिल्कुल मत किजिए क्योंकि ऐसा कभी होता ही नहीं है। इसलिए बिना देरी किये अपना काम अभी से शुरू कर दीजिए।


आप अभी तक अपना समय कैसे बर्बाद कर रहे थे और अब आपने क्या सीखा कमेंट बॉक्स में लिखना मत भूलिएगा। साथ ही आपको ये top 10 bad time wasting habits in life hindi कैसी लगी और साथ ही आपने समय बर्बाद करने से कैसे बचें से क्या सीखें हमें कमेंट करके जरूर अपना अनुभव शेयर करें।


ये भी पढ़ें:- कम पढ़ें-लिखें लोग भी सफल इस कारण होते हैं।

देश के सबसे पॉपुलर शिक्षक खान सर का जीवन परिचय | Khan Sir Patna

देश के सबसे पॉपुलर शिक्षक खान सर का जीवन परिचय | Khan Sir Patna

कॉमेडी किंग और देश के सबसे चहेते शिक्षक खान सर का जीवन परिचय | Khan GS Research Centre Owner Biography In Hindi

Khan sir patna biography in hindi, khan sir patna success story in hindi
Khan Sir Patna Biography In Hindi

अगर आप देश-दुनिया के खबरों के बारे में पूरी विस्तार से जानने की इच्छा रखते हैं और उसके अंदर की छुपी हर एक राज को जानना चाहते हैं तो आपने यूट्यूब पर खान सर का वीडियो जरूर देखा होगा। आज वे किसी परिचय के मोहताज नहीं है कि खान सर कौन है?


खान सर बिहार के पटना शहर में बहुत बड़े कोचिंग संस्थान Khan GS Research Centre के संस्थापक और एक बहुत अच्छे टीचर भी है। जो कि अपने पढ़ाने के एक विशेष शैली के चलते कुछ ही समय में पूरे देश में उनकी पहचान एक अलग स्तर के टीचर के रूप में होने लगी है।


उनके पॉपुलैरिटी का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि 2019 में ही शुरू हुए उनके यूट्यूब चैनल को भारत के सबसे बेस्ट यूट्यूब वीडियो creater के लिए 8वें स्थान पर रखकर उनको सम्मानित किया है। जो कि अबतक किसी और education चैनल ने ये सम्मान प्राप्त नहीं किया है।


खान सर के पढ़ाने के सबसे खास बात ये है कि ये हर बात को इतनी आसानी से देशी अंदाज में समझाते हैं कि इनके द्वारा पढ़ाई गयी सारी बात को लोग पहली बार में ही समझ जाते हैं और इनके मुरीद हो जाते हैं। इनके पढ़ाने के विशेष शैली के वजह से लोग इनको दूसरा अब्दुल कलाम के नाम सर पुकारते हैं।


आज हम खान सर के बारे में पूरी जानकारी देंगे जो आजतक आपलोग इनके बारे में नहीं जानते होंगे। साथ ही खान सर की जीवनी में हम जानेंगे कि कैसे खान सर एक साधारण आदमी से देश के सबसे चर्चित शिक्षक के रूप में प्रसिद्ध हुए? तो चलिए दोस्तों खान सर के जीवन परिचय के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


खान सर का जन्म और उनका परिवार | Khan Sir Patna Biography In Hindi


खान सर का जन्म उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। खान सर के पिता इंडियन आर्मी में कार्यरत थे, जो कि इस समय रिटायर्ड हो चुके हैं। इनके माता जी एक गृहणी है। इनके एक भाई भी है जो कि एक कमांडो है।


Khan Sir Patna Full Name | खान सर का असली नाम


खान सर का पूरा नाम मोहम्मद अरशद खान है। लेकिन उनसे पूछे जाने पर वो सिर्फ इतना कहते हैं कि लोग उनको सिर्फ खान सर के ही नाम सर जानें। आज पूरे देश में ये खान सर पटना वाले के नाम से चर्चित है। खान सर की उम्र लगभग 28 साल है।


खान सर पटना वाले का बचपन और उनके सराहनीय कार्य


खान सर को बचपन से ही इच्छा हमेशा देश सेवा करने की रहती है। इसलिए उनका सपना था कि वो भी एक भारतीय सेना में शामिल होकर देश की सेवा करना चाहते थे। इसके लिए इन्होंने यूपीएससी द्वारा आयोजित NDA की परीक्षा भी दिए। जिसमें ये लिखित परीक्षा में तो पास हो गए लेकिन इनका हाथ सीधा नहीं होने के कारण इनको अयोग्य करार दिया गया। जिसके कारण इनका ये सपना हमेशा के लिए अधूरा रह गया।


ये भी पढ़ें:- मिसाइल मैन के नाम सर मशहूर एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी।


NDA में सेलेक्शन ना होने के कारण वे बहुत दुःखी हुए, पर खान सर के परिवार ने उनका हिम्मत बढ़ाते हुए कहा कि तुम्हारा सेलेक्शन नहीं हुआ तो क्या हुआ तुम देश की सेवा सेना में न रहकर भी कर सकते हो। इस देश के जनता की सेवा भी देश की सेवा ही हुआ। तुम जनता की सेवा करो और जरूरतमंद लोगों की सहायता करो। तब से जनता की सेवा ही खान सर का लक्ष्य है।


उन्होंने देश की सेवा के लिए एक अनाथालय भी खोला है जिसमें गरीब और अनाथ बच्चे रहते हैं। उनको किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होने देते है ताकि बच्चों को कभी भी अपने माँ-बाप की कमी महसूस नहीं हो। उन्होंने आवारा गायों के लिए एक गौशाला भी खोल रखा है।


खान सर की शादी | Khan Sir Marriage Life


अगर खान सर की शादी के बारे में बात करें तो इनकी शादी अभी नहीं हुई है लेकिन सगाई दो साल पहले ही हो चुकी है। मई 2020 में इनकी शादी भी होने वाली थी लेकिन कोविड19 की वजह से इनकी शादी रुक गयी। खान सर की पत्नी के बारे में बात करें तो इनकी मंगेतर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में एक डॉक्टर है।


खान सर की शिक्षा | Khan Sir Patna Success Story In Hindi


आइये अब जानते हैं खान सर की शिक्षा के बारे में। अगर हम इनके शिक्षा के बारे में बात करें तो खान सर की प्रारंभिक शिक्षा गोरखपुर से ही पूरी हुई। खान सर की पढ़ाई में बचपन से ही बहुत रुचि रखते थे। जब वे 9वें क्लास में थे तब उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने लगे।


जब 10वीं कक्षा में गए तो पॉलीटेक्निक की तैयारी की और जब 12वीं में गए तो ALEEE की तैयारी करने लगे। पर संयोग की बात है जिस दिन उनकी परीक्षा थी उस दिन वे सोए ही रह गए, क्योंकि रात भर जग कर परीक्षा की तैयारी करने में लगे थे।


पर आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी कि जो भी होता है अच्छे के लिए होता है। अगर खान सर उस दिन परीक्षा के लिए सही समय पर उठ गए होते तो आज हमलोग इनके बारे में कुछ नहीं जानते और इनके ज्ञान का भंडार हमारे नसीब नहीं होता।


