Biography लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Biography लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जागृति अवस्थी का जीवन परिचय | Jagriti Awasthi UPSC Biography

जागृति अवस्थी का जीवन परिचय | Jagriti Awasthi UPSC Biography

Jagriti Awasthi UPSC Biography, Wikipedia, Success Story In Hindi | जागृति अवस्थी की जीवनी


दोस्तों, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि यूपीएससी 2020 का रिजल्ट 24 सितम्बर को जारी कर दिया गया है। इस परीक्षा ने किसी को रातों-रात स्टार बना दिया तो किसी को और मेहनत करने के लिए प्रेरित किया।


लेकिन इसी परीक्षा में एक रिजल्ट ऐसा भी आया जिसने न सिर्फ पूरे देश में अपना नाम कमाया बल्कि सारी लड़कियों की प्रेरणास्रोत बन गयी।


हम बात कर रहे हैं यूपीएससी में पूरे भारत में दूसरा स्थान और महिलाओं में पहला स्थान हासिल करने वाली जागृति अवस्थी के बारे में। इनकी सफलता आज सभी के लिए मिशाल बन गयी।


लेकिन क्या आप जानते पूरे देश में यूपीएससी में दूसरे नम्बर पर रहने वाली जागृति अवस्थी कौन है, इनके सफलता का राज क्या है? अगर आप भी जागृति अवस्थी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस article को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।


जागृति अवस्थी कौन है | Who Is Jagriti Awasthi IAS In Hindi


यूपीएससी में पूरे देश में अपने नाम का परचम लहराने वाली जागृति अवस्थी मध्यप्रदेश की रहने वाली है। जागृति ने यूपीएससी 2020 में परीक्षा में पूरे देश में दूसरा स्थान हासिल कर न सिर्फ मध्यप्रदेश का नाम रोशन किया है बल्कि लाखों लड़कियों की प्रेरणास्रोत बन गयी है। जागृति यूपीएससी की परीक्षा पास करने से पहले पहले भेल में नौकरी करती थी।


जागृति अवस्थी की शिक्षा | Jagriti Awasthi Educational Qualification


जागृति ने 2017 में मौलाना आजाद नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MANIT) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में B.Tech की डिग्री हासिल की है। बीटेक करने के बाद इन्होंने मध्यप्रदेश भोपाल में ही Bharat Heavy Electrical Limited (भेल) में नौकरी करती थी।


जागृति अवस्थी आईएएस का परिवार


इनके पिता SC Awasthi एक होम्योपैथी डॉक्टर है और भाई सुयश अवस्थी MBBS के सेकंड ईयर के स्टूडेंट है। जागृति का कहना है कि इनके इस सफलता में परिवार का बहुत बड़ा हाथ है। इनके सपोर्ट के बिना कुछ भी सम्भव नहीं था। परिवार में सब मेरी हौसला अफजाई करते रहते थे। इसलिए मेरी का सफलता का सारा श्रेय मेरे परिवार को जाता है।


जागृति अवस्थी का जीवन परिचय | Jagriti Awasthi Biography,Wiki, Age, Rank, Date Of Birth

Jagriti awasthi biography in hindi, who is jagriti awasthi
Jagriti Awasthi Biography In Hindi

पूरा नाम: जागृति अवस्थी
निकनेम: जागृति
जन्म/ Date Of Birth: 1997
जन्मस्थान: भोपाल, मध्यप्रदेश
उम्र/ Age: 24 वर्ष
हाइट/ Height: 5 फ़ीट 2 इंच
धर्म/ Religion: हिन्दू
रोल नम्बर: 0415262
पढ़ाई का माध्यम: इंग्लिश मीडियम
एजुकेशन: B.Tech (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग)
वैकल्पिक विषय: समाजशास्त्र
प्रोफेशन: सिविल सर्विस (आईएएस)
रैंक: AIR-2
नेट वर्थ: N/A
राष्ट्रियता: भारतीय
पिता का नाम: एसएस अवस्थी
माता का नाम: N/A
भाई का नाम: सुयश अवस्थी


जागृति अवस्थी का करियर | Jagriti Awasthi IAS Success Story In Hindi


जागृति बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई में काफी तेज थी। इनके पढ़ाई में रुचि को देखते हुए परिवार ने इनको काफी सपोर्ट किया। यूपीएससी की परीक्षा पास करने से पहले 2017 में मौलाना आजाद नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की है।


बीटेक करने के बाद इन्होंने भोपाल में भेल में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के रूप में काम करने लगी। लेकिन इनके मन में तो कुछ और करने की चाहत थी। काम करने के दौरान इनको एहसास हुआ कि मैं इस काम के लिए नहीं बनी हूँ। मैं लोगों के बीच जाकर उनकी समस्याओं को दूर करने के लिए बनी हूँ।


अपने इसी सोच के साथ जागृति ने भेल की नौकरी छोड़ सिविल सर्विस की तैयारी करने लगे। एक बार यूपीएससी क्लियर करने का ऐसा जुनून सवार हुआ कि पूरे देश में दूसरा और महिलाओं में पूरे भारत में टॉप करके इतिहास रच दिया।


जागृति शुरू से ही अपने लक्ष्य को लेकर काफी सजग रहती थी। वे हर काम में जी जान लगाकर मेहनत करती थी। उन्हें अपनी मेहनत का बड़ा फल मिला है। UPSC का रिजल्ट जारी होने के बाद से ही उन्हें बधाइयां मिलनी भी शुरू हो गई हैं।


मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इनको ट्वीट कर बधाई दी और कहा कि आपने हमारे प्रदेश का नाम रोशन किया है। हम आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।


आपको बता दें कि इससे पहले 2019 में इन्होंने  पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दिया था। लेकिन इसमें उनको सफलता नहीं मिली। जिसके बाद जागृति ने और कड़ी मेहनत करते हुए 2020 में दूसरी बार प्रयास किया।


नतीजा ये हुआ कि पूरे देश में दूसरा स्थान हासिल कर अपने हुनर का परिचय दिया। इन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में समाजशास्त्र को चुना था। महिलाओं की श्रेणी में जागृति की पूरे देश में पहली रैंक आई है।


रिजल्ट आने के बाद दिए साक्षात्कार में इनके पिता ने बताया कि "मुझे अपनी बेटी और गर्व है। जिसने पूरे भारत मे दूसरा स्थान हासिल किया है। हमें उम्मीद थी कि वह इस बार जरूर परीक्षा पास करेगी, लेकिन इतना रैंक हासिल करेगी ये उम्मीद नहीं थी।


इन्होंने ये भी बताया कि जब वह BHEL में नौकरी करती थी तो मुझसे एक दिन कहा कि UPSC की परीक्षा देना चाहती हूं। जिसके बाद मैंने कहा कि नौकरी छोड़ने से पहले देख लो। फिर भी अगर तुम करना चाहती हो तो जरूर करो। मैंने अपनी बेटी को रात को सहमति दी और उसने सुबह ही BHEL की नौकरी रिजाइन कर दिया था।"


इन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास करके अपने फैसले को सही साबित कर दिया। अभी जागृति के गांव और प्रदेश में खुशी का माहौल है। सब इनके सफलता और जश्न मना रहे हैं।


हमें उम्मीद है कि आपको जागृति अवस्थी की जीवनी काफी पसंद आई होगी। अगर आपको Jagriti Awasthi Biography In Hindi पसन्द आया हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।

ये भी पढ़ें:-

UPSC टॉपर शुभम कुमार का जीवन परिचय।

प्रसिद्ध महिला आईएएस डॉ तनु जैन का जीवन परिचय।

Shubham Kumar Biography | शुभम कुमार आईएएस का जीवन परिचय

Shubham Kumar Biography | शुभम कुमार आईएएस का जीवन परिचय

शुभम कुमार की जीवनी | Shubham Kumar UPSC Topper Biography Wikipedia, Rank In Hindi


दोस्तों, सभी को अपने जीवन में कुछ ऐसा मुकाम हासिल करने का सपना होता है, जिसकी शोर हर जगह सुनाई दे। अगर ये सपना upsc एग्जाम क्रैक करने का हो तो इससे बड़ी और क्या बात हो सकती है?


बिहार के एक छोटे से शहर से निकला एक लड़का कुछ ऐसा कारनामा कर दिया जिसकी सफलता की गूंज पूरे देश को सुनाई दिया। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन हो सकता है?


हम बात कर रहे हैं बिहार के ऐसे होनहार लड़के के बारे में जिसने UPSC टॉपर बनकर न सिर्फ अपनी पहचान पुरे देश में बनाई, बल्कि अपने सफलता से लाखों युवाओं के लिए आदर्श बन गए।


ऐसा कारनामा करने वाले हैं यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार। लेकिन क्या आप जानते हैं उनके सफलता के पीछे कितनी मेहनत लगी होगी, उनके पढ़ाई करने का क्या तरीका होगा, लोग उनसे क्या सीख सकते हैं? आखिर कौन है upsc टॉपर शुभम कुमार?


अगर आप भी शुभम कुमार से जुड़ी इन सभी बातों के बारे में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ियेगा। आपको यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार के जीवनी के बारे में पूरी विस्तार से जानकारी मिलेगी।


UPSC टॉपर शुभम कुमार कौन है | Who Is Shubham Kumar In Hindi


दोस्तों, यूपीएससी की परीक्षा में पूरे देश में पहला स्थान (AIR 1) पाने वाले शुभम कुमार बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले हैं। इससे पहले वे आईआईटी मुंबई के पूर्व छात्र रह चुके हैं। इन्होंने UPSC में टॉप करके न सिर्फ अपने प्रदेश का नाम रोशन किया है, बल्कि लाखों युवाओं के प्रेरणास्त्रोत बन गए हैं।


इस शानदार उपलब्धि पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और नीतीश कुमार ने भी शुभम को ट्वीट कर बधाई दी और अग्रिम भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी।


शुभम कुमार की शिक्षा | Shubham Gupta IAS educational Qualification


UPSC में आल इंडिया रैंक (AIR) 1 पाने वाले शुभम ने 10th विद्या विहार आवासीय विद्यालय पूर्णिया से की है। जिसके बाद 12th की पढ़ाई चिन्मय विद्यालय बोकारो (Chinmaya Vidyalaya Bokaro) की है।


12वीं की पढ़ाई करने के बाद शुभम मुम्बई आ गए। जहाँ इन्होंने 2018 में आईआईटी मुंबई से बीटेक की डिग्री हासिल की है। इन्होंने आइआइटी मुंबई से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री हासिल किया था।


शुभम कुमार UPSC टॉपर का परिवार (Family)


शुभम के परिवार में इनके अलावा इनके पिता, माता, एक बहन, चाचा और चाची रहती है। इनके पिता उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक में कार्यरत हैं। इनका पूरा परिवार अभी गांव में ही रहता है और शुभम अभी पुणे में है।


ये भी पढ़ें: ● आईपीएल लाइव कैसे देखें फ्री में?

