Translate

career लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
career लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Top 100 SSC CHSL GK Questions In Hindi 2021

Top 100 SSC CHSL GK Questions In Hindi 2021

Top 100 SSC CHSL GK Questions And Answer In Hindi PDF 2021 | SSC CHSL में पूछे जाने वाले प्रश्न


दोस्तों आज हम ssc chsl 2021 में पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण 100 gk questions और answer के बारे में जानेंगे। इस आर्टिकल में हमने आपके लिए कुल चार मॉडल सेट तैयार किये हैं जिसके मदद से आपका परीक्षा पास करना बहुत ही आसान हो जाएगा।


अगर आप इन सवालों के जवाब आप एक बार अच्छे से याद कर लेंगे तो यकीन कीजिये आपका काम बहुत ही आसान हो जाएगा।


प्राप्त जानकारी के अनुसार ssc chal exam date 2021 की लिखित परीक्षा 4 अगस्त से 12 अगस्त के बीच में आयोजित हो सकता है।


इसलिए इतने कम समय में परीक्षा की तैयारी करना बहुत जरूरी हो जाता है। तो आइए बहुत ही कम समय में परीक्षा की तैयारी करने के लिए इन 100 important ssc chsl gk questions in hindi 2021 को याद कर लीजिए।


1 to 25 SSC CHSL GK Questions In Hindi | एसएससी सामान्य ज्ञान इन हिंदी

ssc chal gk questions in hindi 2021, ssc question paper in hindi
SSC CHSL GK Questions In Hindi

1. 'The Hindus: An Alternative History' नामक पुस्तक किस लेखक के द्वारा लिखी गयी है?
Ans: वेंडी डोनिगर (Wendy Doniger)
2. अर्थशास्त्र का जनक किसे कहा जाता है?
Ans: ऐडम स्मिथ।
3. भारत में पहला परमाणु विस्फोट किस जगह हुआ था?
Ans: पोखरण (राजस्थान)
4. जवाहर रोजगार योजना किस पंचवर्षीय योजना में शुरू हुआ था?"
Ans: 7वीं।
5. पूंजी बाजार किससे सम्बंधित है?
Ans: दीर्घकालिक फंड।
6. भारत में नई कृषि नीति किस वर्ष लागू हुआ था?
Ans: 1966 ई.
7. ब्रांडेड वस्तुओं की बिक्री किसी स्तिथि में आम होता है?
Ans: एकाधिकार बाजार स्तिथि
8. वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन को कब पराजित किया गया?
Ans: 1815 में
9. नेपाल की सबसे लंबी नदी कौन सी है?
Ans: करनाल नदी
10. चीन का अंतिम शाही राजवंश कौन सा था?
Ans: किंग राजवंश
11. भूटान का सबसे प्राचीन बैंक कौन सा है?
Ans: बैंक ऑफ भूटान लिमिटेड
12. किस देश के राष्ट्रीय ध्वज में एक गोल्डन शेर एक तलवार लिए हुए हैं?
Ans: श्रीलंका
13. श्रीलंका ने संविधान कब अपनाया था?
Ans: 1978 ई.
14. इयान बेल किस देश के खिलाड़ी है?
Ans: इंग्लैंड
15. 2007 टी-ट्वेंटी क्रिकेट वर्ल्ड कप में कौन सी टीम विजेता रही थी?
Ans: भारत
16. मौलिक अधिकार संविधान के किस भाग में है?
Ans: भाग-3 (आर्टिकल 12 से 15 तक)
17. जब क्षारीय धातु जल से अभिक्रिया करती है तो कौन सी गैस मुक्त होती है?
Ans: हाइड्रोजन गैस
18. इंटरनेशनल फाइनेंसियल सर्विस सेंटर ऑथोरिटी का मुख्यालय कहाँ पर स्थित है?
Ans: गांधीनगर, गुजरात
19. स्टेचू ऑफ यूनिटी गुजरात के किस जिले में स्थित है?
Ans: नर्मदा जिला
20. PNG किस फ़ाइल का प्रकार है?
Ans: इमेज
21. राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन का शुरुआत कब हुआ था?
Ans: 2011 में
22. क्योटो प्रोटोकॉल किस से सम्बंधित है?
Ans: ग्लोबल वार्मिंग
23. चश्मा बनाने के लिए कौन से ग्लास का उपयोग किया जाता है?
Ans: क्रुक्स ग्लास
24. कंप्यूटर के पिता किसे कहा जाता है?
Ans: चार्ल्स बैबेज
25. तेलुगु किस राज्य की आधिकारिक भाषा है?
Ans: आंध्रप्रदेश


26 to 50 SSC CHSL GK Questions In Hindi | SSC के परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्न


26. पौधे अपना भोजन उत्पादन करने के लिए ऊर्जा कहाँ से लेते है?
Ans: सूर्य के प्रकाश से।
27. भारतीय इतिहास के किस साम्राज्य को शासन का स्वर्ण युग कहा जाता है?
Ans: गुप्त साम्राज्य
28. जापान पर जो परमाणु बम गिराया गया था उसका का नाम क्या था?
Ans: लिटिल बॉय और फैट मैन
29. यूरोप में पुनर्जागरण की अवधि कब माना जाता है?
Ans: 14वीं-17वीं सदी
30. लोकसभा में विपक्ष का पहला नेता कौन थे?
Ans: ए के गोपालन
31. सायना नेहवाल द्वारा प्राप्त उच्चतम नागरिक सम्मान कौन सा है?
Ans: पदम् भूषण
32. मानव मूत्र का रंग पीला क्यों होता है?
Ans: युरोक्रोम
33. राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार को कब प्रकाशित किया गया?
Ans: 1973 के बाद।
34. पौधों को प्रोटीन कहाँ से प्राप्त होता है?
Ans: एमिनो एसिड
35. बिहू किस राज्य का लोकनृत्य है?
Ans: असम
36. मानव शरीर का कौन सा भाग बायोकैमिकल प्रयोगशाला के रूप में जाना जाता है?
Ans: लीवर
37. नीति आयोग का वर्तमान में चेयरमैन कौन है?
Ans: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
38. शिव थापा किससे सम्बंधित है?
Ans: बॉक्सिंग से
39. कपड़े पर जंग का दाग हटाने के लिए किसका प्रयोग किया जाता है?
Ans: ऑक्जेलिक एसिड
40. महात्मा गांधी के राजनीतिक गुरु कौन थे?
Ans: गोपाल कृष्ण गोखले
41. अजीम प्रेमजी द्वारा प्राप्त उच्चतम नागरिक सम्मान कौन सा है?
Ans: पदम् विभूषण
42. कोंकणी किस राज्य की आधिकारिक भाषा है?
Ans: गोआ
43. बंदीपुर राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में है?
Ans: कर्नाटक
44. लंदन किस देश की राजधानी है?
Ans: इंग्लैंड
45. अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की स्थापना किस वर्ष हुआ था?
Ans: 1998 ई.
46. 2016 में किस देश ने सुल्तान अजलन शाह कप पर कब्जा किया?
Ans: 2016 ई.
47. एनी बेसेंट के अलावा भारत में होमरूल एक्ट का शुभारंभ किसने किया?
Ans: बाल गंगाधर तिलक
48. प्रियंका चोपड़ा द्वारा प्राप्त उच्चतम नागरिक सम्मान कौन सा है?
Ans: पदम् श्री
49. नेलपॉलिश किसके द्वारा हटाया जाता है?
Ans: एसीटोन
50. भारतीय संविधान का 356 अनुच्छेद किससे सम्बंधित है?
Ans: राष्ट्रपति शासन से


ये भी पढ़ें:- ● भूवैज्ञानिक कैसे बनें?

महान बास्केटबॉल खिलाड़ी कैसे बनें?

सही करियर का चुनाव कैसे करें?


51 to 75 SSC CHSL GK Question Answer In Hindi


51. किस भारतीय अभिनेता को सर्वाधिक राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है?
Ans: शबाना आजमी
52. अमरूद का उत्पादन किस देश में सबसे अधिक होता है?
Ans: भारत
53. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की दूसरी महिला अध्यक्ष कौन थी?
Ans: सरोजिनी नायडू
54. दाचीगाम राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में स्थित है?
Ans: जम्मू कश्मीर
55. पाटलिपुत्र नगर किन-किन नदियों के संगम स्थल पर बना है?
Ans: गंगा नदी और सोन नदी
56. स्थाई बंदोबस्त किस वायसराय के समय में लागू हुआ था?
Ans: लार्ड कॉर्नवालिस
57. हड़प नीति को किसने अपनाया था?
Ans: लॉर्ड डलहौजी
58. मीन कैम्प पुस्तक के लेखक कौन थे?
Ans: एडोल्फ हिटलर
59. महमूद गजनवी ने भारत पर कितनी बार आक्रमण किया था?
Ans: 17 बार
60. लोकसभा में कोरम संख्या कितनी होती है?
Ans: 1/10
61. वर्तमान में लोकसभा के स्पीकर कौन है?
Ans: ओम बिरला
62. राष्ट्रीय पोषण संस्थान कहाँ स्थित है?
Ans: हैदराबाद
63. हर्षवर्धन ने अपनी दूसरी राजधानी किसे बनाया था?
Ans: कनौज
64. राष्ट्रीय खेल दिवस कब मनाया जाता है?
Ans: 29 अगस्त
65. बिक्री कर किस प्रकार का कर है?
Ans: अप्रत्यक्ष कर
66. भारत के उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति कौन करता है?
Ans: राष्ट्रपति
67. फोटोग्राफी में मुख्य रंग कौन-कौन से थे?
Ans: लाल, हरा और नीला
68. हवा का गति किस यन्त्र के द्वारा मापा जाता है?
Ans: एनिमोमिटर
69. हाइड्रोजन बम का आविष्कार किसने किया था?
Ans: एडवर्ड टेलर
70. हाइड्रोफोबिया नामक रोग किसके कारण होता है?
Ans: विषाणु
71. जीन शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम किसने किया था?
Ans: जोहांसन
72. मेढक के हृदय में कितने कक्ष होते हैं?
Ans: 3
73. लार किसके पाचन में सहायक होता है?
Ans: स्टॉर्च
74. तेलंगाना हाइकोर्ट की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश कौन है?
Ans: हिमा कोहली
75. भारत के किसी भी हाइकोर्ट की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश कौन थी?
Ans: नीला सेठ


