S-400 मिसाइल सिस्टम की खासियत क्या है और कैसे काम करता है?

S-400 मिसाइल सिस्टम की खासियत क्या है और कैसे काम करता है?

S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम के बारे में पूरी जानकारी | S-400 Missile System Complete Details In Hindi


दोस्तों, भारत को जल्द ही रूस से एक ऐसा हथियार मिलने वाला है जिसके सिर्फ भारतीय सेना में शामिल होने की खबर सुनकर दुश्मन देशों के पसीने छूटने लगे हैं। अभी से ही पाकिस्तान और चीन जैसे दुश्मन देश इस हथियार को लेकर अपनी चिंता जाहिर कर चुके हैं।


इस खतरनाक हथियार का नाम S-400 मिसाइल सिस्टम है। भारत यह हथियार रूस से 40,000 हजार करोड़ रुपये में 5 एस-400 मिसाइल सिस्टम खरीद रहा है और रूस ने भारत को S-400 Missile System भेजना शुरू भी कर दिया है। इस साल (2021) के अंत तक इसका पहला खेप भारत आ जायेगा।


एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की सटीक जानकारी


आपको बता दें कि चीन ने भी रूस से S-400 मिसाइल सिस्टम खरीदा है  लेकिन अंतराष्ट्रीय संधि के कारण उसे S-300 ही दिया गया है। जिसका रेंज 300 किलोमीटर है, जबकि भारत को रूस S-400 मिसाइल सिस्टम दे रहा है, जिसका रेंज 400 किलोमीटर तक होगा।


आपको बता दें कि S-400 मिसाइल सिस्टम अपने क्षेत्र में दुनिया का सबसे बेहतरीन हथियार है। यह मिसाइल सिस्टम कितना खतरनाक है कि आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि ये दुश्मन के 400 किलोमीटर दूर किसी भी लक्ष्य को निशाना बनाकर उनको नष्ट कर सकता है।


S-400 Missile System की खासियत क्या है और यह कैसे काम करता है आइये इसके बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


    एयर डिफेंस सिस्टम S-400 क्या है? (What Is S-400 Air Defence Missile System In Hindi)


    इसका मिसाइल सिस्टम का पूरा नाम S-400 ट्रायम्फ है। नाटो देश इसको SA-21 ग्रोलर के नाम से भी जानते हैं। S-400 ऐसा एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम है जो दुश्मन के एयरक्राफ्ट और मिसाइल को आसमान में ही मार कर गिरा सकता है। इसको दुनिया का सबसे एडवांस Long Range Surface-To-Air-Air Defence Missile System माना जाता है।


    यह एयर डिफेंस सिस्टम कितना खतरनाक है इसका इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि इसके सीमा पर तैनाती के बाद बिना इजाजत के कोई परिंदा पर भी नहीं मार सकता है।


    यह मिसाइल सिस्टम रूस के ही S-300 मिसाइल सिस्टम का अपग्रेडेड वर्जन है। S-400 रूसी सेना के बेड़े में 2007 से शामिल है। इसको रूस के प्रसिद्ध कम्पनी "अल्माज आंते" ने बनाया है।


    एयर डिफेंस सिस्टम कैसे काम करता है (How Work Air Defence System In Hindi)


    एयर डिफेंस सिस्टम का काम किसी देश में होने वाले संभावित हवाई हमले का पता लगाना और उस हमले से उस देश को बचाना होता है। इस पूरी प्रक्रिया में कई तरह के रडार, सैटेलाइट और मिसाइल जैसे उपकरणों का उपयोग किया जाता है।


    रडार और सैटेलाइट के मदद से ये एयर डिफेंस सिस्टम पता लगाता है कि दुश्मन का लड़ाकू विमान और मिसाइल कहाँ पर हमला कर सकते हैं। ये सिस्टम दुश्मन के हथियार का पता लगाने के साथ-साथ दुश्मन देशों के मिसाइल और विमानों को नष्ट करता है।


    आपके जानकारी के लिए बता दें कि भारत पहली बार कोई एयर डिफेंस सिस्टम खरीद रहा है। इससे पहले भारत केवल मिसाइल, लड़ाकू विमान और बम इत्यादि ही खरीद रहा था। रूस से S-400 एयर डिफेंस सिस्टम खरीदने के बाद भारत की सीमा दुश्मन देशों से बिल्कुल सुरक्षित हो जाएगा।


    ये भी पढ़ें:-● आईपीएल 2022 के मेगा ऑक्शन का नया नियम।

    घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमाने के 10 आसान तरीके।

    भारत का सबसे बेस्ट हेल्थ इंश्योरेंस कैसे लें?


    S-400 मिसाइल सिस्टम की खासियत (S-400 Missile System In Hindi)

    S-400 missile defence system details in hindi, india air defence system
    S-400 Missile System

    ● S-400 मिसाइल सिस्टम किसी भी तरह के हवाई हमले का पहले ही पता लगा सकता है।
    ● इस एयर डिफेंस सिस्टम क्रूज मिसाइल और एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम को नष्ट करने से लेकर बैलिस्टिक मिसाइल एवं परमाणु मिसाइल को भी 400 किलोमीटर दूर नष्ट करने में सक्षम है।
    ● S-400 मिसाइल सिस्टम अत्याधुनिक रडार से पूरी तरह लैस है। जिसके चलते दुश्मन के किसी भी हथियार का बच पाना मुश्किल है। यह राडार दुश्मन के हथियार को 600 किलोमीटर दूर से देख सकता है।
    ● इसमें मिसाइल लांचर से लेकर राडार और कमांड सेंटर पहले से ही मौजूद है।
    ● सैटेलाइट से जुड़े रहने के चलते सिग्नल का तुरंत ही पता चल जाता है।
    ● इसमें लगा हुआ अत्याधुनिक रडार दुश्मन का पता लगाते ही कंट्रोल कमांड को तुरन्त सिग्नल भेज देता है और अपने सिग्नल में लक्ष्य की दूरी से लेकर उसका स्पीड तक कि बेहद सटीक जानकारी देता है।
    ● एक बार दुश्मन के हथियार का पता लगने के बाद ये ऑटोमेटिक मिसाइल लांच कर देता है।
    ● S-400 मिसाइल सिस्टम 400 किलोमीटर दूर से ही एक बार में 36 लक्ष्यों को निशाना बना सकता है।
    ● S-400 मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम जमीन से हवा में आसानी से मार कर सकता है।
    ● एयर डिफेंस सिस्टम में S-400 को दुनिया का सबसे खतरनाक हथियार माना जाता है।
    ● यह दुश्मन के किसी भी हमले को नाकाम करने में पूरी तरह सक्षम है।
    ● S-400 मिसाइल सिस्टम का रडार एक साथ 100 से लेकर 300 टारगेट को एक साथ पता लगा सकता है।
    ● इसमें लगा हुआ मिसाइल 30 किलोमीटर ऊंचाई में ही दुश्मन के हथियार को नष्ट कर सकता है।
    ● यह 400 किलोमीटर दूर दुश्मन के किसी भी लक्ष्य को निशाना बना सकता है।
    ● इसमें 12 लॉन्चर लगे हुए रहते हैं।
    ● यह एक साथ 3 मिसाइल को दाग सकता है।
    ● दुश्मन के मिसाइल को कहां गिराना है इसकी भी जिम्मेदारी S-400 मिसाइल लेता है।
    ● इसमें 400 KM की रेंज, 250 KM की रेंज, 120 KM की रेंज और 40 KM रेंज की चार तरह के मिसाइल लगे होते हैं।
    ● सबसे बड़ी बात इसको तैनात करने में केवल 5 मिनट का समय लगता है।
    ● इसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से ले जाया सकता है।
    ● भारतीय सेना में S-400 मिसाइल सिस्टम के शामिल होने के बाद सीमा की पूरी सुरक्षा और कोई भी हमले का खतरा कम हो जाएगा।


    भारत को S-400 कब मिलेगा? (Missile System India Delivery Date  In Hindi)


    S-400 मिसाइल सिस्टम का पहला खेप दिसंबर महीने में होने वाले शिखर सम्मेलन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शामिल होने के लिए दिल्ली आ रहे हैं। ऐसे में सम्भव है कि 6 दिसंबर को भारत को पहला S-400 मिसाइल सिस्टम मिल सकता है।


    S-400 मिसाइल सिस्टम को अच्छे से संचालित करने के लिए भारतीय वायुसेना के कई जवानों की टीम पिछले कई महीनों से रूस में ट्रेनिंग ले रही है। रूस और भारत के बीच अक्टूबर 2018 में हुए समझौते के मुताबिक 2023 तक सभी S-400 भारत को मिल जाएगी।


    भारतीय वायुसेना प्रमुख वीआर चौधरी ने भी कहा है कि साल के अंत तक हमें S-400 मिल जाने की उम्मीद है।


    एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम और कितना घातक बनेगा?