खान सर के इतने सारे विषयों में इतनी जानकारी होने का सबसे बड़ा कारण ये है कि वो हर परीक्षा की तैयारी करके अपनी ज्ञान की सीमा को बढ़ाते रहते थे। उन्होंने अपना स्नातक की पढ़ाई फिजिक्स और केमिस्ट्री ओनर्स से इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से किया।


ये भी पढ़ें:- मुंबई इंडियन्स के युवा क्रिकेटर अर्जुन तेंदुलकर का जीवन परिचय।


खान सर स्नातक की पढ़ाई के दौरान तीन बार जेल भी जा चुके हैं। जब वो कॉलेज में थे तब वो स्टूडेंट्स यूनियन के सदस्य थे तो विद्यार्थियों के हित में लड़ते हुए तीन बार जेल जाना पड़ा। अपने स्नातक की पढ़ाई की पूरी करने के बाद उन्होंने P.Hd किया। इसके साथ-साथ वे मानचित्र विशेषज्ञ भी है।


जब खान सर छोटे थे तब वे बिहार में अपने ननिहाल अक्सर आया जाया करते थे। जिससे उनको बिहार से लगाव और ज्यादा बढ़ता चला गया। वे अपने आसपास के लोगों से बिहार के महापुरुषों के बारे में बहुत ही बारीकियों से जानते थे।


जब वो बड़े हुए तो उनको इस बात का एहसास हुआ कि कैसे हमारा समाज राजनीतिक कुरीतियों के कारण बदतर होता जा रहा है। गरीब बच्चे ढंग से शिक्षा भी प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं और बंधुआ मजदूरी कर रहे हैं। ये सब देखकर उन्होंने प्रण किया कि बिहार में बच्चों को सस्ती और क्वालिटी शिक्षा दूँगा। जिससे लोग आसानी से पढ़ सकें और गरीब बच्चे भी इस समाज में आगे बढ़ सके।


Khan GS Research Centre Patna Owner Name & History In Hindi


उनका मानना है कि शिक्षा उस शेरनी का दूध है जिसने उसे पिया है उसने जरूर दहारा है। अपने इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए वे बिहार में Khan GS Research Centre की स्थापना की। जिसमें वे बिल्कुल सस्ते फीस पर हर प्रकार के competetive एग्जाम की तैयारी करवाते हैं। इसके साथ ही उन्होंने पटना की सबसे बड़ी पुस्तकालय की भी स्थापना की है।


शुरुआत में उनकी कोचिंग बिल्कुल कम बच्चों तक ही सीमित थी। परन्तु जल्द ही अपने पढ़ाने के विशेष शैली के वजह से बच्चों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ती चली गयी। तब उनको अपने कोचिंग को एक कोल्ड स्टोरेज में शिफ्ट करना पड़ा।


जल्द ही इस बड़े से कोल्ड स्टोरेज में भी बच्चों की संख्या बढ़ने के कारण बैठने तक कि जगह नहीं बची। इनके कोचिंग में इतनी भीड़ बढ़ गयी कि कुछ बच्चों को खड़े होकर ही पढ़ना पड़ता था। बच्चों के कठिन परिश्रम को देखकर खान सर ने ऑनलाइन लाइफ क्लासेज शुरू किया। जिसमें पटना में ही रहकर पढ़ाते थे परन्तु ऑनलाइन हो जाने के वजह से पूरे देश के बच्चे आसानी से पढ़ पाते हैं।


खान सर ने अपने ट्यूशन की फीस को गरीब बच्चों के लिए बहुत ही कम कर दी है। जिससे कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे उनके कोचिंग में पढ़ाई कर सकें। खान सर का मकसद यहीं रहता है कि पैसों की वजह सर कोई भी बच्चा उनके कोचिंग सर लौट कर वापस नहीं जा पाए।


खान सर के इस कदम से बहुत ही कम समय में उनके ट्यूशन से जुड़ गए। वो अपनी कोचिंग में हर धर्मी के त्योहार को बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं। त्योहार मनाते समय वो किसी भी जाति को लेकर किसी तरह का भेदभाव नहीं करते हैं। खान सर कहते हैं कि आजादी से पहले हम सिर्फ हिंदुस्तानी थे पर विभाजन के वजह से हम हिन्दू और मुस्लिम में बंट गए।


आपने एक कहावत तो जरूर सुनी होगी कि आप जितनी तेजी से कामयाब होते हैं तो आपके दुश्मन भी उतनी ही तेजी से बढ़ते जाते हैं। अपने देश सेवा के सपनों को साकार करने के रास्ते में खान सर के दुश्मन भी बहुत तेजी से बढ़ते चले गए। उनको अक्सर अपने कोचिंग संस्थान बंद करने की धमकी मिलती रहती है। पर खान सर उनसे डरे बिना अपने कोचिंग संस्थान को लगातार चलाते रहे और एक से बढ़कर एक बुलंदियों को छूते रहे।


ये भी पढ़ें:- हिंदी गायन के बेताज बादशाह अरिजीत सिंह का जीवन परिचय।


एक बार की बात है जब 11 मई 2019 को सुबह 9 बजकर 45 मिनट के करीब खान सर के इंस्टिट्यूट पर बम से हमला किया गया और वहाँ उपस्थित शिक्षकों और बच्चों को लाठी तथा डंडों से पीटा गया। इसके बावजूद भी खान सर डरने वालों में से नहीं है। बल्कि अपने इरादों को और भी मजबूत करते हुए उन्होंने प्रण किया कि अगर तुम हमें मार भी दोगे तब भी हम संस्थान को बंद नहीं होने देंगे।


खान सर बच्चों को पढ़ाते समय हमेशा बच्चों को मोटिवेट करते रहते हैं और समाज सेवा करने की अपील करते रहते हैं। उनका मानना है कि हमारा जीवन दूसरों के लिए समर्पित होना चाहिए यहीं हमारे जीवन का लक्ष्य होना चाहिए।


खान सर अपने यहाँ पढ़ने वाले बच्चों को कहते हैं कि बिहार का पूरा भारत में एक गौरवशाली इतिहास रहा है। चन्द्रगुप्त मौर्य और चाणक्य ने अखंड भारत की शुरुआत यहीं से की थी और यहाँ पर आर्यभट्ट जैसे महान गणितज्ञ ने जन्म भी लिया था।


पर पिछले कुछ सालों से राजीनीतिक कुरीतियों के कारण ये राज्य अपना सम्मान खोता जा रहा है। इसलिए हमको फिर से अपने बिहार को पुराना मगध बनाना है। 20 मार्च 2020 तक खान सर का इंस्टीट्यूट सुचारू रूप से चल रहा था। परन्तु 21 मार्च से lockdown लगने के कारण बच्चों का इंस्टिट्यूट में आना बंद हो गया।


जिसके कारण उन्होंने अपना ऑनलाइन क्लास अपने यूट्यूब चैनल Khan GS Research Centre पर शुरू कर दिया। शुरुआत में लोग इनको इग्नोर कर रहे थे। लेकिन जिसने भी इनके पढ़ाने का शैली एक बार देखा बस उनका फैन होता चला गया और धीरे-धीरे इनकी लोकप्रियता बिहार के अलावा पूरे देश में फैल गया। आज देश के हर कोने से बच्चे खान सर के यहाँ पढ़ना चाहते हैं।


खान सर के यूट्यूब चैनल पॉपुलर होने का कारण ये है कि ये अपने हर वीडियो के अंत में समस्याओं का हल जरूर बताते हैं। इनके कई वीडियो को बॉलीवुड के बड़े-बड़े हस्तियों ने भी अपने ट्विटर पर शेयर किया है।