टी20 वर्ल्ड कप 2021 का शेड्यूल, टाइम टेबल।


UPSC Topper Shubham Kumar Biography, Wikipedia, Bio, Age, Rank

Shubham kumar upsc topper biography in hindi, upsc topper shubham kumar
Shubham Kumar Biography in Hindi

पूरा नाम: शुभम कुमार

निकनेम: शुभम

जन्म/ Date Of Birth: 1997

जन्मस्थान: कुम्हारी गांव, जिला-कटिहार, बिहार

होमटाउन: कटिहार

उम्र/ Age: 24 वर्ष

हाइट: 5 फ़ीट 9 इंच

वजन/ Weight: 68किलोग्राम

धर्म/ Religion: हिन्दू

नेट वर्थ: N/A

एजुकेशन: बीटेक आईआईटी मुंबई

प्रोफेशन: सिविल सर्विस

UPSC रैंक: 1

रोल नम्बर: 1519294

वैकल्पिक विषय/ Optional Subject: एंथ्रोपोलॉजी

वाइफ नाम: अविवाहित

पिता का नाम: देवानंद

माता का नाम: पूूूनम देवी

राष्ट्रियता: भारतीय


Shubham Kumar Success Story In Hindi


सिविल सर्विस में जाने से पहले शुभम संयुक्त राज्य अमेरिका में एक शोधकर्ता के रूप में काम कर चुके हैं। लेकिन काम करने के दौरान इनको एहसास हुआ कि जीतना मेहनत दूसरे देश के लिए कर रहा हूँ उतना मेहनत अपने देश के लोगों के सेवा के लिए करूँ तो ज्यादा बेहतर होगा।


अपने इसी सोच के साथ ये अमेरिका से वापस भारत आ गए और सिविल सर्विस की तैयारी करने लगे। 


आपको बता दें कि शुभम का सिविल सर्विसेज में उनका यह तीसरा प्रयास है। इससे पहले वे 2018 में परीक्षा दिए थे लेकिन तब वो इसमें पास नहीं हो पाए थे। जिसके बाद शुभम ने हार मानने के बजाय और कड़ी मेहनत की और 2019 में दुबारा परीक्षा दिए।


इनमें इनका रैंक 290 आया। रैंक के अनुसार इनको इंडियन डिफेंस एकाउंट सर्विसेज मिला। जिसके बाद वे ट्रेनिंग करने पुणे चले गए। लेकिन इन्होंने हिम्मत नहीं हारी और मेहनत जारी रखा।


जिसके बाद 2020 में तीसरी बार यूपीएससी की परीक्षा दिया। जिसके बाद तो जो हुआ वो इतिहास बन गया। शुभम ने जो सोचा भी नहीं था वो हो गया। इन्होंने पूरे देश में टॉप करके ये दिखा दिया कि अगर हिम्मत नहीं हारा जाए तो हर लक्ष्य को पाना मुश्किल नहीं है।


रिजल्ट जारी होने के बाद से ही शुभम को शुभकामनाओं के सिलसिला शुरू हो गया है। इनके इस शानदार सफलता पर ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने कुमार को उनकी सफलता पर बधाई दी है। इसके अलावा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुभम को बधाई देते हुए कहा कि हमें आप पर गर्व है। हम आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।


सिविल सर्विस में सेलेक्शन होने के बाद शुभम ने दिए इंटरव्यू में बताया कि वह ग्रामीण भारत के विकास के लिए काम करना चाहते हैं। अगर मुझे बिहार कैडर मिला तो अति प्रसन्ता होगी।


Shubham Kumar Strategy In Hindi


शुभम ने दिए साक्षात्कार में बताया कि दुनिया की कोई भी परीक्षा क्यों न हो उसे पास करने का कोई शॉर्टकट तरीका नहीं है। खास करके यूपीएससी की परीक्षा पास करने के लिए आपको मन लगाकर मेहनत करनी ही होगी।


अगर आप कुछ दिन तक लगातार मेहनत करते रहें तो आपको सफलता जरूर मिलेगी। साथ ही ये भी कहा कि हमें छोटी हार से हार नहीं मानना चाहिए, बल्कि उसका डंटकर सामना करना चाहिए और मेहनत करते रहना चाहिए।


हमें उम्मीद है कि आपको यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार की जीवनी काफी पसंद आई होगी। अगर आपको शुभम कुमार के बारे में ये जानकारी पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।


FAQ About Shubham Kumar UPSC Topper


Q1. यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार कहाँ के रहने वाले हैं?

Ans: कटिहार, बिहार

Q2. शुभम कुमार आईएएस का गांव कहाँ है?

Ans: कुम्हारी कटिहार

Q3. शुभम कुमार ने कितना तक पढ़ाई किया है?

Ans: बीटेक, आईआईटी मुंबई

Q4. शुभम कुमार यूपीएससी टॉपर का रैंक कितना है?

Ans: AIR-1

Q5. शुभम ने कितने प्रयास में यूपीएससी टॉप किया है?