    अपने इस घातक हथियार को रूस और घातक बनाने जा रहा है। इसमें रूस कई तरह के अत्याधुनिक मिसाइल को शामिल करने जा रहा है, ताकि S-400 को और अधिक घातक बनाया जा सके। साथ ही दुश्मन के किसी भी मिसाइल को नष्ट किया सके।


    रूसी मीडिया के अनुसार रूस की रक्षा मंत्रालय ने S-400 को लम्बी दूरी मार करने की क्षमता को और अधिक बढ़ाने के लिए कई तरह के मिसाइलों से लैस करने जा रहा है। इससे S-400 मिसाइल सिस्टम की क्षमता का मुकाबला दुनिया का कोई भी एंटी मिसाइल सिस्टम नहीं कर सकेगा। रिपोर्ट के अनुसार रूस के एयरोस्पेस फोर्सेस के 185वें सेंटर फॉर कॉम्बैट ट्रेनिंग के दौरान इसका सफल परीक्षण भी किया गया है।


    FAQ:

    Q. S-400 का रेंज कितना है?
    Ans: 400 किलोमीटर।
    Q. चीन के पास कितने S-400 मिसाइल सिस्टम है?
    Ans: चीन के पास S-400 एक भी नहीं है, बल्कि S-300 है।
    Q. S-400 मिसाइल प्रणाली क्या है?
    Ans: एयर डिफेंस सिस्टम।
    Q. भारत के पास कितने S-400 हैं?
    Ans: वर्तमान में एक भी नहीं है लेकिन दिसंबर तक जरूर हो जाएगा।
    Q. S-400 का Price कितना है?
    Ans: 5 एस-400 का कीमत 40 हजार करोड़ रुपये है।
    Q. एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम में क्या खास बात है?
    Ans: यह दुश्मन के किसी भी मिसाइल और एयरक्राफ्ट को 400 किलोमीटर दूर से ही मार सकता है।
    Q. क्या राफेल को एस 400 मार सकता है?
    Ans: S-400 किसी भी लड़ाकू विमान को अपने रेंज में आने पर मार सकता है।

    ये भी पढ़ें:-

    SEO एक्सपर्ट कैसे बनें?

    मार्शल आर्ट्स कैसे सीखें?

    स्टेट बैंक से लोन कैसे लें?

    एजुकेशन लोन लेने का सही तरीका।

    5 मोटिवेशनल कहानी जो जिंदगी बदल देगी।

    Myntra CEO Nandita Sinha Biography, Wikipedia, Salary, Education

    Myntra CEO Nandita Sinha Biography, Wikipedia, Salary, Education

    नंदिता सिन्हा का जीवन परिचय | Nandita Sinha (Flipcart) Biography, Age, Success Story In Hindi


    फैशन और सौंदर्य जगत की सबसे मशहूर E-Commerce कम्पनियों में से एक Myntra ने 12 नवंबर 2021 को नंदिता सिन्हा को कम्पनी का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ, CEO) नियुक्त किया है।


    नंदिता 1 जनवरी 2022 से अपना पदभार संभालेगी। बेहद कम उम्र में इतनी ऊंची पड़ हासिल करने के वजह से नंदिता आज हर जगह चर्चा का विषय बनी हुई है। सब जानना चाहते हैं कि आखिर Myntra New CEO नंदिता सिन्हा कौन है, जिनको कम्पनी का सबसे बड़ा पड़ देने का निर्णय किया गया है।


    अगर आप नंदिता सिन्हा की जीवनी के बारे में हर एक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ियेगा। आपको नंदिता सिन्हा के जीवन से जुड़े ऐसी जानकारी मिलेगी जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। तो आइये बिना देर किए Nandita Sinha Biography In Hindi के बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


    Myntra सीईओ नंदिता सिन्हा कौन है (Who Is Nandita Sinha In Hindi)


    नंदिता सिन्हा वर्तमान में e-commerce की दिग्गज कम्पनी Flipcart में Customer Growth, Media & Engagement की वाईस प्रेसिडेंट है। फ्लिपकार्ट में 2013 से जुड़ने के बाद से ही नंदिता ने कम्पनी के कई बड़े पदों पर अपनी सेवायें दी है।


    इन्होंने फ्लिपकार्ट की सबसे बड़े selling event में से एक Big Billion Days की सफलता में अहम भूमिका निभाई।


    Myntra के वर्तमान सीईओ Amar Nagaram ने लगभग 3 साल तक अपनी सेवाएं देने के बाद अपने पद से त्यागपत्र दे दिया। जिसके बाद Nandita Sinha को कम्पनी का सीईओ बनाया गया है। कम्पनी ने ये फैसला नंदिता के 15 साल से भी अधिक ई-कॉमर्स क्षेत्र में अनुभव और शानदार नेतृत्व को देखते हुए लिया गया है।


    आपके जानकारी के लिए बता दें कि नंदिता ई-कॉमर्स क्षेत्र में ऐसी पहली महिला होगी जो कम्पनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) का पदभार संभालेगी।


    फ्लिपकार्ट में अपने 8 साल के कार्यकाल के दौरान नंदिता ने कई महत्वपूर्ण पदों पर काम करते हुए अपने सफल बिजनेस माइंड का परिचय दिया है। फ्लिपकार्ट में शामिल होने से पहले इन्होंने हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड और ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड में भी काम कर चुकी है। इसके अलावा नंदिता ई-कॉमर्स साइट MyBabyCart.com की सह-संस्थापक भी रह चुकी है।


    इनके नियुक्ति के बाद फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने अपने बयान में कहा कि "मुझे पूरा विश्वास है कि Myntra के कारोबार को नई ऊंचाइयों तक ले जाने में नंदिता अहम भूमिका निभाएगी।"


    इतने बड़े पद पर नियुक्ति के बाद नंदिता ने बयान जारी करते हुए कहा कि "मैं अपने इस नई भूमिका को लेकर बहुत उत्साहित हूं। Myntra के बहुत ही प्रतिभाशाली टीम के साथ काम करते हुए मुझे पूरी उम्मीद है कि myntra के फैशन को लोकतांत्रिक बनाने के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने में अपने जिम्मेदारी अच्छी तरह से निभाऊंगी।"


    नंदिता सिन्हा फ्लिपकार्ट की शिक्षा (Nandita Sinha Flipkart Educational Qualification)

    Nandita sinha biography, nandita sinha education
    Nandita Sinha

    नंदिता ने Faculty Of Management Studies (FMS), Delhi यूनिवर्सिटी से 2005 में Marketing & Strategy में MBA किया है। इसके अलावा इन्होंने 2003 में IIT BHU से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है।


    Nandita Sinha Flipkart Salary & Net Worth


    Myntra की नई सीईओ नंदिता सिन्हा की सैलरी और नेट वर्थ के बारे में बात किया जाए तो इन्होंने अभी तक इसके बारे में कभी किसी को नहीं बताया है। लेकिन आप इनके काम और ऊंचे पद को देखते हुए सैलरी और नेटवर्थ का अंदाजा लगा ही सकते हैं।


    Nandita Sinha Flipkart Bio, Wiki, Age, Linkedin, Personal Details


    पूरा नाम: नंदिता सिन्हा
    निकनेम: नंदिता
    जन्म (Date Of Birth): 1986
    जन्मस्थान (Birthplace): N/A
    उम्र (Age): 35 वर्ष
    प्रोफेशन (Profession): ई-कॉमर्स क्षेत्र
    अनुभव (Experience): 15 साल
    पद: वाईस प्रेसिडेंट, फ्लिपकार्ट और Myntra सीईओ
    वर्तमान नियुक्ति: वाईस प्रेसिडेंट, फ्लिपकार्ट कस्टमर ग्रोथ, मीडिया और एंगेजमेंट
    उच्चतम शिक्षा: एमबीए
    वैवाहिक जीवन: विवाहित
    हस्बैंड नाम: N/A
    धर्म (Religion): हिन्दू
    राष्ट्रीयता: भारतीय


    Nandita Sinha Linkedin


    अगर आप नंदिता सिन्हा से जुड़ना चाहते हैं अथवा उनके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप इनके Linkedin profile को फॉलो कर सकते हैं।

    Nandita Sinha Linkedin Profile


    दोस्तों, हमें उम्मीद है कि आपको Nandita Sinha Ki Jivani काफी पसंद आई होगी। साथ ही आपको नंदिता सिन्हा के जीवन से जुड़े हर जानकारी प्राप्त हो गई होगी। अगर आपको Nandita Sinha Biography In Hindi पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।

    ये भी पढ़ें:-

    पत्रकार मनीष कश्यप का जीवन परिचय।

    गरुड़ पुराण का रहस्य।

    50 मोटिवेशनल फैक्ट्स इन हिंदी।

    ट्रेंडिंग फैक्ट्स इन हिंदी।

    स्टेट बैंक से लोन कैसे लें?

    Garud Puran In Hindi | गरुड़ पुराण की सबसे महत्वपूर्ण जानकारी

    Garud Puran In Hindi | गरुड़ पुराण की सबसे महत्वपूर्ण जानकारी

    Garud Puran In Hindi PDF | गरुड़ पुराण के अनुसार क्या आत्महत्या भी भगवान के मर्जी से होता है, मरने के बाद आत्मा का क्या होता है?