Khan GS Research Centre Youtube Income In Hindi | खान सर की नेट वर्थ


आपके जानकारी के लिए बता दें कि खान सर अपने पैसों का अधिकांश भाग समाजिक सेवाओं में लगा देते हैं। फिर भी इनके यूट्यूब वीडियो के व्यूज के हिसाब से खान सर का मासिक आय लगभग 10 लाख सर ऊपर है।


ये भी पढ़ें:- राजनीति के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह की जीवनी।


इसके अलावा इनका एक App भी है जिसमें केवल 2 लाख बच्चों के लिए ही रजिस्ट्रेशन allow है। एक बच्चे के लिए 99 रुपये का फीस रखा गया है जिसके हिसाब से लगभग 2 करोड़ रुपये हुए। साथ ही इनके कमाई का सबसे बड़ा स्रोत पटना में स्थित इनका कोचिंग संस्थान है। जिसमें हजारों की संख्या में बच्चे पढ़ते हैं।


Khan GS Research Centre Contact Number & Address


वैसे तो खान सर के बारे में पटना के हर एक बच्चा बता सकता है। लेकिन अगर आप वहाँ जाना चाहते हैं तो Khan GS Research Centre का पता किसान कोल्ड स्टोरेज पटना 800006 है। साथ ही अगर आप उनके कोचिंग संस्थान के बारे में और कोई और जानकारी जानकारी जानना चाहते हैं तो आप Khan GS Research Centre के contact नम्बर पर फोन करके पूछ सकते हैं।

1. 8877918018
2. 8757354880


Khan Sir Official App Download link


अगर आप खान सर के द्वारा उनके कोचिंग संस्थान में नहीं पढ़ पा रहे हैं और आप इनके द्वारा बांटे गए ज्ञान को अर्जित करना चाहते हैं तो आप इनके ऑनलाइन क्लास से जुड़कर भी पढ़ सकते हैं। इसके लिए आप खान सर के ऑफिशियल app अभी डाऊनलोड कर सकते हैं।


Khan Sir Official


खान सर पटना वाले कि कथन | Khan Sir Patna Best Quotes In Hindi


● लुढ़कते हुए पत्थरों पर काई नहीं जमती है बल्कि ठहरा हुआ पानी अक्सर खराब हो जाता है। इसलिए अपने ज्ञान की सीमा और भी ज्यादा बढ़ाते रहें।
● शिक्षा उस शेरनी का दूध है इसको जिसने भी पिया है उसने दहाड़ा है।
● दुनिया के हर समस्या का एक ही दवा है एक सच्चा दोस्त।
● जिम्मेदारी ऐसी चीज होती है जो रातों की नींद छीन लेती है।
● समय को बर्बाद मत कीजिये। दुःख की बात ये है कि समय बहुत कम है और सुख की बात ये है कि समय अभी भी है।


उम्मीद है कि आपको खान सर की बायोग्राफी से काफी कुछ सीखने को मिलेगा। साथ ही आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको खान सर पटना की जीवनी कैसी लगी? अगर आपको किसी और देशभक्त कि बायोग्राफी चाहिए तो कमेंट बॉक्स में लिखना मत भूलिएगा।


ये भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे क्रांतिकारी आदमी एलन मस्क का जीवन परिचय।

eSIM क्या होता है और ये कैसे काम करता है | eSIM कैसे प्राप्त करें यहाँ जानें

eSIM क्या होता है और ये कैसे काम करता है | eSIM कैसे प्राप्त करें यहाँ जानें

eSIM क्या है और ये कैसे काम करता है | eSIM Full Details In India In Hindi

eSIM Kya hai aur ye kaise kam karta hai, eSIM kaise prapt karein
eSIM Kya Hai

एक जमाना था जब मोबाइल के सिम कार्ड काफी बड़ा हुआ करता था। फिर आया मिनी सिम कार्ड या फिर पहले वाले सिम कार्ड को कार्ड कर मिनी बनाया जाता था। जिनके पास पुराने फोन थे उनको सिम डालने के लिए अतिरिक्त माथापच्ची करनी पड़ती थीं।


सिम कार्ड के छोटा होने का सिलसिला यहीं नहीं खत्म हुआ। फिर ये मिनी सिम कार्ड मैक्रो सिम कार्ड बन गया और अंत में नैनो। अभी जो सिम कार्ड का हम Use करते हैं उससे और छोटा नहीं हो सकता, लेकिन क्या आप जानते हैं अब ये इतना छोटा सिम कार्ड भी नहीं रहने वाला है।


ये कोई सपना नहीं बल्कि हकीकत है। जी हाँ अब मोबाइल में किसी सिम कार्ड को डालने की जरूरत ही नहीं रहेगी। इसका जगह पर eSIM कार्ड ले लेगा।


eSIM का मतलब ये है कि फोन में सिम कार्ड डालने की जरूरत ही नहीं होगी। बिना किसी सिम कार्ड के कहीं पर भी फोन लगाया जा सकता है, मैसेज भेजा जा सकता है और इंटरनेट भी चला सकते हैं।


ये सब कैसे होगा इसकी पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को ध्यान से पूरा जरूर पढ़ें क्योंकि हम आपको यहाँ बताएंगे कि eSIM क्या है, eSIM कार्ड कैसे काम करता है और आप इस eSIM कार्ड को अपने फोन में कैसे चालू कर सकते हैं?


eSIM क्या होता है - What Is eSIM Card In Hindi


सबसे पहले जानते हैं कि eSIM क्या होता है। इसको जानने पहले से ये जान लेते हैं कि SIM कार्ड क्या होता है? SIM कार्ड क्या फूल फॉर्म Subscriber Identity Module होता है। इसके अंदर आपकी वो जानकारी छिपी होती है जो टेलीकॉम ऑपरेटर को आपकी पहचान बताती है।


एक बार टेलीकॉम कंपनी आपकी पहचान को सही से वेरीफाई कर लेती है उसके बाद ही टेलीकॉम कंपनी आपको अपने सिम कार्ड को Use करने की इजाजत देता है। तभी आप अपने फोन से किसी को कॉल कर पाते हैं, इंटरनेट चला पाते हैं।


eSIM बस इसी का एक इलेक्ट्रॉनिक रूप है। यानी कि एक ऐसा सिस्टम जिसमें फिजिकल सिम कार्ड डालने की जरूरत नहीं होती है। आजकल के नए फोन में एक चिप पहले से ही लगी हुई आती है। इसे टेलीकॉम नेटवर्क पर रजिस्टर करवाना होता है। eSIM का फुल फॉर्म Embedded Subscriber Identity Module होता है।


सिम कार्ड और eSIM कार्ड में क्या अंतर है?


सिम कार्ड और eSIM कार्ड में क्या अंतर है? आपको एक उदाहरण देकर समझाते हैं?