Ans: तीसरे प्रयास में।


ये भी पढ़ें:-

AIR 2 जागृति अवस्थी का जीवन परिचय।

चर्चित आईएएस अधिकारी डॉ तनु जैन का जीवन परिचय।

खूबसूरत आईपीएस अधिकारी पूजा यादव का जीवन परिचय।

धाकड़ महिला आईएएस रोहिणी सिंधुरी का जीवन परिचय।

पटना वाले खान सर का जीवन परिचय।

नए वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी का जीवन परिचय | VR Chaudhari Biography

नए वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी का जीवन परिचय | VR Chaudhari Biography

एयर मार्शल वीआर चौधरी का जीवन परिचय | VR Chaudhari Biography Wikipedia In Hindi


आज हम जिस शख्स के बारे में जानने वाले हैं उनके कंधे पर न सिर्फ अपना महत्वपूर्ण पद संभालने की जिम्मेदारी होगी, बल्कि देश की सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने की भी बड़ी जिम्मेदारी होगी।


जी हम बात कर रहे हैं भारत के नए वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी के बारे में। आखिर वीआर चौधरी कौन है जिनको देश के इतने बड़े पद पर तैनात किया गया है? अगर आप भी वीआर चौधरी की जीवनी के बारे में एक-एक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस article को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।


इस पोस्ट में आपको भारत के नए वायुसेना प्रमुख V.R. Chaudhari के जीवन से जुड़े हर एक तथ्य को बताया जाएगा। तो आइए V.R. Chaudhari Biography In Hindi के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


एयर मार्शल वीआर चौधरी कौन है | Who Is VR Chaudhari In Hindi


वीआर चौधरी को इसी वर्ष जून 2021 में पूर्व एयर मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा के बाद इंडियन एयरफोर्स का वाईस चीफ नियुक्त किया गया था। चौधरी जी एयर मार्शल बनने से पहले उन्होंने भारतीय वायुसेना के Western Air Command (WAC के कमांडर-इन-चीफ के रूप में कार्य किया था। आपको बता दें कि यह क्षेत्र सुरक्षा के दृष्टि से लद्दाख के साथ-साथ उत्तर भारत के कई हिस्सों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।


अति संवेदनशील क्षेत्र में भी इनके विशिष्ट कार्य को देखते हुए भारत सरकार ने वीआर चौधरी को देश के 27वें वायुसेना प्रमुख (Air Force Chief) के रूप में नियुक्त कर दिया है। वर्तमान में एयर मार्शल चौधरी वायुसेना के उप प्रमुख के पद पर तैनात हैं।


आपको बता दें कि 30 सितंबर 2021 को वर्तमान वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया के सेवानिवृत्ति के बाद वीआर चौधरी देश के 27वें एयर चीफ का कमान संभालेंगे। इनकी गिनती देश के तेज तर्रार वायुसेना अफसरों में होती है।


इन्होंने इतने ऊंचे पद पर पहुँचने से पहले भारतीय वायुसेना में कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवा दे चुके हैं। एयर मार्शल चौधरी जी ने इससे पहले एक फ्रंटलाइन फाइटर स्क्वाड्रन के कमांडिंग ऑफिसर और फ्रंटलाइन फाइटर बेस का कमान भी सफलतापूर्वक संभाल चुके हैं।


V.R. Chaudhari Educational Qualification | वीआर चौधरी की शिक्षा


इन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई BHEL Higher Secondary School, Ramachandrapuram, Hyderabad से पूरी की है। इसके बाद चौधरी ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (NDA) से शिक्षा हासिल की है। इन्होंने डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज से भी स्नातक भी किया है।


Vivek Ram (VR) Chaudhari Family | वीआर चौधरी का परिवार


भारतीय वायुसेना के नए प्रमुख वीआर चौधरी के पत्नी का नाम नीता चौधरी है। इनके दो बेटे भी है।


ये भी पढ़ें:-● सीबीआई चीफ सुबोध कुमार जायसवाल का जीवन परिचय।

● पटना वाले खान सर का जीवन परिचय।

युवा नेता राघव चड्ढा का जीवन परिचय।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय।


वीआर चौधरी की जीवनी | VR Chaudhari Air Marshal Bio, Wiki, Personal Details, Age, Net Worth

Vr chaudhari biography in hindi, who is vr chaudhari
VR Chaudhari Biography in Hindi

पूरा नाम: विवेक राम चौधरी
निकनेम: वीआर. चौधरी
जन्म/ Date Of Birth: 1964-65
जन्मस्थान: N/A
होमटाउन: N/A
उम्र/ Age: 57 वर्ष
प्रोफेशन: भारतीय वायुसेना
पद/ Rank: एयर मार्शल, 45वें उप वायुसेना प्रमुख
सेवा का वर्ष: 29 दिसंबर 1982
यूनिट: 28 स्क्वाड्रन
सर्विस नम्बर: 16978
नेट वर्थ: N/A
राष्ट्रियता: भारतीय


वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी का करियर | Air Marshal VR Chaudhari Success Story In Hindi


एयर मार्शल चौधरी को 29 दिसंबर 1982 को भारतीय वायुसेना की फाइटर स्क्वाड्रन में शामिल किया गया था। अपने 38 वर्षों के विशिष्ट करियर में चौधरी ने भारतीय वायुसेना के अलग-अलग तरह के लड़ाकू विमानों को उड़ाए हैं।


जिनमें मिग-21, मिग-23 एमएफ, मिग 29 और सुखोई-30 एमकेआई जैसे लड़ाकू विमानों को चलाने का अनुभव प्राप्त है। इस दौरान इन्होंने 3800 से भी अधिक घंटे फाइटर प्लेन के उड़ान में बिताए हैं।


इन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान वायु सेना के कुछ बेहद अहम मिशन का हिस्‍सा रहे हैं। इनमें मुख्य रूप से ऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन सफेद सागर शामिल हैं।