    दोस्तों, आज आप सभी को गरुड़ पुराण की ऐसी दो कथा के बारे में बताने वाले हैं जिसको जानने के बाद आपके आंखों पर से अनगिनत पर्दे उठ जाएंगे। आज आपको यहाँ ऐसी-ऐसी अनमोल ज्ञान मिलने वाली है जो आपके लिए बहुत जरूरी है।


    इस पोस्ट में हम जानेंगे कि गरुड़ पुराण के अनुसार क्या आत्महत्या भी भगवान के मर्जी से होता है, आदमी के मरने के उसके आत्मा का क्या हाल होता है?


    इन्हीं सब महत्वपूर्ण बातों के पीछे की पूरी सच्चाई जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।


    Garun Puran Katha In Hindi | लोग आत्महत्या क्यों करते हैं?


    आप सभी ने एक पुरानी कहावत तो सुनी ही होगी कि जो भगवान चाहेंगे वो होकर रहेगा। हमारे आसपास कई सारी ऐसी घटनाएं होती है जिसे देखकर हम ये सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि क्या ये भी भगवान के ही मर्जी से हुआ है या इसके पीछे की सच्चाई कुछ और ही है।


    हमारे आसपास घटित होने वाली घटनाओं में से एक घटना आत्महत्या भी है। हम सब जानते हैं कि जो हो रहा है सब भगवान की मर्जी से हो रहा है तो क्या आत्महत्या भी भगवान के मर्जी से होता है? इस सवाल का जवाब जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना होगा।


    इस सवाल का जवाब जानने से पहले आइये जानते हैं कि कर्म क्या होता है? आप सब एक बात हमेशा सुनते होंगे कि हम जो कर रहे हैं वो इस जन्म के भाग्य के अनुसार हो रहा है। हम आज जो भी है अपने भाग्य के बदौलत है। जबकि ये बात बिल्कुल गलत है।


    गीता के अनुसार हमें अपने कर्म के अनुसार ही अगले जन्म का भाग्य लिखा जाता है। हम किस योनि में जन्म लेंगे ये भी हमारे इस जन्म के कर्म पर निर्भर है, आज हम जो भी फल भोग रहे हैं वह हमारे पिछले जन्मों का कर्म के कारण होता है।


    इस बात में कितनी सच्चाई है इस बात की जानकारी के लिए हमें कर्म के सिद्धांत को बारीकी से समझना होगा।


    आप इस दुनिया में है तो आपका कर्म करना ही पड़ेगा। आप सोते-जागते हमेशा कर्म ही करते रहते हैं। कर्म का सम्बंध हमारे शरीर, मन, मस्तिष्क और चित की गति से है। अभी किये गए कर्म के आधार पर ही अगले कर्म का निर्धारण होता है।


    शरीर, मन और वाणी के द्वारा किया गया क्रिया को कर्म कहा जाता है। कर्म तीन प्रकार के होते हैं- संचित, प्रारब्ध और क्रियमाण।


    कई जन्मों में किया गया कर्म संचित कर्म कहलाता है। इसमें पिछले जन्म के कर्म से लेकर इस जन्म में किया गया कर्म शामिल होता है। संचित कर्म का वो भाग जो हमें इस जन्म में भोगना पड़ता है उसमें हम प्रारब्ध कहते हैं। क्रियमाण कर्म उस क्रिया को कहते हैं जो हम अभी कर रहे हैं।


    कर्म करना कितना जरूरी है इसकी महत्ता तुलसीदास ने रामचरितमानस में एक श्लोक में ही बता दिया था- "कर्म प्रधान विश्व करि राखा, जो जस करहि सो तस फल चाखा"। अर्थात आप जैसा कर्म करेंगे वैसा ही फल आपको प्राप्त होगा।


    इसी आधार पर कुछ लोगों के मन में ये सवाल उत्पन्न होता है कि जब सबकुछ पिछले जन्म के आधार पर हो रहा है तो अगर कोई आत्महत्या करता है तो क्या वह पिछले जन्म में किये गए कर्म के आधार पर करता है, क्या ये आत्महत्या पहले ही निश्चित था?


    अगर आप भी यही सोच रहे हैं तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, आत्महत्या निश्चित नहीं होता है क्योंकि ईश्वर ने हमें पिछले जन्म के आधार पर सिर्फ परिस्थियां दी है। जिस पर किसी का अधिकार नहीं होता है। लेकिन भगवान ने हमें मनोस्थिति भी दी है। जो हम पर निर्भर होता है न कि ईश्वर के ऊपर।


    आप अपने मनोस्थिति को जिस तरह उपयोग करेंगे उसका वैसा ही परिणाम भी भुगतना होगा। जब आप कभी अपने दुखों से तंग आकर अवसाद में चले जाते हैं तो आपको लगता है कि अब इस जीवन में कुछ भी नहीं बचा है। अब जी कर क्या करेंगे? इस तरह जीने से तो अच्छा है कि आत्महत्या कर लेता हूँ।


    आपके जिस मन में आत्महत्या करने का विकल्प है उसी मन में तो भगवान की भक्ति करने का भी विकल्प मौजूद होता है। आप आत्महत्या के जगह पर भगवान की भक्ति भी तो कर सकते हैं। मतलब कि आपके पास आत्महत्या और भक्ति दोनों का विकल्प मौजद था। फिर आपने सही रास्ते छोड़कर गलत रास्ते को क्यों चुना?


    आप अपने परिस्थिति को बदल नहीं सकते हैं क्योंकि ये आपके हाथ में नहीं है लेकिन मनोस्थिति को तो बदल सकते हैं वो तो आपके हाथ में है।


    परिस्थितियां जरूर आपके भाग्य से आता है लेकिन आप उन परिस्थितियों को किस तरह संभालते हैं ये केवल आपके मनोस्थिति पर निर्भर करता है। एक बात और आप भली भांति जानते हैं कि मनोस्थिति आपके हाथ में होता है भगवान के हाथ में नहीं।


    आप इस बात को ऐसे समझ सकते हैं कि मान लीजिये कि आप किसी परीक्षा में बैठे हैं। परीक्षा में आपको बहुविकल्पीय प्रश्न आते हैं। आप वहाँ उनमें से किसी एक को चुनने के लिए स्वतंत्र होते हैं। ठीक इसी तरह हमारे साथ भी होता है।


    हमारे मन में हमेशा कुछ न कुछ चलता रहता है। हर रोज हजारों विचार हमारे मन में आते हैं और जाते हैं। कुछ विचार एक बार आकर चले जाते हैं तो कुछ बार-बार आते हैं। जो विचार बार-बार आते हैं उस पर हम अमल करना शुरू कर देते हैं।


    ये विचार कर्म में बदल जाता है। ये विचार अगर सुविचार होंगे तो अच्छे कर्म बन जाते हैं और गलत विचार आते हैं तो गलत कर्म बन जाते हैं। इस तरह हम कह सकते हैं कि हमारे अच्छे और बुरे कर्म हमारे विचारों पर निर्भर करता है।


    मन में कोई न कोई विचार हमेशा आता ही रहता है और हम कर्म के बाद कर्म करते चले जाते हैं। इसलिए अक्सर आप साधु-संतों को ये कहते हुए सुना होगा कि अगर इस जन्म में और अगले जन्म में सुखी रहना चाहते हो तो "मनसा वाचा कर्मणा"। अर्थात कभी किसी का मन से, कर्म से और वचन से बुरा न करो।


    आप अपने परिस्थितियों को कभी बदल नहीं सकते हैं लेकिन अपने कर्म को बदलकर अपना जीवन जरूर बदल सकते हैं। ये सुख और दुख जीवन का अभिन्न हिस्सा है।


    आप अपने भाग्य के निर्माता खुद है। अगर आपका कर्म अच्छा होगा तो आप हर परिस्थिति से लड़ सकते हैं और अगर आपका कर्म बुरा है तो आपके मन में आत्महत्या का ख्याल जरूर आएगा। इसलिए आप समझ गए होंगे कि आत्महत्या भगवान की मर्जी से नहीं होता है बल्कि आपके वजह से होता है।


    इसलिए गरुड़ पुराण में आत्महत्या को महापाप माना गया है। गरुड़ पुराण में आत्महत्या करने वालों के लिए बताया गया है कि उनके आत्मा को कई तरह के कष्ट झेलने पड़ते हैं और उसकी मुक्ति भी आसानी से नहीं हो पाती है।


    ये भी पढ़ें:-● श्रीमद्भागवत गीता का सम्पूर्ण अध्याय आसान शब्दों में।

    स्वामी विवेकानंद जी की प्रेरणादायक कहानी।


    गरुड़ पुराण के अनुसार मृत्यु के बाद आत्मा का क्या हाल होता है | Garud Puran Ki Katha


    कहा जाता है कि मृत्यु मानव जीवन का सबसे बड़ा सत्य है। लेकिन मृत्यु के बाद क्या होता है ये कोई नहीं जानता है। मृत्यु के बाद क्या होता है, आत्मा कैसे शरीर का त्याग करता है, आदमी मरने के बाद कहा जाता है? इन सभी सवालों का जवाब आपको सिर्फ और सिर्फ गरुड़ पुराण में मिलेगा।