DTH टीवी के सेटअप बॉक्स में एक फिजिकल कार्ड लगता है। ये कार्ड कम्पनी को आप और उसके रिचार्ज आदि सम्बंधित जानकारी देता है। वहीं पर Netflix देखने के लिए कोई फिजिकल कार्ड नहीं लगाना पड़ता है।


ये भी पढ़ें:- भारत की अपनी स्वदेशी व्हाट्सऐप Sandes App के बारे में पूरी जानकारी।


आपको अपना यूजर आईडी और पासवर्ड डालकर लॉगिन करता है। बस इतना ही फर्क एक सिम कार्ड और eSIM कार्ड में होता है। स्मार्टफोन में बैटरी और दूसरी चीजों के जगह को बनाने के लिए सिम कार्ड को छोटा किया गया था।


eSIM कार्ड को लाने का मकसद यहीं है कि फोन के अंदर और भी ज्यादा जगह बनाई जा सकें। पहले eSIM कार्ड का फंक्शन सिर्फ महंगे फोन में ही आता था, लेकिन अब मोबाइल कम्पनियां सस्ते फोन में भी eSIM कार्ड का ऑप्शन देने को सोच रही है।


जिन स्मार्ट वाच में फोन करने का सिस्टम होता है उनमें भी eSIM का सिस्टम होता है। स्मार्टवॉच में सिम कार्ड डालने का कोई ऑप्शन नहीं होता है इसलिए उसमें eSIM का Use किया जाता है।


How To Activate eSIM In Hindi | eSIM कार्ड को एक्टिवेट कैसे करें


आइये अब जानते हैं कि eSIM कार्ड को एक्टिवेट कैसे करते हैं?

आपके जानकारी के लिए बता दें कि वोडाफोन, आईडिया, एयरटेल, जिओ आदि सारी कम्पनियां eSIM पहले से ही देती है।


वोडाफोन, आईडिया और एयरटेल में eSIM लेने के लिए आपको सबसे पहले सर्विस प्रोवाइडर के पास eSIM की रिक्वेस्ट डालना पड़ता है। उसके बाद आपको एक QR कोड मिलता है। उस QR कोड को अपने फोन से स्कैन करने के बाद eSIM चालू हो जाता है। जिओ में eSIM चालू करने का प्रक्रिया थोड़ा लम्बा है। आइये इन सभी कम्पनियों के बारे में एक-एक करके eSIM के बारे में जानने की कोशिश करते हैं।


वोडाफोन और आईडिया पर eSIM का रिक्वेस्ट कैसे डालें और इसे Activate कैसे करें?


अगर आपके पास eSIM वाला फोन है तो एक मैसेज लिखने की जरूरत है। eSIM लिखकर स्पेस दीजिये, फिर अपनी रजिस्टर्ड ईमेल आईडी लिखें और इसको 199 पर भेज दीजिये। अगर आपका ईमेल आईडी सही है तो आपके पास ईमेल कंफर्मेशन के लिए एक मैसेज आएगा।


ये भी पढ़ें:- Signal App क्या है और इसके फायदे क्या है यहाँ जानें।


इस SMS पर ESIMY लिखकर रिप्लाई कर दीजिए। इसके बाद आपको 199 नम्बर से एक दूसरा SMS आएगा। इस SMS में आपको बताया जाएगा कि आपको कॉल करके कंफर्मेशन लेना होगा। इतना करने के बाद आपके पास एक और SMS आएगा जो QR कोड के बारे में जानकारी देगा। QR कोड आपको ईमेल के जरिये मिल जाएगा। बस इसको स्कैन कर लें फिर आपका eSIM चालू हो जाएगा।


एयरटेल पर eSIM का रिक्वेस्ट कैसे डालें और Activate कैसे करें


आप अपने eSIM वाले फोन से एक मैसेज लिखिए कि जिसमें eSIM लिखकर स्पेस दीजिये, अपनी रजिस्टर्ड ईमेल आईडी डालें और इसको 121 नम्बर पर भेज दीजिये।


अगर आपका ईमेल एड्रेस सही है आपको 121 नम्बर से प्रोसेस चालू होने का SMS आएगा। आपको इस पर 1 लिखकर रिप्लाई करना है। रिप्लाई करने के बाद आपको 121 से एक दूसरा SMS आएगा। जिसमें आपको बताया जाएगा कि आपको फोन पर कंफर्मेशन लेना होगा।


इतना करने के बाद आपके पास 121 नम्बर से आखिरी बार SMS आएगा जो QR कोड के बारे में बताएगा। ये QR कोड आपको ईमेल आईडी के जरिये मिल जाएगा। बस इसे स्कैन करके eSIM को चालू कर सकते हैं।


JIO पर eSIM कैसे Activate करें | How To Activate eSIM On Jio


अब बात करते हैं कि Jio का eSIM कैसे चालू करें?
जिओ में eSIM का रिक्वेस्ट डालने के लिए आपको नीचे दिए गए टिप्स को फॉलो करना होगा।


● सबसे पहले फोन के Settings में जाइये। फिर About वाले हिस्से में जाकर EID और IMEI नम्बर देखकर उसको अलग कहीं पर नोट कर लीजिए।

● अब अपने फोन से मैसेज में GET eSIM लेकर स्पेस दीजिये। फिर 32 अंकों वाला EID नम्बर डालिये फिर एक स्पेस दीजिये और 15 अंकों वाला IMEI नम्बर 199 पर भेज दीजिये। आपको 19 अंकों का eSIM नम्बर और उसका डिटेल्स मिलेगा।

● इसी में आपको एक एक्टिवेशन कोड मिलेगा। इतना करने के बाद एक और मैसेज लिखिए। जिसमें SIMCHG लिखकर स्पेस दीजिये और eSIM नम्बर लिखकर 199 पर भेज दीजिये।

● अब आपको eSIM की प्रोसेसिंग के लिए दो घण्टे में एक SMS आएगा। मैसेज आने के बाद  1 लिखकर 183 पर भेज दीजिये।

● जिसके बाद आपको एक कॉल आएगा, जिसमे आपसे 19 अंकों वाला eSIM नम्बर पूछा जाएगा। जिसके बाद नए eSIM के एक्टिवेट होने की जानकारी आपको SMS के जरिये मिलेगी।


ये भी पढ़ें:- कम पढ़ें-लिखें लोग भी सफल कैसे हो जाते हैं?


Samsung के फोन पर eSIM कैसे चालू करते हैं?


आपको अपने Menu बार को ओपन करना है, फिर Settings पर क्लिक करना है, फिर कनेक्शन पर जायें, इसके बाद सिम कार्ड मैनेजर पर जाकर Add Mobile Plan पर क्लिक करें।


आपको यहाँ एक Add Using QR Code का ऑप्शन मिलेगा। इस पर क्लिक करके ईमेल आईडी पर मिला हुआ QR कोड को स्कैन कर लीजिए। स्कैनिंग के बाद Add New Mobile Plan ऑप्शन में ऐड कर लीजिए। कोड स्कैन करते समय आपका फोन मोबाइल इंटरनेट या किसी भी Wi-Fi से कनेक्ट जरूर होना चाहिए।


Google के फोन में eSIM कैसे चालू करें?