एयर मार्शल चौधरी 1984 में पाकिस्तान के खिलाफ चले मेघदूत ऑपेरशन का हिस्सा थे। इसके अलावा 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान ऑपरेशन सफेद सागर में वायुसेना ने अहम भूमिका निभाई थी। वायुसेना के इस ऑपरेशन में वीआर चौधरी की बहुत बड़ी भूमिका रही थी।


विवेक राम चौधरी को इसके अलावा कई अलावा कई पदों पर भी काम करने का अनुभव प्राप्त है। ये मिग-29 स्क्वाड्रन की कमान, फॉरवर्ड बेस की कमान और इसके बाद वायु सेना स्टेशन पुणे की कमान सहित कई चुनौती भरी फील्ड पोजिशन में काम कर चुके हैं।


इन सबके अलावा DSCC वेलिंगटन के साथ-साथ लुसाका, जाम्बिया में DSCSC प्रशिक्षक के रूप में भी इनको काम करने का अनुभव प्राप्त है। चौधरी एयर फोर्स स्टेशन श्रीनगर में Cheif Operation Officer का पद संभाल चुके हैं।


एयर मार्शल विवेक राम चौधरी इसके अलावा असिस्‍टेंट चीफ ऑफ एयर स्‍टाफ (Personal Officer), वायु सेना मुख्यालय, वायु सेना भवन, नई दिल्ली में उप वायु सेनाध्यक्ष के रूप में भी अपनी सेवा दे चुके हैं।


इसके बाद वीआर चौधरी ने अक्टूबर 2019 से जुलाई 2020 तक पूर्वी वायु कमान के सीनियर एयर स्‍टाफ ऑफिसर के रूप में भी काम कर चुके हैं। राफेल डील में भी इनकी बड़ी भूमिका रही है।


इतने प्रमुख पदों पर काम करने बाद 30 सितंबर 2021 को एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया के रिटायर हो जाने के बाद विवेक राम चौधरी देश के 27वें वायुसेना प्रमुख का पद संभालेंगे।


V.R. Chaudhari Honours & Awards


एयर मार्शल वीआर चौधरी को वायुसेना में असीमित योगदान देने के लिए के 2004 में वायु सेना मेडल, 2015 में अति विशिष्ट सेवा पदक और 2021 में परम विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया जा चुका है।


हमें उम्मीद है कि आपको भारत के होने वाले नए वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी की जीवनी काफी पसंद आयी होगी। अगर आपको VR Chaudhari Biography In Hindi पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।

ये भी पढ़ें:-

आईपीएल मैच कैसे देखें फ्री में?

साईं पल्लवी की love story मूवी रिव्यु।

न्यूज़ रिपोर्टर मनीष कश्यप का जीवन परिचय।

प्रधानमंत्री एजुकेशन लोन कैसे लें?

बजाज फाइनेंस से पर्सनल लोन कैसे लें?

Manish Kashyap Biography In Hindi | मनीष कश्यप की जीवनी

Manish Kashyap Biography In Hindi | मनीष कश्यप की जीवनी

मनीष कश्यप का जीवन परिचय | Manish Kashyap Biography Wikipedia, News Channel, Contact Number In Hindi


दोस्तों, आज हम आपको बिहार एक ऐसे चर्चित चेहरे के बारे में बताने वाले हैं, जिनको लोग उनके अच्छे व्यक्तित्व और ईमानदारी से भ्रष्टाचार के खिलाफ जोरदार आवाज उठाने के चलते 'Son Of Bihar' के नाम से जानने लगे हैं।


इन्होंने अपने निडर पत्रकारिता से न सिर्फ पूरे बिहार में बल्कि पूरे देश के लोगों के बीच अपनी खास पहचान बनाई है। इन्होंने लोगों के समस्याओं को न सिर्फ निडर होकर सबके सामने लाते हैं, बल्कि प्रशासनिक अधिकारियों के भ्रष्टाचार को उजागर कर उनका सच सबके सामने लाते हैं।


इनके इसी सच्ची रिर्पोटिंग के चलते आज इनका नाम बिहार के सबसे चर्चित न्यूज़ रिपोर्टर के रूप में होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि निडर न्यूज़ रिपोर्टर मनीष कश्यप कौन है, जिन्होंने भ्रष्ट अधिकारियों के नाक में दम कर रखा है?


अगर नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ियेगा, यहाँ आपको मनीष कश्यप की जीवनी के बारे में ऐसी-ऐसी जानकारी देंगे जिसे जानकर हैरान रह जाएंगे। तो आइए बिना देर किए manish kashyap biography in hindi के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं


मनीष कश्यप कौन है | Who Is Manish Kashyap In Hindi


मनीष कश्यप वर्तमान समय में बिहार में हो रहे धांधली और भ्रष्टाचार की जानकारी बहुत ही निडर होकर लोगों के सामने लाते रहते हैं। जिसके चलते लोग उनको Son Of Bihar के नाम से भी जानने लगे हैं।


इनके निष्पक्ष रिपोर्टिंग के वजह से लोग इनसे बहुत प्यार करते हैं। मनीष कश्यप बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के बहुत ही छोटे से गांव डुमरी महनवा के रहने वाले हैं और फिलहाल "Sach Tak News" चैनल के मालिक है। बूढ़ी गंडक नदी से घिरा होने के वजह से इनका गांव हर साल बाढ़ के चपेट में आकर तबाह हो जाता है।


लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों के लापरवाही के वजह से यहाँ लोगों को कोई भी सुविधा नहीं मिल पाती है।