75 to 100 SSC CHSL Previous Year GK Questions In Hindi | एसएससी CHSL पिछले वर्ष का प्रश्न पत्र


76. 'Pathway To God' पुस्तक के लेखक कौन है?
Ans: महात्मा गांधी
77. सरयू नदी के किनारे कौन सा शहर बसा हुआ है?
Ans: अयोध्या
78. लखनऊ किस नदी के किनारे स्थित है?
Ans: गोमती नदी
79. दूध में कौन सी सर्करा पायी जाती है?
Ans: लैक्टोज
80. किस ग्रह के सर्वाधिक उपग्रह है?
Ans: शनि ग्रह
81. किस ग्रह के कोई भी उपग्रह नहीं है?
Ans: बुध और शुक्र
82. ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा है?
Ans: लिनक्स (Linux)
83. रामकृष्ण मिशन की स्थापना कब हुई थी?
Ans: 1 मई 1897 ई.
84./रामकृष्ण परमहंस का असली नाम क्या है?
Ans: गदाधर चटोपाध्याय
85. चम्पारण सत्याग्रह कब हुआ था?
Ans: 1917 ई. में
86. जनवरी 2021 में किसे भारत का उप-चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है?
Ans: उमेश सिन्हा
87. काजू का उत्पादन किस मिट्टी के लिए उपयुक्त है?
Ans: हल्की बलुई दोमट मिट्टी
88. ध्वनि से भी तेज गति को क्या कहते हैं?
Ans: सुपरसोनिक
89. जनसंख्या नियंत्रण कानून भारत में सर्वप्रथम किस राज्य में किसके द्वारा लागू किया गया है?
Ans: उत्तर प्रदेश, योगी आदित्यनाथ
90. हाल ही में विश्व जैव ईंधन दिवस कब मनाया गया है?
Ans: 10 अगस्त
91. भारतीय गणतंत्र का प्रमुख कौन होता है?
Ans: राष्ट्रपति
92. भारतीय संविधान की कौन सी विशेष व्यवस्था इंग्लैंड से ली गई है?
Ans: संसदीय प्रणाली
93. श्वेत क्रांति का सम्बंध किससे है?
Ans: दुग्ध उत्पादन से
94. एयर इंडिया का मुख्यालय कहाँ पर स्थित है?
Ans: नई दिल्ली
95. भारत में सबसे बड़ी तेल शोधन कारखाना कहाँ पर स्थित है?
Ans: जामनगर, गुजरात
96. 1930 में पहली बार राष्ट्रमंडल खेल किस देश में आयोजित किया गया था?
Ans: कनाडा में
97. किस शास्त्रीय नृत्य में मुखौटा का प्रयोग किया जाता है?
Ans: कथककली नृत्य
98. खाद्य एवं कृषि संगठन का मुख्यालय कहाँ पर स्थित है?
Ans: रोम
99. किस देश की तटीय रेखा दुनिया में सबसे लंबी है?
Ans: कनाडा
100. स्टेचू ऑफ यूनिटी किससे सम्बंधित है?
Ans: सरदार वल्लभ भाई पटेल


SSC CHSL 2021 GK Questions PDF In Hindi Download


SSC GK Questions SET-1

SSC GK Questions SET-2

SSC GK Questions SET-3

SSC GK Questions SET-4

SSC GK Questions SET-5


दोस्तों हमें उम्मीद है कि आपको 100 ssc chsl gk questions in hindi काफी पसंद आया होगा और परीक्षा में आपकी काफी सहायता करेगा।


अगर आपको ये एसएससी सामान्य ज्ञान इन हिंदी 2021 स सम्बंधित ये article अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।

ये भी पढ़ें:-

खेल सम्बंधी सामान्य ज्ञान 2021

सरकारी डॉक्टर कैसे बनें?

SEO एक्सपर्ट कैसे बनें?

MIT में एडमिशन कैसे लें?


मार्शल आर्ट्स कैसे सीखें | Martial Arts Full Information In Hindi

मार्शल आर्ट्स कैसे सीखें | Martial Arts Full Information In Hindi

घर पर मार्शल आर्ट्स कराटे कैसे सीखें? How To Learn Martial Arts Online at Home In Hindi

How to learn martial arts at home In hindi, martial arts kaise sikhe
Martial Arts Kaise Sikhe

नमस्कार दोस्तों! अगर आपको बार-बार बेवजह कोई परेशान कर रहा है, कोई मारने की धमकी दे रहा है। लेकिन आपके पास न तो कोई ताकत है और न ही कोई हथियार। ऐसे समय में आप कोई ऐसा तरीका ढूंढ रहे हैं जिसकी मदद से आप खुद को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।


हम आपको ऐसे तरीके बताने वाले हैं जिससे आप खुद ही अपना सुरक्षा कर सकते हैं। इसके लिए आपको Martial Arts सीखने की जरूरत पड़ेगी। इसके सीखने से आप न केवल खुद को सेल्फ डिफेंस कर पायेंगे बल्कि काफी ताकतवर भी महसूस करेंगे।


अगर आप खुद को सुरक्षित रखने के लिए कुछ करना चाहते हैं, कुछ नया सीखना चाहते हैं तो आपके लिए Martial Arts सीखना बेहद जरूरी हो सकता है। इसे सीखने के लिए आपको किस चीज की जरूरत पड़ सकती है हम इसकी पूरी जानकारी जस article में देंगे।


ऐसे में अगर आप भी जानना चाहते हैं कि Martial Arts क्या है और इसे कैसे सीखें तो आप इस पोस्ट को जरूर पढ़िए।


मार्शल आर्ट्स क्या है? What Is Martial Arts In Hindi


दोस्तों! Martial Arts का अर्थ इसके दोनों शब्दों में ही छुपा हुआ है। जिसका मतलब होता है सैनिकों जैसा युद्ध कला। जिसका मुख्य उद्देश्य खुद को और दूसरों को शारीरिक रूप से रक्षा करना होता है।


इस युद्ध कला को Science और Art दोनों से काफी महत्व दिया है। इसमें आदमी को तय प्रैक्टिस की सहायता से खुद ही सुरक्षा रखने की ट्रेनिंग दी जाती है। Martial Arts आपको सेल्फ डिफेंस करने की कला प्रदान करता है।


Top 10 Martial Arts Skills In India


आइये अब भारत के 10 सबसे पॉपुलर मार्शल आर्ट्स के बारे में जानते हैं।


1. Kalaripayattu

2. Silambam

3. Thang-ta & Sarit Sarak

4. Thoda

5. Gatka

6. Embown Wrestling

7. Lathi

8. Kuttu Varisai

9. Mushtiyudh

10. Pari-Khanda


इतना जानने के बाद आइये दोस्तों अब Martial Arts के प्रकार के बारे में जानते हैं। ताकि आप मार्शल आर्ट्स के बारे में अच्छी तरह से जान सके।


ये भी पढ़ें:-● कोई भी नई भाषा कैसे सीखें?

घर बैठे SEO एक्सपर्ट कैसे बनें?


मार्शल आर्ट्स के कुछ पारम्परिक टाइप होते हैं तो कुछ आधुनिक। इस तरह मार्शल आर्ट्स को 6 श्रेणी में बांटा गया।


6 Types Of Martial Arts Around The World | मार्शल आर्ट्स के प्रकार


1. Striking or Stand Up Martial Art Style: इस मार्शल आर्ट स्टाइल में मुख्यतः बॉक्सिंग, कराटे, किक बॉक्सिंग, कुंग फू, मुई थाई, ताइक्वांडो इत्यादि शामिल होते हैं।


2. Grapping or Ground Fighting Styles: इस मार्शल आर्ट स्टाइल में मुख्यतः जुजुत्सु, केट रेसलिंग, सूमो, रेसलिंग इत्यादि शामिल होते हैं।


3. Throwing or Take Down Styles: मार्शल आर्ट के इस स्टाइल में मुख्यतः जुडो, हपकीडो इत्यादि शामिल होते हैं।


4. Weapons Based Styles: इस मार्शल आर्ट स्टाइल में मुख्यतः काली, केंडो इत्यादि शामिल होते हैं।


5. Low-Impact or Meditative Styles: इस मार्शल आर्ट स्टाइल में मुख्यतः हाइब्रिड फाइटिंग स्टाइल इत्यादि शामिल होते हैं।


6. Hybrid Fighting Styles: इस मार्शल आर्ट स्टाइल में मुख्यतः जूकेन्डो, शूट फाइटिंग इत्यादि शामिल होते हैं।


आपने अब तक ये तो जान लिया कि मार्शल आर्ट्स के कौन-कौन से प्रकार होते हैं लेकिन आइये अब जानते हैं कि मार्शल आर्ट्स सीखने के लाभ क्या होते हैं?