इसके लिए आप Settings पर क्लिक करें, फिर Network & Internet पर जाइये। उसके बाद Wi-Fi में जाकर किसी भी नेटवर्क से जुड़ जाइये। मोबाइल नेटवर्क पर क्लिक कीजिए।


फिर Advance में जाइये और Career पर क्लिक करके Add Career पर क्लिक कीजिए। अब ईमेल पर मिला QR कोड स्कैन कर लें। उसके बाद डाउनलोड पर क्लिक करके Done कर दीजिए। आपका eSIM चालू हो जाएगा।


Apple iPhone पर eSIM कैसे चालू करें | What is eSIM in Apple iPhone In Hindi


Apple iPhone में eSIM चालू करने के लिए सेटिंग्स पर क्लिक करें। Mobile Data में जाइये उसके बाद Add Data पर क्लिक कीजिए और स्कैन QR कोड सेलेक्ट करके ईमेल पर आए हुए कोड को स्कैन कर लीजिए। स्कैन करते समय आपका फ़ोन मोबाइल इंटरनेट या फिर Wi-Fi से कनेक्ट होना चाहिए। अब इस eSIM को कोई भी नाम दे दीजिए और आपका eSIM चालू हो जाएगा।


eSIM के लिए फोन पर QR कोड कैसे स्कैन करते हैं?


आइये अब जानते हैं कि इस QR कोड को फोन से स्कैन कैसे करना है?

इतना सब करने के बाद आपको eSIM प्रोफाइल को अपने फोन में जोड़ना है। SAMSUNG, GOOGLE और iPhone के लिए ये प्रोसेस अलग-अलग है। इनको भी हम एक-एक करके जानते हैं।


Samsung के फोन में Settings में जाकर Connections पर क्लिक कीजिए। फिर Sim Card मैनेजर में जाइये और Add Mobile Plan पर क्लिक करें। इसके बाद Scan Career QR Code सेलेक्ट कीजिये। फिर Enter Code Instant पर क्लिक करें। अब आपको यहाँ पर LPA:1$smdprd.jio.com$ लिखकर स्पेस दीजिये और अपना 32 अंकों वाला एक्टिवेशन कोड डालिये और Connect पर क्लिक कर दीजिए आपका काम हो जाएगा।


ये भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय।


Google के फोन में Settings में जाइये। Network & Internet पर क्लिक कीजिए, Mobile Network पर क्लिक कीजिए फिर Download Us Sim पर क्लिक कीजिए। इसके बाद नेक्स्ट पर क्लिक करके कर कोड स्कैन करने के जगह Need Help पर क्लिक कीजिए।


इसके बाद पहले ऑप्शन Enter it Manually पर क्लिक कीजिए। इसके बाद बॉक्स में LPA:1$smdprd.jio.com$ लिखकर स्पेस दीजिये और 32 अंकों का एक्टिवेशन कोड लिख दीजिये। फिर एक्टिवेट पर क्लिक करके Done पर क्लिक कर दीजिए। आपका eSIM चालू हो जाएगा।


Apple iPhone में सेटिंग्स में जाइये, Mobile Data पर क्लिक कीजिए, फिर Add Data Plan पर क्लिक कीजिए और फिर दी हुई डिटेल्स को भरिये। SM-DP+Adress वाले हिस्से में LPA:1$smdprd.jio.com$ लिखिए और एक्टिवेशन कोड वाले हिस्से में एक्टिवेशन कोड लिखिए। इसके बाद Next पर क्लिक कीजिए। अब Add Data Plan पर क्लिक करके अपनी पसंद का Data Plan Label's चुन कर Continue पर क्लिक कर दीजिए। आपका eSIM तुरन्त चालू हो जाएगा।


eSIM के फायदे | Advantage Of eSIM In Hindi


अब जानते हैं कि eSIM के क्या फायदे हैं?

1. आप eSIM का नेटवर्क जब मर्जी अपने अनुसार अपने टेलीकॉम कंपनी को बदल सकते हैं। इसके लिए बार-बार आपको नया सिम लेने की जरूरत नहीं होती है।


2. SIM कार्ड के लिए फोन में किसी अतिरिक्त जगह का जरूरत नहीं पड़ेगा और न ही बार-बार डालने या निकालने की जरूरत नहीं होगी।


3. eSIM के वजह से फोन बैटरी बैकअप भी ज्यादा होगा क्योंकि इसमें फिजिकल सिम कार्ड का use नहीं होता है, बल्कि ये सॉफ्टवेयर के मदद से काम करता है।


4. नए सिम कार्ड के लिए किसी दूसरे सिम की जरूरत नहीं पड़ता है बल्कि eSIM के मदद से बिना बदले ये सब हो जाता है।


5. कुछ एक्सपर्ट की मानें तो eSIM सिम कार्ड के तुलना में ज्यादा secure है।


ये भी पढ़ें:- English बोलने के लिए बस ये चीज याद कर लें।

अर्जुन तेंदुलकर का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Arjun Tendulkar Biography

अर्जुन तेंदुलकर का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Arjun Tendulkar Biography

सचिन तेंदुलकर के इकलौते बेटे अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी | Arjun Tendulkar Biography In Hindi

Arjun tendulkar biography in hindi, arjun tendulkar success story in hindi
अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी


आज हम बात करेंगे भारतीय क्रिकेट के भगवान और दुनिया के सबसे महान क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के इकलौते बेटे अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी के बारे में।


जैसा कि हम सभी जानते हैं कि अर्जुन तेंदुलकर कौन है? उनको किसी परिचय की जरूरत नहीं है। बचपन से ही अपने पिता के जैसे बनने के सपने को लेकर क्रिकेट के मैदान में दिन रात मेहनत करने वाले अर्जुन तेंदुलकर के एक स्कूल क्रिकेट से आईपीएल 2021 में मुंबई इंडियंस के हिस्सा बनने तक कि कहानी काफी रोमांचक रही।


तो आइए क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


अर्जुन तेंदुलकर का जन्म और शुरुआती जीवन | Success Story Of Arjun Tendulkar In Hindi


सबसे पहले बात करते हैं अर्जुन तेंदुलकर के जन्म के बारे में। अर्जुन तेंदुलकर का जन्म एक हिन्दू परिवार में 24 सिंतबर 1999 को भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में हुआ था।


अर्जुन तेंदुलकर का बचपन भी अपने पिता के तरह ही क्रिकेट की दुनिया में गुजरा। बचपन से ही क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमाने के लिए लगातार प्रयासरत रहे अर्जुन तेंदुलकर की पूरी कहानी को जानते हैं।


अर्जुन तेंदुलकर का परिवार


अर्जुन तेंदुलकर के पिता का नाम सचिन तेंदुलकर है और उनकी माता का नाम अंजली तेंदुलकर है, जो पेशे से एक डॉक्टर है। अर्जुन तेंदुलकर के बहन का नाम सारा तेंदुलकर है।


अर्जुन तेंदुलकर का जीवन परिचय


अर्जुन तेंदुलकर की हाइट- 1.91m
अर्जुन तेंदुलकर का वजन- 65 kg
चेस्ट- 36 इंच
कमर- 30 इंच
बाइसेप्स -13 इंच

आयु- 20 वर्ष
अर्जुन तेंदुलकर के काले बाल और भूरे रंग का आंख है।


अर्जुन तेंदुलकर की शिक्षा | Arjun Tendulkar Education


आइये अब हम जानते हैं अर्जून तेंदुलकर के शिक्षा के बारे में। अर्जुन तेंदुलकर ने धीरूभाई अम्बानी इंटरनेशनल स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की।


अर्जुन तेंदुलकर का क्रिकेट करियर | Arjun Tendulkar Success Story In Hindi


अब जानते हैं अर्जुन तेंदुलकर के क्रिकेट करियर के बारे में। अर्जुन तेंदुलकर जब केवल 8 वर्ष के थे तब उनके पिता सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट कोचिंग संस्थान में दाखिला करवा दिया था। 22 जनवरी 2010 को अर्जुन तेंदुलकर ने अपना पहला मैच अंडर-13 टूर्नामेंट पुणे में खेला था।