इससे तंग आकर मनीष ने सरकार और प्रशासन के इस रवैये के खिलाफ आवाज उठाने की सोची और सब कुछ छोड़कर पत्रकारिता करने लगे और लोगों के समस्याओं को बेखौफ होकर सबके सामने लाते रहते हैं। इन्होंने अपना बुलंद आवाज और बेखौफ रिपोर्टिंग से पूरे भारत में पहचान बनाई हुई है।


Manish Kashyap (Son Of Bihar) Biography, Wiki, News Channel, Age, Date Of Birth

Manish kashyap biography in hindi, manish kashyap wiki
Manish Kashyap Biography In Hindi

पूरा नाम: त्रिपुरारी कुमार तिवारी उर्फ मनीष कश्यप

निकनेम: मनीष कश्यप उर्फ son of bihar

जन्म/ Date Of Birth: 9 मार्च 1988

जन्मस्थान: डुमरी महनवा, पश्चिमी चंपारण (बिहार)

होमटाउन: पश्चिम चंपारण

उम्र/ Age: 33 वर्ष

हाइट: 5 फिट 8 इंच

प्रोफेशन: सिविल इंजीनियर और न्यूज रिपोर्टर

न्यूज चैनल नाम: Sach Tak News

पॉपुलर होने का कारण: निडर पत्रकारिता

जाति/ Caste: ब्राह्मण

धर्म/ Religion: हिन्दू

वैवाहिक स्थिति: अविवाहित

गर्लफ्रैंड: N/A

राष्ट्रियता: भारतीय


मनीष कश्यप का परिवार ( Family)


मनीष कश्यप के पिता का नाम उदित कुमार तिवारी है, जो वर्तमान में भारतीय सेना में कार्यरत हैं। इनकी  माता गृहणी है और इनका एक भाई भी है। जिनकी शादी हो चुकी है। इन्होंने अभी तक शादी नहीं की है। शादी के बारे में पूछे जाने पर इनका कहना है कि मुझे शादी नहीं करना है, क्योंकि हम जैसे क्रांतिकारी को कोई बेटी क्यों देगा?


मनीष कश्यप की शिक्षा | Manish Kashyap Educational Qualification


आपको बता दें कि मनीष बचपन से पढ़ाई में काफी रुचि रखते थे। इनकी गिनती शुरू से ही होनहार बच्चों में होती है। इन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई गांव के ही एक स्कूल से प्राप्त की है। वर्ष 2007 में हाई स्कूल की शिक्षा प्राप्त करने के बाद इन्होंने 2009 में 12वीं की परीक्षा पास की।


इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वे महाराष्ट्र आ गए। जहाँ वे सावित्रीबाई फुले यूनिवर्सिटी पुणे से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। पढ़ाई पूरी करने के बाद इनको लगा कि वे किसी कम्पनी में नौकरी करने के लिए नहीं बने हैं। वे लोगों की समस्याओं को दूर करने के लिए पैदा हुए हैं।


अपनी इसी सोच के साथ वे पुणे से वापस बिहार आ गए और पत्रकारिता को ही अपना पेशा बना लिया, ताकि वे लोगों के आवाज को बुलंद होकर उठा सके।


मनीष कश्यप का करियर | Manish Kashyap Sach Tak News Success Story In Hindi


मनीष कश्यप ने 'सच तक न्यूज़' के माध्यम से लोगों के समस्याओं को सबके सामने लाने और प्रशासनिक अधिकारियों के भ्रष्टाचार को सबके सामने उजागर करने के लिए 13 जुलाई 2018 को यूट्यूब पर अपना चैनल शुरू किया था।


अपने बेखौफ और निडर रिपोर्टिंग के वजह से शुरू हुआ ये चैनल देखते ही देखते लोगों की पहली पसंद बन गया। इनके बेबाक अंदाज में बोलने के तरीके से लोग इनके न्यूज़ को देखना काफी पसंद करते हैं।


ये बिना डरे प्रशासनिक अधिकारियों के काले करतूत को समाज के सामने लाते हैं और लोगों को हो रही दिक्कतों को प्रशासन के सामने रखते हैं।


आज इसी छवि के बदौलत इनके वीडियो पर मिलियंस में व्यूज आते हैं और इनके यूट्यूब चैनल पर 8.8 लाख से भी अधिक सब्सक्राइबर है। हम उम्मीद करते हैं कि मनीष जी अपना ये काम आगे भी ऐसे ही जारी रखेंगे।


मनीष कश्यप और खान सर का सम्बंध


दोस्तों, बहुत सारे लोग मनीष जी के निडर और ईमानदार होने के चलते इनकी तुलना पटना के बेस्ट शिक्षक खान सर से करने लगे हैं। लोग कह रहे हैं कि न्यूज़ में मनीष कश्यप और एजुकेशन में खान सर की कोई सानी नहीं है।


मनीष जी भी खान सर के बारे में कहते हैं कि- मैं भले ही खान नहीं हूँ, लेकिन मैं इस खान की बहुत इज्जत करता हूँ। ये सच भी है कि ये दोनों अपने-अपने क्षेत्र के महारथी है।

खान सर की पूरी जीवनी यहाँ पढ़ें।


मनीष कश्यप का राजनीतिक करियर


मनीष कश्यप ने पत्रकारिता के अलावा 2020 में बिहार में हुए विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत चमकाने के लिए चुनावी मैदान में उतरे। उन्होंने चनपटिया विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया।


इनके चुनाव में उतरने को लेकर कुछ विवाद भी हुआ था। लेकिन मनीष जी ने इन सब बातों पर ध्यान न देते हुए जनता के भलाई के लिए चुनावी समर में मजबूती से कदम रखा।


चुनाव के समय दाखिल हलफनामे में इन्होंने बताया था कि इनके खिलाफ Y कैटेगरी के 6 आपराधिक मामले दर्ज है। इनका चुनावी घोषणा पत्र पूरे बिहार में सबसे अधिक चर्चा का कारण बना था। इन्होंने अपने घोषणापत्र में कोर्ट से एफिडेविट कराकर शपथ पत्र जारी किया था।


इस शपथ पत्र में लिखा था कि मेरे द्वारा किये गए वादे अगर पूरा करने में असफल रहा तो जनता मुझपर मुकदमा कर सकती है। लेकिन इतने ईमानदार छवि होने के बावजूद इनको चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था।


इस चुनाव में इनको महज 9239 कम वोट मिले थे। इसके बावजूद मनीष जी बिना किसी संकोच के जनता के भलाई के लिए लगातार मेहनत करते रहे हैं।


हाल ही में वे अयोध्या में राम मंदिर बनने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की। इन्होंने कहा कि इनके बदौलत ही आज अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है। मैं इनका आभारी हूँ।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय।


मनीष कश्यप के साथ हुआ विवाद


अक्सर जो लोग ईमानदारी के साथ कोई काम करते हैं, लोगों का मदद करते हैं उनका नाम किसी न किसी विवाद से जरूर जोड़ दिया जाता है।


इनके साथ भी ऐसा ही होता है। निडर होकर सरकार और उनके प्रशासन का सच बताने के लिए लोग उन पर दबंगई और जबरदस्ती करने का आरोप लगाते हैं। कई लोग कहते हैं कि वे कैमरा के आड़ में अधिकारियों से बदतमीजी करते हैं।


हाल ही में SMA Type 1 नामक विशेष बीमारी से पीड़ित बिहार के पटना के एक छोटे से बच्चे आयांश के लिए अपने न्यूज़ चैनल के माध्यम से लोगों को सहायता करने के लिए प्रेरित करने के लिए लोग उनपर तरह-तरह इल्जाम लगा रहे हैं।


दरअसल में इस बीमारी के लिए 16 करोड़ रुपये का का एक इंजेक्शन लगता है। लेकिन आयांश के माता-पिता के पास आयांश के इलाज के लिए इतने पैसे नहीं है। जिसके कारण वे लोगों से मदद करने की अपील कर रहे हैं।


यहीं बात मनीष जी ने अपने न्यूज़ के माध्यम से लोगों को कहीं जिसके बाद लोग उनको आयांश के नाम पैसा ठगी करने का आरोप लगा रहे हैं। जिसके बाद मनीष जी ने सबके सामने आकर इन आरोपों को निराधार बताया और कहा कि जो लोग किसी का मदद नहीं कर सकते हैं वहीं लोग इस तरह के बेबुनियाद आरोप किसी पर लगाते हैं।


मनीष कश्यप (सच तक न्यूज) नेट वर्थ


मनीष कश्यप ने 2020 में हुए विधानसभा चुनाव में दिए जानकारी के अनुसार इनके पास चल सम्पति 15 लाख 70 हजार, अचल संपत्ति 25 लाख की है। तथा कुल आय 4 लाख 90 हजार रुपये हैं।


Manish Kashyap (Sach Tak News) Contact Mobile Number Bihar


दोस्तों अगर आप मनीष जी से जुड़ना चाहते हैं या फिर बात करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए गए कई सारे माध्यम से उनसे जुड़ सकते हैं।

Mobile Number: 9709920218
Email ID: manishkasyap99@gmail.com
Youtube Channel: https://youtube.com/c/SACHTAKNEWS
Facebook Page: https://www.facebook.com/SachTaknews/


हमें पूरी उम्मीद है कि आपको मनीष कश्यप उर्फ Son Of Bihar की जीवनी काफी पसंद आई होगी। अगर आपको manish kashyap biography in hindi पसंद आया हो तो इनके बारे में पूरी जानकारी हर लोगों के पास पहुचाने के लिए इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।

ये भी पढ़ें:-

आईपीएल मैच फ्री में कैसे देखें?

आईपीएल 2021 के सभी टीम के खिलाड़ियों की सूची।

युवा नेता राघव चड्ढा का जीवन परिचय।

यूट्यूब सनसनी सेजल कुमार का जीवन परिचय।

सुखजिंदर रंधावा कौन है जिनको पंजाब का उपमुख्यमंत्री बनाया गया है?

सुखजिंदर रंधावा कौन है जिनको पंजाब का उपमुख्यमंत्री बनाया गया है?

सुखजिंदर रंधावा का जीवन परिचय | Punjab New Deputy CM Sukhjinder Singh Randhawa Biography Wikipedia In Hindi


दोस्तों, जब से पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दिया है तब से ही कांग्रेस में इस पड़ के लिए घमासान शुरू हो चुका था। पंजाब कांग्रेस सहित पुरे देश के लोग ये जानने को बेताब थे कि आखिर पंजाब का अगला मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री कौन होगा?