Benefits Of Martial Arts Self Defense Training In Hindi


1. मार्शल आर्ट्स सीखने से आपके अंदर आत्मविश्वास रहता है कि आप खूद को दूसरों से सुरक्षित महसूस करते हैं।


2. मार्शल आर्ट सीखना आपके तनाव को काफी हद तक कम कर सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इसे सीखते समय आपको सांस लेने पर कंट्रोल रखा जाता है और ध्यान लगाया जाता है तो इस पूरे प्रोसेस में तनाव से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा आप हमेशा पॉजिटिव महसूस करते हैं।


3. मार्शल आर्ट आपके शरीर को मजबूत करता है और हड्डियों का लचीलापन बढ़ता है, जिससे आप फुर्तीला रहते हैं।


4. इसे सीखते समय आपका कैलोरी बर्न होता है और आप स्वस्थ रहते हैं। जिससे आपको वजन कम करने में मदद मिलती है।


5. मार्शल आर्ट सीखने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है, जो आपके जीवन के हर क्षेत्र में काफी मददगार साबित होता है।


Martial Arts के लाभ जानने के बाद आइये दोस्तों अब भारत के टॉप मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग सेंटर के बारे में जानते हैं। जहाँ से आप अच्छी ट्रेनिंग ले सकते हैं।


ये भी पढ़ें:- सरकारी डॉक्टर कैसे बनें?


Top Martial Arts Training Centre In India


दोस्तों आइये हम आपको बताते हैं कि मार्शल आर्ट्स कराटे की ट्रेनिंग कहाँ से ले? अगर आपको नहीं पता है कि हमारे आसपास इसका ट्रेनिंग सेंटर कहाँ है और आपको सीखने की ललक है तो आप गूगल के माध्यम से Martial Arts Training Centre Near Me भी सर्च करके पता कर सकते हैं।


वैसे अगर आप ये  नहीं करना चाहते हैं तो हम आपको कुछ मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग सेंटर के बारे में बताते हैं जहाँ जाकर भी कराटे की ट्रेनिंग ले सकते हैं।


1. Shri Ram Martial Arts School Of India, Jaipur

2. Contact Combat India, New Delhi

3. Kalarikendram Noida, UP

4. Mixed Martial Arts MMA Classes, New Delhi

5. BJJ India, New Delhi

6. Shaolin Martial Art, Noida

7. Warrior's Cove Mixed Martial Arts, Gurugram

8. Ultimate Fitness & Combat Academy, New Delhi

9. Karate Mixed Martial Arts-MMA & Kik Boxing Classes,New Delhi


अगर आप इन जगहों पर जाकर मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग नहीं ले सकते हैं लेकिन आप इसे सीखना चाहते हैं तो हम आपको दुनिया के टॉप 10 मार्शल आर्ट्स यूट्यूब चैनल के बारे में बताते हैं जिसकी मदद से आप घर बैठे ऑनलाइन मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग ले सकते हैं।


Top 10 Martial Arts Youtube Channels


1. Master Wong

2. Kung Fu & Tai Chi Center w/ Jake Mace

3. MMAFightingonSBN

4. MartialClub

5. Vidyut Jammwal

6. Karate & Fitness Tutorials

7. The Modern Martial Artist

8. MAT K – Martial Arts

9. World of Martial Arts Television

10. My Martial Art


दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे मार्शल आर्ट सीखने के बाद क्या कोई जॉब भी मिल सकता है कि नहीं? तो आइए हम आपको बताते हैं Best Career Opportunities In Martial Arts In Hindi.


Best Career Options In Martial Arts In India Hindi


1. एक अच्छा मार्शल आर्टिस्ट है तो आपको मार्शल आर्ट्स ट्रेनिंग के तौर पर सरकारी नौकरी में जॉब आसानी से मिल सकता है।

2. आप किसी स्कूल या कॉलेज में ट्रेनिंग देने के लिए एक मार्शल आर्टिस्ट के रूप में जॉइन कर सकते हैं।

3. एक अच्छे मार्शल आर्टिस्ट को सुरक्षा एजेंसियों में जॉब मिल सकता है।

4. अगर आप एक अच्छे मार्शल आर्ट्स की जानकारी रखते हैं तो आप खुद का एक ट्रेनिंग सेंटर खोलकर अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

5. एक अच्छा मार्शल आर्टिस्ट फिल्म इंडस्ट्री में फाइटिंग सिन को करके अच्छा पैसा कमा सकता है।


Final Words Of How To Learn Martial Arts With Full Information In Hindi


दोस्तों अब तक आपने सीखा कि ऑनलाइन मार्शल आर्ट्स कैसे सीखें, सेंटर पर मार्शल आर्ट्स कैसे सीखें और इसकी अच्छी ट्रेनिंग आपको कहाँ-कहाँ मिल सकता है। इसके अलावा इसे सीखने के फायदे क्या है?


मार्शल आर्ट्स आपके जीवन को सही दिशा देने में भी अच्छी भूमिका निभाता है क्योंकि इसे सीखने से न केवल आप शारीरिक रूप से फिट रहेंगे बल्कि आप हमेशा किसी काम को लेकर फोकस और अनुशासित रहेंगे।


सेल्फ डिफेंस सीखने की ये कला आपको सही जीवन देने में भी काफी सहायक सिद्ध हो सकती है।


हमें उम्मीद है कि आपको मार्शल आर्ट्स से सम्बंधित ये जानकारी आपको काफी सहायता प्रदान करेगी। लेकिन अगर आपको Martial Arts कराटे कैसे सीखें से सम्बंधित और भी कोई जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे पूछ सकते हैं या फिर बताये गए यूट्यूब चैनल की सहायता ले सकते हैं धन्यवाद।


दोस्तों मार्शल आर्ट्स सीखने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होती है। बस अगर आपका शरीर फिट है और आपके अंदर सीखने का जुनून है तो आप मार्शल आर्ट्स सीख सकते हैं।


ये भी पढ़ें:-● महान बास्केटबॉल खिलाड़ी कैसे बनें?

भूवैज्ञानिक कैसे बनें?


New Language कैसे सीखें? 10 Ways To Learn New Language Fast

New Language कैसे सीखें? 10 Ways To Learn New Language Fast

नई भाषा जल्दी कैसे सीखें? How To Learn A New Language Fast at Home In Hindi

New language kaise sikhe in hindi, how to learn new language at home in hindi
New Language Kaise Sikhe

आज के समय में किसी काम के वजह से या फिर घूमने-फिरने के चलते हमें एक जगह से दूसरे जगह जाना पड़ता है। कभी अपने देश को छोड़कर किसी अन्य देश में जाना पड़ता है तो कभी एक राज्य से दूसरे राज्य में। इन सबमें अगर किसी को सबसे ज्यादा किसी चीज को लेकर दिक्कत होती है तो वो है वहाँ का भाषा समझना।


कुछ लोगों को नया भाषा सीखने का बहुत शौक होता है तो कई लोग करियर में बेहतर अवसर प्राप्त करने के लिए नई भाषा सीखना चाहते हैं। लेकिन नया भाषा सीखना सबके लिए इतना आसान नहीं होता है।


दोस्तों जो लोग नई भाषा को सीखना चाहते हैं उनको इस दौरान कई तरह के मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इसलिए कोई इंग्लिश सीखता है तो कोई फ्रेंच तो कोई और भाषा। इस aticle में आज हम जानेंगे कि कोई भी New Language कैसे सीखें?