    एक बार भगवान विष्णु के सवारी गरुण भगवान से पूछते हैं कि हे प्रभु! आदमी के मरने के कितने दिनों बाद आत्मा यमलोक पहुँचती है? इस बात का जवाब देते हुए भगवान ने कहा कि मनुष्य का आत्मा मरने के 47 दिन बाद यमलोक पहुँचता है।


    आइये आपको बताते हैं कि गरुड़ पुराण के अनुसार इंसान के मृत्यु के 47 दिन तक आत्मा का क्या हाल होता है? इस रहस्य को जानने के लिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।


    गरुड़ पुराण के अनुसार मृत्यु के बाद आदमी का आवाज चली जाती है। जैसे ही मनुष्य का शरीर सांस लेना बंद कर देता है, वैसे ही उसे एक दिव्य दृष्टि मिलती है। ये दिव्य दृष्टि आत्मा को इसलिए मिलती है ताकि वो पूरी दुनिया को एक समान देख सके।


    इसके बाद आत्मा को यमलोक लेन के लिए यमदूत आते हैं। कहा जाता है कि आत्मा को ले जाने के लिए एक नहीं बल्कि दो यमदूत धरती पर आते हैं। यमदूतों को देखते ही आत्मा डर के मारे चीखने चिल्लाने लगता है।


    फिर जैसे ही आत्मा शरीर से बाहर आता है यमदूत उस आत्मा के गले में एक पाशव बांध देते हैं। फिर यमदूत उसे यमलोक लेकर जाते हैं। कहा जाता है कि अगर आत्मा शुद्ध हो तो उसे ले जाने के लिए स्वयं परमात्मा का वाहन लेने आते हैं।


    लेकिन अगर आत्मा बुरे हो तो उसे गर्म रेत और अंधेरे रास्ते से लेकर जाया जाता है। अगर आत्मा ने कोई पाप किया है तो जसे यमलोक पहुँचने के बाद काफी यातनाएं दी जाती है। इसके बाद उस बुरी आत्मा को धरती पर आने के लिए छोड़ दिया जाता है।


    जिसके बाद वो आत्मा अपना अंतिम रस्म खुद अपनी आंखों से देखता है। मौत के 12 दिनों तक आत्मा अपनों के घर में रहती है। फिर 13वें दिन जब उस आत्मा का पिंडदान हो जाता है तो दोबारा यमदूत उसे वापस ले जाने के लिए आते हैं।


    लेकिन आत्मा के लिए इसके बाद का रास्ता काफी कठिन होता है। आपके जानकारी के लिए बता दें कि गरुण पुराण के अनुसार अगर आत्मा को स्वर्ग की प्राप्ति होती है तब तो ये रास्ता काफी आसान होता है, लेकिन अगर आत्मा बुरी है तो उसे बैतरनी नदी को पार करना होता है।


    अब आप सोच रहे होंगे कि बैतरनी नदी क्या होता है? आपके बता दें कि गंगा नदी के रौद्र रूप को बैतरनी नदी कहा जाता है। जी हां आपने बिल्कुल सही सुना। ये गंगा की भयानक और खौफनाक रूप है। कई पुराणों में लिखा गया है कि बैतरनी नदी का जल लाल रंग का होता है। इस नदी में आग के अंगारे होते हैं और इसमें बेहद डरावने जीव पाए जाते हैं।


    कर्मों के अनुसार आत्मा को इस नदी से ले जाया जाता है। अगर आत्मा ने बहुत पाप किया है तो उसे नदी पर घसीटकर ले जाया जाता है। इस दौरान आत्मा को ऐसे लगता है कि जैसे उसको कोई काट रहा हो, उसे कोई जला रहा है, उसके शरीर के टुकड़े किया जा रहा है।


    वहीं पर अगर आत्मा चाहे कितना भी पाप किये हो लेकिन एक भी पूण्य किया है तो उस आत्मा को बैतरनी नदी के ऊपर वाहन से ले जाया जाता है। खासतौर पर अगर महापापी इंसान कभी भी अपने जीवन में एक बार भी गौदान किया हो तो उसे बैतरनी नदी के ऊपर से होकर वाहन के द्वारा ले जाया जाता है।


    आपको बता दें कि बैतरनी नदी का ये सफर 47 दिनों का होता है। कस दौरान पापी आत्मा को कई तरह की यातनाएं झेलनी पड़ती है। 47 दिन के बाद आत्मा बैतरनी नदी को पार कर यमलोक पहुचती है।


    आज से हम है उम्मीद करते हैं कि आप कभी किसी का बुरा नहीं करना चाहेंगे। आप हमेशा सबका भला करने की कोशिश करेंगे। आप अगर अच्छा कर्म करेंगे तो आपके साथ भी अच्छा ही होगा।


    आपको गरुड़ पुराण की कथा सुनकर कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताइयेगा। साथ ही आपको गरुड़ पुराण के अनुसार बताये गए कौन सा बात सबसे अच्छा लगा कमेंट करके जरूर बताइयेगा।

    ये भी पढ़ें:-

    Pubg New State डाउनलोड कैसे करें?

    आग लगा देने वाले मोटिवेशनल फैक्ट्स

    दिमाग हिला देने वाले ट्रेंडिंग तथ्य।

    हैरान कर देने वाले 100 रोचक तथ्य।

    मजेदार रोचक तथ्य।

    Chhath Puja Complete Information In Hindi | छठ व्रत करने का नियम और पूजा विधि

    Chhath Puja Complete Information In Hindi | छठ व्रत करने का नियम और पूजा विधि

    छठ पूजा करने का नियम और सम्पूर्ण पूजा विधि, सामग्री 2021 | Chhath Puja Vidhi In Hindi


    नमस्कार दोस्तों! हमलोगों का सबसे प्यारा पर्व अर्थात महापर्व के नाम से मशहूर छठ पूजा की तैयारी जोरों पर है। ये पर्व ही ऐसा है कि कोई चाह कर भी इसको मिस करना नहीं चाहता है। ये पर्व तो मानो सभी हिंदुओं के दिलों में बस गया है। हर कोई इस पर्व को लेकर इतना उत्साहित रहता है कि उसके इस उत्साह का अंदाजा कोई नहीं लगा सकता है।


    ये पर्व हम सबको जितना खुशी देता है उतना शायद ही कोई पर्व खुशी देता है। लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि हर साल लाखों महिलाएं छठ पूजा का व्रत पहली बार करती है। उनको अच्छे से पता नहीं होता है कि छठ पूजा कैसे करें?


    ऐसे में हम सभी को महापर्व छठ पूजा की विधि और उसके पूजा के बारे में जान लेना अतिआवश्यक है। आप सभी जानते हैं कि हमें कोई पूजा का फल तभी प्राप्त होता है जब हम उसे पूरी विधिपूर्वक करें।


    तो आइए हम सभी छठ पूजा के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से जानते हैं।


      Chhath Puja Kab Hai 2021 | छठ पूजा कब है 2021?


      जैसा कि आप जानते होंगे कि छठ पूजा की शुरुआत कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के चतुर्थी तिथि से शुरू होता है। इस साल हम सभी का सबसे प्यारा छठ पूजा सोमवार अर्थात 8 नवम्बर से नहाय-खाय के साथ शुरू होगा। इसके बाद पंचमी तिथि अर्थात 9 नवम्बर दिन- मंगलवार को खरना है।


      फिर 10 नवम्बर अर्थात बुधवार के दिन सायंकाल में सूर्य भगवान को पहला अर्घ्य दिया जाएगा। 11 नवम्बर दिन- गुरुवार को सप्तमी तिथि को सुबह में सूर्य को अंतिम अर्घ्य दिया जाएगा। सूर्य भगवान को अंतिम अर्घ्य देने के बाद पारणा के साथ इस व्रत का समापन होता है। ये पर्व पूरे चार दिन का होता है।


      छठ पूजा का पर्व क्यों मनाया जाता है?


      छठ पूजा का व्रत बहुत ही सुखदाई और मनवांछित फल देने वाला होता है। ये व्रत संतान की सुरक्षा, पति की सुरक्षा और घर की सुरक्षा से किया जाता है। खासकर के सन्तान की सुरक्षा के लिए तो ये व्रत जरूर करना चाहिए।


      अगर आपका कोई संतान नहीं है तो भी आपको ये व्रत संतान प्राप्ति के लिए अवश्य करना चाहिए। छठ मैया की कृपा से आपको संतान का सुख अवश्य प्राप्त होगा।


      इसके अलावा कुष्ठ रोगियों को ये व्रत जरूर करना चाहिए। छठ का व्रत कुष्ठ रोगियों को अपने रोग के निवारण के लिए जरूर करना चाहिए। छठ पूजा का व्रत कई तरह के बीमारियों को दूर करता है।


      कुंवारी लड़कियां छठ व्रत कर सकती है कि नहीं?