ये भी पढ़ें:-● यॉर्कर किंग के नाम से मशहूर टी नटराजन का जीवन परिचय।

भारत के तूफानी हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या का जीवन परिचय।


क्या आप जानते हैं अर्जुन तेंदुलकर अपने पिता के विपरीत बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और साथ में एक अच्छे तेज गेंदबाज भी है।


नवम्बर 2011 में जमनाबाई नर्सरी स्कूल के खिलाफ धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल के तरफ से खेलते हुए अर्जुन तेंदुलकर रिकार्ड्स 22 रन देकर 8 विकेट चटकाए थे। अपने इस प्रदर्शन के बदौलत उन्होंने सारे क्रिकेट प्रेमियों का ध्यान अपनी तरफ खींचा।


जनवरी 2011 में उन्होंने पुणे में केडेन्स ट्रॉफी टूर्नामेंट में अपना पहला राष्ट्रीय स्तर का मैच खेला। वहीं जून 2012 में गोरेगांव सेंटर के खिलाफ अंडर 14 में अर्जुन तेंदुलकर ने अपना पहला शतक लगाया।


17 जुलाई 2018 में अर्जुन तेंदुलकर ने अपना क्रिकेट करियर भारत U-19 टीम के लिए श्रीलंकाई U-19 टीम के खिलाफ खेलकर शुरुआत की। इसके अलावा इन्होंने कई सारे घरेलू टीमों के लिए भी क्रिकेट खेला।


अर्जुन तेंदुलकर के पसंद और उनके शौक


आइये अब जानते हैं अर्जुन तेंदुलकर के पसंदीदा चीजों के बारे में।

फेवरेट एक्टर- शाहरुख खान
शौक- ट्रेवलिंग और संगीत सुनना
फेवरेट क्रिकेटर- सचिन तेंदुलकर
पसंदीदा भोजन- सांबर और पानी पूरी
फेवरेट शॉट- कवर ड्राइव


अर्जुन तेंदुलकर नेट वर्थ


आइये अब जानते हैं अर्जुन तेंदुलकर की कुल सम्पति के बारे में।

वैसे तो अर्जुन तेंदुलकर न तो किसी पहचान की जरूरत है और न ही उनकी सम्पति के बारे में जानने की। फिर भी एक अनुमान के अनुसार अर्जुन तेंदुलकर की कुल सम्पति 2020 तक लगभग एक करोड़ है।


Arjun Tendulkar Car Collections | अर्जुन तेंदुलकर की लाइफस्टाइल


अर्जुन तेंदुलकर के कार कॉलेक्शन्स के बारे में जानते हैं।
वर्तमान में अर्जुन तेंदुलकर के पास Ferrari 360 Modena, Nishan GT-R Egoist, BMW X5M  जैसी लक्जरी कारे हैं।


ये भी पढ़ें:- भारत के स्टार बल्लेबाज केएल राहुल की जीवनी।


अर्जुन तेंदुलकर आईपीएल ऑक्शन | Arjun Tendulkar Latest News In Hindi


इंडियन प्रीमियर लीग के चौदहवें सीजन से पहले नीलामी को लेकर काफी बातें की जा रही थी। इस नीलामी में सबकी नजर दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर पर टिकी हुई थी। हर किसी को इसी बात पर नजर थी कि आखिर कौन सी टीम इस खिलाड़ी को खरीदेगा और कितनी बोली लगेगी।


गुरुवार 18 फरवरी 2021 को चेन्नई में हुए आईपीएल ऑक्शन में 291 खिलाड़ियों के नाम की बोली लगाई गई। टूर्नामेंट  में पहली बार शामिल हो रहे अर्जुन तेंदुलकर का नाम नीलामी के सबसे अंत में आया। लंबे इंतजार के बाद जब इस खिलाड़ी का बोली लगाई तो उम्मीद के मुताबिक मुंबई इंडियंस के टीम ने खरीद लिया।


आपको बता दें कि आईपीएल 2021 के नीलामी में अर्जुन तेंदुलकर का बेस प्राइस 20 लाख रुपये रखी गयी थी। जिसे मुंबई इंडियंस की टीम ने उनके बेस प्राइस पर ही खरीद लिया। अब हमें देखना है कि अपने पिता सचिन तेंदुलकर की ही भांति क्या अर्जुन तेंदुलकर क्रिकेट में अपनी एक अलग छाप छोड़ पाते हैं कि नहीं।


सचिन तेंदुलकर जितने महान क्रिकेटर थे, उतना बन पाना किसी सपने से कम नहीं होगा। लेकिन अर्जुन तेंदुलकर भी अपने पिता के जैसे क्रिकेट में नाम कमाना चाहते हैं। बचपन से ही अर्जुन तेंदुलकर को अपने पिता की तरह क्रिकेट का बहुत शौक था। परन्तु सचिन तेंदुलकर ने कभी भी अर्जुन को क्रिकेट में करियर चुनने का दबाव नहीं डाला। उन्होंने अपने बेटे को करियर चुनने की पूरी आजादी दी।


आपके मुताबिक क्या अर्जुन तेंदुलकर क्रिकेट में अपने पिता सचिन तेंदुलकर के जितना नाम कमा पाएंगे, क्या वैसा नाम और शोहरत हासिल कर पाएंगे? आपकी अर्जुन तेंदुलकर के बारे में क्या राय है हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको अर्जुन तेंदुलकर की जीवनी काफी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारा ये पिस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें।


ये भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी।

कम पढ़े-लिखे लोग सफल कैसे बनें? Best Motivational Speech In Hindi

कम पढ़े-लिखे लोग सफल कैसे बनें? Best Motivational Speech In Hindi

असफलता से सफलता की कहानी | World Best Motivational Speech In Hindi For Students

World best motivational speech in hindi for success, short motivational story in hindi
Best Motivational Speech In Hindi

कई बार आपने अपने जीवन में देखा होगा कि बहुत ज्यादा पढ़े-लिखे लोग भी असफल हो जाते हैं, लेकिन बहुत कम पढ़े-लिखे लोग भी सफल हो जाते हैं। आखिर ये इतना बड़ा उलटफेर हमारे जिंदगी में कैसे हो पाता है?