आपको बता दें कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और नवजोत सिंह सिधु के बीच हुए मतभेद इतना बढ़ गया था कि आखिरकार कैप्टेन अमरिंदर सिंह को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया था। इनके इस्तीफे के बाद सियासी घटनाक्रम काफी गर्म हो गया था कि पंजाब का अगला मुख्यमंत्री नवजोत सिंह सिधु ही होंगे।


लेकिन कैप्टेन अमरिंदर ने पार्टी आलाकमान के सामने ये साफ कर दिया था कि नवजोत सिंह सिंधु को मुख्यमंत्री बनाये जाने के लिए वो काफी विरोध करेंगे और पार्टी को इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी।


जिसके कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के आलाकमान ने नवजोत सिंह सिधु को पंजाब का सीएम नहीं बनाने का फैसला किया। जिसके बाद पार्टी में और तमाम लोगों में ये जानने की दिलचस्पी बढ़ गयी थी कि आखिर पंजाब का अगला मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री कौन होगा?


इन सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए कांग्रेस की कोर कमेटी ने पंजाब के सीएम पद के लिए ऐसे उम्मीदवार का नाम तय किया जिसने सभी लोगों को चौंका दिया और हो भी क्यों नहीं तमाम अटकलों के बीच आखिरकार पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद के लिए सुखजिंदर सिंह रंधावा को चुना गया।


लेकिन क्या आप जानते हैं कि पंजाब के नए उपमुख्यमंत्री  सुखजिंदर सिंह रंधावा कौन है? आखिर पार्टी में इतने बड़े नाम होने के बावजूद इनको ही क्यों चुना गया, इनके पूरी जीवनी क्या है?


तो अगर आप भी सुखजिंदर सिंह रंधावा की जीवनी के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस article को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।


सुखजिंदर सिंह रंधावा कौन है | Who Is Sukhjinder Singh Randhawa In Hindi

Sukhjinder singh randhawa biography in hindi, who is sukhjinder singh randhawa
Sukhjinder Randhawa Biography

सुखजिंदर रंधावा को अब पंजाब का नया उपमुख्यमंत्री मुख्यमंत्री बनाया गया है। उपमुख्यमंत्री बनने से पहले वे पंजाब कांग्रेस के वे बड़े नेता थे। सुखजिंदर जी डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र से विधायक है और पंजाब विधानसभा के सदस्य हैं।


उपमुख्यमंत्री बनने से पहले वे पंजाब राज्य के कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। इसके अलावा वो जो जेल और सहकारिता विभाग संभाल रहे हैं।


उनको पूर्व सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह का काफी करीबी माना जाता है। ऐसे कयास लगाए जा रहे थे अमरिंदर सिंह के दबाव में इनको मुख्यमंत्री बनाया जाना था, लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू को करीबी चरनजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया गया और रंधावा जी को उपमुख्यमंत्री बनाया गया।


Sukhjinder Singh Randhawa Biography,Wiki, Age,Profession, Religion


पूरा नाम: सुखजिंदर रंधावा

निकनेम: रंधावा

जन्म/ Date Of Birth: 25 अप्रैल 1959

जन्मस्थान: धरोवाली गांव, गुरदासपुर, पंजाब

उम्र/ Age: 62 वर्ष

हाइट/ Height: N/A

धर्म (Religion): सिख

प्रोफेशन: पॉलिटिशियन

राजनीतिक दल: कांग्रेस

विधानसभा क्षेत्र: डेरा बाबा नानक, गुरदासपुर

पद: विधायक, उपमुख्यमंत्री पंजाब

फोन नम्बर: N/A

राष्ट्रियता: भारतीय


सुखजिंदर सिंह रंधावा का परिवार (Family)


पिता का नाम: संतोख सिंह रंधावा

माता का नाम: N/A

वाइफ (Wife Name): श्रीमती जतिंदर कौर रंधावा

Son Name: N/A

Children: एक पुत्र और दो पुत्रियां


Sukhjinder Singh Randhawa Educational Qualification | सुखजिंदर सिंह रंधावा की शिक्षा


पंजाब के नए उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर जी ने मैट्रिक की पढ़ाई वर्ष 1975 में चंडीगढ़ के सरकारी स्कूल से प्राप्त की है।


सुखजिंदर सिंह रंधावा का राजनीतिक करियर | Sukhjindar Randhawa Political Career In Hindi


उपमुख्यमंत्री रंधावा ने राजनीति में पहली बार वर्ष अकाली दल के निर्मल सिंह को फतेहगढ़ चुरियन विधानसभा क्षेत्र से हराकर सफलतापूर्वक पांव रखा था। जिसके बाद पुनः 2012 में, वह नए निर्वाचन क्षेत्र डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े यहां भी उन्होंने जीत हासिल की।

आपको बता दें कि रंधावा जी उन 42 कांग्रेस विधायकों में से एक थे, जिन्होंने "सतलुज-यमुना लिंक" जल नहर को असंवैधानिक रूप से समाप्त करने के भारत के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के विरोध में अपना इस्तीफा सौंप दिया था।


आपको बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री पद के लिए सोनिया गांधी ने अम्बिका सोनी को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन अम्बिका ने ये कहते हुए इस पद के लिए मना कर दिया था कि पंजाब का अगला मुख्यमंत्री कोई सिख समुदाय का ही होना चाहिए।


जिसके बाद फिर से पार्टी ने दोबारा मुख्यमंत्री पद के लिए विचार किया और चरनजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया और सुखजिंदर रंधावा को पंजाब का नया उपमुख्यमंत्री बनाया गया। उपमुख्यमंत्री पद के लिए चुने पर उन्होंने पूर्व सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह को बधाई दी और कहा कि वे मेरे पिता समान है।


हमें उम्मीद है कि आपको पंजाब के नए उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर रंधावा की जीवनी के बारे में बताई गई पूरी जानकारी काफी पसंद आया होगा। अगर आपको सुखजिंदर रंधावा के बारे जानकर अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।