      छठ पूजा कुंवारी कन्यायें नहीं करती है। यह व्रत शादीशुदा महिलाओं को ही करना चाहिए। हाँ यदि किसी लड़की का कोई विशेष मन्नत है तो कर सकती है। लेकिन इसके लिए बड़े-बुजुर्गों का सलाह अवश्य लेना चाहिए।


      छठ व्रत कैसे छोड़े? छठ व्रत छोड़ने का नियम


      आप सभी जानते हैं कि छठ व्रत करना कितना कठिन होता है। हर कोई के लिए इस पर्व को कर पाना आसान नहीं होता है। ऐसे में अगर कोई आदमी शारीरिक रूप से अस्वस्थ है या फिर वो छठ पूजा कर पाने में असमर्थ हो रहे हैं तो ऐसे लोगों को अपने बहु बेटियों को छठ व्रत दे सकती है।


      अब आप ये जानने के लिए उत्सुक होंगे कि छठ व्रत कैसे छोड़ा जाता है? आइये विस्तार से आपको बता देते हैं। अगर आपकी कोई बहु है तो सास को अपने बहु के साथ छठ व्रत करना होगा।


      फिर आप जितने सूप में अर्घ्य देती हैं उतना सूप आप जिसको देना चाहती है अर्थात अपने बहु को दे दें। कुछ लोग पंडित जी को भी बुलाकर उनसे छठ व्रत दूसरे को दिलवा देते हैं। आप चाहे तो ऐसा भी कर सकती है।


      अगर आपके घर में कोई बहु बेटी छठ लेने के लिए नहीं है तो फिर आप पंडितजी को बुलाकर पूजा अर्चना कर भगवान को प्रणाम करके आप जो अर्घ्य देती है उसका एक सूप पानी में बहा दीजिये। इस तरह भी आप छठ व्रत को छोड़ सकते हैं।


      ये था छठ व्रत छोड़ने का नियम। अगर आप कभी छठ व्रत करने में असमर्थ होते हैं तो आप इस नियम के अनुसार छठ व्रत छोड़ सकती है।


      ये भी पढ़ें:-● 100 हैरान करने वाले मनोवैज्ञानिक तथ्य

      PUBG Game डाउनलोड कैसे करें?

      50 मोटिवेशनल फैक्ट्स जरूर जाने।


      छठ व्रत कैसे किया जाता है? Chhath Puja Kaise Kare In Hindi

      Chhath puja, chhath puja kaise manaya jata hai
      Chhath Puja

      छठ पूजा के समय अपने पूरे घर को अच्छे से सफाई जरूर करें। खास करके आप छठ पूजा का जहाँ खाना बनाएगी उस जगह को अच्छे से जरूर साफ करना चाहिए।


      एक बात खास करके ध्यान देना चाहिए कि आप जिस चूल्हे पर कभी मांसाहारी भोजन बनाये हुए हैं उस पर भूलकर भी छठ व्रत का कोई भी प्रसाद नहीं बनाना चाहिए। हो सके तो आप छठ व्रत के लिए कोई अलग से नया चूल्हे का उपाय कर लें।


      छठ पूजा करने वाले लोग दीपावली के दिन से ही लहसुन और प्याज खाना छोड़ देते हैं। बहुत सारे लोग पूरे कार्तिक मास में लहसुन प्याज का सेवन नहीं करते हैं। आप चाहे तो ऐसा कर सकती है या फिर कम से कम दीपावली के बाद से लहसुन प्याज नहीं खाना चाहिए।


      फिर नहाय खाय के दिन आपको अच्छे से अपने बालों को धोकर नहा लेना चाहिए। इस दिन आपको नदी या तालाब में ही नहाना चाहिए। अगर आपके पास कोई नदी या तालाब नहीं है तो पानी में गंगाजल मिलाकर स्न्नान करें। नहाने के बाद पूजा-पाठ करने के बाद ही भोजन करना चाहिए। आपको नहाय खाय के दिन क्या नहीं खाना चाहिए आइये जानते हैं।


      नहाय-खाय के दिन क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए?


      जो लोग छठ व्रत करते हैं वे अच्छे तरह से जानते होंगे कि इस व्रत में नहाय-खाय का कितना बड़ा महत्व होता है। इसलिए आपको क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए आइये पूरी विस्तार से जानते हैं।


      छठ व्रत में नहाय खाय के दिन भूलकर भी अपने खाने में लहसुन प्याज और मसूर के दाल का उपयोग नहीं करना चाहिए। मसूर के दाल को पूजा के लिए शुद्ध नहीं माना जाता है। इसके अलावा आप बैगन, मूली और कद्दू का सेवन बिल्कुल भी न करें। छठ व्रत करने वालों के लिए नहाय-खाय के दिन सरसों तेल का भी उपयोग नहीं करना चाहिए।


      अगर आप नहाय-खाय के दिन शुद्ध घी का उपयोग करते हैं तो काफी बढ़िया है लेकिन कुछ लोग घी नहीं खरीद सकते हैं तो आपको इस दिन रिफाइंड तेल या सूर्यमुखी के तेल में खाना बनाना चाहिए। इस दिन आपको चने का दाल या फिर अरहर का डाल जरूर बनाना चाहिए।


      आपको इस दिन लौकी का बना हुआ सब्जी जरूर खाना चाहिए, क्योंकि नहाय-खाय के दिन लौकी के सब्जी को बहुत शुभ माना जाता है।


      पीरियड या मासिक धर्म में छठ व्रत कैसे करें?


      अगर आपके पीरियड का पांचवा दिन है तो ही आपको छठ व्रत करना चाहिए, क्योंकि पीरियड के 5वें दिन से देवी का पूजा शुरू हो जाता है। अगर आपके पीरियड का तीसरा दिन या अभी पहला और दूसरा है तब तो आपको अर्घ्य नहीं देना चाहिए, क्योंकि देवताओं का पूजा पीरियड के 7वें दिन के बाद ही किया जाता है।


      अगर आपको अर्घ्य देना ही है तो आप किसी और से अर्घ्य दिलवा सकती है। आप पीरियड के दौरान आप छठ व्रत हर काम कर तो सकती है लेकिन पूजा पाठ से थोड़ी दूरी बनाये रखें। अगर पीरियड के 5 दिन हो गए हैं तो आप पूजा भी कर सकती है।


      लेकिन पीरियड के 5वें दिन या उससे कम दिन पर सूर्य देव का अर्घ्य नहीं दिया जाता है। नियम के अनुसार पीरियड के 7वें दिन के बाद से अर्घ्य देना शुभ रहेगा। लेकिन अगर आपके पीरियड का 6 दिन बीत गए हैं और आप अर्घ्य देना चाहती है तो छठे दिन भी अर्घ्य दे सकती है।


      छठ पूजा का व्रत कैसे किया जाता है - सम्पूर्ण पूजा विधि


      अगर आप छठ पूजा का व्रत करने जा रही है तो आपको छठ पूजा का नियम भी अवश्य पता होना चाहिए। अगर आपको पूरे अच्छे तरह से ये पता नहीं है कि छठ पूजा का व्रत कैसे करें तो आइए हम आपको छठ पूजा की सम्पूर्ण विधि के बारे में पूरी विस्तार से बताते हैं।


      छठ पूजा के लिए सबसे जरूरी होता है उसका सामग्री इकट्ठा करना। आइये छठ पूजा का सामग्री के बारे जानते हैं।


      नहाय - खाय पूजा सामग्री: चावल, चने का दाल या अरहर का दाल, घी, मसाला, लौकी, सेंधा नमक या नमक और हल्दी।


      नहाय खाय का प्रसाद: इस दिन नहा-धोकर आपको ऊपर बताये गए पूजा सामग्री से चावल दाल और लौकी का सब्जी बना लेना है। फिर छठ मैया को भोग लगाकर ही खुद खाना खाएं और घरवालों को खिलाये।


      खरना के दिन का छठ पूजा सामग्री: साठी का चावल, आटा, मीठा और रोज का पूजा समान।


      खरना के दिन का प्रसाद: इस दिन व्रतियों को कांच की चूड़ियां या लहठी, लाल या पिला रंग का कोई भी वस्त्र पहनकर ही पूजा करना चाहिए। साठी के चावल का खीर और रोटी बनने के बाद आपको पुनः छठ मैया को पूजा करके भोग लगाकर केवल खीर और रोटी का प्रसाद ग्रहण करना चाहिए।


      छठ पूजा सामग्री लिस्ट इन हिंदी


      बांस का टोकरी या डलिया, बांस या पीतल के सूप, सिंदूर, बड़ी इलायची, ठेकुआ, सेब, संतरा, पानीफल, शरीफा, केला, पानी वाला नारियल, अनानास, अमरूद, मीठा नींबू, खट्टा नींबू, हल्दी का पौधा, अदरक का पौधा, अरूई, सुथनी, गन्ना, मीठा/गुड़, लड्डू, लोटा, दूध, शहद, घी, आटा, पान, सुपारी, मूली, कद्दू, बोरी, माचिस, अगरबत्ती, नए कपड़े इत्यादि।


      ध्यान रहे कि आप जिस बांस के डलिया में छठ पूजा का पूरा समान रख रहे हैं वो पूरी तरह सजा होना चाहिए और ढँका हुआ होना चाहिए।


      छठ व्रत का अर्घ्य कैसे देना चाहिए?


      जितने भी व्रती लोग हैं उनको घाट पर जाने के बाद एक लोटे में गंगाजल या पानी में सिंदूर और फूल डालकर पानी में खड़े होकर सूर्यदेव को जल दें। फिर इसके बाद अगरबत्ती जलाकर वहाँ पूजा आरती करें।


      इसके बाद आपने जितना कलसुप लिया है उन सबको लेकर एक-एक करके पानी में खड़े होकर सूर्य की ओर मुह करके परिक्रमा करना चाहिए।


      इसके बाद आपको छठ मैया के पास बैठकर उनकी सच्चे मन से पूजा करें। अर्घ्य देने और पूजा करने के बाद शाम को वापस अपने घर आ जाएं। अगर आप कोसी भरती है तो गन्ने के मदद से अपने घर पर छठ मैया का कोसी भरें। आप ये काम छठ घाट पर या अपने घर पर भी कर सकती है।


      आपको अभी कुछ भी खाना-पीना नहीं है। इसके बाद आपको सुबह सूर्य निकलने से पहले 4 या 5 बजे उठकर नहा धोकर पूजा की तैयारी कर लें। पूजा की तैयारी करने के बाद छठ घाट पर जाएं।


      यहाँ आपको पुनः छठ मैया का पूजा करना है और अर्घ्य देने की तैयारी करें। सुबह अर्घ्य देने के लिए आपको गाय के दूध की आवश्यकता होगी, क्योंकि सुबह में सूर्य का अर्घ्य गाय के दूध से ही दिया जाता है।


      सुबह के समय सूर्य निकलने के बाद उनके तरफ मुह करके गाय के दूध से अर्घ्य दें। अर्घ्य देने के बाद महिलाओं को नाक से लेकर मांग तक 5 बार सिंदूर लगाना चाहिए। इसके बाद आपको अपने घर आ जाना है।


      घर आकर आपको पारणा करना चाहिए। इतना करने के बाद आपका छठ व्रत पूरा हुआ।


      हमें पूरी उम्मीद है कि आपको छठ पूजा का सम्पूर्ण नियम पता चल गया होगा। साथ ही आप ये भी जान गए होंगे कि छठ पूजा कैसे किया जाता है?


      अगर आपको छठ पूजा के बारे में कोई और जानकारी प्राप्त करना है तो कमेंट करके जरूर पूछिएगा। आप सभी को हमारे तरफ से छठ पूजा की ढेरों शुभकामनाएं।


      FAQ About Chhath Puja 2021 In Hindi


      1. 2021 में कार्तिक छठ पूजा कब है?

      Ans: 8 नवम्बर को नहाय खाय, 9 नवम्बर को खरना, 10 नवंबर को सायंकाल का अर्घ्य और 11 नवम्बर को पारणा।

      2. छठ पूजा में सूप का क्या महत्व है?

      Ans: सूप के द्वारा ही सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। सूप के बिना छठ पूजा अधूरा है।

      3. छठ पूजा का खरना कब है?

      Ans: मंगलवार 9 नवंबर 2021 को

      4. पीरियड में छठ व्रत कर सकते हैं कि नहीं?

      Ans: हाँ।

      ये भी पढ़ें:-

      टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच कैसे देखें?

      हैरान कर देने वाले 100 रोचक तथ्य।

      आईपीएल 2022 की हर नई जानकारी

      एजुकेशन लोन कैसे लें?

      Aus vs NZ T20 World Cup 2021 का फाइनल मैच लाइव कैसे देखें फ्री में

      Aus vs NZ T20 World Cup 2021 का फाइनल मैच लाइव कैसे देखें फ्री में

      Mobile Par T20 World Cup Ka Final Match Live Kaise Dekhe | Aus vs NZ Final Match Kaise Dekhe


      दोस्तों, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि क्रिकेट का महाकुंभ अपने चरम सीमा पर है। हर टीम T20 World Cup जीतने के लिए अपनी जान लगाने को तैयार है। ग्रुप मैच और सेमीफाइनल मैच खत्म होने के बाद आप सभी लोगों की धड़कनें फाइनल मुकाबले पर टिका हुआ है।


      हर कोई का एक-एक गेंद का मैच लाइव देखने के लिए बेताब हैं। बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो मैच देखने के लिए महंगे रिचार्ज करवाने में असमर्थ है।


      हर कोई आपको बस यहीं बताता होगा कि वर्ल्ड कप कैसे देखें? लेकिन हम आपको यहाँ बताने वाले हैं कि Free Me T20 World Cup Final Match Live Kaise Dekhe?


      आपको यहाँ पर जितने भी तरीके बताए जाएंगे वो सब बिल्कुल फ्री होंगे। जिसके मदद से आप टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फ्री में देख सकते हैं।


      लेकिन आप नहीं जानते हैं कि T20 World Cup Final Match Live Kaise Dekhe तो आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है। आइये हम आपको बताते हैं कि टी20 वर्ल्ड कप 2021 का फाइनल मैच लाइव फ्री में कैसे देखे?


      How To Watch T20 World Cup Final Match Live For Free In Hindi

        टी20 वर्ल्ड कप 2021 का ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड फाइनल मैच मोबाइल पर लाइव कैसे देखें?

        Icc t20 world cup 2021 final live, t20 world cup live kaise dekhe
        ICC Men's T20 World Cup 2021

        दोस्तों, हम आपको टी20 वर्ल्ड कप 2021 का फाइनल मैच लाइव देखने के लिए नीचे बहुत सारे ऑप्शन बता रहे हैं। आपको जो भी तरीका पसंद आये उसके मदद से न सिर्फ आप T20 World Cup Final Match Live देख सकते हैं, बल्कि कोई भी Live Streaming फ्री में देख सकते हैं।


        सबसे बड़ी खास बात ये होगी कि यहाँ पर जितने भी तरीके बताए जाएंगे उसमें आपको कोई भी Live Streaming देखने के लिए किसी भी तरह का फीस नहीं देना होगा।


        तो आइए जानते हैं कि T20 world cup 2021 final match free me live kaise dekhen?


        Hotstar Par Free Me World Cup Final Match Live Kaise Dekhe


        Jio Users टी20 वर्ल्ड कप फाइनल फ्री में कैसे देखें?

        दोस्तों, अगर आप जिओ का सिम कार्ड use करते हैं तो आइए आपको बताते हैं कि आप टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फ्री में कैसे देखे? जिओ यूजर्स के लिए कम्पनी ने कई सारे ऐसे ऑफर दिए हैं जिसके मदद से उनका रिचार्ज भी हो जाएगा और वे फ्री में वर्ल्ड देख भी देख सकते हैं।


        सभी जिओ यूजर्स के लिए JIO TV वर्ल्ड कप लाइव देखने का सबसे बेस्ट ऑप्शन है। ये App आपको Google Play Store में बिल्कुल मुफ्त मिल जाएगा फिर आप नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके डाउनलोड कर सकते हैं।


        Jio Disney Plus Hotstar VIP Plan

        अगर आप jio यूजर्स है तो आपको 499 के रिचार्ज पर फ्री कालिंग, 100 SMS और 3GB डेटा + 6GB डेटा हर रोज मिलेगा। इसके अलावा आपको डिज़नी प्लस हॉटस्टार का फ्री मोबाइल सब्सक्रिप्शन की सुविधा भी मिलेगा। जिसके मदद से आप t20 world cup का final match live बिना किसी रुकावट के देख सकते हैं। इस प्लान की वैधता पूरे 28 दिन की होगी।


        ● टी20 वर्ल्ड कप लाइव देखने के लिए जिओ का 549 का रिचार्ज प्लान सबसे बेस्ट प्लान है। जिसमें आपको 56 दिन के लिए फ्री कालिंग और 1.5GB डेटा के साथ Disney+Hotstar का फ्री सब्सक्रिप्शन मिलेगा। ये प्लान आपके लिए सबसे बेस्ट है, क्योंकि आपको ऐसे भी 56 दिन के रिचार्ज के लिए 500 से अधिक रुपये खर्च करने पड़ते।


        ● अगर आप 666 रुपये का रिचार्ज करवाते हैं तो आपको फ्री कालिंग और sms की सुविधा के अलावा 2GB डेटा प्रतिदिन मिलेगा। इसके अलावा आपको Hotstar का फ्री सब्सक्रिप्शन भी मिलेगा। जिसके मदद से आप आसानी से सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबला फ्री में देख सकते हैं।


        ● अगर आप 84 दिन की वैधता वाला कोई रिचार्ज प्लान जानना चाहते हैं तो आपको 888 रुपये का रिचार्ज करवाना होगा। जिसमें आपको 84 दिनों के लिए फ्री कॉलिंग और sms के अलावा 2GB डेटा हर रोज मिलेगा। इसके अलावा आपको Disney+Hotstar का फ्री सब्सक्रिप्शन भी मिलेगा।


        तो दोस्तों जिओ यूजर्स के लिए ये था hotstar पर फ्री में वर्ल्ड कप का फाइनल मैच देखने का तरीका


        AirTel यूजर्स वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फ्री में लाइव कैसे देखें?

        दोस्तों, अगर आप airtel के ग्राहक है तो आइए आपको बताते हैं कि टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फ्री में लाइव कैसे देखे?


        Airtel Hotstar offer 2021

        ● अगर आप AirTel के उपभोक्ता है तो 499 रुपये का रिचार्ज प्लान आपके लिए सबसे बेस्ट रहेगा। इस रिचार्ज प्लान में आपको फ्री कालिंग और sms की सुविधा के अलावा 3GB डेटा प्रतिदिन मिलेगा।


        इसके अलावा आपको फ्री में Disney+Hotstar का सब्सक्रिप्शन भी मिलेगा। जिसके मदद से आप फ्री में वर्ल्ड कप का सभी मैच देख सकते हैं।


        ● 699 का रिचार्ज प्लान: इस प्लान में आपको 56 दिनों के लिए मुफ्त कालिंग और sms की सुविधा के अलावा दो महीने के लिए Disney+Hotstar का फ्री सब्सक्रिप्शन भी मिलेगा।


        ये दो तरीके हैं जिसके मदद से आप फ्री में वर्ल्ड कप के सभी मैचों के आनंद ले सकते हैं।


        ये भी पढ़ें:-● आईपीएल 2022 का नया नियम सबकुछ बदल गया।

        नया PUBG फ्री में डाउनलोड कैसे करें?

        50 मोटिवेशनल फैक्ट्स जरूर जानें


        Pikashow App: फ्री में टी20 वर्ल्ड कप लाइव देखने का बेस्ट तरीका


        दोस्तों, अब जो तरीका आपको बताने वाले हैं वो चाहे आप jio यूजर है या फिर airtel यूजर है या फिर VI यूजर सभी के लिए बिल्कुल फ्री होगा। आप जिस App के बारे में जानने वाले हैं उसके लिए आपको किसी भी तरह का रिचार्ज करने की कोई आवश्यकता नहीं होगी


        बस आपके मोबाइल फोन में नेट (Data) होना चाहिए। फिर आप बिल्कुल ही मुफ्त ही वर्ल्ड का फाइनल मुकाबला देख सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला फ्री में लाइव कैसे देखे?


        ● आपको सबसे पहले Pikashow App को डाउनलोड करना होगा।
        ● ये App आपको गूगल प्ले स्टोर पर नहीं मिलेगा। इसके लिए आप नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके बिल्कुल ही आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।
        Pikashow App Download Link


        ● डाउनलोड करने के बाद आपको इसे install कर लेना है। इसके बाद आपको इसे open करना है।
        ● फिर इसके बाद आपको सबसे नीचे Bollywood, Hollywood, Series और Live TV के चार ऑप्शन देखने को मिलेगा।
        ● इसमें आपको Live TV पर क्लिक कर देना है।
        ● इसके बाद आपके सामने सबसे ऊपर Multi, 720p, 480p और Star Sports का ऑप्शन दिखाई देगा।
        ● आप इनमें से किसी भी ऑप्शन पर क्लिक करके वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला आसानी से फ्री में देख सकते हैं।


        NT TV App: टी20 वर्ल्ड कप देखने वाला सबसे बेस्ट ऐप


        दोस्तों, आपके लिए एक और धांसू App लेकर आये हैं जिसके मदद से आप आसानी से टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच लाइव देख सकते हैं। NT TV App कैसे डाउनलोड करें ताकि आपकी T20 World Cup Final Match Live Kaise Dekhe वाली समस्या दूर हो जाये। तो आइए इसके बारे में पूरी विस्तार से जानते हैं।


        ● ये App आपको Google Play Store पर नहीं मिलेगा। इस App को डाउनलोड करने के लिए आपको नीचे दिए लिंक पर क्लिक करना होगा।
        ● इसे download करने के बाद आपको install कर लेना है।
        ● फिर इसे open करना है। आप जैसे ही इसे open करेंगे आपको सबसे ऊपर ही ICC Men's T20 World Cup 2021 का ऑप्शन दिख जाएगा।
        ● आप इस पर क्लिक करके बिल्कुल ही मुफ्त में टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच लाइव देख सकते हैं।

        NT TV Apk Free Download link


        Thop TV Par T20 World Cup Final Live Kaise Dekhe


        दोस्तों आप इस App के बारे में तो जरूर सुने होंगे। अगर नहीं जानते हैं तो आपको बता दें कि Free Live Streaming के लिए ये App बहुत ही चर्चित है। इस App के मदद से न सिर्फ आप वर्ल्ड कप के फाइनल मुकाबले का मजा ले सकते हैं, बल्कि किसी भी लाइव शो को बिल्कुल मुफ्त में देख सकते हैं


        आप इस App के मदद से टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच लाइव कैसे देख सकते हैं, आइये विस्तार से जानते हैं।


        ● आपको सबसे पहले इस app को डाउनलोड कर लेना है।
        ● इसके बाद आप इसे open कर लेना है। जहाँ पर आपको ऊपर ही Live Show के कई सारे ऑप्शन दिख जाएगा।
        ● आपको ICC T20 world cup 2021 के ऑप्शन पर क्लिक कर लेना है। इतना करते ही आप आसानी से वर्ल्ड कप का कोई भी मैच आसानी से देख सकते हैं।

        Thop TV Apk Download Link


        TV पर फ्री में टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच लाइव कैसे देखें?


        दोस्तों, अगर आपका Dish TV रिचार्ज वाला है और आप इसका मंथली रिचार्ज करवाने में सक्षम है तब तो आपको वर्ल्ड कप लाइव देखने में कोई दिक्कत नहीं होगी। बस आपको Star Sports1 चैनल पर चले जाना है। वहाँ पर आप आसानी से वर्ल्ड कप का सभी मैच लाइव देख सकते हैं।


        लेकिन अगर आप डिश टीवी के महंगे रिचार्ज करवाने में सक्षम नहीं है और आपके घर फ्री वाला setup box लगा हुआ है तो भी आप आसानी से बिल्कुल मुफ्त में टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच देख सकते हैं।


        इसके लिए आपको कुछ नहीं करना है बस आपको अपने TV पर DD Sports चैनल को ढूंढना है और आपका Free Me T20 World Cup Final Match Live Kaise Dekhe से सम्बंधित हर समस्या दूर हो जाएगी।


        दोस्तों, ये कुछ तरीके थे जिसके मदद से आप आसानी से टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच बिल्कुल फ्री में लाइव देख सकते हैं।


        अगर आपको हमारा इस पोस्ट में Free Me T20 World Cup Final Match Live Kaise Dekhe से सम्बंधित दी गयी जानकारी पसंद आई हो तो कमेंट बॉक्स में लिखना न भूलियेगा।


        FAQ About T20 World Cup 2021


        1. टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच कब है?

        Ans: 14 नवम्बर 2021 को शाम 7:30 बजे से।

        2. टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल मैच कहाँ खेला जाएगा?

        Ans: दुबई, यूएई

        3. टी20 वर्ल्ड कप 2021 का सेमीफाइनल मैच कब होगा?

        Ans: 10 और 11 नवंबर 2021 को।


        ये भी पढ़े:-

        SBI से घर बैठे लोन कैसे लें? 

        100 दिमाग हिला देने वाले साइकोलॉजी फैक्ट्स।

        सबसे बेस्ट हेल्थ इंश्योरेंस कैसे लें?

        टी20 वर्ल्ड कप से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल।


        Disclaimer:- We only provide detailed tutorials about Android apps. We do not host any APK files. We are not promoting any of the content. We are just providing the information which is available on google. Hotstar is a genuine platform where you can watch T20 World Cup.

        50 Amazing Motivational Facts In Hindi | मोटिवेशनल कोट्स इन हिंदी

        50 Amazing Motivational Facts In Hindi | मोटिवेशनल कोट्स इन हिंदी

        50+ Best Motivational Facts In Hindi | जीवन बदलने वाली बातें


        दोस्तों, आज हम आपको 50 से भी अधिक ऐसी मोटिवेशनल फैक्ट्स इन हिंदी के बारे में बताने वाले हैं जिसे जानने के बाद आपको अपने लक्ष्य की प्राप्ति किये बगैर चैन नहीं आने वाली है।


        ये Motivational Facts In Hindi आपके सोच को बदल सकती है। इस पोस्ट में आपके लिए ऐसी बातें बताई गई है जिसे जानना आपके लिए बेहद आवश्यक है। तो आइए बिना देर किए इस अनमोल वचन को शुरू करते हैं।


        Motivational Facts For Students In Hindi | अनमोल वचन इन हिंदी


        1. अच्छी किताबें और अच्छे दोस्त किसी को जल्दी समझ में नहीं आता है। इसलिए जितना जल्दी हो सके इनको पढ़ लो।

        2. अपने आप को अपने लक्ष्य के प्रति इतना जागरूक और व्यस्त बनाओ कि कभी गर्लफ्रैंड का ख्याल ही नहीं आये। हो सके तो अपने किताब को ही अपना प्यार बना लो। किताब आपको जीवन भर धोखा नहीं देगी।

        3. कभी भी निंदा ने घबड़ाकर अपने लक्ष्य को नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि लक्ष्य हासिल होते ही निंदा करने वालों की राय बदल जाती है।