क्या आप जानते हैं कि इस सफलता के पीछे का असली कारण क्या है तो चलिए आज हम सब इसी बात को समझते हैं। कम पढ़े-लिखे लोग भी सफल कैसे हो जाते हैं, इस बात को समझाने के लिए आप सबको एक मोटिवेशनल कहानी सुनाते हैं।


इस प्रेरणादायक कहानी को बहुत ही ध्यान से पढ़ियेगा और समझियेगा, क्योंकि हो सकता है ये एक कहानी आपकी जीवन, आपके कैरियर, आपकी सोच सब बदल सकता है। तो चलिए असफलता से सफलता दिलाने वाली प्रेरणादायक कहानी के बारे में जानते हैं।


सफलता दिलाने वाली कहानी | Best Motivational Speech For Employee In Hindi For Success


मानव जिंदगी में असफलता से सफलता का स्वाद चखने के लिए क्या सबसे जरूरी होता है ये सफलता दिलाने वाली कहानी आपको भली भांति बता देगी। बस इस प्रेरक हिंदी कहानी को पूरी जरूरी पढ़ियेगा।


एक बार की बात है जब एक बहुत बड़ी जहाज बनाने वाली कम्पनी ने बहुत ही विशाल जहाज बनाया। उस जहाज को बनाने में बहुत सारा समय और बहुत सारा पैसा लगा हुआ था। इस जहाज को बनाने में बहुत सारे इंजीनियर भी लगे हुए थे।


एक समय ऐसा आया जब जहाज बनकर पूरी तरह तैयार हो चुका था। अब जैसे ही जहाज को चालू किया गया तो वो जहाज चालू ही नहीं हुआ। जब उस जहाज के कम्पनी के मालिक को इस बारे में बताया गया कि इतना बड़ा जहाज बना तो लिया है लेकिन वो चालू नहीं हो रहा है।


जहाज के मालिक ने कहा कि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। आप हमारे राज्य के जो भी सबसे अच्छे इंजीनियर है उनको बुलाइये और उनको दिखाइए कि ये जहाज क्यों चालू नहीं हो रहा है? उनके मैनेजर ने ऐसा ही किया।


ये भी पढ़ें:- जिंदगी बदलने वाली 5 मोटिवेशनल कहानियां।


उस राज्य में जितने भी सबसे अच्छे इंजीनियर थे उन सबको उस जहाज को चालू करने के लिए बुलाया गया। सारे इंजीनियर ने जहाज को बहुत गौर से देखा, बहुत देर तक उस जहाज के निरीक्षण में गुजार दिए लेकिन उस जहाज को चालू नहीं कर पाए।


अब मैनेजर थोड़ा परेशान हो गया और अपने मालिक के पास गया। उसने कहा कि अभी जहाज चालू नहीं हो रहा है। जितने भी इंजीनियर आये थे सबने देखा पर कोई उसको चालू नहीं कर पाया। जहाज के मालिक ने कहा कि चलो अभी भी चिंता की कोई बात नहीं है। आप हमारे देश के जो सबसे अच्छे इंजीनियर है उनको बुलाइये। हो सकता है कि वो इसे ठीक कर दें।


उस मैनेजर ने ऐसा ही किया। देश के सबसे अच्छे-अच्छे इंजीनियर को उसने बुलवाया और उस जहाज को चालू करने के लिए कहा। सारे इंजीनियर जहाज को बहुत बारीकी से चेक करने लगे। ऐसा करते हुए लगभग साल भर का समय गुजर चुका था लेकिन उसका कोई फायदा नहीं हुआ। सारे इंजीनियर निराश होकर चले गए पर जहाज चालू नहीं हुआ।


अब वापस मैनेजर अपने मालिक के पास गया और कहा कि जहाज अब भी चालू नहीं हो रहा है। मालिक ने कहा कि चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। आप विदेशों से दुनिया के सबसे अच्छे-अच्छे इंजीनियर को बुलाइये और उस जहाज को दिखाइए कि ऐसी क्या प्रॉब्लम हो गयी है जिसकी वजह से ये जहाज ठीक नहीं हो पा रहा है।


मैनेजर ने ऐसा ही किया। उसने दुनिया के सबसे अच्छे इंजीनियर बुलाये और जहाज को दिखाया कि इसके अंदर ऐसी क्या प्रॉब्लम हो गयी है जिससे कि ये जहाज चालू नहीं हो रहा है? उन्होंने भी जहाज को चेक करना शुरू किया। लगभग छः महीने बीत गए थे लेकिन अब तक जहाज चालू नहीं हो पाया।


अब सारे लोग परेशान हो गए कि आखिर ये जहाज सुधर क्यों नहीं रहा? निराश होकर मैनेजर अपने मालिक के पास गया और उसने सारा हाल अपने मालिक से सारा किस्सा कह सुनाया। इस बार मालिक भी बहुत चिंतित हो गया कि मैंने इस जहाज के पीछे इतना सारा समय बर्बाद कर दिया, इतने सारे पैसे बर्बाद कर दिए लेकिन इतना करने के बाद भी ये जहाज सुधर नहीं पाया।


आखिरकार मालिक ने तंग आकर मैनेजर से कहा कि अब इस जहाज को ऐसे ही छोड़ देना चाहिए और हमें किसी दूसरे प्रोजेक्ट पर काम करना चाहिए। मैनेजर ने कहा कि ठीक बात है लेकिन हमने इतना सारा समय लगाया है, पैसे लगाया है क्या ये सब ऐसे ही बर्बाद चला जायेगा?


How To Become Success In Life In Hindi | दुविधा में सही निर्णय कैसे लें


मेरी बात माने तो आपसे एक सलाह है कि हमारे शहर में छोटी पनडुब्बी बनाने वाला एक मेकैनिक है, जो इस शहर में बहुत ही ज्यादा फेमस है। वो ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं है लेकिन क्या हम इस मामले में उसकी मदद ले सकते हैं?


मालिक ने थोड़ा गुस्से से कहा कि इतने बड़े-बड़े इंजीनियर देश-विदेश से बुलाये। लेकिन जब वो इंजीनियर इस जहाज को ठीक नहीं कर पाए तो क्या एक छोटा सा पनडुब्बी वाला मेकैनिक हमारे इस बड़े जहाज को ठीक कर पायेगा? आप रहने दीजिए।


ये भी पढ़ें:- बच्चों की सोच बदलने वाली 3 प्रेरणादायक कहानियां।


लेकिन मैनेजर ने कहा कि नहीं मालिक हम इतना सारा पैसा और समय बर्बाद कर चुके हैं तो क्यों न हम उस व्यक्ति को भी सिर्फ एक बार मौका दें। मैनेजर के विनम्र निवेदन के बाद मालिक ने उसे परमिशन दे दिया।


मैनेजर उस छोटे से पनडुब्बी को बनाने वाले मेकैनिक के पास गया। उसने कहा कि मेकैनिक साहब हमें अपना जहाज आपसे बनवाना है और इसके लिए आपको हमारे जहाज पर चलना है। मेकैनिक ने उस मैनेजर को देखा और कहने लगा कि साहब मैं एक छोटा सा मेकैनिक हूँ। छोटी-छोटी नाव और पनडुब्बियों को बनाता हूँ। मैंने तो इतना बड़ा जहाज अपने जीवन में कभी नहीं देखा है तो फिर मैं आपके जहाज को कैसे बना सकता हूँ?


उस मैनेजर ने कहा कि मुझे पता है कि आपने ऐसा काम कभी नहीं किया है लेकिन आपका इस शहर में बहुत नाम है। जिनका भी नाव और पनडुब्बी खराब होता है वो सभी आपके पास ही लेकर आते हैं और आप उसको बड़ी ही आसानी से बना देते हैं। इस कारण मेरा विश्वास है कि आप कुछ तो हमारा मदद कर ही सकते हैं।


भले ही आपसे वो जहाज बने या न बने लेकिन एक बार चलकर उसे देख तो लीजिए। मेकैनिक उस मैनेजर के बात को मान गया और जहाज पर चलने को तैयार हो गया। जब वो जहाज पर गया तो वो आश्चर्यचकित रह गया क्योंकि उसने अपने पूरे जीवन में इतना बड़ा जहाज कभी भी नहीं देखा था।


सबसे पहले वो मेकैनिक उस जहाज पर चढ़ा और उसने दो तीन घण्टे तक पूरे जहाज पर घुमा और एक-एक मशीन को देखा। मालिक और मैनेजर दोनों वहीं पर खड़े हुए थे। वे दोनों देख रहे थे कि ये छोटा सा मेकैनिक इस बड़े जहाज को देखकर कितना आश्चर्यचकित हो रहा है? वो उसकी हरकत देखकर मुस्कुरा भी रहे थे और सोच में पड़े हुए थे कि इतना छोटा सा मेकैनिक क्या कर सकता है?