चाहे कोई भी भाषा हो हम आपको बताएंगे कि नई किसी भाषा को सीखने के लिए सबसे पहले क्या सीखना होता है? तो अगर आपको आप भी जानना चाहते हैं कि नई भाषा बोलना कैसे सीखें तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए।


Basics Of Learning A New Language | 10 Tricks To Learn New Language Easily In Hindi


1. भाषा का चुनाव करें | Choose Your New Language

दोस्तों किसी भी नई भाषा को सीखने के लिए उसका चयन करना सबसे जरूरी होता है। इसलिए आप कौन सा भाषा सीखना चाहते हैं, उसका चयन करें। आप कौन सा भाषा किसलिए सीखना चाहते हैं, आपके लिए किसी भी भाषा को सीखने के लिए क्या जरूरी है ये जानना बहुत जरूरी है।


2. भाषा सीखने की प्रेरणा लें | Motivate To Learn New Language

किसी भी काम को करने से पहले ये तय करें कि आप उस काम को क्यों करना चाहते हैं क्योंकि जब तक किसी चीज की जरूरत नहीं होता है तब तक हम किसी काम को करते नहीं है। जब तक आपको भाषा सीखने का कोई प्रेरणा नहीं मिलेगा तब तक आप पूरी लगन से नहीं सीखेंगे।


अगर आप किसी भाषा में अपने बेहतर करियर को देख रहे हैं या फिर आप किसी दूसरे जगह रहना चाहते हैं, सेटल होना चाहते हैं या आप किसी को अपनी भाषा में समझना चाहते हैं तो आपको जरूर नई भाषा सीखनी पड़ेगी। इसलिए आपको नई भाषा सीखने के लिए हमेशा मोटीवेट रहना होगा।


3. नये साथी की तलाश करें | Learning A New Language App

दोस्तों जब कभी आपको नई भाषा सीखना हो तो एक नया दोस्त बन जाये तो क्या कहना। आप किसी को भी दोस्त बना सकते हैं जो उस भाषा में एक्सपर्ट हो चाहे आपके रिश्तेदार हो या कोई दूर का साथी। ऐसा इसलिए क्योंकि वही दोस्त नई भाषा आपका काफी हेल्प करेगा।


किसी भी भाषा को सीखने के लिए उस भाषा में बातचीत करना काफी जरूरी होता है। ऐसा करने से आप ये समझ पाते हैं कि किस सेंटेंस को कब और कैसे बोलना चाहिए? जब तक आप उस भाषा में बोलने का अभ्यास नहीं करेंगे तब तक आपको कोई बात अच्छी तरीके से दिमाग में नहीं बैठ सकता।


ये भी पढ़ें:- ● How To Learn Professional English For Best Career?

रोज बोले जाने वाले 100 हिंदी इंग्लिश वाक्य।


बार-बार उस नई भाषा को बोलते रहने से एक समय ऐसा आएगा जब आप बिल्कुल आसानी से उस भाषा में बोल सकेंगे। आप किसी ऐसे दोस्त की तलाश करें जो या तो उस नई भाषा को सिख रहे हैं या फिर उसको बोलना जानते हो।


अगर आप किसी दोस्त को नहीं ढूंढ पा रहे हैं तो कई सारे ऐसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जिसका आप सहायता ले सकते हैं। जैसे Duolingo ऐसा app है जिसकी मदद आप कोई भी भाषा सीखने में मदद ले सकते हैं। यहाँ पर आपको हर तरह लोग मिल जाएंगे जो उस नई भाषा को सीखना चाहते हैं, उनसे आप आसानी बात कर सकते हैं।


4. खुद से बात करें | Talk Yourself

अगर आप कोई दोस्त नहीं बना पा रहे हैं या फिर किसी app से ऑनलाइन नहीं जुड़ सकते हैं तो कोई बात नहीं आप अकेले ही नई भाषा बोलना सीख सकते हैं।


जी हाँ आप बिल्कुल सही पढ़ रहे हैं। जब भी आपको टाइम मिले आप खुद से ही उस भाषा में बात करें। जब आपके आसपास ऐसे लोग नहीं रहते हैं तो आपके लिए ये तरीका काफी मददगार साबित हो सकता है।


अगर आप पहली बार टूटी-फूटी भाषा को किसी के सामने बोलने से शर्मा रहे हैं तो ये तरीका आपके लिए सबसे बेस्ट है। जब भी आप खुद से बोलने का प्रैक्टिस करेंगे तो आपको उनके शब्दों के बारे में पता चलेगा। फिर जब भी आप किसी के सामने उस नई भाषा को बोलेंगे तो आपको किसी प्रकार के हिचकिचाहट का सामना नहीं करना पड़ेगा।


5. छोटे-छोटे शब्दों से शुरुआत करें।

जब भी आप किसी नए भाषा को सीखने का शुरुआत करें तो ये तरीका बेस्ट स्टेप हो सकता है। शुरुआती दिनों में बड़े वाक्य बोलने के बजाय छोटे शब्दों से बोलने अभ्यास शुरू करें।


कुछ चुनिंदा शब्दों को ही शुरू में बोलने की कोशिश करें और फिर उनको लोगों के साथ बोलें। धीरे-धीरे आपका कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ते जाएगा और फिर आप बड़े वाक्यों को आसानी से बोलने लगेंगे।


6. नई भाषा को अपने लाइफस्टाइल में शामिल करें।

किसी भी नई भाषा को जल्दी सीखने के लिए उसको अपनी लाइफस्टाइल का हिस्सा बना लें। इसका मतलब है कि आप जब भी कुछ बोलना चाहे उसी नई भाषा में बोलने की कोशिश करें। उसी भाषा में अपनी पसंद की फिल्में देखना और गाने सुनना आपके इस नई भाषा जल्दी सीखने में काफी मददगार साबित होगा।


7. गलतियों से डरे नहीं।

किसी भी आदमी को शुरू में नई भाषा में बात करना आसान नहीं होता है। शुरू में आपको बोलने में गलती हो सकती है लेकिन आप उन गलतियों से डरे नहीं क्योंकि ऐसा सबके साथ होता है।


आप किसी अच्छे आदमी के सामने भाषा में बात करते समय कोई गलती भी करेंगे तो आपकी सहायता करेगा और आपकी सराहना करेगा कि आप सीखने की कोशिश कर रहे हैं। आप जितना अधिक बोलने का अभ्यास करेंगे आप धीरे-धीरे गलतियां करना बंद कर देंगे।


8. बच्चों की तरह सीखने की चाह रखें।

इसका मतलब ये हुआ कि जब भी कोई बच्चा कुछ सीखना चाहता है तो वो पूरी लगन से सीखता है, ठीक उसी तरह आप भी करें। आप बच्चों की तरह गलतियों पर सोचने के बजाय सिर्फ बोलने पर ध्यान दें।


आपका कोई भी नई भाषा बोलते रहना आपके कॉन्फिडेंस को बढ़ाता है। इसलिए एक छोटे बच्चे की तरह बिना किसी लाज शर्म के बोलते रहें।


9. अपने कंफर्ट जोन से बाहर निकलें।

आप जीवन में एक बात हमेशा याद रखिये जब तक आप अपने कम्फर्ट जोन से बाहर नहीं निकलेंगे तब तक आप सफल नहीं हो सकते हैं। ठीक उसी तरह नई भाषा सीखते समय आप ये सोच लें कि मुझे बस किसी तरह बोलना सीखना है।


कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपको वो भाषा कितना आता है कि नहीं आता है। बस आप उस नई भाषा में किसी दूसरों से बात करना शुरु कर दें। आपकी ये आदत आपको काफी सफल बना सकती है।


10. अधिक सुनने पर ध्यान दें।

दोस्तों आपको किसी भी भाषा को सीखने के लिए सबसे पहले सुनने पर ध्यान देना चाहिए। आपने महसूस किया होगा कि किसी भी भाषा को पहली बार सुनने पर काफी अजीब लगता होगा। लेकिन धीरे-धीरे कुछ समय तक सुनने के बाद सब सामान्य हो जाता है।


बार-बार उस भाषा को सुनने के बाद काफी बात असर ही समझ जाते हैं कि सामने वाला क्या कहना चाहता है। इसलिए नई भाषा सीखते समय सुनने पर भी काफी जोर दें और फिर उनको बोलने का अभ्यास करें।


Learning A New Language Benefits In Hindi


दोस्तों अगर आपके अंदर नई भाषा सीखने का स्किल है तो आज के समय में आपको जल्दी जॉब मिलने से कोई नहीं रोक सकता है। New Language सीखने का लाभ आपको तब मिलेगा जब आप किसी दूसरे जगह पर शिफ्ट हो, कॉल सेंटर में जॉब ढूंढने जाएं, किसी दूसरे देश में जॉब करने जाए।


इन सभी जगहों पर वैसे ही लोगों को जॉब में ज्यादा तवज्जों दी जाती है, जिनको स्थानीय भाषा का ज्ञान हो। ऐसे लोगों को जॉब में प्रोमोशन भी जल्दी मिलता है।


दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि New Language जल्दी कैसे सीखें से सम्बंधित ये जानकारी आपको काजी पसन्द आयी होगी। लेकिन अगर आपको नई भाषा कैसे सीखें से जुड़ी और भी किसी प्रकार की जानकारी प्राप्त करनी हो तो आप जरूर कमेंट करके पूछ सकते हैं धन्यवाद।


ये भी पढ़ें:● बच्चों के साथ रोज बोले जाने वाले 100 इंग्लिश वाक्य।

4 Amazing Tips: How To Improve Speaking English?

Doctor कैसे बनें?


SEO Expert Kaise Bane In 2021 - Full Information In Hindi

SEO Expert Kaise Bane In 2021 - Full Information In Hindi

2021 में SEO Expert कैसे बनें | How To Become SEO Expert In 2021 Hindi

SEO Expert kaise bane in hindi, how to become seo expert in hindi
SEO Expert Kaise Bane

आज के समय में वहीं बिजनेस के सफल होने की गारंटी दी जाती है जो ऑनलाइन उपलब्ध हो। इसका सबसे बड़ा उदाहरण कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन में हुए नुकसान आपने खुद ही देख लिया है। ये बात उतना ही सच है क्योंकि कोई भी ऑनलाइन बिजनेस डिजिटल मार्केटिंग के सहायता के बिना संभव नहीं है।


इस ऑनलाइन बिजनेस को सही तरीके से चलाने और ज्यादा मुनाफा कमाने का सबसे बड़ा स्त्रोत SEO होता है। चाहे आपका यूट्यूब चैनल हो या आपका ब्लॉग वेबसाइट। इन सबको रैंकिंग में पहले नम्बर पर लाने के लिए हो या किसी डिजिटल मार्केटिंग कम्पनी में SEO से सम्बंधित कोई जॉब हो सभी के लिए SEO Expert का होना बहुत जरूरी है।


पर आपको अच्छी तरह से पता होना चाहिए कि seo एक्सपर्ट होना आसान नहीं है। लेकिन अगर आप सच में seo expert बनना चाहते हैं तो आपको ये article पूरा जरूर पढ़नी चाहिए क्योंकि हम आपको बताने वाले हैं कि आप SEO Expert कैसे बनें और आपको seo expert बनने के लिए क्या करना होगा?


Table Of Contents:

SEO क्या होता है?

Search Engine क्या होता है?

Search Engine कैसे काम करता है?

Keyword Research क्या होता है?

Link Building क्या होता है?

● SEO करने के कितने तरीके होते हैं?

Youtube Search कैसे काम करता है?

SEM क्या होता है?

SEO Expert बनने के लिए जरूरी बातें

SEO Expert बनने के फायदे

SEO Expert Salary in India


SEO क्या होता है और कैसे काम करता है? Importance Of SEO In Hindi


SEO Expert कैसे बनें जानने से पहले ये जानना सबसे जरूरी है कि seo क्या होता है? तो आइए सबसे पहले SEO के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


Search Engine Optimization (SEO) बहुत से ऐसे टूल्स और आपके प्रयास का ऐसा मिश्रण है जो आपके वेबसाइट या चैनल को search engine में पहले स्थान पर लाने में सबसे ज्यादा मदद करता है। जिससे आपके वेबसाइट या चैनल पर ज्यादा से ज्यादा ऑर्गेनिक ट्रैफिक लाने में मदद करता है।


जब आपके साइट पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक आता है तो आपका बिजनेस बहुत तेजी से आगे बढ़ता है और आप अधिक मुनाफा कमा पाते हैं। अब तो आपको समझ में आ गया होगा कि ऑनलाइन बिजनेस के लिए SEO का क्या महत्व है?


Search Engine क्या होता है? What Is Search Engine In Hindi


अभी आपके दिमाग मे चल रहा होगा कि अब ये Search Engine क्या होता है? तो आपको बता दें कि Search Engine उस Website को कहते हैं जिसके माध्यम से यूजर्स किसी इंटरनेट पर मौजूद कंटेंट को सर्च करते हैं और उसके बारे में जानकारी हासिल करते हैं।

जैसे:- Google, Bing, Yahoo और Yandex.


SEO Expert बनकर आप अपने वेबसाइट या चैनल की रैंकिंग बढ़ा सकते हैं लेकिन आपको पहले ये तय करना होगा कि आप SEO Expert बनना चाहते हैं या SEO Professional. क्योंकि इन दोनों में खास अंतर होता है।


SEO Expert का काम होता है कि उसको पता है कि SEO कैसे काम करता है और SEO की सहायता से किसी वेबसाइट या चैनल को सर्च इंजन में कैसे पहले नम्बर पर लाना है? जबकि SEO Professional का काम ये है कि seo expert का काम प्रोफेशन की तरह करता है। जिसमें seo consulting, seo services और projects पर क्लाइंट से डील करना शामिल होता है।


अब आप अच्छी तरह समझ गए होंगे कि एक SEO Expert और SEO Professional में क्या अंतर होता है? इतना सब जानने के बाद क्या आपको पता है कि सर्च इंजन कैसे काम करता है? अगर नहीं पता है तो कोई बात नहीं, हम आपकी पूरी सहायता करेंगे।


Search Engine कैसे काम करता है?


SEO पूरी तरह से सर्च इंजन पर ही निर्भर रहता है। इसलिए आपको ये बात जानना बहुत जरूरी है कि Search Engine कैसे काम करता है? इस बात को चलिए बिल्कुल आसान भाषा में समझाते हैं।


क्या आपको पता है कि दुनिया का सबसे बड़ा लाइब्रेरी गूगल सर्च इंजन का है? जिसने दुनिया भर के लाखों वेब पेज को व्यवस्थित ढंग से रखा है। फिर जब आपको किसी चीज के जानकारी की जरूरत पड़ती है तो आप गूगल पर अपने queries लिख कर सर्च करते हैं।


फिर गूगल आपके सर्च से सम्बंधित सबसे अच्छी जानकारी को अपने पास व्यवस्थित डेटा में से निकालकर आपके सामने प्रस्तुत कर देता है। ये पूरा प्रोसेस ऑनलाइन होता है। इसलिए इस काम को पूरा होने में तीन प्रोसेस से होकर गुजरना पड़ता है।

1. Crawling
2. Indexing
3. Ranking


Crawling सर्च इंजन के उस प्रोसेस को कहते हैं जिसके माध्यम से सर्च इंजन के web crawler जिन्हें bots या spider कहा जाता है वे कंटेंट को खोजने का काम करते हैं। फिर Indexing में अलग-अलग कंटेंट को एक साथ जोड़कर organize किया जाता है और फिर बहुत ही कम समय में यूजर के सर्च रिजल्ट में डेटा show कर दिया जाता है। इस process को पूरा होने में सर्च इंजन को काफी कम समय लगता है।


एक SEO Expert के रूप में आपको अपनी साइट को इस तरह से optimize करना होता है जिसके मदद से सर्च इंजन उसको आसानी से read कर सके या फिर समझ सके। सर्च इंजन जितना जल्दी आपके कंटेंट को read करेगा और उसको आपकी information अच्छी लगेगी वो आपकी रैंकिंग उतनी ही आगे रखेगा।


उम्मीद है कि आप अच्छी तरह से जान गए होंगे कि सर्च इंजन कैसे काम करता है? लेकिन अब आपके लिए keyword research को भी समझना बेहद जरूरी है।


Keyword Research क्या होता है?


SEO में कीवर्ड रिसर्च का बहुत बड़ा रोल होता है। कीवर्ड रिसर्च से आपको इस बात की जानकारी मिलती है कि जो आपको बताता है कि लोग एक्चुअल में क्या सर्च कर रहे हैं, कितने लोग किसी बात को सर्च कर रहे हैं और उनको ये जानकारी किस फॉरमेट में चाहिए?


ये भी पढ़ें:-● डॉक्टर कैसे बनें?

महान बास्केटबॉल खिलाड़ी कैसे बनें?


सही Keyword Research करके आप अपने targeted market को आसानी से समझ सकते हैं। इसके मदद से आप ये भी पता लगा सकते हैं कि यूजर्स आपके कंटेंट को किस तरह से सर्च कर रहे हैं?


इन सारी जानकारी के मदद से आप अपने वेबसाइट को यूज़र्स तक आसानी से पहुँचा सकते हैं। Keyword Research की मदद से आप अपने साइट को पहले रैंकिंग पर ला सकते हैं और उस पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक ला सकते हैं। इस तरह आप keyword research का महत्व समझ गए होंगे।


आप keyword research करने के लिए किसी keyword research tool का उपयोग कर सकते हैं। इन सबके साथ-साथ आपको अपनी observation बढ़ाने पर भी जोर देना होगा, ताकि आप किसी information को अच्छे कीवर्ड की मदद से उसको प्रभावी ढंग से पेश कर पाए।


Link Building क्या होता है? Benefits Of Link Building In Hindi


Keyword Research के बाद link building के बारे में भी एक SEO Expert को अच्छी जानकारी होना चाहिए जो कि SEO में काफी अहम रोल अदा करता है। क्योंकि गूगल सर्च इंजन के अनुसार अच्छे कंटेंट के अलावा links building भी seo में अहम भूमिका निभाता है।


हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि किसी साइट के पास जितना अधिक क्वालिटी लिंक होता है उसको उतना ही अधिक भरोसेमंद साइट माना जाता है। जैसे विकिपीडिया को ही ले लीजिए जिस पर अनेकों साइट का link होता है। ये link इंडीकेट करता है कि विकिपीडिया उन सभी साइट में भरोसेमंद है।


Link Building आपके साइट के अथॉरिटी को बढ़ाती है और आपको उस चीज में expert बनाती है। इसलिए एक SEO Expert के रूप में link buliding में भी काफी एक्सपर्ट बनना होगा। ताकि आप जिस भी वेबसाइट का SEO करें उसको भरोसेमंद बना सकें।


इतना जान लेने के बाद आप सोच रहे होंगे कि कीवर्ड रिसर्च और लिंक बना लेने से SEO Expert बन गए तो जरा ठहरिये क्योंकि SEO का काम इससे कहीं ज्यादा है और इसका उद्देश्य वेबसाइट पर ट्रैफिक को बढ़ाना ही नहीं होता है बल्कि उस ऑर्गेनिक ट्रैफिक को visitors और कस्टमर में बदलना भी होता है। इसलिए seo एक्सपर्ट बनने के लिए आपको और भी चीजों की जानकारी होनी चाहिए।


SEO करने के कितने तरीके होते हैं? How Many Types Of SEO In Hindi

How many types of seo in hindi, seo karne ka sahi tarika kya hai
How many types of seo in hindi

SEO करने के ऐसे बहुत सारे तरीके हैं लेकिन आपको तीन मुख्य तरीके जरूर जानना चाहिए।


1. Technical SEO: इसके मदद से आप अपने वेबसाइट के technical चीजों को improve कर सकते हैं। ताकि सर्च इंजन पर आपके वेबसाइट की रैंकिंग बेहतर हो सके। इसके लिए technical seo में मुख्य रूप से वेबसाइट की स्पीड को बढ़ाना, SSL का use करना, वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाना, XML Sitemap क्रिएट करना और वेबसाइट पर crawl errors को सही करना जैसे बहुत सारे काम करना होता है।


2. On Page SEO: इस SEO में वेबसाइट के किसी विशेष वेब पेज को Optimize करना होता है, ताकि साइट अच्छी रैंकिंग पर पहुँच सके और ज्यादा से ज्यादा ऑर्गेनिक ट्रैफिक प्राप्त किया जा सके।


आपको बता दें कि इस SEO में पेज के कंटेंट और HTML कोड दोनों पर काम करना पड़ता है। जैसे- क्वालिटी कंटेंट पब्लिश करना, हेडलाइन्स को सही तरीके से लिखना, Images को सही तरीके से optimize करना और HTML टैग्स का सही तरीके से use करना होता है।


3. Off Page SEO: किसी वेबसाइट की रैंकिंग में टेक्निकल seo और on page seo के मदद से आप organic traffic बढ़ा सकते हैं लेकिन off page seo के मदद से आप किसी दूसरी साइट से अपने साइट पर ट्रैफिक ला सकते हैं।


Off Page SEO में बैकलिंक बनाने से लेकर सोशल मीडिया पर शेयर करके अपने साइट पर ट्रैफिक लाने जैसे काम होता है।


Youtube Search कैसे काम करता है? Youtube SEO Kaise Kare


अगर यूट्यूब सर्च की बात करें तो ये भी गूगल सर्च की तरह ही काम करता है। यूट्यूब सर्च में ऐसे वीडियो रैंक करते हैं जिन्हें लोग अधिक पसंद करते हैं, जो सबसे ज्यादा देखा जाता है, जिसका Watch Time अधिक होता है।


आपकी वीडियो ज्यादा लोगों तक पहुँचे इसके लिए youtube seo करना जरूरी होता है। इस seo में मुख्यतः title, description, tags, thumbnail इत्यादि ऐसे बहुत सारे महत्वपूर्ण फैक्टर्स होते हैं जो आपके चैनल और वीडियो को रैंकिंग में सबसे अहम रोल अदा करते हैं।


इसके लिए आपको इन सभी चीजों को अच्छे तरीके से अपने वीडियो और चैनल पर उसे करना होगा। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप एक youtube seo एक्सपर्ट बन सकते हैं।


ये भी पढ़ें:- MIT USA में आसानी से एडमिशन कैसे लें?


SEO के बारे में अब अधिकांश चीजें जान चुके हैं लेकिन आगे जो आपको बताने वाले हैं वो आपके एक्सपर्ट के रूप में एक अलग जान डाल देता है।


SEM (Search Engine Marketing) क्या होता है और ये कैसे काम करता है?


SEO के बाद आपको SEM (Search Engine Marketing) का भी अच्छी जानकारी होनी चाहिए। आपको बता दें कि SEO के बदौलत प्राप्त ट्रैफिक फ्री होता है तो वहीं SEM से ट्रैफिक प्राप्त करने के लिए आपको कुछ पैसे खर्च करने पड़ते हैं।


इसको ऐसे समझ लीजिए कि ये किसी बिजनेस की मार्केटिंग का ऐसा तरीका है जिसमें Paid Advertisement का मदद लिया जाता है। ये advertisement सर्च इंजन के SERP ( Search Engine Result Pages) पर दिखाई देते हैं।


इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि इसमें advertiser को target audience मिलते हैं जो उनके प्रोडक्ट को खरीद सकें। इस तरह से ऑनलाइन मार्केटिंग करना थोड़ा आसान रहता है।


SEM के जरिये आप दुनिया के दो सबसे मुख्य सर्च इंजन Google और Bing पर paid ads चलाकर ऑनलाइन मार्केटिंग कर सकते हैं।


SEO Expert बनने के लिए जरूरी बातें | SEO Expert Tips In Hindi


SEO Expert Course का महत्व

एक SEO Expert बनने के लिए आपको एक ऐसे कोर्स की जरूरत पड़ सकती है जो seo से सम्बंधित गहरी जानकारी दे सके। ताकि आप कम समय में एक seo expert बन सके और अपने वेबसाइट या चैनल को तेजी से रैंकिंग में आगे ला सके।


वैसे आप अपने अनुसार कोई भी कोर्स जॉइन कर सकते हैं लेकिन आपको बताते चलें कि Google Digital Garage पर आपको डिजिटल मार्केटिंग का बेसिक्स जानकारी आसानी से मिल जाएगा। आप चाहे तो गूगल के seo guide से भी काफी कुछ सीख सकते हैं।


आपको ऑनलाइन free और paid दोनों तरह के बहुत सारे कोर्स मिल जाएंगे। आप अपने मनपसंद के कोई भी कोर्स चुन सकते हैं। आपके लिए कोर्स करना उतना जरूरी नहीं है लेकिन कोर्स करने का फायदा ये रहता है कि कम समय में सही तरीके से शुरू से लेकर अंत तक जानकारी प्राप्त कर पाएंगे।


खुद से प्रैक्टिस करें


आप चाहे कोई भी कोर्स कर लें, कहीं भी ट्रेनिंग ले लें। लेकिन खुद से प्रैक्टिस करने के लिए आपको एक वेबसाइट या चैनल जरूर बनाना चाहिए क्योंकि जब तक आप किसी काम को प्रैक्टिकल नहीं करते हैं तब तक आप सही ढंग से अपने काम पर खरा नहीं उतर सकते हैं।


SEO में होने वाले बदलाव के बारे में हमेशा अपडेट रहें 


आज की ऑनलाइन दुनिया में सबकुछ इतना तेजी से बदल रहा है कि आप कहीं पर भी एक जगह नहीं रुक सकते हैं। इसलिए समय के साथ अपने वेबसाइट या चैनल पर भी बदलाव करते रहे। एक SEO Expert के तौर पर आपको हर समय अपडेट रहना पड़ेगा, क्योंकि हर सर्च इंजन अपने नियम में लगातार बदलाव करते रहते हैं।


आपके जानकारी के लिए बता दें कि google हर साल लगभग 200 से भी अधिक बार अपने अल्गोरिथम में बदलाव करता है। ऐसे में अपने बिजनेस को टॉप पर बनाये रखने के लिए आपको भी हमेशा अपडेट रहना होगा।


ये बदलाव इसलिए जरूरी होता है ताकि users को और बेहतर एक्सपीरियंस का अनुभव हो। इसलिए आपको हर समय हुए बदलाव के बारे में जरूर पता होना चाहिए और उसके अनुसार अपने वेबसाइट या चैनल पर बदलाव करते रहना चाहिए।


सही SEO Tools का इस्तेमाल करना


SEO Expert बनने के लिए आपको सही seo tools के बारे में भी जरूर पता होना चाहिए। 

जैसे:● Google Keyword Planner

● Google Analytics

● Google Search Console

● Semrush

● Ahrefs 


इन टूल्स की मदद से आप अपने वेबसाइट या चैनल पर seo से जुड़ी जरूरी बदलाव कर सकते हैं और साथ ही errors को भी पहचान कर उसे दूर कर सकते हैं।


इसलिए अगर आप SEO Expert बनकर इसे अपना प्रोफेशन बनाना चाहते हैं तो आपको अपने स्किल्स को हमेशा बढ़ाते रहना होगा।


SEO Expert बनने के फायदे | SEO Expert Jobs


इस तरह अगर आप इन सभी बातों को फॉलो करेंगे तो आपको एक अच्छा SEO Expert बनने से कोई नहीं रोक सकता है। SEO Expert बनने का सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि आपको किसी के अधीन काम करने की जरूरत नहीं होता है।


अगर आप किसी कम्पनी में जॉब नहीं करना चाहते हैं तो खुद का वेबसाइट या चैनल बनाकर घर बैठे पैसे अच्छा कमा सकते हैं। इसलिए बदलती दुनिया में ये काम एक अच्छा भविष्य दे सकता है।


Seo Expert Salary In India 2021 Hindi


दोस्तों अगर आप एक अच्छे seo expert है तो आप चाहें तो घर बैठे बिना किसी के दबाव में रहे अच्छा पैसा कमा सकते हैं। लेकिन अगर आप किसी Digital Marketing कम्पनी में जॉब के लिए अप्लाई करते हैं तो एक Seo Expert की सैलरी 6 लाख से 8.5 लाख तक हो सकती है।


ये सैलरी आपके अनुभव और टैलेंट बढ़ने के साथ-साथ बढ़ती ही जाती है। इसलिए आज के समय में एक SEO Expert बनना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।


दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि SEO Expert कैसे बनें से सम्बंधित हर एक जानकारी को आप अच्छी तरीके से समझ गए होंगे। फिर अगर आपके पास इससे सम्बन्धित कोई और सवाल हो तो कमेंट करके जरूर पूछ सकते हैं।


साथ ही अगर आपको seo एक्सपर्ट कैसे बनें से सम्बंधित ये article अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें।


ये भी पढ़ें:-● जियोलॉजिस्ट (भू-वैज्ञानिक) कैसे बनें?

जीवन में सही करियर का चुनाव कैसे करें?


सरकारी डॉक्टर कैसे बनें | डॉक्टर बनने के लिए क्या करें जाने पूरी जानकारी

सरकारी डॉक्टर कैसे बनें | डॉक्टर बनने के लिए क्या करें जाने पूरी जानकारी

How To Become A Doctor In India After 12th In Hindi | AIIMS में डॉक्टर कैसे बनें?

Doctor kaise bane full details in hindi, how to become a doctor after 12 in india in hindi
Doctor Kaise Bane

कहते हैं कि अगर किसी चीज के बारे में पूरी तरह जानकारी हो तो उसको हासिल करना बेहद आसान हो जाता है। हम सभी को अपने जीवन में आगे बढ़ना होता है। इसके लिए हम सभी जमकर के पढ़ाई करते हैं ताकि अपने हर गोल को पा सकें।


दोस्तों सबके जीवन में कोई न कोई लक्ष्य जरूर रहता है। किसी को इंजीनियर बनना है तो किसी को जियोलॉजिस्ट बनना है तो किसी को डॉक्टर बनना है। बढ़ते उम्र के साथ-साथ हमारे अभिभावकों को भी ये चिंता सताने लगती है कि हमारे बच्चे आगे चलकर क्या बनेंगे?


लेकिन अगर आपका सपना डॉक्टर बनने का है तो आप बिल्कुल सही जगह पर है क्योंकि आज हम आपको बताने वाले हैं कि आप एक अच्छा डॉक्टर कैसे बनें और डॉक्टर बनने के लिए क्या करना चाहिए? साथ ही हम आपको पूरी जानकारी देंगे कि-


● डॉक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ेगा,
● डॉक्टर बनने के लिए क्या पढ़े,
● सबसे बढ़िया कॉलेज कौन सा है,
● डॉक्टर बनने के लिए कौन-कौन से एग्जाम देने पड़ते हैं,
● एग्जाम की तैयारी कैसे करें,


तो अगर आपको भी इन सारे सवालों का जवाब चाहिए तो इस article को पूरा जरूर पढ़ियेगा। चलिए बिना किसी देरी जानते हैं कि डॉक्टर कैसे बनें?


How To Become A Doctor In India In Hindi | डॉक्टर कैसे बनें?


दोस्तों डॉक्टर बनने के लिए आपको बचपन से ही लक्ष्य बनाना होगा और उसके ओर निरंतर अपने कदम बढ़ाते रहें। खास कर के आपको डॉक्टर की पढ़ाई के लिए दसवीं से ही निर्णय लेना होगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि दसवीं के बाद ग्यारहवीं से ही आपको बायोलॉजी की पढ़ाई करनी होगी।


मेडिकल की पढ़ाई के लिए आपको बायोलॉजी के साथ-साथ फिजिक्स और केमिस्ट्री विषय के बारे में भी अच्छी जानकारी रखनी होगी। इसके साथ ही आपको बारहवीं में कम से कम 50% अंक के साथ पास करना होगा। जिसमें फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय जरूर शामिल होना चाहिए।


बारहवीं का एग्जाम पास करने के बाद अब आपको मेडिकल की पढ़ाई के लिए प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होगा। इसके लिए आपको NEET के एग्जाम में शामिल होना पड़ेगा।


दोस्तों डॉक्टर बनने से पहले आपको NEET की परीक्षा पास करना बेहद जरूरी होता है। एक बार NEET पास करने के बाद आगे का डॉक्टर बनने का सपना बिल्कुल आसान हो जाता है। अभी आप सोच रहे होंगे कि NEET परीक्षा क्या है और इसे कैसे पास करें, NEET की परीक्षा कैसे आपके डॉक्टर बनने का सपना पूरा कर सकता है, आइये इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं।


NEET एग्जाम क्या है? NEET Exam Full Details In Hindi


NEET का Full Form (National Eligibility Cum Entrance Test) होता है। ये परीक्षा भारत में MBBS और BDS में एडमिशन लेने के लिए ली जाती है। इस परीक्षा को पास करने वाले अभ्यर्थियों को डॉक्टर के आगे का पढ़ाई करने का दर्जा मिल जाता है।


आपको जानकारी के लिए बता दें कि National Testing Agency (NTA) इस एग्जाम को संचालित करती है। NEET का एग्जाम दो स्तर पर लिया जाता है- UG और PG.


NEET की परीक्षा UG स्तर पर MBBS और BDS में एडमिशन लेने के लिए होता है, जबकि PG स्तर पर MS और MD जैसे कोर्सेस को पूरा करने के लिए प्रवेश परीक्षा होता है।


ये परीक्षा NTA द्वारा हर साल पूरे देश में लगभग 479 मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के लिए आयोजित की जाती है। अभी आपको ये जान लेना बेहद जरूरी है कि आखिर NEET परीक्षा की जरूरत देश में क्यों पड़ी?


आपको बता दें कि इससे पहले भी देश मे मेडिकल कोर्सेस को करने के लिए प्रवेश परीक्षायें आयोजित की जाती थीं लेकिन इसके लिए अलग-अलग लगभग 90 परीक्षा होता था। इनमें से CBSE द्वारा आयोजित AIPMT मुख्य परीक्षा होती थी। इसके अलावा अलग-अलग राज्यों के द्वारा मेडिकल की प्रवेश परीक्षा लेता था।


ऐसी स्थिति में हर स्टूडेंट्स को लगभग 7 से 8 प्रवेश परीक्षा देना पड़ता था। जिससे उनको न केवल मानसिक तनाव का सामना करना पड़ता था, बल्कि अनेकों परीक्षाओं में शामिल होने के लिए स्टूडेंट्स को काफी पैसे खर्च करने पड़ जाते हैं। सरकार के द्वारा स्टूडेंट्स के समस्याओं को देखते हुए इन सारी परीक्षाओं को समाप्त कर NEET को लाया गया।


ये भी पढ़ें:-● जियोलॉजिस्ट कैसे बनें पूरी जानकारी।

महान बास्केटबॉल खिलाड़ी कैसे बनें?


आज मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेने के लिए सिर्फ NEET एग्जाम को पास करना होता है जबकि पहले ऐसा नहीं होता था। NEET के आने के बाद से स्टूडेंट्स के डॉक्टर बनने के सपने को और आसान कर दिया है।


NEET एग्जाम के आ जाने के बाद से AIPMT और राज्य स्तर के अनेकों परीक्षाओं को खत्म कर दिया है। जिससे स्टूडेंट्स को काफी हद तक अनेकों एग्जाम के तनाव से मुक्ति मिल गयी है।


NEET एग्जाम के बारे में और जानकारी के लिए बता दें कि ये एक सिंगल स्टेज का एग्जाम होता है और इसका एग्जाम ऑफलाइन लिया जाता है। लेकिन आने वाले समय में ये एग्जाम ऑनलाइन होगा या ऑफलाइन ये अभी नहीं कहा जा सकता है।


ऐसे में ये भी संभावना जताई जा रही है कि NEET का एग्जाम साल में एक बार होने के बजाय दो बार भी आयोजित किया जा सकता है। आपके जानकारी के लिए बता दें कि NEET एग्जाम का समय अवधि तीन घंटे का होता है। इस परीक्षा में ऑब्जेक्टिव टाइप के सवाल पूछे जाते हैं। 


लेकिन परीक्षा देते समय इस बात का भी ध्यान जरूर रखें कि इसमें नेगेटिव मार्किंग किया जाता है। इसलिए जो सवाल का उत्तर मालूम न हो उनको बिना वजह गलत उत्तर देने से बचें।


इस परीक्षा में भाग लेने के लिए आपको बारहवीं क्लास में बायोलॉजी विषय से पास करना जरूरी होगा तभी आप इन मेडिकल परीक्षाओं में भाग ले पाएंगे। जो स्टूडेंट्स अभी बारहवीं की पढ़ाई कर रहे हैं वैसे स्टूडेंट्स भी इस परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।


लेकिन आपको मेडिकल कॉलेज में दाखिला तभी दिया जाएगा जब आप बारहवीं की परीक्षा पास कर लेंगे। इसके पहले भले ही आप मेडिकल एग्जाम का टेस्ट पास कर लें और बारहवीं का एग्जाम पास नहीं कर पाए तो आपको मेडिकल कॉलेज में दाखिला नहीं दिया जाएगा।