        4. जिंदगी में ऐसा भी वक्त आएगा जब तुमको लगेगा कि सबकुछ खत्म हो गया। लेकिन एक बात याद रखना मेरे दोस्त आपके इतिहास रचने का समय शुरू होने ही वाला है।

        5. जीत हासिल करना हो तो अपनी काबिलियत बढाओ वरना किस्मत की रोटी तो कुतों को भी मिल जाता है।

        6. विरासत के दौलतमंद क्या जाने मेहनत का नशा, जिंदगी तो उसे कहते हैं जो खुद के दम पर जी जाती है।

        7. कभी कोशिश करते हुए हार नहीं मानना चाहिए, क्योंकि दुनिया नतीजों का इनाम देती है कोशिशों का नहीं।

        8. जिंदगी में इतने काबिल बन जाओ की अपने बारात में किसी दूसरे की कार ले जाने की आवश्यकता न पड़े।

        9. आज की गंवाई हुई नींद आपको कल अच्छे से सोने का मौका देगा।

        10. खुद को हमेशा खरा सोना जैसा बनाइये ताकि नाली में गिरने पर भी उसके कीमत में कोई बदलाव नहीं हो।

        11. जिस काम को करने में आपका मन नहीं लग रहा हो समझ लीजिए कि उसी काम को करने से आपको सफलता हासिल होगी।

        12. देखा हुआ सपना हमेशा के लिए सपना ही रह जायेगा। अगर उसे पूरा करने के लिए कोशिश नहीं किया जाए।

        13. न कभी Ex के पीछे भागो और न कभी Next के पीछे भागो। भागना ही है तो अपने Best के पीछे भागो वरना लोग आपको Waste समझने लगेंगे।

        14. पेड़ पर बैठा पक्षी कभी भी पेड़ का डाल हिलने से नहीं डरता है क्योंकि पंक्षी को डाल पर नहीं अपने पंखों पर भरोसा होता है।

        15. यदि आपको अपने आप पर विश्वास है तो फिर दुनिया की कोई भी ताकत आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है।


        Motivational Facts About Life In Hindi | ज्ञान की बातें

        16. जब कोई आपकी बुराई करता है तो आप दुःखी होते हैं और जब कोई आपका तारीफ करता है तो आप खुश होते हैं। इसका मतलब ये हुआ कि आपके जीवन का स्विच किसी और के हाथ में है। इसलिए खुश रहना चाहते हो तो इन सबसे जल्दी छुटकारा पा लो।

        17. कभी भी अपने बच्चों की बुराई या बेइज्जती सबके सामने नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से आपके बच्चे सुधरने के बजाय और बिगड़ते हैं। एक बात और सुधरना आपके बच्चे को है किसी और कोई नहीं।

        18. जीवन में कभी भी किसी को बेकार नहीं समझना चाहिए, क्योंकि बंद पड़ी घड़ी भी दिन में दो बार सही टाइम बताती है।

        19. अपने दुःख से कभी हार नहीं मानना चाहिए, क्योंकि क्या पता किस समस्या या दुःख के अंदर आपकी महान शुरुआत छिपी हुई हो। एक बात हमेशा ध्यान रखें हर अंधेरे के पीछे उजाला जरूर आता है।

        20. अगर बुरे लोग किसी के समझाने से जल्दी समझ जाते तो बांसुरी बजाने वाले कृष्ण को महाभारत कराने की जरूरत नहीं पड़ती।

        21. अपने बेटी को कभी चांद जैसा मत बनाइये बल्कि उसे तो सूरज के जैसा बनाइये, ताकि किसी के घूरने से पहले उसका नजर झुक जाए।

        22. कभी अपने सपने के बारे में लोगों को मत बताओ, बल्कि उसे पूरा करके दिखाओ क्योंकि लोग सुनना कम देखना अधिक पसंद करते हैं।

        23. सफलता की आदत बना डालो वरना वक्त थोड़ा सा भी साथ क्या छोड़ेगा लोग आपके काबिलियत पर ही शक करना शुरू देंगे।

        24. दौलत तो विरासत में मिल जाएगी लेकिन पहचान तो अपने दम पर ही बनानी पड़ेगी।

        25. मन में जब भी हार मानने का सवाल आये एक बात याद जरूर करना "अभी तो मुझे कई लोगों को गलत साबित करना है।"


        ये भी पढ़ें:-● Trending Facts In Hindi.

        Mysterious Facts In Hindi.

        IPL 2022 Mega Auction Date, Rules In Hindi.


        26. जो लोग अंदर से मर जाते हैं अक्सर वहीं लोग दूसरों को जीना सिखाते हैं।

        27. बात आदर और संस्कार की होती है वरना जो दूसरों की सुन सकता है वो दूसरों को सुना भी सकता है।

        28. असली मजा तो अपनी पहचान बनाने में होती है, वरना दूसरों की परछाई बनने पर तो कोई शक्ल भी नहीं देखता।

        29. ज्यादा बोलने पर लोग आपकी कद्र करना भूल जाते हैं। इसलिए एक बात याद रखना "आप जितना कम बोलेंगे लोग आपको उतना ही सुनना चाहेंगे।"

        30. हर बात दिल पर लगाओगे तो रोते रह जाओगे, इसलिए जो जैसा है उसके साथ वैसा बनना सीख जाओ।


        Motivational Thoughts In Hindi | सुविचार हिंदी में


        31. एक बात हमेशा याद रखना "हर काम आसान होता है, बस आपके अंदर उसे करने का जुनून होना चाहिए।"

        32. गुलामी की इतनी भी आदत न पालो कि आप अपनी ताकत ही भूल जाओ।

        33. अगर आप सही हो तो उसे सही साबित करने की कोशिश मत करो। बस हमेशा सही बने रहो वक्त खुद ही समय पर गवाही दे देगा।

        34. जीवन में गिरना भी बहुत जरूरी होता है ताकि आपके पास उठने के अलावा और कोई option ही न बचें।

        35. ये जिंदगी है जनाब यहाँ बादाम खाने से जितना अक्ल नहीं आती उतना धोखा खाने से आती है।

        36. किसी भी काम में सफल होना चाहते हैं तो उसको अंतिम समझकर करें। एलन मस्क ने सबकुछ खोकर भी SpaseX को सफल बनाने के लिए अंतिम प्रयास किया था।

        37. दुनिया के सबसे मशहूर कॉमेडियन चार्ली चैपलिन ने कहा था कि आईना इंसान का सबसे खास दोस्त है, क्योंकि एक आईना ही है जो आपको दुखी देखकर कभी खुश नहीं होता।

        38. जो व्यक्ति खुद पर काबू करना सीख गया समझ लो वो जीवन में कुछ भी हासिल कर सकता है।

        39. अकेले होना और अकेले रोना कई बार इंसान को बहुत मजबूत बना देता है।

        40. कदमों की रफ्तार भले ही धीमी हो लेकिन खुद के दम पर होना चाहिए।

        41. अगर जिंदगी में सफल होना है तो पैसों को हमेशा अपनी जेब में रखना दिमाग में नहीं।

        42. मुश्किल हमेशा बेहतरीन लोगों के नसीब में आता है क्योंकि वे लोग ही उसे बेहतरीन तरीके से अंजाम देने की ताकत रखते हैं।

        43. जब लोग आपसे खफा होम लग जाये तो समझ जाएं कि आप बिल्कुल सही राह पर है।

        44. इससे पहले कि आपकी बुरी आदतें आपको खत्म कर दें इससे पहले आप उसे खत्म कर दें।

        45. जब जितने का जुनून होता है तो हारने का डर नहीं होता।

        46. कोई भी लक्ष्य इंसान के साहस से बड़ा नहीं होता है, हारता तो वो है जो लड़ता नहीं है।

        47. किस्मत का तो पता नहीं लेकिन मेहनत आपको एक दिन कामयाब इंसान जरूर बना देगी।

        48. जब तक तुम फैसले लेने से डरते रहोगे तब तक आपके जिंदगी का फैसला दूसरे लोग लेते रहेंगे।

        49. आप किसी दूसरे के पीछे अपना समय बर्बाद मत करो, कोई आपका जीवन भर साथ नहीं देने वाला है। यकीन न हो तो किसी के जनाजे में चले जाना। अंतिम मुलाकात होते हुए भी लोग कंधे बदल-बदल कर अर्थी ले जाते हैं।

        50. जिंदगी खत्म होने जैसा कुछ नहीं होता, बल्कि हमेशा एक नई शुरुआत आपका इंतजार कर रही होती है।


        हमें पूरी उम्मीद है कि आपको 50 motivational facts in hindi आपको काफी पसंद आया होगा और साथ ही आपके सोच को बदलने में काफी सहायता करेगा। अगर आप ऐसे ही और अनमोल वचन के बारे में जानना चाहते हैं तो आप हमसे ऐसे ही जुड़े रहे।

        ये भी पढ़ें:-

        वर्ल्ड कप लाइव कैसे देखें?

        दिमाग हिला देने वाले साइकोलॉजी फैक्ट्स इन हिंदी।

        हैरान कर देने वाले रोचक तथ्य।

        नया PUBG फ्री में डाउनलोड कैसे करें?