लगभग पांच छः घण्टे तक वो मेकैनिक उस जहाज पर घूमता रहा उसके बाद एक समय ऐसा आया जब वो एक जगह पर जाकर रुक गया और बार-बार वहाँ पर देखने लगा, बार-बार सोचने लगा और वहीं पर खड़ा होकर कुछ देखता रहा।


वहाँ पर बाकी जितने भी लोग थे सब उसको बड़े ही ध्यान से देखने लगे कि ये मेकैनिक एक ही जगह पर खड़ा क्यों हो गया और एक ही जगह पर खड़ा होकर क्या सोच रहा है? वो मकैनिक थोड़ी देर वहाँ पर खड़ा रहा और सोचता रहा।


थोड़ी देर बाद उसने अपने झोले से एक हथौड़े को निकाला और उस हथौड़े से एक ही जगह पर तीन बार जोर-जोर से मारा। उसके बाद वो मैनेजर के पास गया और मैनेजर से कहा कि अब इस जहाज को चालु कर के देख लीजिए।


वहाँ पर खड़े मालिक और मैनेजर का दिमाग खराब हो गया कि इसने तो सिर्फ तीन हथौड़े ही मारे, कुछ किया भी नहीं और कह रहा है कि अब जहाज को चालू कर के देख लीजिए। मैनेजर ने ऐसे ही बिना मन के एक बार जहाज को चालू कर के देखा।


ये भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे बुद्धिमान व्यक्ति अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय।


जैसे ही मैनेजर ने जहाज को चालू किया वो जहाज चालू हो गया। सारे लोग आश्चर्यचकित हो गए और दिमाग लगाने लगे कि इसने ऐसा क्या किया कि इतने कम समय में इस जहाज को चालू कर दिया। सभी लोग बहुत ही खुश हो गए और बहुत ही उत्साहित हो गए। मिठाईयां बंटने लगी क्योंकि इतने समय बाद उनका जहाज पूरी तरह चालू हो चुका था।


अब लोगों के मन में ये जानने की उत्सुकता थी कि आखिर ये जहाज चालू कैसे हो गया? सबने उस मेकैनिक से जाकर पूछा कि ये जहाज इतनी जल्दी चालू कैसे हो गया? तो इस मेकैनिक ने बताया कि आपका जहाज पूरी तरह से ठीक था उसमें कोई भी प्रॉब्लम नहीं था। 


बस उसमें एक छोटी से प्रॉब्लम थी। एक छोटी से पंखी थी जो जहाज को चालू करने में बहुत जरूरी थी। वो पंखी कहीं पर फंस रही थी। मैंने दो तीन हथौड़े मारे और वो पंखी फ्री हो गयी। जिसके वजह से आपका जहाज चालु हो गया।


सभी लोग बहुत खुश हो गए। जहाज चालू करने के बाद मेकैनिक वापस अपने दुकान पर चला गया। मालिक ने उस मैनेजर को कहा कि जाइये उस मेकैनिक को उसका फीस पूछकर आइये कि उसका फीस कितना हुआ?


जब मैनेजर उसके पास आया तब मेकैनिक ने उसके हाथ में एक बिल दिया। बिल देखकर मैनेजर थोड़ा मुस्कुराया और अपने मालिक के पास जाकर उस बिल को दे दिया। जब मालिक ने उस बिल को देखा तो मालिक का दिमाग खराब हो गया। उसने मैनेजर से कहा कि ये भी कोई बिल है, इतना बड़ा बिल, किस चीज का?


उसने तो सिर्फ तीन हथौड़े ही मारी है और एक लाख रुपये का बिल बना दिया। मालिक ने मैनेजर से कहा कि हम उसे बिल्कुल एक लाख रुपये देंगे इसमें कोई बड़ी बात नहीं है, हम उसको पूरा एक लाख रुपये ही देंगे। लेकिन उसके पास जाइये और उससे लिखवा कर आइये कि ये इतना ज्यादा बिल किस चीज का है? उसने ऐसा क्या किया कि एक लाख रुपये का बिल हमें बनाकर दिया है।


वो मैनेजर उस मेकैनिक के पास पहुँचा और कहा कि हमारे मालिक ये जानना चाहते हैं कि आपने जो एक लाख रुपये का बिल दिया है ये किस चीज का है? आपने ऐसा क्या किया है हमें उसका पूरा डिटेल्स लिख कर दीजिए।


उस मेकैनिक ने एक और बिल बनाया और मैनेजर को दे दिया। उस बिल को देखकर मैनेजर के चेहरे पर मुस्कुराहट आ गयी। वो मैनेजर बिल लेकर मालिक के पास आया और उनको दे दिया। जब मालिक ने उस बिल को पढ़ा तो मालिक के भी चेहरे पर मुस्कान आ गयी। फिर उसने अपने मैनेजर को कहा कि ये एक लाख रुपये लो और जाकर उस मेकैनिक को देकर आओ। ये रुपये देने के बाद उसको वहाँ से बुलाते आना और उसको अपनी कम्पनी में जॉइनिंग दे दो क्योंकि अब वो यहीं काम करेगा।


Most Important Point Of This Short Motivational Stroy In Hindi For Success In Life


अब आपलोगों के मन में भी यहीं प्रश्न आ रहा होगा कि उस बिल में ऐसा लिखा क्या था कि उस मेकैनिक को एक लाख रुपये मिल गए और उसे कम्पनी में जॉइनिंग भी दे दी गयी।


आप ध्यान दीजिएगा कि उस मेकैनिक ने क्या कहा? उस बिल में लिखा था कि बीस रुपये हथौड़े मारने के और हथौड़े कहाँ पर मारने है उसके लिए 99980 रुपये। हथौड़े कोई भी मार सकता था लेकिन किसी को ये पता नहीं था कि हथौड़े मारने कहाँ पर है? उसी बात के लिए 99980 रुपये लिए गये।


हमेशा धयान रखिये कि आपके जीवन में डिग्री से ज्यादा महत्वपूर्ण चीज है आपका एक्सपीरियंस। अगर आपके पास डिग्रीयां बहुत है लेकिन एक्सपीरियंस नहीं है तो उस डिग्रियों का कोई मतलब नहीं रह जाता है। आपके उस पढ़ाई का कोई मतलब नहीं है।


वहीं पर अगर आपके पास डिग्रीयां नहीं है लेकिन अगर आपके पास किसी काम को करने का बहुत अच्छा एक्सपीरियंस है, बहुत समय से उस फील्ड में काम कर रहे हैं तो वाकई में आपकी जिंदगी आप संवार सकते हैं।


उम्मीद है कि आपको ये best motivational speech in hindi for success काफी पसंद आया होगा। आपको हमारी ये प्रेरणादायक हिंदी कहानी कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरूर बताएं।


ये भी पढ़ें:- भारत के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय।