Best Tips For English Speaking Practice At Home In Hindi

How can I practice english speaking conversation at home in hindi | English Speaking Practice in Hindi | How Can I Learn English At Home in Hindi

बिना अटके अंग्रेजी कैसे बोलें:- इसे समझने के लिए आपसे एक बात पूछना चाहता हूँ, क्या आपका दोस्त या फिर कोई ऐसा रिश्तेदार ऐसा है जिसे बात-बात पर गाली देने की आदत है।

 

जैसे- साले तूने अपनी शादी का पार्टी नहीं दिया, साला तुमने कार खरीदी और पार्टी भी नहीं दी, साला लगता है भगवान हमसे रूठा हुआ है। अगर ऐसे लोगों को सोते हुए नींद से भी जगाओगे तो वो कहेंगे- साला क्या बात है?

 

आपको ना तो गालियां स्कूल में पढ़ाई गयी और ना ही किताबों में आपने पढ़ा है, और ना ही आपको घर वाले ने गाली देना सिखाया है और ना ही आपने गाली देने के लिए कोई ट्यूशन पढा था फिर भी गलियों जैसी गैर जरूरी चीज आपके मुह पर चढ़ गई और इंग्लिश जैसी काम की चीज आपके पूरी कोशिश के बावजूद मुह से नहीं निकल पाती। इसका कोई तो कारण होगा।

 

आज मैं आपको इसका एक बड़ा कारण बताने वाला हूँ और साथ-साथ इसका solution भी बताऊंगा कि घर पर इंग्लिश बोलने का प्रैक्टिस कैसे करें पर इससे पहले आप मुझे बताओ कि आप अपनी भाषा में बात करते हुए क्यों नहीं अटकते?

 

English speaking practice topics at home in hindi

बहुत से लोगों का ये मानना है कि हम हिंदी में बिना अटके इसलिए बोल लेते हैं क्योंकि हम हिंदी में सोचते हैं और अगर इंग्लिश में सोचना शुरू कर देंगे तो इंग्लिश में भी बिना अटके बोल पाएंगे। पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता।

 

हमारा दिमाग निर्णय ले सकता है, किसी काम के बारे में सोच सकता है लेकिन उन बातों को हमारा जुबान बोलता है। इसीलिए तो हम अपनी भाषा को जुबान कहते हैं। लगभग सारे लोग इंग्लिश बहुत अच्छी लिख लेते हुए पर इसका मतलब ये तो नहीं जो अपने दिमाग से लिखता है उसकी जुबान बोल सकता है।

 

ये भी पढ़ें:- इन 5 तरीकों को अपनाकर हजारों लोग मात्र एक महीने में इंग्लिश बोलना सिख गए।

 

जो लोग बात-बात पर गाली देते हैं तो क्या वे लोग गाली देने से पहले सोचते हैं? क्या हर बात पर आपको कौन सी गाली देना है या फिर इस बात पर ये वाली गाली देनी है और इस बात पर ये वाली गाली देनी है क्या आप ऐसा कभी सोचते हैं?

 

शायद बिल्कुल नहीं! वो लोग बात-बात पर गाली इसलिए देते हैं क्योंकि गाली उनके मुह पर चढ़ी होती है सोच में नहीं। शायद अब आपको मुझे समझाने की बिल्कुल जरूरत नहीं है कि इंग्लिश बोलने के लिए ये जरूरी नहीं है कि आप इंग्लिश में सोचने की प्रैक्टिस करो। अगर आप ऐसा कर रहे हैं तो आप अपना time बर्बाद कर रहे हैं।

 

English Speaking Practice Conversation at Home In Hindi

 

आपको बिना अटके इंग्लिश कैसे बोलें ये मैं आपको बताता हूँ। पर उससे पहले मेरी और एक बात को ध्यानपूर्वक गौर कीजियेगा। ये जो आपको लगता है न कि आप हिंदी बिना अटके इसलिए बोल लेते हैं क्योंकि आप हिंदी में सोचते हैं तो ऐसा बिल्कुल नहीं है।

 

मैं आपके बारे में दो बाते बताता हूँ। एक आप दिन में जितनी भी बातें करते हैं उनमें से 90 प्रतिशत बातों में आपको सोचना नहीं पड़ता, आपके अंदर पहले से ये बात सेट हो चुकी है किस बात पर कौन सा बता बोलना है?

 

ये भी पढ़ें:- दैनिक जीवन में रोज बोले जाने वाले 100 इंग्लिश वाक्य जरूर जानें।

 

दूसरी बात, आप अपनी भाषा में जितनी भी बातें करते हैं वो भी लगभग सात-आठ सौ शब्द की ही बनी होती है। आप उन्ही शब्दो को जोड़ तोड़कर, उनको आगे पीछे करके अलग-अलग बातें बनाते जाते हैं।

 

अब आप कहेंगे कि ये क्या बात हुई ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है! पर आप गौर से ध्यान दीजिए ऐसा बिल्कुल है। तभी तो बहुत बार कोई पत्र या मैसेज पढ़कर हम कह देते हैं कि ये उसका लिखा हुआ नहीं हो सकता या फिर पका उसी का लिखा हुआ है।

 

हर इंसान की भाषा का एक अपना दायरा होता है और वो अपना हर बात उसी दायरे में रहकर करता है और इस दायरे में सिर्फ वहीं बात होते हैं जो आपके मुह पर चढ़े होते हैं। जो word आपके मुह पर नहीं चढ़े होते उन्हें आपको सोचना ही पड़ता है।

 

वहाँ आप अटकते ही हो चाहे वो आपकी भाषा ही क्यों न हो? मतलब जहाँ आपको सोचना होता है वहाँ आप अटकते ही हो। इसलिए इस बात को अपने दिमाग से निकाल दो कि आप अपनी भाषा में नहीं अटकते हैं और ये भी बात अपने दिमाग से निकाल दो कि आप पहले कोई भी बात सोचते हैं फिर बोलते हैं क्योंकि जहाँ भी सोचना होता है वहाँ हर इंसान अटकता है चाहे भाषा कोई भी क्यों न हो?

 

What are basics of the learn english speaking at home in hindi

 

अब आपको इसका पूरा solution बताते हैं। बहुत सारे लोग अपने किसी बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रैंड को प्यार से किसी और नाम से पुकारते हैं। जैसे- सोना, जानू, टीटू, स्वीटी। वो नाम हमारे मुह पर इस तरह चढ़ जाता है कि कई बार किसी दोस्त से बात करते हुए या फिर ऑफिस में किसी employee से बात करते हुए हमारे मुह से उसके लिए वो नाम निकल जाते हैं।

 

पर क्या ऐसा कभी होता है कि हमारे किसी दूर के रिश्तेदार का नाम हमारे मुह से निकल गया हो क्योंकि जो मुह पर चढ़ा हुआ है वहीं हमारे मुह से निकलेगा। इसी तरह से अगर आपसे पूछा जाए कि आपने खाना खा लिया तो जवाब में हाँ या ना बोलते हैं क्योंकि आपके मुह पर वहीं चढ़ा हुआ है। अगर हाँ की जगह बोलो yes और ना के जगह No बोलो तो ये भी आपके मुह पर चढ़ जाएगा।

 

ये भी पढ़ें:- फर्राटेदार इंग्लिश बोलना चाहते हैं तो इसको पढ़ना ना भूलें।

 

आप किसी को बोलते हैं कि मुझे भूख नहीं है। अगर इसके जगह बोलो ‘I am not hungry.’ और अगर हर बार यहीं बोलो तो ये भी आपके मुह पर चढ़ जाएगा।

 

अब आपके मन में ये सवाल आएगा कि ये words और sentences पहली बार कहीं से तो सीखना होगा। तो इसके लिए आप किसी book या dictionary का सहारा ले सकते हैं या फिर हम आपको रोज बोलचाल वाली word या sentences बताएंगे जो आपको सीखने और बोलने में काफी आसानी होगी।

 

आपको बस करना ये है कि उन words और sentences को अपने बातचीत में शामिल करना है। जब एक बार ऐसा करते-करते पता चल जाएगा कि बोतल को बॉटल(bottle) कहते हैं ढक्कन को कैप(cap) तो कितना मुश्किल है इसे हर बार bottle या cap कहना।

 

आप चाहो तो शुरू में खुद से sentences बनाने की कोशिश ना करें सिर्फ बने बनाये sentences ही मुह पर चढ़ा लो। जैसे-जैसे आप नए words सीखते जाएंगे आपको उन words को अपने sentences में शामिल करना आ जायेगा।

 

एक बात और कहना चाहूंगा कि आप इस गलतफहमी में बिल्कुल मत रहना कि एक बार यहाँ से सीख लिया और पढ़ लिया तो अपने आप english words मुह से निकलने लगेगा तो आप गलत है। इसके लिए आपको अपने मुह पर चढ़ाना होगा।

 

Spoken English conversation examples With hindi

 

मैं आपको इसका बहुत अच्छा उदाहरण देकर समझाता हूँ। आपने बहुत सारे ऐसे गाने सुने होंगे या फिर टीवी पर देखे होंगे। पर जब कभी उस गाना को आप गाने लगते हैं तो उस समय आपको उस गाना का पूरा बोल याद नहीं आता और आप लालालाला कहकर निपटा देते हैं।

 

वहीं कुछ songs ऐसे भी होते हैं जिनको आप रोज डाऊनलोड करके सुनते हैं और साथ में गुनगुनाते हैं और वो गाना अपकर मुह पर इस तरह चढ़ जाता है कि आप कुछ साल बाद भी नहीं भूल पाते हैं।

 

इसलिए इंग्लिश words और sentences सीखते जाएं, इंग्लिश news देखते और पढ़ते जाएं और इनको अपने मुह ओर चढ़ाते जाएं। बस अगर आप इतना करते हैं तो आप ये सोच भी नहीं सकते हैं कि आपकी इंग्लिश कितनी अच्छी हो चुकी होगी।

 

कुछ लोगों की ये problem होती है कि वे इंग्लिश बोल तो सकते हैं लेकिन किसी से बात करते समय नर्वस हो जाते हैं और बोलते समय अटकने लगते हैं। इसके लिए हम आपको अगले पोस्ट में बहुत ही अच्छा इंग्लिश बोलने का tips & tricks बताएंगे जो आपको बहुत हेल्प करेगी। इसलिए आप हमारे साथ हमेशा बने रहिये। हम आपको सही दिशा निर्देश देते रहेंगे।

 

Conclusion:- अगर आप इन सब बातों को नियमित रूप से बस कुछ दिनों तक पालन करेंगे तो आपका इंग्लिश बोलने का fluency बहुत हद तक बढ़ जाएगा और आप घर पर ही अच्छा इंग्लिश बोलना सीख सकते हैं।

 

अगर आपको हमारा best tips for english speaking practice at home in hindi अच्छा लगा हो तो इसको जरूर कीजिये। साथ ही अगर आपको घर पर इंग्लिश बोलना कैसे सीखें से सम्बंधित कोई भी सवाल हो हमसे कमेंट करके जरूर पूछें। हम आपके सहयोग के लिए सदा आभारी रहेंगे।

Share this article on

Leave a Comment