NEET एग्जाम देने की योग्यता | Eligibility For NEET Exam In Hindi


NEET के एग्जाम में बैठने के लिए आपको बारहवीं कक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी पढ़ा होना बहुत जरूरी है, तभी आप इस परीक्षा में बैठ सकते हैं। इस एग्जाम में मुख्यतः फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय से सवाल पूछे जाते हैं।


इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र कम से कम 17 वर्ष होना अनिवार्य है। इस एग्जाम के लिए अधिकतम उम्र सीमा तय नहीं की गई है। NEET की परीक्षा के लिए जनरल कैटेगरी के छात्रों को बारहवीं की परीक्षा में न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करना जरूरी होता है, जबकि SC, ST और OBC कैंडिडेट के लिए न्यूनतम 40% अंक हासिल करना अनिवार्य होता है।


इस एग्जाम को पास करने के लिए स्टूडेंट्स कितना भी बार प्रयास कर सकता है। NEET एग्जाम में उन्हीं छात्रों को बैठने का मौका मिलता है जो भारतीय नागरिक हो। अन्य देश के छात्रों को इस परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं होती है।


How To Qualify NEET Exam In First Attempt In Hindi | NEET का एग्जाम कैसे पास करें


आइये दोस्तों अब जानते हैं पहले प्रयास में NEET का एग्जाम कैसे पास करें, इसके लिए तैयारी कैसे करें?


NEET एग्जाम में शामिल होने से पहले अभ्यर्थियों को मानसिक रूप से खुद को तैयार रखना बेहद जरूरी होता है क्योंकि इस दुनिया में केवल आप ही है जो अपने सपने को पूरा कर सकते हैं। इसलिए किसी भी एग्जाम को पास करने के लिए अपना पूरा फोकस उस एग्जाम पर लगा दीजिये।


इस एग्जाम में शामिल होने से पहले आपको बारहवीं कक्षा की पढ़ाई अच्छे ढंग करना बेहद जरूरी होता है क्योंकि आपकी नीव जितनी मजबूत होगी आपके लिए इस एग्जाम को पास करना उतना ही आसान होगा।


वैसे स्टूडेंट्स जो बारहवीं कक्षा में अच्छे से पढ़ाई करते हैं उनके लिए इन प्रतिगोगी परीक्षाओं को पास करना कोई खास मुश्किल नहीं होता है। इस परीक्षा में बेहतर परिणाम के लिए बारहवीं कक्षा में फिजिक्स,केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय अपने आधार को मजबूत करें और उनको ध्यान लगाकर पढ़ें।


बारहवीं की परीक्षा समाप्त होने के बाद आपको बीते वर्षों के प्रश्न पत्रों को जरूर हल करना चाहिए। ऐसा करने से आपको परीक्षा के प्रारूप के बारे में पता चलेगा और किस तरह के सवाल पूछे जाते हैं, इस बात का भी अंदाजा लगेगा।


ये भी पढ़ें:- लाखों स्टूडेंट्स का सपना MIT में एडमिशन कैसे लें?


इसके अलावा जितना हो सकें सैंपल पेपर को निर्धारित समय में हल करने का प्रयास करें। ऐसा इसलिए जरूरी है क्योंकि इससे आप अपने को मूल्यांकन कर पाएंगे और जान पाएंगे कि आपको कहाँ पर अधिक मेहनत करने की जरूरत है।


किसी भी एग्जाम को क्रैक करने के लिए टाइम मैनेजमेंट का होना बेहद जरूरी होता है। इसलिए टाइम मैनेजमेंट कैसे करें इसकी पूरी जानकारी के लिए ये पोस्ट जरूर पढ़ें।


अगर आप पहली बार में NEET का एग्जाम पास नहीं कर पाएं तो निराश होने के बजाय अपने अंदर के कमियों को दूर करने का प्रयास करें। इसलिए पिछले एग्जाम में दुहरायी गयी गलतियों को दूर करें, ताकि अगली बार जब आप एग्जाम देने जाएं तो फिर से वहीं गलती न कर बैठे।


NEET एग्जाम को क्लियर करने के लिए अच्छे बुक्स को पढ़ें और जरूरत पड़ने पर आप किसी अच्छे कोचिंग संस्थान की भी सहायता जरूर ले सकते हैं। इससे आपको जहाँ भी दिक्कत होगी आप अपने टीचर से सहायता ले सकते हैं। साथ ही टीचर आपको सही दिशा में तैयारी करने में सहायता प्रदान करते हैं।


परीक्षा को लेकर ज्यादा तनाव लेने के बजाय अपने हेल्थ पर खासकर के ध्यान रखें, क्योंकि कोई भी काम आप शरीर को बीमार रख के नहीं कर सकते हैं।


इसलिए दिन रात जगकर पढ़ने के बजाय पढ़ने का सही टाइम टेबल बनाएं क्योंकि बिना अच्छी नींद के आपको पढ़ने में मन नहीं लगेगा और आपको काफी चिड़चिड़ा महसूस होगा। पढ़ाई करने के लिए सही रूटीन बनाये और उसको फॉलो करें। तो इन सब बातों का ध्यान रखेंगे तो आपके NEET क्वालीफाई करने का सपना बहुत जल्द पूरा हो जाएगा।


Doctor बनने के लिए योग्यता | Eligibility For Doctor In Hindi


एक बार NEET क्वालीफाई करने के बाद आप डॉक्टर बनने का सबसे बड़ी बाधा पार कर चुके होते हैं।लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आप डॉक्टर बन चुके हैं।
तो आइए जानते हैं कि एक अच्छा डॉक्टर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता कितनी होनी चाहिए इसकी जानकारी के बारे में विस्तार से जानते हैं।


डॉक्टर बनने के लिए सबसे पहले बारहवीं कक्षा में बायोलॉजी विषय के साथ उतीर्ण होना बहुत जरूरी है। इसके बाद आपको Bachelor Of Medicine And Bachelor Of Surgery (MBBS) की पढ़ाई करना अनिवार्य होता है।


MBBS की डिग्री हासिल करने के लिए आपको लगभग साढ़े चार वर्षों के कोर्स को पूरा करना जरूरी होता है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद अभ्यर्थियों को किसी भी मेडिकल कॉलेज में कम से कम एक साल का इंटर्नशिप करना होता है।


इस तरह आपके MBBS का कोर्स लगभग साढ़े पांच साल में पूरा हो जाएगा। यदि आप एक MBBS का कोर्स पूरा के लेते हैं तो Medical Council Of India (MCI) के द्वारा आपको एक योग्य डॉक्टर के रूप में MBBS की डिग्री प्रदान कर दी जाती है। इसके बाद आप अपने अनुसार पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स जैसे- MD, MS की पढ़ाई कर सकते हैं या फिर रिसर्च कर सकते हैं।


रिसर्च करने के बाद आप किसी मेडिकल कॉलेज या किसी रिसर्च सेंटर में teaching का काम शुरू के सकते हैं।


Top 14 Medical Courses In India


आइये अब भारत के टॉप मेडिकल कोर्सेस के बारे में जान लेते हैं।


● Bachelor Of Medicine And Bachelor Of Surgery (MBBS)

● Bachelor Of Dental Surgery (BDS)

● Bachelor Of Homiyopaithi Medicine And Surgery (BHMS)

● Bachelor Of Aayurvedic Medicine And Surgery (BAMS)

● Doctor Of Medicine (MD)

● Master Of Surgery (MS)

● Doctorate In Medicine (DM)

● Bachelor Of Pharmacy (B.Pharm)

● BSc. Nursing

● Physiotherapy (B.P.T.)

● Occupational therapy (B.O.T.)

● Unani Medicine (B.U.M.S.)

● D. Pharm

● Bachelor Of Medical Lab Technician


Top 10 Medical Institute In India


आइये दोस्तों अब भारत के टॉप 10 मेडिकल इंस्टिट्यूट के बारे में जान लेते हैं।


● All India Institute Of Medical Sciences Delhi

● Grant Medical College Mumbai

● Madras Medical College Chennai

● JIPMER Puducheri

● Banaras Hindu University (BHU)

● Maulana Azad Medical College Delhi

● Armed Forces Medical College (AFMC) Pune

● Christian Medical College (CMC) Vellore

● Kasturba Medical College Manipal

● Shriram Chandra Medical College And Research Institute Chennai


Best Jobs For Doctor In India


आइये अब जानते हैं कि डॉक्टर बनने के बाद किस क्षेत्र में आपकी जॉब लग सकती है।


● Bio Medical Companies

● Hospitals

● Laboratory

● Research Institute

● Medical Colleges


तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ कि आपको डॉक्टर कैसे बनें से सम्बंधित हर जानकारी प्राप्त हो चुकी है। फिर भी इससे सम्बन्धित कोई और भी सवाल है तो कमेंट करके जरूर पूछ सकते हैं। साथ ही अगर आपको हमारा ये जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें।


जीवन में सही करियर का चुनाव कैसे करें?

भारत में सबसे ज्यादा सैलरी देने वाले 5 जॉब्स।

घर बैठे SEO Expert कैसे बनें?